Saturday, November 28, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे सरकारी बूटों तले रौंदी गई हिन्दुओं की परम्परा, गोलियाँ चलीं, कहारों के कंधों के...

सरकारी बूटों तले रौंदी गई हिन्दुओं की परम्परा, गोलियाँ चलीं, कहारों के कंधों के बजाय ट्रैक्टर, जेसीबी से हुआ विसर्जन

जिस भक्त ने देवी को आभूषण पहनाए होते हैं, वही देवी के आभूषण उतारता है। विसर्जन से पहले नकली आभूषण पहना दिए जाते हैं। इस बार वो भी नहीं हुआ। छोटी दुर्गा भी कहारों के कंधे पर आती हैं, इस बार उन्हें किसी मुंसीपाल्टी के ट्रेक्टर में लाया गया।

महाभारत काल के कर्ण का जो ‘अंग’ प्रदेश होता था, उसे आज का मुंगेर माना जाता है। ऐतिहासिक रूप से ये नगर कितना महत्वपूर्ण रहा होगा, इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि 1862 में एशिया का सबसे बड़ा और आज सबसे पुराना रेल कारखाना यहीं के जमालपुर में स्थापित है। इसके अलावा यहाँ आर्म्स फैक्ट्री होती है।

दशकों से हथियारों के निर्माण से जुड़े होने के कारण बिहार में जो देसी कट्टे पकड़े जाते हैं उन्हें भी कभी-कभी ‘मुंगेरी’ ही बुलाया जाता है। ये भागलपुर के पास है और गंगा नदी के बिलकुल किनारे पर बसा हुआ है इसलिए रेल के अलावा सड़क और नदी के रास्तों से भी अच्छी तरह जुड़ा है।

शिक्षा के मामले में भी ये कोई अनपढ़ों का इलाका नहीं कहा जा सकता क्यों सात वर्ष से ऊपर की आयु में यहाँ शिक्षा 81% से ऊपर है। आबादी का हिसाब बाकी भारत जैसा ही लगभग 81% हिन्दू, करीब 18% मोहम्मडेन और बाकी में सिक्ख और इसाई आदि आते हैं।

नगर पुराना है तो परम्पराएँ भी उतनी ही पुरानी है। विसर्जन के वक्त, सबसे पहले बड़ी दुर्गा महारानी, फिर छोटी दुर्गा, फिर बड़ी काली और छोटी काली के जाने की परंपरा है। इनमें से बड़ी दुर्गा, छोटी दुर्गा और बड़ी काली देवी को 32 कहारों के कंधे पर ले जाया जाता है।

एक दशकों से मार्ग तय है जिस पर से ये देवियों की यात्रा निकलेगी और रास्ते में मिलन, आरती इत्यादि के लिए रुकने का स्थान भी निश्चित है। इस बार भी इसमें कोई अंतर नहीं था। हाँ, कोविड-19 की वजह से मेला नहीं लगा तो रौनक कम जरूर थी।

अज्ञात कारणों से शहर के एसपी को ही हिन्दुओं के इस त्यौहार में ‘बड़ी दुर्गा समिति’ का शीर्ष अधिकारी तय कर रखा गया है। शीर्ष अधिकारी से जब समिति के लोगों ने कहा मुंगेर में चुनावों के लिए कोई अलग तारीख रखवाने का प्रयास करें तो वो हुआ नहीं। विसर्जन को भी 29 को रखने का प्रस्ताव किया गया, ताकि मतदान के बाद का वक्त मिले, वो भी ‘शीर्ष अधिकारी’ ने नहीं माना।

इस बार विसर्जन की यात्रा शाम 4 बजे शुरू हुई थी। शहर बीएसएफ और सीआरपीएफ से भरा हुआ था। अधिकारी और उनके नुमाइंदे लोगों से जल्दी करने को भी कह रहे थे। जो बत्तीस लोग कहार की तरह पालकी उठाएँगे, उनके लिए नियम भी तय होते हैं। वो भूखे-प्यासे उपवास में होंगे, शरीर पर चमड़े का कुछ भी नहीं होगा, नंगे पाँव उन्हें पालकी उठाकर चलना है।

रास्ते में पालकी रखने के बाद उठ नहीं रही थी तो प्रशासन ने कहारों के बदले इसे खुद ही उठाने का प्रयास किया। स्थानीय सूत्र ऐसा बताते हैं कि प्रशासनिक कर्मचारियों के 17 बार प्रयास के बाद भी मूर्ती अपनी जगह से नहीं हिली। जब प्रशासन से भी बड़ी दुर्गा उठी नहीं तो दूसरी देवियों को बड़ी दुर्गा से आगे ले जाने का आदेश हुआ।

इस पर लोगों ने विरोध किया और फिर जद (यू) नेता की सुपुत्री, जो वहाँ एसपी भी हैं, उनके आदेश पर आँसू गैस और गोलियाँ चली। देखते ही देखते भीड़ खाली हो गई और लाठी चार्ज के बाद वहाँ देवी को उठा रहे कहार भी नहीं बचे।

परम्पराओं और मान्यताओं को सरकारी बूटों तले रौंदने के बाद बिना आरती इत्यादि के ही दूसरी देवियों के बाद बड़ी दुर्गा को विसर्जित किया गया। जिस भक्त ने देवी को आभूषण पहनाए होते हैं, वही देवी के आभूषण उतारता है। विसर्जन से पहले नकली आभूषण पहना दिए जाते हैं। इस बार वो भी नहीं हुआ। छोटी दुर्गा भी कहारों के कंधे पर आती हैं, इस बार उन्हें किसी मुंसीपाल्टी के ट्रैक्टर में लाया गया। जेसीबी इत्यादि के इस्तेमाल से देवियों का विसर्जन हुआ।

अब कहा जा रहा है कि गलती प्रशासन की नहीं बल्कि स्थानीय लोगों की ही थी। क्या इसी वजह से लोगों पर गोलियाँ चलाने की जरुरत पड़ गई? हिन्दुओं को जो अपनी पूजा विधियों के पालन का अधिकार संविधान देता है, उसे हर बार दरकिनार क्यों किया जाता है, क्या ये पूछा नहीं जाना चाहिए? जो जानें गईं उनके लिए आखिर कौन जिम्मेदार है?

चुनावों के पहले चरण के मतदान से ठीक पहले हुई इस घटना का राजनैतिक प्रभाव क्या होगा? यहाँ ये भी सोचने लायक है कि मुंगेर की मौजूदा एसपी एक बड़े जद(यू) नेता की पुत्री हैं। मुख्य धारा की मीडिया अगर इस घटना पर चुप्पी साधे रखे और खोजी पत्रकार भी मुद्दे की तह में जाने के बदले मुँह दूसरी तरफ फेर लें, तो भी आश्चर्य नहीं किया जाना चाहिए। हाँ ये जरूर है कि मुंगेर संसदीय क्षेत्र से लोजपा उम्मीदवार पहले भी जीत चुकी हैं। विधानसभा चुनावों पर इसका सीधा असर होने से बिलकुल भी इंकार नहीं किया जा सकता।

नोट: मुंगेर हत्याकांड के मद्देनजर ट्विटर पर मुंगेर के ही स्थानीय निवासी अनुपम सिंह (@AnupamS40753639) ने ट्वीट्स की श्रृंखला लिखी है। अनुपम ने इस ट्विटर थ्रेड में मुंगेर में हुई घटना से आहत होकर इस क्षेत्र के छोटे-छोटे पहलुओं को उजागर किया है। लेख में मौजूद अधिकांश बातें भी इस थ्रेड में लिखी गई हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना संक्रमण पर लगातार चेताते रहे, लेकिन दिल्ली सरकार ने कदम नहीं उठाए: सुप्रीम कोर्ट से केंद्र

दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने बताया है कि रोकथाम के लिए केजरीवाल सरकार ने प्रभावी कदम नहीं उठाए।

क्या घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को RAW में बहाल करने जा रही है भारत सरकार?

एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को रॉ में बहाल करने जा रही है। जानिए, क्या है इस दावे की सच्चाई?

‘नॉटी, दो टके के लोग’: कंगना पर फट पड़ीं मुंबई की मेयर, ऑफिस तोड़ने पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाई थी फटकार

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कंगना रनौत के लिए 'नॉटी' का इस्तेमाल किया है। शिवसेना सांसद संजय राउत के लिए इस शब्द का अर्थ 'हरामखोर' है।

जहाँ ममता बनर्जी ने खोदी थी वामपंथ की कब्र, वहीं उनकी सियासत को दफनाने की तैयारी में शुभेंदु अधिकारी

सिंगूर और नंदीग्राम के आंदोलन से ममता बनर्जी को सत्ता मिली। अब नंदीग्राम के शुभेंदु अधिकारी के बागी तेवरों ने उन्हें मुश्किल में डाल दिया है।

कॉन्ग्रेस का कोढ़ है धर्मांतरण, रोकने को देर से बने कानून कितने दुरुस्त?

जिस विषय में संविधान निर्माताओं को 1949 से पता था, उस पर कानून बनाने में इतनी देर आखिर क्यों? नियम बनने शुरू भी हुए हैं तो क्या ये काफी हैं, या हमें बहुत देर से और बहुत थोड़ा देकर बहलाया जा रहा है?

FIR में अर्णब पर लगाए आरोप साबित नहीं कर पाई मुंबई पुलिस: SC ने बॉम्बे हाई कोर्ट को भी लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह भी कहा कि आपराधिक कानून, उत्पीड़न का औजार नहीं बनना चाहिए, जमानत मानवता की अभिव्यक्ति है।

प्रचलित ख़बरें

‘उसे मत मारो, वही तो सबूत है’: हिंदुओं संजय गोविलकर का एहसान मानो वरना 26/11 तुम्हारे सिर डाला जाता

जब कसाब ने तुकाराम को गोलियों से छलनी कर दिया तो साथी पुलिसकर्मी आवेश में आ गए। वे कसाब को मार गिराना चाहते थे। लेकिन, इंस्पेक्टर गोविलकर ने ऐसा नहीं करने की सलाह दी। यदि गोविलकर ने उस दिन ऐसा नहीं किया होता तो दुनिया कसाब को समीर चौधरी के नाम से जानती।

फैक्टचेक: क्या आरफा खानम घंटे भर में फोटो वाली बकरी मार कर खा गई?

आरफा के पाँच बज कर दस मिनट वाले ट्वीट के साथ एक ट्वीट छः बज कर दस मिनट का था, जिसके स्क्रीनशॉट को कई लोगों ने एक दूसरे को व्हाट्सएप्प पर भेजना शुरु किया। किसी ने यह लिखा कि देखो जिस बकरी को सीने से चिपका कर फोटो खिंचा रही थी, घंटे भर में उसे मार कर खा गई।

हाथ में कलावा, समीर चौधरी नाम की ID: ‘हिंदू आतंकी’ की तरह मरना था कसाब को – पूर्व कमिश्नर ने खोला राज

"सभी 10 हमलावरों के पास फर्जी हिंदू नाम वाले आईकार्ड थे। कसाब को जिंदा रखना पहली प्राथमिकता थी। क्योंकि वो 26/11 मुंबई हमले का सबसे बड़ा और एकलौता सबूत था। उसे मारने के लिए ISI, लश्कर-ए-तैयबा और दाऊद इब्राहिम गैंग ने..."

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

जहाँ बहाया था खून, वहीं की मिट्टी पर सर रगड़ बोला भारत माता की जय: मुर्दों को देख कसाब को आई थी उल्टी

पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया सुबह साढ़े चार बजे कसाब से कहते हैं कि वो अपना माथा ज़मीन से लगाए... और उसने ऐसा ही किया। इसके बाद जब कसाब खड़ा हुआ तो मारिया ने कहा, “भारत माता की जय बोल” कसाब ने फिर ऐसा ही किया। मारिया दोबारा भारत माता की जय बोलने के लिए कहते हैं तो...

