Monday, July 26, 2021
Homeविचारसामाजिक मुद्देबिहार में बाढ़: न पहली, न आखिरी बार... आखिर क्यों डूबते हैं शहर?

बिहार में बाढ़: न पहली, न आखिरी बार… आखिर क्यों डूबते हैं शहर?

जानते हैं नदियाँ कहाँ गईं? उसे शहर का मध्यम वर्ग खा गया, गरीब खा गए। सच कह रहा हूँ, नदियों की जमीन पर सब आम लोग छेक के घर बनवाए हैं। ये वही आम लोग हैं जो आज बाढ़ के लिए कभी सरकार को तो कभी भगवान को दोषी ठहरा रहे हैं।

मेरे गोपालगंज का उदाहरण देख लीजिए। मुझे लगता है कि आज से 30 साल पहले तक गोपालगंज शहर के लिए “बाढ़ का कहर” एक काल्पनिक बात रही होगी। 30 साल पहले तक गोपालगंज शहर के बीच से हो कर कुल 6 बरसाती नदियाँ-नाले निकलते थे। इनमें जो सबसे पतला नाला था उसकी चौड़ाई भी 30-40 फीट से कम नहीं होगी। यह गोपालगंज का प्राकृतिक ड्रेनेज सिस्टम था जो बरसात के जल को घण्टे भर में शहर के बाहर खेतों, चँवर आदि में छोड़ आता था। ऐसा जबरदस्त सिस्टम कि एक बार पूरी गंडक नदी ही घूम जाए गोपालगंज की ओर तब भी शहर नहीं डूबता।

आज 30 साल से कम आयु के लोगों में किसी ने उन 6 में से 4 नदियों का नाम तक नहीं सुना। आज उनका कोई चिह्न तक नहीं। शेष दो नदियाँ आज तीन-तीन फीट चौड़ाई वाले नालों में बदल गई हैं। आज मात्र चार दिनों की बरसात में मेरा शहर डूब गया है।

जानते हैं नदियाँ कहाँ गईं? उसे शहर का मध्यम वर्ग खा गया, गरीब खा गए। सच कह रहा हूँ, नदियों की जमीन पर न किसी बड़े बिल्डर का घर बना है न किसी नेता-अफसर का। सब आम लोग छेक के घर बनवाए हैं। ये वही आम लोग हैं जो आज बाढ़ के लिए कभी सरकार को तो कभी भगवान को दोषी ठहरा रहे हैं।

आपको आश्चर्य होगा, सरकारी भू-मापन के नक्शे में सारे नदी-नाले जीवित हैं। इस लेख को लिखने के पहले मैंने शहर के सबसे सीनियर अमीन दिनेश्वर मिश्र जी से बात की थी। उन्होंने बताया कि नक्शे में सारी जमीन दर्ज है, जमीन पर सब गायब हो गया है।

हुजूर! यही हैं हम। यही है हमारा देश… आज केवल मेरा शहर नहीं डूबा, मेरा पूरा राज्य डूब गया है। छपरा, सिवान, पटना सब डूबे हुए हैं। शहर यदि नदियों के बाढ़ से डूब जाएँ तो बात समझ में आती है, पर बरसात से डूबें तो बात समझ में नहीं आती। सबके डूबने के पीछे यही एकमात्र कारण है।

क्या लगता है, पटना छपरा में इस तरह के नाले नहीं होंगे? बरसाती नदियाँ नहीं होंगी? एक-दो नहीं पचासों होंगी। सब को लूट लिया गया। कुछ को बड़े लोगों ने लूटा, कुछ को छोटे लोगों ने… जिसको जितना मौका मिला, उसने उतना लूटा।

कौन है दोषी? क्या केवल प्रशासन? क्या केवल सरकार? प्रशासन का दोष इतना है कि जब हम आत्महत्या कर रहे थे तो उसने हाथ नहीं रोका, लेकिन अपने पेट में छुरा हर बार हमने स्वयं मारा है। नदियों-नालों को न नीतीश ने बन्द किया है, न लालू ने। नदियों को हमने बन्द किया है।

शहरों को डूबाने के लिए हम भले प्रकृति को दोष दें, पर शहर प्रकृति के कारण नहीं वहाँ के लोगों के कुकर्मों के कारण डूबते हैं। पहले हम डूबे हैं, उसके बाद शहर डूबा है। मेरा राज्य हर वर्ष डूबेगा। न नीतीश रोक पाएंगे, न लालू… हाँ, कोई ऐसा पागल आए जो जबरदस्ती इन चोरों से अपनी सरकारी जमीन छीने, तो शायद स्थितियाँ कुछ सुधरे। यह देश अब अच्छे लोगों से नहीं, हिटलरों से सुधरेगा।

कहीं पढ़ा था, हमारे देश में अधिक से अधिक 50 करोड़ लोगों के जीने लायक संसाधन है। अभी हम लगभग 150 करोड़ हैं, अर्थात क्षमता से तीन गुने… हम यदि अब भी नहीं रुके तो डूबना तय ही है। कोई नहीं बचा सकता…

(लेखक सर्वेश तिवारी श्रीमुख बिहार के गोपालगंज के रहने वाले हैं )

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘लखनऊ को दिल्ली बनाया जाएगा, चारों तरफ से रास्ते सील किए जाएँगे’: चुनाव से पहले यूपी में बवाल की टिकैत ने दी धमकी

राकेश टिकैत ने कहा कि दिल्ली की तरह लखनऊ का भी घेराव किया जाएगा। जिस तरह दिल्ली में चारों तरफ के रास्ते सील हैं, ऐसे ही लखनऊ के भी सील होंगे।

‘हम आपको नहीं सुनेंगे…’: बॉम्बे हाईकोर्ट से जावेद अख्तर को झटका, कंगना रनौत से जुड़े मामले में आवेदन पर हस्तक्षेप से इनकार

जस्टिस शिंदे ने कहा, "अगर हम इस तरह के आवेदनों को अनुमति देते हैं तो अदालतों में ऐसे मामलों की बाढ़ आ जाएगी।"

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,324FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe