Tuesday, June 15, 2021
Home विचार राजनैतिक मुद्दे युद्ध पिपासु शी जिनपिंग: इतनी जल्दी नहीं मानेगा हार, देश को रहना होगा कठिन...

युद्ध पिपासु शी जिनपिंग: इतनी जल्दी नहीं मानेगा हार, देश को रहना होगा कठिन दिनों के लिए तैयार

अमर होने की चाह में शी जिनपिंग युद्ध पिपासु बन बैठे हैं। हॉन्ग कॉन्ग में निहत्थे प्रदर्शनकारियों पर दमन, ताइवान पर धावा, दक्षिण चीन सागर के तटवर्ती देशों से पन्गा तो कभी सुकेकु द्वीपों को लेकर जापान पर उग्र नीति। भारत को सीख लेते हुए...

महाभारत के वनपर्व में यक्ष का प्रश्न था कि इस सृष्टि में सबसे बड़ा आश्चर्य क्या है?
युधिष्ठिर ने यक्ष को उत्तर दिया कि इस धरती पर निरंतर मौत का नृत्य देखते रहने के बावजूद व्यक्ति ऐसा आचरण करता है कि वह कभी यहाँ से जाएगा ही नहीं।

“अहन्यहनि भूतानि गच्छन्तीह यमालयम्।
शेषाः स्थावरमिच्छन्ति किमाश्चर्यमतः परम् ॥”

युधिष्ठिर का यक्ष को दिया गया ये उत्तर शी जिंगपिंग सहित विश्व के सभी तानाशाहों पर एकदम सटीक बैठता है। विश्व को बलपूर्वक अपने कब्ज़े में करने की पिपासा अनंतकाल से धरती पर युद्धों का कारण रही है।

शी जिनपिंग इन दिनों इतिहास में अमर होने की अपनी चाह में युद्ध पिपासु बन बैठे हैं। कभी वह हॉन्ग कॉन्ग में निहत्थे प्रदर्शनकारियों पर दमन करते हैं, तो कभी ताइवान पर धावा बोल देते हैं। दक्षिण चीन सागर के तटवर्ती देशों से वे रोज़ पन्गा लेते हैं तो कभी वे सुकेकु द्वीपों को लेकर जापान पर चढ़ बैठते हैं।

दुनिया के तकरीबन हर देश से चीन की तकरार हो रही है। अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, यूरोपीय देशों यहाँ तक कि चेकोस्लोवाकिया तक को चीन के मंत्री और राजदूत अभद्र अराजनयिक भाषा में धमकियाँ देते हैं।

भारत के साथ तो लद्दाख में नियंत्रण रेखा पर चीन की ज़ोर जबरदस्ती ने युद्ध की स्थिति पैदा कर दी है। प्रतिष्ठित अमेरिकी पत्रिका ‘न्यूज़वीक’ के अनुसार भारत के साथ इस संघर्ष की पटकथा व्यक्तिगत रूप से खुद राष्ट्रपति शी जिंगपिंग ने ही लिखी है।

अन्य कई सूत्र भी इसी तरफ संकेत करते हैं कि शी जिनपिंग ही खुद भारत के साथ इस संघर्ष के जनक है। ये अलग बात है कि अभी तक शी जिंगपिंग ने जैसा चाहा था, वैसा हो नहीं पाया है।

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ के तकरीबन हर लेख में भारत को याद दिलाया जाता है कि उसे 1962 को नहीं भूलना चाहिए। चीनी मामलों की जानकार तथा फाउंडेशन फॉर डिफेंस डेमोक्रेसी की विशेषज्ञ क्लियो पास्कल के अनुसार चीन ने सोचा था कि 1962 की हार के बाद से भारतीय नेतृत्व और फौज ‘मानसिक रूप से कमज़ोर और रक्षात्मक’ होंगी।

वे इसके लिए अंग्रेज़ी में ‘psychologically paralysed’ उद्धरण का प्रयोग करती हैं। इसलिए चीन ने गलवान में भारत को ललकारने का दुस्साहस किया। वे कहती हैं कि भारत ‘मानसिक रूप से कमज़ोर नहीं निकला’ बल्कि उसने चीन को मुँहतोड़ जबाव दिया। उनके अनुसार, 15 जून की इस लड़ाई में भारत का हाथ ऊपर रहा और इसमें चीन के 60 सैनिक मारे गए।

इससे शी जिंगपिंग आगबबूला है। उनकी रणनीति तो थी कि वे इस संघर्ष में जीत हासिल करके दुनिया और चीन की जनता को बता देंगें कि एशिया में अब सिर्फ एक ही ताकत है, वह है चीन। दरअसल यहाँ शी जिंगपिंग की मानसिकता को समझने की ज़रूरत है।

उनके दो लक्ष्य साफ़ दिखाई देते हैं। पहला तो चीन में अपने राज को स्थाई बनाना। और दूसरा चीन को विश्व की एकमात्र महाशक्ति के रूप में स्थापित करना।

बड़े ही अमानुषिक रूप से उन्होंने कोरोना की मानवीय त्रासदी (जो चीन की ही देन है) और अमरीकी चुनावों की आपाधापी का समय चुना। इन दोनों ही लक्ष्यों की पूर्ति के लिए शी जिंगपिंग समझते हैं कि उन्हें दुनिया को अपनी सामरिक ताकत का दबदबा दिखाना ज़रूरी है। भारत उनके इन उद्देश्यों में आड़े आता है।

2012 में शी जिंगपिंग के सत्ता सँभालने के बाद से ही चीन की सेना भारत की सीमा पर बेजा हरकतें करती आई है। डोकलाम इसी कड़ी का एक हिस्सा था। याद कीजिए, शी जिंगपिंग जब सितम्बर 2014 में भारत आए थे, तो उस समय सीमा पर चुमार में भी चीन की तरफ से अतिक्रमण हुआ था।

चीन ने अपनी तरफ के क्षेत्रों में सड़क और पुलों तथा अन्य रक्षा ढाँचे का लगातार निर्माण किया है। लेकिन भारत ने भी पिछले कई साल में रक्षात्मक तौर-तरीके छोड़ कर सड़क, पुल तथा अन्य निर्माण का काम तेज़ किया है। इससे जब चीन ने मई के महीने में लद्दाख में बदनीयती से फौजें और भारी असला जमा करना शुरू किया तो भारत ने भी उसके मुकाबिल अपनी फौजें तैनात कर दीं।

चीन इस दौरान लगातार भारत को गीदड़ भभकियाँ भी देता रहा। ये सही है कि चीन भारत से आर्थिक और सामरिक रूप से ताकतवर दिखता है। चीन की ताकत को बढ़ा-चढ़ा कर पेश करने का काम भारत और दुनिया के अन्य हिस्सों में उसके वामपंथी हितैषी करते आए हैं। पर ये कागज़ पर ही ज़्यादा है।

चीन की सेना ने कोई भी बड़ा युद्ध जीता नहीं है। 1979 में वियतनाम की सेना तक ने उसका घमंड तोड़ दिया था। जबकि भारत की सेना को तो सियाचिन की बर्फीली घाटियों से लेकर कारगिल की उँचाइयों को जीतने का महारत हासिल है। हमारी सेना जम्मू कश्मीर में लगातार पाकिस्तान और उसके जिहादियों से युद्ध कर ही रही है।

क्लियो पास्कल कहती हैं कि खुली ज़मीन पर कब्ज़ा करने में तो चीन की सेना यानी पीएलए को महारत हासिल है, पर जब उसके सामने कोई दूसरी सेना अड़ जाए तो वह पीछे हट जाती है। पास्कल ने पिछले दिनों भारतीय सेना द्वारा ऊँची चोटियों पर कब्ज़ा करने का उदाहरण इसी सन्दर्भ में दिया। उनका मानना है कि पिछले पचास वर्षों में ऐसा जोरदार रक्षात्मक प्रत्याक्रमण भारत ने कभी नहीं किया। इससे पीएलए का नेतृत्व हतप्रभ है।

शी जिंगपिंग क्या इतनी जल्दी हार मानेगें?

2022 में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की बैठक में वे अपने को देश का चेयरमेन घोषित करना चाहते हैं। चीन में माओ के बाद ये पद खत्म कर दिया गया था। उनकी मंशा खुद को आजीवन चेयरमेन घोषित कर एकछत्र राज करने की है।

शी जिंगपिंग की आलोचना के लिए हाल ही में कम्युनिस्ट पार्टी से निष्काषित बीजिंग की प्रोफेसर काई शिया तो यहाँ तक कहती हैं कि शी जिंगपिंग ‘एक माफिया बॉस’ की तरह इन दिनों अपने देश को चला रहे हैं। उनसे अलग राय रखने वालों को तुरंत बाहर का रास्ता दिखा दिया जाता है।

न्यूज़वीक के अनुसार गलवान की अपमानजनक हार की खिसियाहट में शी जिंगपिंग अपनी सेना के कई अफसरों की बलि चढ़ा सकते हैं। लेकिन साथ में ये चेतावनी भी दी कि झल्लाहट में वे सीमा पर बड़ा कारनामा करने की भी सोच सकते हैं।

भारत और चीन के विदेश मंत्रियों ने तनाव घटाने के लिए जो पाँच सूत्रीय फार्मूला दिया है, वह शी जिंगपिंग कितना मानेंगे? भारत के लिए यही यक्ष प्रश्न है।

यक्ष को तो धर्मराज युधिष्ठिर ने प्रश्नों के तर्कसंगत और बुद्धियुक्त उत्तर से शांत कर के सरोवर का जल पी लिया था। पर जब सामने सत्ता और ताकत के नशे में चूर शी जिंगपिंग जैसा क्रूर, निर्मम, दमनकारी और घोर विस्तारवादी तानाशाह हो तो फिर शांति की आशा करना अपने को धोखा देना होगा। कोरोना के इस घनघोर संकट के बीच भारतीय सेना और देश को कठिन दिनों के लिए तैयार रहना होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र द्वारा किए गए जमीन के सौदे की पूरी सच्चाई, AAP के खोखले दावों की पूरी पड़ताल

अंसारी को जमीन का मालिकाना मिलने के बाद मंदिर ट्रस्ट और अंसारी के बीच बिक्री समझौता हुआ। अंसारी ने जमीन को 18.5 करोड़ रुपए में ट्रस्ट को बेचने की सहमति जताई।

2030 तक 2.6 करोड़ एकड़ बंजर जमीन का होगा कायाकल्प, 10 साल में बढ़ा 30 लाख हेक्टेयर वन क्षेत्र: UN वर्चुअल संवाद में PM...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में मरुस्थलीकरण, भूमि क्षरण और सूखे पर उच्च स्तरीय वर्चुअल कार्यक्रम को संबोधित किया।

ट्रस्ट द्वारा जमीन के सौदे में घोटाले का आरोप एक सुनियोजित दुष्प्रचार, समाज में उत्पन्न हुई भ्रम की स्थिति: चंपत राय

पारदर्शिता के विषय में चंपत राय ने कहा कि तीर्थ क्षेत्र का प्रथम दिवस से ही निर्णय रहा है कि सभी भुगतान बैंक से सीधे खाते में ही किए जाएँगे, सम्बन्धित भूमि की क्रय प्रक्रिया में भी इसी निर्णय का पालन हुआ है।

श्रीराम मंदिर के लिए सदियों तक मुगलों से सैकड़ों लड़ाई लड़े तो कॉन्ग्रेस-लेफ्ट-आप इकोसिस्टम से एक और सही

जो कुछ भी शुरू किया गया है वह हवन कुंड में हड्डी डालने जैसा है पर सदियों से लड़ी गई सैकड़ों लड़ाई के साथ एक लड़ाई और सही।

महाराष्ट्र में अब अकेले ही चुनाव लड़ेगी कॉन्ग्रेस, नाना पटोले ने सीएम उम्मीदवार बनने की जताई इच्छा

पटोले ने अमरावती में कहा, ''2024 के चुनाव में कॉन्ग्रेस महाराष्ट्र में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी। केवल कॉन्ग्रेस की विचारधारा ही देश को बचा सकती है।''

चीन की वुहान लैब में जिंदा चमगादड़ों को पिंजरे के अंदर कैद करके रखा जाता था: वीडियो से हुआ बड़ा खुलासा

वीडियो ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के उस दावे को भी खारिज किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि चमगादड़ों को लैब में रखना और कोरोना के वुहान लैब से पैदा होने की बात करना महज एक 'साजिश' है।

प्रचलित ख़बरें

राम मंदिर में अड़ंगा डालने में लगी AAP, ट्रस्ट को बदनाम करने की कोशिश: जानिए, ‘जमीन घोटाले’ की हकीकत

राम मंदिर जजमेंट और योगी सरकार द्वारा कई विकास परियोजनाओं की घोषणाओं के कारण 2 साल में अयोध्या में जमीन के दाम बढ़े हैं। जानिए क्यों निराधार हैं संजय सिंह के आरोप।

‘हिंदुओं को 1 सेकेंड के लिए भी खुश नहीं देख सकता’: वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप से पहले घृणा की बैटिंग

भारत के पूर्व तेज़ गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने कहा कि जीते कोई भी, लेकिन ये ट्वीट ये बताता है कि इस व्यक्ति की सोच कितनी तुच्छ और घृणास्पद है।

सिख विधवा के पति का दोस्त था महफूज, सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण करा किया निकाह; दो बेटों का भी करा दिया खतना

रामपुर जिले के बेरुआ गाँव के महफूज ने एक सिख महिला की पति की मौत के बाद सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण कर उसके साथ निकाह कर लिया।

केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस में फिर होने वाली थी पिटाई? लोगों से पहले ही उतरवा लिए गए जूते-चप्पल: रिपोर्ट

केजरीवाल पर हमले की घटनाएँ कोई नई बात नहीं है और उन्हें थप्पड़ मारने के अलावा स्याही, मिर्ची पाउडर और जूते-चप्पल फेंकने की घटनाएँ भी सामने आ चुकी हैं।

6 साल के पोते के सामने 60 साल की दादी को चारपाई से बाँधा, TMC के गुंडों ने किया रेप: बंगाल हिंसा की पीड़िताओं...

बंगाल हिंसा की गैंगरेप पीड़िताओं ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। बताया है कि किस तरह टीएमसी के गुंडों ने उन्हें प्रताड़ित किया।

चाचा ने ही कर डाला चिराग तले अंधेरा: कार चलाना, आधे घंटे हॉर्न बजाना और मॉं की दुहाई भी काम न आई

उधर चिराग पासवान अपनी प्रतिष्ठा बचाने के लिए खुद चाचा के घर पहुँचे, जहाँ उनके लिए दरवाजा तक नहीं खोला जा रहा था। वो खुद कार चला तक चाचा के बंगले पर पहुँचे थे।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
103,914FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe