Thursday, October 1, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे सिर्फ सेहत के सहारे जिन्दगी कटती नहीं, क्योंकि बिरियानी में बोटियाँ तलाशते रहते हैं...

सिर्फ सेहत के सहारे जिन्दगी कटती नहीं, क्योंकि बिरियानी में बोटियाँ तलाशते रहते हैं टुकड़ाखोर

इन जंतुओं का ख़याल था कि इस दवाई से मर्दाना ताकत पर उल्टा सा असर हो जाता है। इससे वो ज्यादा बच्चे पैदा करने में असमर्थ हो जाएँगे। इस किस्म की अफवाहों की वजह से सिंगल सोर्स की आबादी वाले इलाकों में पोलियो ड्रॉप पिलाना करीब-करीब नामुमकिन हो गया।

कहा गया है कि जिन्दगी के लिए एक रोग पाल लो, क्योंकि सिर्फ सेहत से जिन्दगी नहीं कटती। इस शेर में वैसे तो इशारा इश्क की तरफ था, लेकिन पॉलिटिकल करेक्टनेस भी वैसी ही एक बीमारी है। इस बीमारी के मरीज़– नफरती चिंटू, दूसरों के लिए तरह–तरह के नाम गढ़ते हैं। जी हाँ, ये “नफरती चिंटू” भी उनका खुद का गढ़ा हुआ एक नाम है। अब शायद आप कहेंगे कि नाम में क्या रखा है? साहित्य (शेक्सपियर) पढ़ा है आपने। तो जनाब नाम की बड़ी महिमा है।

कई दशक पहले एक मजदूरों के नाम पर बनी समाजवादी पार्टी के आतंक से दुनिया दहल उठी थी। उसे आज भी “नाज़ी” के नाम से लोग याद करते हैं। इस पार्टी के प्रचार तंत्र का मुखिया था पॉल जोसफ गोएबल्स। उसने प्रचार तंत्र के जरिए लड़ाई के कई ऐसे नुस्खे निकाले थे, जिसका इस्तेमाल उसकी नाजायज औलादें आज भी करती हैं। विश्वयुद्ध के बीतने के इतने साल बाद भी संचार और सूचना तंत्र के बारे में पढ़ने वालों ने उसके कम से कम दस नुस्खे आज भी पढ़े होते हैं।

ऐसी तरीकों में से एक था “नेमकाल्लिंग”। यानी अपने विरोधियों का एक ऐसा नाम रख दो जिससे उनको पहचानकर उनकी बेइज्जती की जा सके। उदाहरण के तौर पर “भक्त” शब्द का गोएबल्स पुत्रों द्वारा इस्तेमाल किया जाना देखिए। ये टुकड़ाखोर, चार-छः फेंकी हुई बोटियों के लालच में कैसे एक सम्मानसूचक शब्द को गाली की तरह फेंककर मारते हैं? बिरियानी में पड़े मांस के टुकड़े ढूँढते ये नीच कितना नीचे तक जा सकते हैं, इसका ये केवल एक उदाहरण है। ऐसे अनगिनत नमूने आपको एक शब्द में ही याद आ गए होंगे।

सन 1930 के दौर में जब पोलैंड पर हमले के वक़्त, स्टालिन खुद हिटलर के टैंकों में तेल भरवा रहा था, उसी दौर में आयातित विचारधारा के इन पैरोकारों ने गोएबल्स के सारे नुस्खे सीख लिए थे। समय के साथ-साथ उनका इस्तेमाल करने में भी ये सिद्धहस्त होते गए। संकट के समय में इन भितरघातियों की कुचेष्टाएँ वैसे ही बढ़ती हैं, जैसे रात्रि के आते ही निशाचरों की शक्ति। अलग-अलग जगहों पर भेष बदल कर छुपे ये हमलावर संकट काल में ऐसे किस्म के हमले शुरू करते हैं। इसकी एक बानगी एक “फोबिक” शब्द में भी दिखती है।

थोड़ा ही पीछे चलें तो भारत की पोलियो से जंग बड़ी आसानी से याद आ जाती है। कई विख्यात अभिनेता “दो बूँदें जिन्दगी की” का प्रचार करते दिखते थे। घर-घर जाकर कई स्वास्थ्यकर्मियों ने हर छोटे बच्चे को पोलियो ड्रॉप पिलाने का काम किया था। ये काम उतना आसान नहीं था जितनी आसानी से ये जंग जीत लेने के बाद हम कह सकते हैं। शुरुआती दौर में इसमें कई समस्याएँ आई थीं। ऐसा नहीं था कि इसमें कोई सूई दी जाती थी और बच्चे को बुखार हो जाने जैसी कोई समस्या होती हो।

इसके पीछे “एकमात्र स्रोत” (सिंगल सोर्स) का दुराग्रह था। इन जंतुओं का ख़याल था कि इस दवाई से मर्दाना ताकत पर उल्टा सा असर हो जाता है। इससे वो ज्यादा बच्चे पैदा करने में असमर्थ हो जाएँगे। इस किस्म की अफवाहों की वजह से सिंगल सोर्स की आबादी वाले इलाकों में पोलियो ड्रॉप पिलाना करीब-करीब नामुमकिन हो गया। इससे निपटने के लिए स्वास्थ्य के क्षेत्र में काम करने वाले राष्ट्रीय-अंतर्राष्ट्रीय संगठनों ने उनके मजहबी रहनुमाओं से चिट्ठियाँ लिखवाई। उसके बाद कहीं जाकर दवाएँ पिलाना मुमकिन हो पाया।

आज भी ऑपरेशन इन्द्रधनुष जैसे कार्यक्रम जो टीकाकरण के लिए चलते हैं, उसमें ऐसी चिट्ठियों का इस्तेमाल आम है। मजहबी नेताओं को इकट्ठा करके उनसे टीकाकरण के लिए आह्वान करवाना बिलकुल आम बात है। इसके वाबजूद बिरियानी में बोटियाँ तलाशते टुकड़ाखोर किसी “फोबिया” शब्द को बिलकुल वैसे ही पत्थरों की तरह चलाते हैं, जैसे अभी-अभी यूपी के किसी जिले में स्वास्थ्यकर्मियों पर चलाए गए। गोएबल्स की ये औलादें गाँधीवादी नहीं हैं। आपको ये भी पता है कि नाज़ियों से किसी गाँधीवादी तरीके से निपटा नहीं गया था।

बाकी इन वेटिकन फण्ड पर पल रहे टुकड़ाखोरों का खात्मा कैसे जल्दी से जल्दी किया जा सके, इस बारे में सोचना भी जरूरी है। सोचिएगा जरूर, क्योंकि सोचने पर फ़िलहाल जीएसटी नहीं लगता!

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

Anand Kumarhttp://www.baklol.co
Tread cautiously, here sentiments may get hurt!

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

इंडिया टुडे के राहुल कँवल, हिन्दी नहीं आती कि दिमाग में अजेंडा का कीचड़ भरा हुआ है?

हाथरस के जिलाधिकारी और मृतका के पिता के बीच बातचीत के वीडियो को राहुल कँवल ने शब्दों का हेरफेर कर इस तरह पेश किया है, जैसे उन्हें धमकाया जा रहा हो।

कठुआ कांड की तरह ही मीडिया लिंचिंग की साजिश तो नहीं? 31 साल पहले भी 4 नौजवानों ने इसे भोगा था

जब शोषित समाज के वंचित कहे जाने वाले तबकों से हो और आरोपित तथाकथित ऊँची मानी जाने वाली जातियों से, तो मीडिया लिंचिंग के लिए एक बढ़िया मौका तैयार हो जाता है।

‘हर कोई डिम्पलधारी को गिरने से रोकता रहा, लेकिन बाबा ने डिसाइड कर लिया था कि घास में तैरना है तो कूद गया’

हा​थरस केस पर पॉलिटिक्स करने गए राहुल गाँधी का एक वीडियो के सामने आने के बाद ट्विटर पर 'एक्ट लाइक पप्पू' ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में कपिल मिश्रा ‘व्हिसल ब्लोअर’ नहीं: साजिश से ध्यान हटाने के लिए मीडिया ने गढ़ा झूठा नैरेटिव

दंगों पर दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कपिल मिश्रा को 'व्हिसल ब्लोअर' नहीं बताया गया है। जानिए, मीडिया ने कैसे आपसे सच छिपाया।

‘द वायर’ की परमादरणीया पत्रकार रोहिणी सिंह ने बताया कि रेप पर वैचारिक दोगलापन कैसे दिखाया जाता है

हाथरस में आरोपित की जाति पर जोर देने वाली रोहिणी सिंह जैसी लिबरल, बलरामपुर में दलित से रेप पर चुप हो जाती हैं? क्या जाति की तरह मजहब अहम पहलू नहीं होता?

रात 3 बजे रिया को घर छोड़ने गए थे सुशांत, सुबह फँदे से लटके मिले: डेथ मिस्ट्री में एक और चौंकाने वाला दावा

रिया चकवर्ती का दावा रहा है कि 8 जून के बाद उनका सुशांत से कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। लेकिन, अब 13 जून की रात दोनों को साथ देखे जाने की बात कही जा रही है।

प्रचलित ख़बरें

ईशनिंदा में अखिलेश पांडे को 15 साल की सजा, कुरान की ‘झूठी कसम’ खाकर 2 भारतीय मजदूरों ने फँसाया

UAE के कानून के हिसाब से अगर 3 या 3 से अधिक लोग कुरान की कसम खाकर गवाही देते हैं तो आरोप सिद्ध माना जा सकता है। इसी आधार पर...

व्यंग्य: दीपिका के NCB पूछताछ की वीडियो हुई लीक, ऑपइंडिया ने पूरी ट्रांसक्रिप्ट कर दी पब्लिक

"अरे सर! कुछ ले-दे कर सेटल करो न सर। आपको तो पता ही है कि ये सब तो चलता ही है सर!" - दीपिका के साथ चोली-प्लाज्जो पहन कर आए रणवीर ने...

रात 3 बजे रिया को घर छोड़ने गए थे सुशांत, सुबह फँदे से लटके मिले: डेथ मिस्ट्री में एक और चौंकाने वाला दावा

रिया चकवर्ती का दावा रहा है कि 8 जून के बाद उनका सुशांत से कोई कॉन्टेक्ट नहीं था। लेकिन, अब 13 जून की रात दोनों को साथ देखे जाने की बात कही जा रही है।

‘हिन्दू राष्ट्र में आपका स्वागत है, बाबरी मस्जिद खुद ही गिर गया था’: कोर्ट के फैसले के बाद लिबरलों का जलना जारी

अयोध्या बाबरी विध्वंस मामले में कोर्ट का फैसला आने के बाद यहाँ हम आपके समक्ष लिबरल गैंग के क्रंदन भरे शब्द पेश कर रहे हैं, आनंद लीजिए।

शाम तक कोई पोस्ट न आए तो समझना गेम ओवर: सुशांत सिंह पर वीडियो बनाने वाले यूट्यूबर को मुंबई पुलिस ने ‘उठाया’

"साहिल चौधरी को कहीं और ले जाया गया। वह बांद्रा के कुर्ला कॉम्प्लेक्स में अपने पिता के साथ थे। अभी उनकी लोकेशन किसी परिजन को नहीं मालूम। मदद कीजिए।"

लड़कियों को भी चाहिए सेक्स, फिर ‘काटजू’ की जगह हर बार ‘कमला’ का ही क्यों होता है रेप?

बलात्कार आरोपित कटघरे में खड़ा और लोग तरस खा रहे... सबके मन में बस यही चल रहा है कि काश इसके पास नौकरी होती तो यह आराम से सेक्स कर पाता!

लॉकडाउन, मास्क, एंटीजन टेस्ट… कोरोना को रोकने के लिए भारत ने समय पर लिए फैसले, दुनिया ने किया अनुकरण

ORF के ओसी कुरियन ने बताया है कि किस तरह भारत ने कोरोना का प्रसार रोकने के लिए फैसले समय पर लिए।

UP: भदोही में 14 साल की दलित बच्ची की सिर कुचलकर हत्या, बिना कपड़ों के शव खेत में मिला

भदोही में दलित नाबालिग की सिर कुचलकर हत्या कर दी गई। शव खेत से बरामद किया गया। परिजनों ने बलात्कार की आशंका जताई है।

इंडिया टुडे के राहुल कँवल, हिन्दी नहीं आती कि दिमाग में अजेंडा का कीचड़ भरा हुआ है?

हाथरस के जिलाधिकारी और मृतका के पिता के बीच बातचीत के वीडियो को राहुल कँवल ने शब्दों का हेरफेर कर इस तरह पेश किया है, जैसे उन्हें धमकाया जा रहा हो।

कठुआ कांड की तरह ही मीडिया लिंचिंग की साजिश तो नहीं? 31 साल पहले भी 4 नौजवानों ने इसे भोगा था

जब शोषित समाज के वंचित कहे जाने वाले तबकों से हो और आरोपित तथाकथित ऊँची मानी जाने वाली जातियों से, तो मीडिया लिंचिंग के लिए एक बढ़िया मौका तैयार हो जाता है।

1000 साल लगे, बाबरी मस्जिद वहीं बनेगी: SDPI नेता तस्लीम रहमानी ने कहा- अयोध्या पर गलत था SC का फैसला

SDPI के सचिव तस्लीम रहमानी ने अयोध्या में फिर से बाबरी मस्जिद बनाने की धमकी दी है। उसने कहा कि बाबरी मस्जिद फिर से बनाई जाएगी, भले ही 1000 साल लगें।

मिलिए, छत्तीसगढ़ के 12वीं पास ‘डॉक्टर’ निहार मलिक से; दवाखाना की आड़ में नर्सिंग होम चला करता था इलाज

मामला छत्तीसगढ़ के बलरामपुर का है। दवा दुकान के पीछे चार बेड का नर्सिंग होम और मरीज देख स्वास्थ्य विभाग की टीम अवाक रह गई।

‘हर कोई डिम्पलधारी को गिरने से रोकता रहा, लेकिन बाबा ने डिसाइड कर लिया था कि घास में तैरना है तो कूद गया’

हा​थरस केस पर पॉलिटिक्स करने गए राहुल गाँधी का एक वीडियो के सामने आने के बाद ट्विटर पर 'एक्ट लाइक पप्पू' ट्रेंड करने लगा।

दिल्ली दंगों की चार्जशीट में कपिल मिश्रा ‘व्हिसल ब्लोअर’ नहीं: साजिश से ध्यान हटाने के लिए मीडिया ने गढ़ा झूठा नैरेटिव

दंगों पर दिल्ली पुलिस की चार्जशीट में कपिल मिश्रा को 'व्हिसल ब्लोअर' नहीं बताया गया है। जानिए, मीडिया ने कैसे आपसे सच छिपाया।

फोरेंसिक रिपोर्ट से रेप की पुष्टि नहीं, जान-बूझकर जातीय हिंसा भड़काने की कोशिश हुई: हाथरस मामले में ADG

एडीजी प्रशांत कुमार ने बताया है कि हाथरस केस में फोरेंसिक रिपोर्ट आ गई है। इससे यौन शोषण की पुष्टि नहीं होती है।

‘द वायर’ की परमादरणीया पत्रकार रोहिणी सिंह ने बताया कि रेप पर वैचारिक दोगलापन कैसे दिखाया जाता है

हाथरस में आरोपित की जाति पर जोर देने वाली रोहिणी सिंह जैसी लिबरल, बलरामपुर में दलित से रेप पर चुप हो जाती हैं? क्या जाति की तरह मजहब अहम पहलू नहीं होता?

हमसे जुड़ें

267,758FansLike
78,089FollowersFollow
326,000SubscribersSubscribe