Wednesday, June 23, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे सरकारी बूटों तले रौंदी गई हिन्दुओं की परम्परा, गोलियाँ चलीं, कहारों के कंधों के...

सरकारी बूटों तले रौंदी गई हिन्दुओं की परम्परा, गोलियाँ चलीं, कहारों के कंधों के बजाय ट्रैक्टर, जेसीबी से हुआ विसर्जन

जिस भक्त ने देवी को आभूषण पहनाए होते हैं, वही देवी के आभूषण उतारता है। विसर्जन से पहले नकली आभूषण पहना दिए जाते हैं। इस बार वो भी नहीं हुआ। छोटी दुर्गा भी कहारों के कंधे पर आती हैं, इस बार उन्हें किसी मुंसीपाल्टी के ट्रेक्टर में लाया गया।

महाभारत काल के कर्ण का जो ‘अंग’ प्रदेश होता था, उसे आज का मुंगेर माना जाता है। ऐतिहासिक रूप से ये नगर कितना महत्वपूर्ण रहा होगा, इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि 1862 में एशिया का सबसे बड़ा और आज सबसे पुराना रेल कारखाना यहीं के जमालपुर में स्थापित है। इसके अलावा यहाँ आर्म्स फैक्ट्री होती है।

दशकों से हथियारों के निर्माण से जुड़े होने के कारण बिहार में जो देसी कट्टे पकड़े जाते हैं उन्हें भी कभी-कभी ‘मुंगेरी’ ही बुलाया जाता है। ये भागलपुर के पास है और गंगा नदी के बिलकुल किनारे पर बसा हुआ है इसलिए रेल के अलावा सड़क और नदी के रास्तों से भी अच्छी तरह जुड़ा है।

शिक्षा के मामले में भी ये कोई अनपढ़ों का इलाका नहीं कहा जा सकता क्यों सात वर्ष से ऊपर की आयु में यहाँ शिक्षा 81% से ऊपर है। आबादी का हिसाब बाकी भारत जैसा ही लगभग 81% हिन्दू, करीब 18% मोहम्मडेन और बाकी में सिक्ख और इसाई आदि आते हैं।

नगर पुराना है तो परम्पराएँ भी उतनी ही पुरानी है। विसर्जन के वक्त, सबसे पहले बड़ी दुर्गा महारानी, फिर छोटी दुर्गा, फिर बड़ी काली और छोटी काली के जाने की परंपरा है। इनमें से बड़ी दुर्गा, छोटी दुर्गा और बड़ी काली देवी को 32 कहारों के कंधे पर ले जाया जाता है।

एक दशकों से मार्ग तय है जिस पर से ये देवियों की यात्रा निकलेगी और रास्ते में मिलन, आरती इत्यादि के लिए रुकने का स्थान भी निश्चित है। इस बार भी इसमें कोई अंतर नहीं था। हाँ, कोविड-19 की वजह से मेला नहीं लगा तो रौनक कम जरूर थी।

अज्ञात कारणों से शहर के एसपी को ही हिन्दुओं के इस त्यौहार में ‘बड़ी दुर्गा समिति’ का शीर्ष अधिकारी तय कर रखा गया है। शीर्ष अधिकारी से जब समिति के लोगों ने कहा मुंगेर में चुनावों के लिए कोई अलग तारीख रखवाने का प्रयास करें तो वो हुआ नहीं। विसर्जन को भी 29 को रखने का प्रस्ताव किया गया, ताकि मतदान के बाद का वक्त मिले, वो भी ‘शीर्ष अधिकारी’ ने नहीं माना।

इस बार विसर्जन की यात्रा शाम 4 बजे शुरू हुई थी। शहर बीएसएफ और सीआरपीएफ से भरा हुआ था। अधिकारी और उनके नुमाइंदे लोगों से जल्दी करने को भी कह रहे थे। जो बत्तीस लोग कहार की तरह पालकी उठाएँगे, उनके लिए नियम भी तय होते हैं। वो भूखे-प्यासे उपवास में होंगे, शरीर पर चमड़े का कुछ भी नहीं होगा, नंगे पाँव उन्हें पालकी उठाकर चलना है।

रास्ते में पालकी रखने के बाद उठ नहीं रही थी तो प्रशासन ने कहारों के बदले इसे खुद ही उठाने का प्रयास किया। स्थानीय सूत्र ऐसा बताते हैं कि प्रशासनिक कर्मचारियों के 17 बार प्रयास के बाद भी मूर्ती अपनी जगह से नहीं हिली। जब प्रशासन से भी बड़ी दुर्गा उठी नहीं तो दूसरी देवियों को बड़ी दुर्गा से आगे ले जाने का आदेश हुआ।

इस पर लोगों ने विरोध किया और फिर जद (यू) नेता की सुपुत्री, जो वहाँ एसपी भी हैं, उनके आदेश पर आँसू गैस और गोलियाँ चली। देखते ही देखते भीड़ खाली हो गई और लाठी चार्ज के बाद वहाँ देवी को उठा रहे कहार भी नहीं बचे।

परम्पराओं और मान्यताओं को सरकारी बूटों तले रौंदने के बाद बिना आरती इत्यादि के ही दूसरी देवियों के बाद बड़ी दुर्गा को विसर्जित किया गया। जिस भक्त ने देवी को आभूषण पहनाए होते हैं, वही देवी के आभूषण उतारता है। विसर्जन से पहले नकली आभूषण पहना दिए जाते हैं। इस बार वो भी नहीं हुआ। छोटी दुर्गा भी कहारों के कंधे पर आती हैं, इस बार उन्हें किसी मुंसीपाल्टी के ट्रैक्टर में लाया गया। जेसीबी इत्यादि के इस्तेमाल से देवियों का विसर्जन हुआ।

अब कहा जा रहा है कि गलती प्रशासन की नहीं बल्कि स्थानीय लोगों की ही थी। क्या इसी वजह से लोगों पर गोलियाँ चलाने की जरुरत पड़ गई? हिन्दुओं को जो अपनी पूजा विधियों के पालन का अधिकार संविधान देता है, उसे हर बार दरकिनार क्यों किया जाता है, क्या ये पूछा नहीं जाना चाहिए? जो जानें गईं उनके लिए आखिर कौन जिम्मेदार है?

चुनावों के पहले चरण के मतदान से ठीक पहले हुई इस घटना का राजनैतिक प्रभाव क्या होगा? यहाँ ये भी सोचने लायक है कि मुंगेर की मौजूदा एसपी एक बड़े जद(यू) नेता की पुत्री हैं। मुख्य धारा की मीडिया अगर इस घटना पर चुप्पी साधे रखे और खोजी पत्रकार भी मुद्दे की तह में जाने के बदले मुँह दूसरी तरफ फेर लें, तो भी आश्चर्य नहीं किया जाना चाहिए। हाँ ये जरूर है कि मुंगेर संसदीय क्षेत्र से लोजपा उम्मीदवार पहले भी जीत चुकी हैं। विधानसभा चुनावों पर इसका सीधा असर होने से बिलकुल भी इंकार नहीं किया जा सकता।

नोट: मुंगेर हत्याकांड के मद्देनजर ट्विटर पर मुंगेर के ही स्थानीय निवासी अनुपम सिंह (@AnupamS40753639) ने ट्वीट्स की श्रृंखला लिखी है। अनुपम ने इस ट्विटर थ्रेड में मुंगेर में हुई घटना से आहत होकर इस क्षेत्र के छोटे-छोटे पहलुओं को उजागर किया है। लेख में मौजूद अधिकांश बातें भी इस थ्रेड में लिखी गई हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

भारत ने कोरोना संकटकाल में कैसे किया चुनौतियों का सामना, किन सुधारों पर दिया जोर: पढ़िए PM मोदी का ब्लॉग

भारतीय सार्वजनिक वित्त में सुधार के लिए हल्का धक्का देने वाली कहानी है। इस कहानी के मायने यह हैं कि राज्यों को अतिरिक्त धन प्राप्त करने के लिए प्रगतिशील नीतियों को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना है।

पल्स पोलियो से टीके को पिटवा दिया अब कॉन्ग्रेस के कोयला स्कैम से पिटेगी मोदी की ईमानदारी: रवीश कुमार

ये व्यक्ति एक ऐसा फूफा है जो किसी और के विवाह में स्वादिष्ट भोजन खाकर यह कहने में जरा भी नहीं हिचकेगा कि; भोजन तो बड़ा स्वादिष्ट था लेकिन अगर नमक अधिक हो जाता तो खराब हो जाता। हाँ, अगर विवाह राहुल गाँधी का हुआ तो...

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘भारत ने किया कश्मीर पर कब्जा, इस्लाम ने दिखाई सही राह’: TISS में प्रकाशित हुए कई विवादित पेपर, फण्ड रोकने की माँग

पेपर में लिखा गया, "...अल्लाह के शरण में जाना मेरे मन को शांत करता है और साथ ही मुझे एक समझ देता है कि चीजों के होने का उद्देश्य क्या था जो मुझे कहीं और से नहीं पता चलता।"

‘नंदलाला की #$ गई क्या’- रैपर MC कोड के बाद अब मफ़ाद ने हिन्दुओं की आस्था को पहुँचाई चोट, भगवान कृष्ण को दी गालियाँ

रैपर ने अगली पंक्ति में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के लिए बेहद आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया जैसे, "मर गया तेरा नंदलाल नटखट, अब गोपियाँ भागेंगी छोड़के पनघट।"

मॉरीशस के थे तुलसी, कहते थे सब रामायण गुरु: नहीं रहे भारत के ‘सांस्कृतिक दूत’ राजेंद्र अरुण

1973 में 'विश्व पत्रकारिता सम्मेलन' में वो मॉरीशस गए और वहाँ के तत्कालीन राष्ट्रपति शिवसागर रामगुलाम हिंदी भाषा को लेकर उनके प्रेम से खासे प्रभावित हुए। वहाँ की सरकार ने उनसे वहीं रहने का अनुरोध किया।

प्रचलित ख़बरें

टीनएज में सेक्स, पोर्न, शराब, वन नाइट स्टैंड, प्रेग्नेंसी… अनुराग कश्यप ने बेटी को कहा- जैसी तुम्हारी मर्जी

ब्वॉयफ्रेंड के साथ सोने के सवाल पर अनुराग ने कहा, "यह तुम्हारा अपना डिसीजन है कि तुम किसके साथ रहती हो। मैं केवल इतना चाहता हूँ कि तुम सेफ रहो।"

‘एक दिन में मात्र 86 लाख लोगों को वैक्सीन, बेहद खराब!’: रवीश कुमार के लिए पानी पर चलने वाले कुत्ते की कहानी

'पोलियो रविवार' के दिन मोदी सरकार ने 9.1 करोड़ बच्चों को वैक्सीन लगाई। रवीश 2012 के रिकॉर्ड की बात कर रहे। 1950 में पहला पोलियो वैक्सीन आया, 62 साल बाद बने रिकॉर्ड की तुलना 6 महीने बाद बने रिकॉर्ड से?

‘तुम्हारे शरीर के छेद में कैसे प्लग लगाना है, मुझे पता है’: पूर्व महिला प्रोफेसर का यौन शोषण, OpIndia की खबर पर एक्शन में...

कॉलेज के सेक्रेटरी अल्बर्ट विलियम्स ने उन पर शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया। जोसेफिन के खिलाफ 60 आरोप लगा कर इसकी प्रति कॉलेज में बँटवाई गई। एंटोनी राजराजन के खिलाफ कार्रवाई की बजाए उन्हें बचाने में लगा रहा कॉलेज प्रबंधन।

वो ब्राह्मण राजा, जिनका सिर कलम कर दिया गया: जिन मुस्लिमों को शरण दी, उन्होंने ही अरब से युद्ध में दिया धोखा

राजा दाहिर ने जब कई दिनों तक शरण देने की एवज में खलीफा के उन दुश्मनों से मदद माँगी, तो उन्होंने कहा, "हम आपके आभारी हैं, लेकिन हम इस्लाम की फौज के खिलाफ तलवार नहीं उठा सकते। हम जा रहे हैं।"

TMC के गुंडों ने किया गैंगरेप, कहा- तेरी काली माँ न*गी है, तुझे भी न*गा करेंगे, चाकू से स्तन पर हमला: पीड़ित महिलाओं की...

"उस्मान ने मेरा रेप किया। मैं उससे दया की भीख माँगती रही कि मैं तुम्हारी माँ जैसी हूँ मेरे साथ ऐसा मत करो, लेकिन मेरी चीख-पुकार उसके बहरे कानों तक नहीं पहुँची। वह मेरा बलात्कार करता रहा। उस दिन एक मुस्लिम गुंडे ने एक हिंदू महिला का सम्मान लूट लिया।"

‘नंदलाला की #$ गई क्या’- रैपर MC कोड के बाद अब मफ़ाद ने हिन्दुओं की आस्था को पहुँचाई चोट, भगवान कृष्ण को दी गालियाँ

रैपर ने अगली पंक्ति में धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुँचाने के लिए बेहद आपत्तिजनक शब्दों का प्रयोग किया जैसे, "मर गया तेरा नंदलाल नटखट, अब गोपियाँ भागेंगी छोड़के पनघट।"
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
105,519FollowersFollow
392,000SubscribersSubscribe