मैं नपुंसक नहीं.. हिंदुत्व का मतलब पूजा-पाठ या मंदिर का घंटा बजाना नहीं, फ़ोर्स किया तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊँगा: उद्धव ठाकरे

साक्षत्कार में उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें विरोधियों के पीछे पड़ने को मजबूर ना किया जाए। इसके साथ ही ठाकरे ने कहा कि हिंदुत्व का मतलब मंदिर का घंटा बजाना नहीं है।

कोरोना संक्रमण पर लगातार चेताते रहे, लेकिन दिल्ली सरकार ने कदम नहीं उठाए: सुप्रीम कोर्ट से केंद्र

दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने बताया है कि रोकथाम के लिए केजरीवाल सरकार ने प्रभावी कदम नहीं उठाए।

क्या घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को RAW में बहाल करने जा रही है भारत सरकार?

एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को रॉ में बहाल करने जा रही है। जानिए, क्या है इस दावे की सच्चाई?

‘नॉटी, दो टके के लोग’: कंगना पर फट पड़ीं मुंबई की मेयर, ऑफिस तोड़ने पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाई थी फटकार

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कंगना रनौत के लिए 'नॉटी' का इस्तेमाल किया है। शिवसेना सांसद संजय राउत के लिए इस शब्द का अर्थ 'हरामखोर' है।

गाजीपुर में सड़क पर पड़े मिले गायों के कटे सिर: लोगों का आरोप- पहले डेयरी फार्म से गायब होती हैं गायें, फिर काट कर...

गाजीपुर की सड़कों पर गायों के कटे हुए सिर मिलने के बाद स्थानीय लोग काफी गुस्से में हैं। उन्होंने पुलिस पर मिलीभगत का आरोप लगाया है।

बंगाल: ममता के MLA मिहिर गोस्वामी बीजेपी में शामिल, शनिवार को शुभेंदु अधिकारी के आने की अटकलें

TMC के असंतुष्ट विधायक मिहिर गोस्वामी बीजेपी में शामिल हो गए हैं। शुभेंदु अधिकारी के भी शनिवार को बीजेपी में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही है।

जहाँ ममता बनर्जी ने खोदी थी वामपंथ की कब्र, वहीं उनकी सियासत को दफनाने की तैयारी में शुभेंदु अधिकारी

सिंगूर और नंदीग्राम के आंदोलन से ममता बनर्जी को सत्ता मिली। अब नंदीग्राम के शुभेंदु अधिकारी के बागी तेवरों ने उन्हें मुश्किल में डाल दिया है।

गरीब कल्याण रोजगार अभियान: प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने में UP की योगी सरकार सबसे आगे

प्रवासी श्रमिकों को काम मुहैया कराने के लिए केंद्र सरकार ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान शुरू किया था। उत्तर प्रदेश ने उल्लेखनीय प्रदर्शन किया है।

12वीं शताब्दी में विष्णुवर्धन के शासनकाल में बनी महाकाली की मूर्ति को मिला पुन: आकार, पिछले हफ्ते की गई थी खंडित

मंदिर में जब प्रतिमा को तोड़ा गया तब हालात देखकर ये अंदाजा लगाया गया था कि उपद्रवी मंदिर में छिपे खजाने की तलाश में आए थे और उन्होंने कम सुरक्षा व्यवस्था देखते हुए मूर्ति तोड़ डाली।

कॉन्ग्रेस का कोढ़ है धर्मांतरण, रोकने को देर से बने कानून कितने दुरुस्त?

जिस विषय में संविधान निर्माताओं को 1949 से पता था, उस पर कानून बनाने में इतनी देर आखिर क्यों? नियम बनने शुरू भी हुए हैं तो क्या ये काफी हैं, या हमें बहुत देर से और बहुत थोड़ा देकर बहलाया जा रहा है?

FIR में अर्णब पर लगाए आरोप साबित नहीं कर पाई मुंबई पुलिस: SC ने बॉम्बे हाई कोर्ट को भी लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह भी कहा कि आपराधिक कानून, उत्पीड़न का औजार नहीं बनना चाहिए, जमानत मानवता की अभिव्यक्ति है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,440FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe