मामा नेहरू वाली नयनतारा की नई लिबरपंथी: अपना मामा लोकतान्त्रिक, मोदी हुए अवैध

क्यूट लिबरपंथियों की यह आम आदत है कि वो खाँसते भी हैं तो दो किताब और तीन विदेशी लेखक के नाम मुँह से निकल जाते हैं। जिस तरह की बात इन्होंने फलाने विदेशी प्रोफेसर की थ्योरी लेकर की है, उस से पता चल जाता है कि इनके आर्टिकल की सीमा कहाँ तक है, ख़ास कर तब जब वो राजनीति पर 2019 के चुनाव परिणामों को लेकर लिख रही हों।

चूँकि साहित्य अकादमी पुरस्कार नयनतारा सहगल ने खुद ही लौटा दिया था, इसलिए ‘नेहरू जी की भान्जी’ ही उनकी बची-खुची पहचान है। यह नेहरू-गाँधी परिवार का पुराना इतिहास रहा है कि जब तक किसी भी निर्वाचन के नतीजे मन-मुताबिक होते हैं, जब तक बहुमत उनके साथ खड़ा होता है, तब तक तो बहुमत की इच्छा ‘लोकतंत्र की जीत’ होती है, लेकिन जहाँ लोकतंत्र ने इन्हें ‘गच्चा’ दिया, वहाँ से ‘लोकतंत्र की रक्षा’ यह परिवार लोकतंत्र और बहुमत के जनादेश का गला रेत कर करने पर उतारू हो जाता है।

यही सहगल जी के मामाजी पंडित नेहरू के लिए मोहनदास गाँधी ने किया, जब उन्होंने ‘मामाजी’ को पराजित कर कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष निर्वाचित हुए बोस को पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। यही हुआ जब ‘मामाजी’ की बजाय कॉन्ग्रेस राष्ट्रपति (और स्वतंत्र भारत के प्रथम संभावित प्रधानमंत्री) बनने जा रहे सरदार पटेल को गाँधी जी ने ‘नैतिकता’ की लाठी से लँगड़ी लगाकर ‘मामा नेहरू’ के प्रधानमंत्री बनने का रास्ता साफ किया। और आज वही काम अपने खानदान के फड़फड़ाते चिराग राहुल गाँधी की हार पर नयनतारा सहगल कर रहीं हैं- लोकतंत्र के जनादेश द्वारा, गणतंत्र द्वारा स्थापित सभी नियमों का पालन करते हुए निर्वाचित मोदी के शासन को अवैध साबित करने का प्रयास।

नयनतारा सहगल लेखिका हैं, वह भी ‘नेहरूवियन’, अतः जाहिर है कि उनकी नज़र में आम आदमी मूर्ख है, मामूली पढ़ा-लिखा है, उसने तो कोई किताबें पढ़ी नहीं होंगी, जो मर्ज़ी आए किताबों का नाम लेकर पढ़ा दो। और दक्षिणपंथियों को तो अबौद्धिक साबित करने और बनाए रखने में ही आधी समाजवादी-वामपंथी-साम्यवादी राजनीति खेत हुई है। इसीलिए नयनतारा सहगल बतातीं हैं कि गेब्रियल गार्सिआ मार्क्वेज़ की किताब ‘द क्रॉनिकल ऑफ़ अ डेथ फोरटोल्ड’ पढ़ लेने के कारण उन्हें पहले ही मालूम था कि मोदी के आने के बाद क्या होगा, 2014 से 2019 के बीच क्या-क्या होगा, और कैसे मोदी 2019 में वापसी करेगा।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

क्यूट लिबरपंथियों की यह आम आदत है कि वो खाँसते भी हैं तो दो किताब और तीन विदेशी लेखक के नाम मुँह से निकल जाते हैं। उन्हें लगता है कि लोग सोचेंगे कि बहुत जानकार व्यक्ति है। लेकिन ये ट्रिक घिस चुकी है और नयनतारा जैसे लिबरपंथियों की सच्चाई बाहर आ चुकी है। जिस तरह की बात इन्होंने फलाने विदेशी दर्शन शास्त्र प्रोफेसर की थ्योरी लेकर की है, उस से पता चल जाता है कि इनके आर्टिकल में आगे क्या होने वाला है। बिलकुल उसी तरह जैसे इन्होंने मार्क्वेज़ की किताब के सन्दर्भ में कहा है कि सबको पहले ही पता होता है कि क्या हुआ। हमें भी पहले ही पता था कि नयनतारा जी के लेखन की सीमा कहाँ तक है, ख़ास कर तब जब वो राजनीति पर 2019 के चुनाव परिणामों को लेकर लिख रही हों।

वह दर्शनशास्त्र के प्रोफेसर जेसन स्टैनली के एक अध्ययन का हवाला देतीं हैं कि कैसे ‘दक्षिणपंथी अतिवाद’ की तरफ देश के जनमानस को झुकाने के एक ‘स्टैण्डर्ड फॉर्मूला’ होता है, जिसका मोदी ने इस्तेमाल किया है। इस फॉर्मूले के अंतर्गत वह वही सब बातें बतातीं हैं जो उनका छद्म-लिबरल गैंग पिछले पाँच सालों से रोता आ रहा है- मोदी ने ‘हम-बनाम-वो’ की राजनीति की, मुसलमानों को इस देश की संस्कृति से अलग दिखाने की कोशिश की, फलाना-ढिकाना। जबकि हास्यास्पद बात यह है कि यह सब मोदी ने, या हिन्दुओं ने किया नहीं है, उनके ही साथ यह सब हुआ है।

नयनतारा सहगल कहतीं हैं कि मोदी ने एक ‘नैरेटिव’ बुना हिन्दुओं को ‘पीड़ित’ दिखाने और महसूस कराने का। नयनतारा जी, क्या यह महज़ एक नैरेटिव था, वो भी मोदी का बुना हुआ, कि हिन्दुओं ने मुसलमानों के हाथों जो सामूहिक हत्याकांड, बलात्कार, लूटपाट लगभग एक हज़ार साल तक झेले, उन्हें इतिहासकारों ने न केवल सत्ता के इशारे पर (जिसके शीर्ष पर आपके प्रिय मामाजी थे) दफना दिया, बल्कि उसे उठाने वाले हिन्दुओं के सत्य दावों को नकार कर उनके साथ सामाजिक-मनोवैज्ञानिक दुर्व्यहवहार (‘गैसलाइटिंग’, एक सोशिओ-साइकोलॉजिकल एब्यूज़) किया गया?

या यह महज़ एक नैरेटिव था, वो भी मोदी का बुना हुआ, कि आपके मामाजी के समय से ही हिन्दुओं के मंदिरों को, उन मंदिरों की सम्पत्तियों को सरकार हड़पती गई, और उनसे हज यात्रा की सब्सिडी देती गई? क्या यह महज़ एक नैरेटिव था, वो भी मोदी का बुना हुआ, कि संविधान के अनुच्छेद 25-30 में दी गई धर्म के पालन की सुरक्षा, बिना सरकारी हस्तक्षेप के, हिन्दुओं को नहीं मिली है? क्या यह महज़ एक नैरेटिव था, वो भी मोदी का बुना हुआ, कि हिन्दुओं की कितनी शादियाँ होंगी, इसका फैसला आपके मामाजी ने कर लिया, लेकिन मुसलमानों के निजी जीवन में हस्तक्षेप को आपकी पार्टी ‘कम्यूनलिज़्म’ कहती है?

हिन्दुओं ने मुसलमानों को बाहरी बनाया, नयनतारा सहगल को बताना चाहिए, या मुसलमानों ने खुद इस देश की ‘एकं सद् विप्राः बहुधा वदन्ति’ का फायदा उठा कर, और उसके ऊपर और खिलाफ ‘मेरे अल्लाह को जो इकलौती ताकत न माने वह काबिले-कत्ल है’ थोपने की कोशिश की? मुसलमान इस देश से अलग तब दिखे जब हिन्दुस्तान के हिन्दुओं ने ‘बेगानी शादी में <समुदाय विशेष का व्यक्ति> दीवाना’ की तर्ज पर खिलाफत आंदोलन में कूदने का निर्णय लिया, या तब जब उस्मानी ख़लीफ़ा के समर्थन में मोपलाह मुसलमानों ने अपने हिन्दू पड़ोसियों का कत्लेआम कर दिया?

सेना का सम्मान किए जाने को भी नयनतारा सहगल फासीवाद को बढ़ावा देने वाला कदम बतातीं हैं, राष्ट्र के गौरव पर गर्व महसूस करने और अपने भूतकाल में जो अच्छी बातें थीं, उन्हें याद करने और उनकी बातें करने को भी ‘फ़ासीवादी साज़िश’ का हिस्सा करार देतीं हैं। ऐसी बातों का जवाब देने की कोशिश न ही की जाए तो बेहतर होगा।

आगे वह यह बतातीं हैं कि युद्ध की ‘लोकतंत्र में’ प्रशंसा नहीं की जाती। पहली बात तो यह नयनतारा जी कि न ही मोदी, और न ही अन्य तथाकथित ‘चरम-दक्षिणपंथी’ नेताओं ने युद्ध की प्रशंसा की है। अगर प्रशंसा हुई है तो हिंदुस्तान पर थोपे गए युद्धों में शौर्य का प्रदर्शन करने वाले वीरों की। और अगर आपको लगता है कि वह भी नहीं होना चाहिए तो ऐसी सोच कितनी गिरी हुई है, कि किसी सैनिक की वीरता और उसके शौर्य की प्रशंसा केवल इसलिए मत करो कि इससे राजनीतिक शत्रु को फायदा मिल जाएगा, इसकी कोई सीमा नहीं है। और दूसरी बात, अगर एक क्षण के लिए मान भी लिया जाए कि हिंदुस्तान अपने युद्धों की प्रशंसा करता भी है तो? यह वामपंथी को पसंद आने वाला लोकतंत्र भले नहीं होगा (क्योंकि वामपंथ कमज़ोरियों और विक्टिम्स की ओर ही नज़र रखता है), लेकिन दक्षिणपंथी लोकतंत्र तो होगा (क्योंकि दक्षिणपंथ शक्ति और क्षमता पर ज़ोर देता है)। या फिर वामपंथियों का लोकतंत्र ही इस देश का इकलौता लोकतंत्र हो सकता है?

नयनतारा सहगल मोदी पर जिस ‘कहानी’ के ज़रिए सत्ता में आने का और सत्ता में वापसी का आरोप लगातीं हैं, पहली बात तो वह ‘story-telling’ होने भर से असत्य या ‘reality’ से परे नहीं हो जाती। वरिष्ठ साहित्यकार होने के नाते सहगल को यह बात पता होना चाहिए कि ‘story-telling’ असलियत के जितना करीब होती है, उसकी सफलता उतनी ज़्यादा होती है। उनकी खुद की किताबों प्रशंसा इसलिए हुई है कि ‘फिक्शन’ होते हुए भी उनमें (एक समय) कहीं-न-कहीं सच्चाई प्रतिबिम्ब होती थी। आज मोदी वही ‘कहानी कहना’ इस्तेमाल कर रहा है। और मज़े की बता यह है कि जो कहानी आज मोदी, या इस देश का दक्षिणपंथी-राष्ट्रवादी वर्ग कह रहा है, उस कहानी की पृष्ठभूमि नयनतारा के मामाजी और उनके ‘भक्तों’ ने ही हिन्दुओं के शोषण, उनके साथ दोगले व्यवहार से तैयार की है।

नयनतारा सहगल जैसे लोग केवल व्यक्ति नहीं हैं, प्रतीक हैं- उस मानव-प्रवृत्ति का, उस ध्यानाकर्षण की लिप्सा और लोलुपता का, जिसके चलते इंसान अपने बूढ़े हो जाने, और अपने विचारों का समय निकल जाने के चलते हाशिए पर पहुँच जाने, अप्रासंगिक हो जाने को स्वीकार नहीं कर पाता। ऐसी ही मानसिक अवस्था में, अपने पुराने रौब के लिए छटपटाता व्यक्ति अनर्गल प्रलाप करने लगता है। उसे इससे भी मतलब नहीं होता कि उसके इस प्रलाप से किसका फायदा हो रहा है, किसका नुकसान (जैसे मोदी को गाली देते-देते यशवंत सिन्हा मोदी का तो कुछ नहीं बिगड़ पाए, उल्टा अपने ही बेटे की ‘नौकरी खा गए’); ऐसी ही हालत में इंसान नयनतारा सहगल जैसी बातें करने लगता है…

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट और मध्य प्रदेश के ज्योतिरादित्य सिंधिया को अध्यक्ष बनाने की चर्चा शुरू होने के बाद शुरू हुआ प्रियंका का अभियान। इसके पीछे सोच यह है कि पार्टी अध्यक्ष के तौर पर गॉंधी ही गॉंधी की जगह ले।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

गाय, दुष्कर्म, मोहम्मद अंसारी, गिरफ्तार

गाय के पैर बाँध मो. अंसारी ने किया दुष्कर्म, नारियल तेल के साथ गाँव वालों ने रंगे हाथ पकड़ा: देखें Video

गुस्साए गाँव वालों ने अंसारी से गाय के पाँव छूकर माफी माँगने को कहा, लेकिन जैसे ही अंसारी वहाँ पहुँचा, गाय उसे देखकर डर गई और वहाँ से भाग गई। गाय की व्यथा देखकर गाँव वाले उससे बोले, "ये भाग रही है क्योंकि ये तुमसे डर गई। उसे लग रहा है कि तुम वही सब करने दोबारा आए हो।"
सारा हलीमी

गाँजा फूँक कर की हत्या, लगाए अल्लाहु अकबर के नारे, फिर भी जज ने नहीं माना दोषी

फ्रांसीसी न्यायिक व्यवस्था में जज ऑफ इन्क्वायरी को यह फैसला करना होता है कि आरोपी पर अभियोग चलाया जा सकता है या नहीं। जज ऑफ इन्क्वायरी के फैसले को यहूदियों के संगठन सीआरआइएफ के अध्यक्ष फ्रांसिस खालिफत ने आश्चर्यजनक और अनुचित बताया है।
हनुमान चालीसा पाठ

हनुमान चालीसा पाठ में शामिल हुईं इशरत जहां: घर खाली करने और जान से मारने की मिली धमकी

“हर कोई कह रहा था कि मुझे खुद घर छोड़ देना चाहिए वर्ना वे मुझे घर से ज़बर्दस्ती बेदखल कर देंगे। मुझे जान से मारने की धमकियाँ भी मिल रही हैं। मैं सुरक्षा की माँग करती हूँ। मैं अपने बेटे के साथ अकेले रहती हूँ ऐसे में मेरे साथ कभी भी कुछ भी हो सकता है।”
मीडिया गिरोह

तख्ती गैंग, मौलवी क़ुरान पढ़ाने के बहाने जब रेप करता है तो कौन सा मज़हब शर्मिंदा होगा?

बात चाहे हस्तमैथुन और ऑर्गेज़्म के जरिए महिलाओं के अधिकारों की बात करने वाली स्वरा भास्कर की हो या फिर उन्हीं के जैसी काम के अभाव में सोशल मीडिया पर एक्टिविस्ट्स बने फिर रहे अन्य मीडिया गिरोह हों, सब जानते हैं कि उन्हें कब कैंडल बाहर निकालनी है और किन घटनाओं का विरोध करना है।
विमल-ज़ुबाँ केसरी

अजय देवगन के खिलाफ आपत्तिजनक पोस्ट करना शख्स को पड़ा मँहगा, जज ने पूरे कानपुर में विमल बाँटने का दिया आदेश

अदालत ने आपत्तिजनक पोस्ट लिखने वाले उस युवक को अगले एक साल तक कानपुर के हर गली-मोहल्ले में 'विमल' बाँटने की सजा सुना दी है और साथ ही उन्हें 'बोलो जुबाँ केसरी' के नारे भी लगाने होंगे।
नोएडा, गौहत्या, पुलिस, गिरफ्तार, समुदाय विशेष

मंदिर के सामने भाला मारकर गौहत्या: अकबर, जाफर, जुल्फिकार और फरियाद पर मामला दर्ज

खेत में घुसी गाय को देखकर इन्होंने पहले उसे धारदार हथियार लेकर भगाया और फिर गाँव में एक धार्मिक स्थल के पास उसे घेरकर मारना शुरू कर दिया। घटना में गाय की मौके पर ही मौत हो गई।
मुगल कुशासन

‘मुगलों ने हिंदुस्तान को लूटा ही नहीं, माल बाहर भी भेजा, ये रहा सबूत’

1659 में औरंगज़ेब के मक्का को 600,000 रुपए देने का ज़िक्र करते हुए True Indology ने बताया है कि उस समय एक रुपए में 280 किलो चावल आता था। यानी करीब 2 लाख टन चावल खरीदे जाने भर का पैसा औरंगज़ेब ने हिन्दुस्तानियों से लूट कर मक्का भेजा।
मौलवी

AMU की मस्जिद में नमाज पढ़ाने वाले मौलाना ने 9 साल की बच्ची को बनाया हवस का शिकार

अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में मोज्जिन के पद पर तैनात मौलवी द्वारा 9 साल की नाबालिग के साथ डरा धमकाकर दुष्कर्म के मामले में मुकदमा दर्ज कर आरोपित के खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। वहीं, एएमयू मेंबर इंचार्ज साफे किदवई ने बताया कि शिकायत मिलने पर मौलाना को तत्काल पद से हटा दिया गया है और रिपोर्ट तलब की जा रही है।
बीबीसी

BBC और The Print को चाहिए खूब सारा ‘सेक्स’, वामपंथी करेंगे आपस में ही प्रेम

गिरती लोकप्रियता के कारण BBC हाशमी दवाखाना के विज्ञापनों की तरह ही अपने होमपेज पर सेक्स ही सेक्स लिखते हुए घूम रहा है। हाशमी दवाखाना वालों के मार्केट पर इससे जरूर गहरी चोट लग सकती है।
एजाज़ खान

गालीबाज एक्टर एजाज़ ख़ान गिरफ़्तार, Tik-Tok पर बनाया था भड़काऊ व सांप्रदायिक वीडियो

अभिनेता एजाज ख़ान ने टिक-टॉक ऐप पर भड़काऊ वीडियो बना कर पोस्ट किया था। एजाज ख़ान ने हिन्दुओं के विरुद्ध हिंसा की बात की थी और सोशल मीडिया पर वह भड़काऊ और विवादास्पत पोस्ट्स के लिए कुख्यात हैं।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

57,533फैंसलाइक करें
9,780फॉलोवर्सफॉलो करें
74,867सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: