Saturday, June 19, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे रक्षा के आत्मनिर्भर मोर्चे पर '108 कदम' और चली मोदी सरकार, UPA जमाने में...

रक्षा के आत्मनिर्भर मोर्चे पर ‘108 कदम’ और चली मोदी सरकार, UPA जमाने में गोला-बारूद का भी था टोटा

यदि सब कुछ मौजूदा सरकार की योजना के मुताबिक चलता रहा तो 2025 तक देश रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की स्थिति आ जाएगी।

पत्रकारिता की कक्षा का मशहूर जुमला है कि कुत्ता आदमी को काट ले, तो ख़बर नहीं, लेकिन आदमी कुत्ते को काट ले तो वह खबर है। यानी, नकारात्मकता को ही पत्रकारिता का मूल समझने की भूल हम सभी करते रहे हैं। हालाँकि, यह किसी समाज या देश के स्वास्थ्य के लिए तो कतई अच्छा नहीं है। हम भारतीय वैसे भी भूलने में माहिर हैं। हमने गजनी का खँजर भुला दिया, मुगलों का जजिया भुला दिया, गुरुओं के कटे सिर और बलिदानी बच्चे भुला दिए, पाकिस्तान का बनना भुला दिया, चीन का घात भुला दिया, सिखों का नरसंहार भुला दिया और सोनिया गाँधी के दस वर्षीय कुशासन को भी भुला दिया। लिहाजा हमें बार-बार याद दिलाना पड़ेगा कि इस देश में आखिर चल क्या रहा है?

रक्षा मंत्रालय की तरफ से 31 मई 2021 को एक प्रेस-रिलीज जारी हुई, छोटी सी। इस रिलीज में 108 उन सैन्य साजों-सामान की सूची थी, जो अब देश में ही बनाए जाएँगे। यह प्रेस रिलीज जाहिर तौर पर एक झन्नाटेदार तमाचा था, ‘जमानत पर चल रहे’ देश के चिर-अधेड़ युवा नेता राहुल गाँधी के लिए, जो कभी राफेल में भ्रष्टाचार तो कभी हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (HAL) को पंगु बनाने का बाजा लेकर मैदान में उतर जाते हैं। दरअसल, राहुल वही सोचते हैं, जो वह जानते हैं, जो उन्होंने बचपन से देखा है- जाकी रही भावना जैसी, प्रभु मूरत देखी तिन तैसी। जिस आदमी की माँ, जीजा सहित जो खुद जमानत पर चल रहा हो, सिर से पैर तक भ्रष्टाचार में सना हो, उसे भला यकीन कैसे हो सकता है कि कोई भी सौदा बिना कमीशनखोरी के हो सकता है। आखिर उनके मरहूम पापा राजीव गाँधी के समय के मशहूर बोफोर्स तोप-दलाली का भी मामला तो उनको गाहे-बगाहे याद आता ही होगा, परनाना नेहरू के समय का जीप-घोटाला भी उनको याद होगा ही।

लोगों को थोड़ा सा दिमाग पर जोर डालना होगा, फिर उन्हें याद आ जाएगा कि हरेक चुनाव के समय राहुल गाँधी कैसे तरह राफेल-राफेल चिल्लाने लगते थे। हालाँकि कोर्ट से फटकार के बाद इन्होंने माफी भी माँगी, लेकिन इनका राग राफेल बंद नहीं हुआ। ठीक उसी तरह, जैसे चीन से हमेशा फटकार खाई कॉन्ग्रेसी सरकारें चीन की सरकार के साथ अदृश्य और अबूझ समझौता करती रही। चीन को कश्मीर का बड़ा हिस्सा सौंपा नेहरू ने, लेकिन गलवान-घाटी की झड़प और उसके बाद चीन के वापस लौटने के बाद भी राहुल गाँधी का चीखना-चिल्लाना जारी रहा।

अस्तु, कल केंद्र द्वारा जारी यह सूची कुछ आस जगाती है। रक्षा क्षेत्र में स्वदेशीकरण को बढ़ावा देने के लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए रक्षा मंत्रालय के सैन्य मामलों के विभाग की 108 सैन्य साजोसामानों की ‘दूसरी सकारात्मक स्वदेशीकरण सूची’ को अधिसूचित करने वाले प्रस्ताव को मँजूरी दे दी गई है। रक्षा अधिग्रहण प्रक्रिया (डीएपी) 2020 में दिए गए प्रावधानों के अनुसार इन 108 वस्तुओं की खरीद स्वदेशी स्रोतों से की जाएगी।

यह सूची उन हथियारों/प्रणालियों पर विशेष ध्यान देती है जो वर्तमान में विकास/ परीक्षणों के अधीन हैं और जिनके भविष्य में पक्के आदेशों में परिणत होने की संभावना है। ध्यान रहे कि रक्षा मंत्रालय इससे पहले बीते साल भी एक सूची जारी कर चुका है और उसमें 101 वस्तुओं के आयात पर रक्षा मंत्रालय ने प्रतिबंध लगाया था।

‘दूसरी सकारात्मक स्वदेशीकरण सूची’ में जटिल प्रणालियाँ, सेंसर, सिम्युलेटर, हथियार और गोला-बारूद जैसे हेलीकॉप्टर, नेक्स्ट जेनरेशन कॉर्वेट, एयर बोर्न अर्ली वार्निंग एंड कंट्रोल (एईडब्ल्यूएंडसी) सिस्टम, टैंक इंजन, पहाड़ों के लिए मीडियम पावर रडार, एमआरएसएएम हथियार प्रणालियाँ और भारतीय सशस्त्र बलों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए ऐसी अनेक और चीजें शामिल हैं।

यदि सब कुछ मौजूदा सरकार की योजना के मुताबिक चलता रहा तो 2025 तक देश रक्षा क्षेत्र में आत्मनिर्भरता की स्थिति आ जाएगी। अब, जरा इसकी तुलना राहुल गाँधी की माताजी के परोक्ष शासन काल से करें, जब रक्षामंत्री एके एंटनी ने खुलेआम कहा था कि भारत के पास असलहे खरीदने के लिए पैसे नहीं हैं। जब 10 वर्षों तक राफेल की खरीद को लटका कर रखा गया। जब हमारे सैनिकों के पास बुलटेप्रूफ जैकेट तक नहीं थे। जब वन रैंक, वन पेंशन की बात भी गुनाह-ए-अज़ीम समझी जाती थी। जब देश के महान अर्थशास्त्री और नाममात्र के प्रधानमंत्री यह ज्ञान देते थे कि- पैसे पेड़ पर नहीं उगते हैं।

देश दो वर्षों से महामारी की चपेट में है और यह सोचकर ही सिहरन हो जाती है कि अगर गलती से कॉन्ग्रेस और उसके लगुए-भगुए शासन में रहते तो क्या होता? याद कीजिए जब उत्तराखंड में राहत-सामग्री केवल इसलिए नहीं दी गई, क्योंकि राहुल-सोनिया को उसे हरी झंडी दिखानी थी। जब राहत-सामग्रियों से भरे ट्रक इधऱ-उधर रह गए, क्योंकि उनको पेट्रोल का पैसा नहीं मिला था।

एक के बाद एक आपदाएँ आ रही हैं, पर नरेंद्र मोदी की सरकार उनका डटकर सामना कर रही है। साथ ही रक्षा क्षेत्र में जो यह आत्मनिर्भरता हम हासिल करने वाले हैं, इसके लिए एक ही बात कही जा सकती है- देर आएद, दुरुस्त आएद।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Vyalokhttps://www.vitastaventure.com/
स्वतंत्र पत्रकार || दरभंगा, बिहार

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘नाइट चार्ज पर भेजो रं$* सा*$ को’: दरगाह परिसर में ‘बेपर्दा’ डांस करना महिलाओं को पड़ा महंगा, कट्टरपंथियों ने दी गाली

यूजर ने मामले में कट्टरपंथियों पर निशाना साधते हुए पूछा है कि ये लोग दरगाह में डांस भी बर्दाश्त नहीं कर सकते और चाहते हैं कि मंदिर में किसिंग सीन हो।

इन 6 तरीकों से उइगर मुस्लिमों का शोषण कर रहा है चीन, वहीं की एक महिला ने सुनाई खौफनाक दास्ताँ

रिपोर्ट में कहा गया है कि चीन योजनाबद्ध तरीके से उइगर मुसलमानों की संख्‍या सीमित करने में जुटा है और इसका असर अगले 20 वर्षों में साफ देखने को मिलेगा।

शशि थरूर की अध्यक्षता वाली संसदीय स्थायी समिति के सामने पेश हुआ Twitter, खुद अपने ही जाल में फँसा: जानें क्या हुआ

संसदीय समिति ने ट्विटर के अधिकारियों से पूछताछ करते हुए साफ कहा कि देश का कानून सर्वोपरि है ना कि आपकी नीतियाँ।

हिन्दू देवी की मॉर्फ्ड तस्वीर शेयर कर आस्था से खिलवाड़, माफी माँगकर किनारे हुआ पाकिस्तानी ब्रांड: भड़के लोग

एक प्रमुख पाकिस्तानी महिला ब्रांड, जेनरेशन ने अपने कार्यालय में हिंदू देवता की एक विकृत छवि डालकर हिंदू धर्म का मजाक उड़ाया।

केजरीवाल सरकार को 30 जून तक राशन दुकानों पर ePoS मशीन लगाने का केंद्र ने दिया अल्टीमेटम, विफल रहने पर होगी कार्रवाई

ऐसा करने में विफल रहने पर क्या कार्रवाई की जाएगी यह नहीं बताया गया है। दिल्ली को एनएफएसए के तहत लाभार्थियों को बाँटने के लिए हर महीने 36,000 टन चावल और गेहूँ मिलता है।

सपा नेता उम्मेद पहलवान दिल्ली में गिरफ्तार, UP पुलिस ले जाएगी गाजियाबाद: अब्दुल की पिटाई के बाद डाला था भड़काऊ वीडियो

गिरफ्तारी दिल्ली के लोक नारायण अस्पताल के पास हुई है। गिरफ्तारी के बाद उसे गाजियाबाद लाया जाएगा और फिर आगे की पूछताछ होगी।

प्रचलित ख़बरें

70 साल का मौलाना, नाम: मुफ्ती अजीजुर रहमान; मदरसे के बच्चे से सेक्स: Video वायरल होने पर केस

पीड़ित छात्र का कहना है कि परीक्षा में पास करने के नाम पर तीन साल से हर जुम्मे को मुफ्ती उसके साथ सेक्स कर रहा था।

‘…इस्तमाल नहीं करो तो जंग लग जाता है’ – रात बिताने, साथ सोने से मना करने पर फिल्ममेकर ने नीना गुप्ता को कहा था

ऑटोबायोग्राफी में नीना गुप्ता ने उस घटना का जिक्र भी किया है, जब उन्हें होटल के कमरे में बुलाया और रात बिताने के लिए पूछा।

BJP विरोध पर ₹100 करोड़, सरकार बनी तो आप होंगे CM: कॉन्ग्रेस-AAP का ऑफर महंत परमहंस दास ने खोला

राम मंदिर में अड़ंगा डालने की कोशिशों के बीच तपस्वी छावनी के महंत परमहंस दास ने एक बड़ा खुलासा किया है।

‘रेप और हत्या करती है भारतीय सेना, भारत ने जबरन कब्जाया कश्मीर’: TISS की थीसिस में आतंकियों को बताया ‘स्वतंत्रता सेनानी’

राजा हरि सिंह को निरंकुश बताते हुए अनन्या कुंडू ने पाकिस्तान की मदद से जम्मू कश्मीर को भारत से अलग करने की कोशिश करने वालों को 'स्वतंत्रता सेनानी' बताया है। इस थीसिस की नजर में भारत की सेना 'Patriarchal' है।

वामपंथी नेता, अभिनेता, पुलिस… कुल 14: साउथ की हिरोइन ने खोल दिए यौन शोषण करने वालों के नाम

मलयालम फिल्मों की एक्ट्रेस रेवती संपत ने एक फेसबुक पोस्ट में 14 लोगों के नाम उजागर कर कहा है कि इन सबने उनका यौन शोषण किया है।

कम उम्र में शादी करो, एक से ज्यादा करो: अभिनेता फिरोज खान ने पैगंबर मोहम्मद का दिया उदाहरण

फिरोज खान ने कहा कि शादी सीखने का एक अनुभव है। इस्लामिक रूप से यह प्रोत्साहित भी करता है, इसलिए बहुविवाह आम प्रथा होनी चाहिए।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
104,951FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe