साक्षरता और शिक्षा के बीच का फ़र्क़ भूल ‘सबसे बड़े दलित नेता’ ने BJP के वोटरों को कहा अशिक्षित

"केरल में भाजपा आज तक एक भी सीट इसीलिए नहीं जीत पाई क्योंकि वहाँ के लोग अंधभक्त न होकर शिक्षित हैं।" ऐसे अजीबोग़रीब कारण देने के साथ ही उदित राज ने यह भी...

भाजपा से कॉन्ग्रेस में गए नार्थ-वेस्ट दिल्ली के सांसद उदित राज ने नया राग छेड़ा है। भाजपा द्वारा उनका टिकट काटने के पीछे का एक कारण यह भी था कि वह ग़लतबयानी को लेकर मशहूर हो चुके थे। अपने ही पार्टी के बड़े नेता योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधने से लेकर भाजपा के विरोध में आयोजित रैली का हिस्सा बनने तक, ख़ुद को देश का सबसे बड़ा दलित नेता बताने वाले उदित राज को भाजपा ने भाव देना बंद कर दिया और अंततः उन्हें पार्टी छोड़ने के लिए मजबूर होना पड़ा। उदित राज के जाने से भाजपा को कोई नुकसान नहीं हुआ क्योंकि शायद ही किसी क्षेत्र में उनका जनाधार हो। लेकिन हाँ, इससे कॉन्ग्रेस को सिद्धू के अलावा एक नया बयानवीर ज़रूर मिल गया। उदित राज ने अब फिर से बिना सिर-पैर वाली बात की है।

उन्होंने ट्विटर पर लिखा कि केरल में भाजपा आज तक एक भी सीट इसीलिए नहीं जीत पाई क्योंकि वहाँ के लोग अंधभक्त न होकर शिक्षित हैं। ऐसे अजीबोग़रीब कारण देने के साथ ही उदित राज ने यह भी साबित कर दिया कि उन्हें साक्षरता (Literacy) और शिक्षा (Education) के बीच का कोई अंतर पता नहीं है। अर्थात, किसे शिक्षित कहा जाता है और किसे साक्षर, इस बारे में उन्हें कुछ नहीं पता। सबसे पहले उन्हें इन दोनों का अर्थ समझना चाहिए, उसके बाद हम उनके इस बिना सिर-पैर वाले बयान के दूसरे पहलुओं की चर्चा करेंगे। असल में राजनीति में लगभग अप्रासंगिक हो चुके उदित राज ने राजनाथ सिंह से भाजपा का टिकट पाने के लिए पैरवी भी की थी लेकिन वो असफल रहे। अगर जेएनयू से पढ़ कर ऐसे बयान देना शिक्षित होने की पहचान है तो उदित राज जैसी शिक्षा किसी को न मिले।

उदित राज अब शिक्षित हो गए हैं। फरवरी 2014 से लेकर अप्रैल 2019 तक वह अशिक्षित थे। जी हाँ, आपने बिलकुल सही सुना। शिक्षा की उदित राज वाली परिभाषा के अनुसार वे अब कॉन्ग्रेस में जाकर शिक्षित हुए हैं। अगर भाजपा को वोट भर देने वाला व्यक्ति अशिक्षित है तो फिर भाजपा में पाँच वर्ष रह कर मलाई चाँपने वाले को क्या कहा जाए? क्या उदित राज अपनी परिभाषा में ख़ुद को फिट करते हुए स्वयं को सबसे बड़ा मूर्ख, अज्ञानी और अशिक्षित समझते हैं? साक्षरता दर को शिक्षा और शिक्षित से जोड़ कर कन्फ्यूजन के पुजारी बन चुके उदित राज का ये ट्वीट उनके बड़बोलेपन के सिवा और कुछ नहीं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

साक्षर होने का अर्थ होता है लिखने एवं पढ़ने की क्षमता होना। अर्थात, अगर मैं अपनी भाषा में लिखने और पढ़ने की क्षमता रखता हूँ, तो मैं साक्षर कहलाऊँगा। वहीं दूसरी तरफ़ शिक्षित होने का अर्थ है कि किसी व्यक्ति के पास कौन-सा स्किल है और उसने किस कक्षा या कोर्स की पढ़ाई कहाँ तक की है। इसका मतलब यह हुआ कि हर शिक्षित व्यक्ति साक्षर होता है लेकिन ज़रूरी नहीं है कि प्रत्येक साक्षर व्यक्ति शिक्षित हो ही हो। केरल साक्षरता के मामले में पूरे भारत में पहले स्थान पर आता है, शिक्षा के मामले में नहीं। उच्च शिक्षा के मामले में केरल टॉप पर नहीं आता।

अगर उच्च शिक्षा में ग्रॉस एनरोलमेन्ट रेश्यो (Gross Enrollment Ratio) की बात करें तो तमिलनाडु पूरे देश में नंबर एक पर आता है। इसके बाद दिल्ली और चंडीगढ़ का स्थान आता है। दिल्ली में अभी लोकसभा की सातों सीटों पर भाजपा काबिज़ है, यहाँ भाजपा की सरकार भी रही है और चंडीगढ़ में भी भाजपा की सांसद हैं। लेकिन, क्या किसी पार्टी के जीतने या न जीतने का यही पैमाना होता है क्या? अगर उदित राज की ही परिभाषा चुनें तो हम कह सकते हैं कि उच्च शिक्षा प्राप्त लोग भाजपा को पसंद करते हैं। लेकिन नहीं, ये परिभाषा ही ग़लत है। अगर साक्षरता की भी बात करें तो केरल के बाद टॉप पाँच में आने वाले राज्य जैसे कि गोवा और त्रिपुरा में भाजपा की सरकार है। शीर्ष पाँच में एक अन्य राज्य मिजोरम में राजग की सरकार है।

केरल की साक्षरता को भाजपा द्वारा वहाँ विफल रहने को जोड़ने उदित राज की राजनीतिक नासमझी के साथ-साथ साक्षरता और शिक्षा के बीच अंतर न समझ पाने की क्षमता का भी परिचायक है। दिल्ली में तो लोगों ने भाजपा के टिकट पर उन्हें जीत दिलाई, इसका अर्थ उन्हें वोट करने वाली जनता शिक्षित नहीं थी क्या? उदित राज ने यह नहीं लिखा कि केरल के लोग ज्यादा शिक्षित हैं और न ही ये लिखा कि वहाँ साक्षरता दर ज्यादा है, उन्होंने लिखा कि ‘केरल के लोग शिक्षित हैं’। तो क्या उनका इशारा यह था कि बाकी भारत के लोग अशिक्षित हैं? अगर भाजपा को वोट करने वाले अशिक्षित हैं तो पूरे भारत की जनता ही उनकी नज़र में अशिक्षित हो गई?

भारत में एक बड़ी आबादी अभी भी साक्षरता से दूर है, शिक्षा से दूर है, उच्च शिक्षा प्राप्त नहीं कर पाती है। ख़ुद को दलित नेता बताने वाले उदित राज को उनका मज़ाक नहीं उड़ाना चाहिए। इसमें एक बड़ी संख्या दलितों की है। अगर वह ख़ुद को सबसे बड़ा दलित नेता मानते हैं तो उनके भले के लिए, उनके लिए चल रही योजनाओं के लिए आवाज़ उठानी चाहिए। अशिक्षा को भाजपा व किसी पार्टी से जोड़ने से पहले उन्हें जानना चाहिए कि व्यक्ति शिक्षित हो या अशिक्षित, उसे अपनी समझ के आधार पर किसी भी पार्टी को वोट देने का अधिकार है। हो सकता है कि किसी निरक्षर या व्यक्ति को बरगला लिया जाए लेकिन ऐसी भी कोई रिसर्च सामने नहीं आई है जहाँ ये लिखा हो कि साक्षर व्यक्ति पैसे लेकर वोट नहीं करता।

साक्षरता से पढ़ने और लिखने की क्षमता आती है, शिक्षा से समझ आती है। आज उदित राज भले ही अशिक्षा को भाजपा से जोड़ रहे हों लेकिन ऐसे भी लोग हैं जिन्होंने आतंकवाद और नक्सलवाद को भी अशिक्षा से जोड़ा है। जब उन्हें दुनिया भर के शीर्ष आतंकियों की डिग्रियों और अकादमिक रिकॉर्ड्स के बारे में बताया जाता है तो उनकी घिग्घी बंध जाती है। अगर उच्च शिक्षा प्राप्त व्यक्ति भी आतंक का रुख कर सकता है तो क्या ये कहना सही है कि अशिक्षा के कारण आतंकवाद फ़ैल रहा है। ठीक इसी तरह, अगर कोई मतदाता भाजपा को वोट देता है तो वह शिक्षित है या अशिक्षित, इस बात का पता कैसे लगाया जा सकता है?

अगर केरल में साक्षरता दर सबसे ज्यादा है तो खूँखार वैश्विक आतंकी संगठन आईएसआईएस से जुडी गतिविधियाँ भी इसी राज्य में सबसे ज्यादा देखी जा रही हैं। अगर केरल की साक्षरता दर सबसे ज्यादा है तो भारत में आईएसआईएस में शामिल होने वालों की संख्या भी इसी राज्य से सबसे ज्यादा है। 2016 में राज्य के 21 लोग आतंकी बन गए थे, जिनमें से 5 आईएस के लिए लड़ते हुए मारे गए। क्या साक्षरता दर से इन समस्याओं का समाधान हो जाता है? क्या भाजपा को वोट देने या न देने से इसका कोई सम्बन्ध है?

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

ED की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसीटर जनरल के.एम. नटराज ने अदालत से कहा कि पूछताछ अब तक पूरी नहीं हो सकी क्योंकि उनके स्वास्थ्य की स्थिति के चलते कारगर पूछताछ नहीं हो पाई। नटराज ने अदालत से यह भी कहा कि धन शोधन शिवकुमार और उनके परिवार के सदस्यों के बैंक खातों के जरिए ही हुआ।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

शरद पवार

पाकिस्तान जैसा प्यार कहीं नहीं मिला, 370 हटाने से बढ़ेगा आतंकवाद: शरद पवार

"मैं पाकिस्तान गया हूँ। वहाँ के लोगों में मेहमाननवाजी कूट-कूट कर भरी है।पाकिस्तान के बारे में गलत चित्र पेश किया जा रहा है कि वहाँ लोग खुश नहीं हैं। यहाँ (भारत) सरकार राजनीतिक लाभ लेने के लिए पाकिस्तान के बारे में झूठी खबरें फैला रही है।”
सिंध, पाकिस्तान

मियाँ मिट्ठू के नेतृत्व में भीड़ ने हिन्दू शिक्षक को पीटा, स्कूल और मंदिर में मचाई तोड़फोड़

इस हमले में कट्टरपंथी नेता मियाँ मिट्ठू का हाथ सामने आया है। उसने न सिर्फ़ मंदिर बल्कि स्कूल को भी नुक़सान पहुँचाया। मियाँ मिट्ठू के नेतृत्व में भीड़ ने पुलिस के सामने शिक्षक की पिटाई की, मंदिर में तोड़फोड़ किया और स्कूल को नुक़सान पहुँचाया।
हिना सिद्धू, मलाला युसुफ़ज़ई

J&K पाकिस्तान को देना चाहती हैं मलाला, पहले खुद घर लौटकर तो दिखाएँ: पूर्व No.1 शूटर हिना

2013 और 2017 विश्वकप में पहले स्थान पर रह कर गोल्ड मेडल जीत चुकीं पिस्टल शूटर हिना सिद्धू ने मलाला को याद दिलाया है कि ये वही पाकिस्तान है, जहाँ कभी उनकी जान जाते-जाते बची थी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा के लिए कितने मौके हैं, इसे मलाला बेहतर जानती हैं।
तजिंदर बग्गा, एंड्रिया डिसूजा

‘₹500 में बिक गईं कॉन्ग्रेस नेता’: तजिंदर बग्गा ने खोली रिया (असली नाम एंड्रिया डिसूजा) की पोल

बग्गा ने रिया को व्हाट्सएप मैसेज किया और कहा कि वो उनसे एक प्रमोशनल ट्वीट करवाना चाहते हैं। रिया ने इसके लिए हामी भर दी और इसकी कीमत पूछी। बग्गा ने रिया को प्रत्येक ट्वीट के लिए 500 रुपए देने की बात कही। रिया इसके लिए भी तैयार हो गई और एक फेक ट्वीट को...
सीजेआई रंजन गोगोई

CJI रंजन गोगोई: कश्मीर, काटजू, कन्हैया…CM पिता जानते थे बेटा बनेगा मुख्य न्यायाधीश

विनम्र स्वभाव के गोगोई सख्त जज माने जाते हैं। एक बार उन्होंने अवमानना नोटिस जारी कर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू को अदालत में तलब कर लिया था। काटजू ने सौम्या मर्डर केस में ब्लॉग लिखकर उनके फैसले पर सवाल उठाए थे।
सुप्रीम कोर्ट, राम मंदिर

अगर राम जन्मस्थान को लेकर आस्था है तो इस पर सवाल नहीं उठा सकते: सुप्रीम कोर्ट

मुस्लिम पक्षकार राजीव धवन ने अदालत में दावा किया कि पहले हिंदू बाहर के अहाते में पूजा करते थे, लेकिन दिसंबर 22-23, 1949 की रात रामलला की मूर्ति को अवैध तरीके से मस्जिद के अंदर शिफ्ट कर दिया गया।

शेख अब्दुल्ला ने लकड़ी तस्करों के लिए बनाया कानून, फॅंस गए बेटे फारूक अब्दुल्ला

फारूक अब्दुल्ला को जिस पीएसए एक्ट तहत हिरासत में लिया गया है उसमें किसी व्यक्ति को बिना मुक़दमा चलाए 2 वर्षों तक हिरासत में रखा जा सकता है। अप्रैल 8, 1978 को जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल से इसे मंजूरी मिली थी। यह क़ानून लकड़ी की तस्करी रोकने के लिए लाया गया था।
एन राम

‘The Hindu’ के चेयरमैन बने जज: चिदंबरम को कॉन्ग्रेस के कार्यक्रम में दी क्लीन चिट, कहा- कोई सबूत नहीं

एन राम चिदंबरम को जेल भेजने के लिए देश की अदालतों की आलोचना करने से भी नहीं चूके। उन्होंने कहा कि इस गिरफ्तारी की साजिश करने वालों का मकसद सिर्फ और सिर्फ चिदंबरम की आजादी पर बंदिश लगाना था और दुर्भाग्यवश देश की सबसे बड़ी अदालतें भी इसकी चपेट में आ गईं।
हिन्दू लड़की की हत्या

…बस एक एग्जाम और डेंटल डॉक्टर बन जातीं नमृता लेकिन पाकिस्तान में रस्सी से बंधा मिला शव

बहन के मृत शरीर को देख नमृता के भाई डॉ विशाल सुंदर ने कहा, "उसके शरीर के अन्य हिस्सों पर भी निशान हैं, जैसे कोई व्यक्ति उन्हें पकड़ रखा था। हम अल्पसंख्यक हैं, कृपया हमारे लिए खड़े हों।"
सुब्रमण्यम स्वामी: राजनीति के लिए free market/हिंदुत्व, या free market/हिंदुत्व के लिए राजनीति?

सियासत का स्वामी: जिसके कारण गॉंधी कठघरे में आए, वाजपेयी गए और रामसेतु बचा

स्वामी की ‘legacy’ के आकलन में पार्टी, विचारधारा और निष्ठा को एक ही चीज़ मानकर देखने पर वे शायद ‘मौकापरस्त’, नज़र आएँगे। लेकिन किसी नेता को आंकने के पैमाने के तौर पर उसके कर्म उसके शब्दों से अधिक सटीक होते हैं और स्वामी को इसी कसौटी पर परखा जाना चाहिए।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,088फैंसलाइक करें
15,071फॉलोवर्सफॉलो करें
97,481सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: