Wednesday, November 25, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे पटाखों पर रोक लेकिन कुर्बानी से 'प्यार' और क्रिसमस पर सब OK... नफरत सिर्फ...

पटाखों पर रोक लेकिन कुर्बानी से ‘प्यार’ और क्रिसमस पर सब OK… नफरत सिर्फ हिंदुओं के त्योहारों से क्यों?

“जिस तरह से दही-हांडी समेत बाकी हिंदू त्योहारों को बैन किया जा रहा है, उसे देखते हुए हिंदुओं के अंतिम संस्कार पर भी रोक लगा दी जाएगी या फिर कोई कोर्ट में याचिका डालकर प्रदूषण के मुद्दे पर शवों को जलाने से रोक लगाने की माँग करेगा। निश्चित तौर पर इसमें राजनीति है।"

90 के दशक में बच्चों की दिवाली धूम-धड़ाके वाली ही होती थी। आज भी आपको वो दिन याद आते होंगे जब मम्मी-पापा घर की सफाई और पूजा के सामान की चिंता में घुले जाते थे। लेकिन आपको दिन रात बस दिवाली में अपने पटाखों की चिंता रहती थी। शाम को बाजार जाना और आलू बम, चरखी, फूलझड़ी, अनार, लड़ी बम, रॉकेट जैसे जाने कितने पटाखे खरीद लाते।

दिवाली की रात का इंतजार कौन करे। बच्चों की दिवाली तो दो-तीन दिन पहले से ही शुरू हो जाती। वो बम को टूटे-फूटे टीन के डब्बों के नीचे रखकर जलाना। बम फूटने पर उस डब्बे को हवा में उड़ते देखना। हाथ में रखकर अनार जलाना और दोस्तों के सामने हेकड़ी झाड़ना। 100 बमों की लड़ी को मटके में रखकर जलाना और फिर उसकी आवाज का पूरे मुहल्ले तक में गूँजना। रॉकेट जलाना, जो पड़ोसी के घर में घुस जाया करती थी।

याद ही होगा न ये सब आप लोगों को? इन पंक्तियों को पढ़कर आपके चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कान भी आ गई होगी। क्योंकि कमोबेश 90 के दशक के हर बच्चे का यही बचपन रहा होगा। सबने ऐसे ही दिवाली मनाई होगी। थोड़ी कम या थोड़ी ज्यादा।

अब दिल्ली में दिवाली से ठीक पहले दिल्ली सरकार ने एक बड़ा फैसला लिया है। दिल्ली में पटाखों को 9 नवंबर से 30 नवंबर तक पूरी तरह से बैन कर दिया गया है। ग्रीन क्रैकर्स भी नहीं बिकेंगे। कहा गया कि दिल्ली को प्रदूषण से बचाने के लिए इस तरह की पाबंदी लगाई गई है। 

दिल्ली में कोरोना और पॉल्यूशन के कॉकटेल ने लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। दिवाली के पास पॉल्यूशन का ठीकरा पटाखों पर फोड़ा जा रहा है। दिल्ली समेत कुछ अन्य राज्यों ने पटाखे जलाने पर पूरी तरह से रोक लगा दी है। अब सवाल ये है कि प्रदूषण को लेकर सरकारें साल भर क्यों सोती रहती हैं? पॉल्यूशन का सॉल्यूशन चंद दिनों के बैन से निकलेगा? क्या पटाखा ही पॉल्यूशन का असली विलेन है? पराली जलाने पर बैन क्यों नहीं लगाती सरकारें? क्या पॉल्यूशन के बहाने हिंदू त्योहारों को टारगेट किया जा रहा है? पॉल्यूशन पर कब सख्त बनेगी पॉलिसी?

सवाल तो यह भी है कि पटाखों पर बैन केवल 30 नवंबर तक ही क्यों? यदि पटाखे हवा और स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हैं तो पूरे साल के लिए उन्हें बैन कर देना चाहिए। पटाखे उद्योग बंद कर देना चाहिए। पटाखा कारोबारियों को पुनर्वास पैकेज देना चाहिए और भारत को पटाखा मुक्त देश घोषित कर देना चाहिए। सिर्फ हिंदू त्योहारों को प्रदूषण के बहाने क्यों टारगेट किया जा रहा है?

क्या प्रदूषण कम करने नाम पर पटाखों की बिक्री पर पाबंदी लगाना उचित है? मैं इस बात से असहमत हूँ। दिवाली में पटाखे फोड़ने से रोकना हिंदू संस्कृति पर हमला है। आखिर तुम हमें हमारा ही त्योहार मनाने से कैसे रोक सकते हो? पहले तुमने होली के समय हमसे ये कहकर पानी छीन लिया कि इस त्योहार में पानी की बहुत बर्बादी होती है। अब दिवाली पर पटाखे भी?

बकरीद के बारे में कोई कुछ नहीं कहता, जब लाखों मासूम जानवरों को मौत के घाट उतार दिया जाता है। क्या बकरीद के मौके पर बकरे कटने से नदियों का रंग लाल नहीं होता है। तब तो लोगों को प्रदूषण की फिक्र नहीं होती है। क्रिसमस के बारे में क्या कहेंगे जब हजारों पेड़ काट दिए जाते हैं?

दिल्ली में तो वैसे ही प्रदूषण रहता है, तो सिर्फ पटाखे पर बैन से क्या फर्क पड़ेगा? अजान के लिए मस्जिदों पर लाउडस्पीकर के इस्‍तेमाल पर क्‍या कहेंगे? क्‍या ये ध्‍वनि प्रदूषण ठीक है। ये अजीब है कि सारा जोर सिर्फ एक ही समुदाय पर चल रहा है। पटाखों की सेल पर जो बैन लगा, वह ‘हिंदू संस्कृति’ को लगा है, पटाखों को नहीं। ऐसा बैन न ईद पर लगता है न मुहर्रम और न ही क्रिसमस पर लगता है। सिर्फ दिवाली-होली पर लगता है, क्यों? 

इससे पहले पटाखों पर बैन का विरोध करते हुए त्रिपुरा के राज्यपाल ने यहाँ तक कह दिया था कि ऐसा लगता है कि प्रदूषण के नाम पर अंतिम संस्कार में शव जलाने पर भी कहीं रोक ना लगा दी जाए। राज्यपाल ने बाद में कहा,

“मैंने अपने ट्वीट में कोर्ट के फैसले पर कुछ नहीं कहा है। मैंने ये कहा है कि जिस तरह से दही हांडी समेत बाकी हिंदू त्योहारों को बैन किया जा रहा है, उसे देखते हुए हिंदुओं के अंतिम संस्कार पर भी रोक लगा दी जाएगी या फिर कोई कोर्ट में याचिका डालकर प्रदूषण के मुद्दे पर शवों को जलाने से रोक लगाने की माँग करेगा। निश्चित तौर पर इसमें राजनीति है। अवॉर्ड वापसी ग्रुप और बाकी लोग जो ऐसी याचिका दायर करते हैं, उनकी नजर हमेशा अल्पसंख्यक वोट बैंक पर होती है। मैं उस राजनीति में नहीं पड़ूँगा लेकिन इतना जरूर कहूँगा कि इसमें राजनीति है।”

बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने अरविंद केजरीवाल से पटाखा बैन को लेकर सवाल किया, “क्या हर साल दिवाली पर पटाखों को बैन करना उचित है? दिल्ली में आज तो पटाखे नहीं जल रहे हैं तो प्रदूषण का स्तर आज खराब क्यों है? करवा चौथ के दिन चाँद देखने के लिए एक-एक घंटे जद्दोजहद करनी पड़ी, प्रदूषण अपने चरम पर था, लेकिन तब तो पटाखे नहीं चल रहे थे?”

ज्वैलरी ब्रांड तनिष्क ने भी अपने लव जिहाद वाले विवादित विज्ञापन के बाद दिवाली के अवसर पर पटाखे को लेकर नया ऐड तैयार किया। इस ऐड में भी उन्होंने अपने प्रचार के नाम पर हिंदू विरोधी प्रोपेगेंडा परोसा है, जिसकी वजह से सोशल मीडिया पर एक बार फिर बॉयकॉट तनिष्क ट्रेंड करने लगा है।

ऐड शुरू होते ही एक महिला इसमें कहती है, “यकीनन कोई पटाखे नहीं। मुझे नहीं लगता किसी को पटाखे जलाने चाहिए।” इसके बाद दो-तीन महिलाएँ अपनी बातें रखती हैं और अंत में इकट्ठा होकर खिलखिलाती नजर आती हैं। बस ऐड खत्म।

सोचने वाली है बात है कि यह प्रचार दिवाली के लिए निर्मित हुआ है। यदि मान भी लिया जाए कि तनिष्क का प्रोपेगेंडा हिंदू विरोधी नहीं है तो फिर इसमें दीये, कैंडल्स, रंगोली, मिठाई, पूजा की थाली आदि चीजें कहाँ हैं? जो आमतौर पर दिवाली के मौके पर हर घर की शोभा बढ़ाते हैं। क्या दिवाली का मतलब सिर्फ़ तनिष्क का सोना पहनना होता है?

दिल्ली सरकार के फैसले से पटाखा कारोबारियों की नींद उड़ गई है। पटाखा कारो​बारियों का कहना है कि दिल्ली में विक्रेताओं ने सरकार से दिवाली तक ग्रीन पटाखे बेचने की अनुमति दी जाए, नहीं तो भारी नुकसान झेलना होगा।

पटाखा कारोबारी के अनुसार “अचानक प्रतिबंध के कारण, हमें लगभग 15-20 लाख रुपए के नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। पहले सरकार ने कहा कि ग्रीन पटाखे बेचे जा सकते हैं और हमें लाइसेंस दिया गया है। हमने पहले ही स्टॉक खरीद लिया था।” 

पटाखे बेचने वाले दुकानदारों का कहना है कि सरकार द्वारा सभी प्रकार के पटाखों पर प्रतिबंध लगाने से उन्हें भारी नुकसान होगा। एक विक्रेता का कहना है, “हमने सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद ग्रीन पटाखों का स्टॉक खरीद लिया, लेकिन अब सीएम ने उन पर भी प्रतिबंध लगा दिया। हम प्रतिबंध का विरोध करेंगे।” 

पटाखे बैन का सीधा असर व्यापारियों पर पड़ेगा, क्योंकि पहले सरकार ने खुद ग्रीन क्रैकर्स की इजाजत दी थी और अब प्रतिबंध लगा दिया। 2 महीने पहले सरकार ने लाइसेंस दिए और जब व्यापारियों ने पटाखे खरीद लिए तो उस पर बैन लगा दिया गया। इस कारण व्यापारियों को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा। यह बेहद हास्यास्पद है और यह बताता है कि सरकार के पास कोई विजन नहीं है।

इस मामले में एक सवाल तो यह पूछा जा रहा है कि जब प्रदूषण के अन्य कई कारण हैं, तब फिर अकेले पटाखों की बिक्री पर रोक क्यों? ऐसे सवालों के साथ एक सवाल यह भी उठा है कि क्या सारे नियम-कायदे हिंदुओं के त्योहारों के लिए ही हैं? यह सवाल इसलिए उठा, क्योंकि अतीत में होली पर इस तरह की नसीहत बार-बार दी जाती रही है कि हानिकारक रंगों के इस्तेमाल से बचें। दीपावली के वक्त पटाखों पर अंकुश की चर्चा नई नहीं है। 

अरसा पहले कॉन्वेंट स्कूलों में बच्चों को पटाखों के चलते पर्यावरण पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव के प्रति जागरूक करने की शुरुआत हुई थी, जो धीरे-धीरे पब्लिक स्कूलों तक भी पहुँची। तब भी यह चर्चा चली थी कि एक शहरी वर्ग हिंदुओं के त्योहारों के प्रति तिरस्कार का भाव रखता है। जब मूर्तियों के विसर्जन को लेकर नदियों के प्रदूषण की चिंता की गई, तब भी यह कहा गया कि आखिर सारी हिदायत हिंदुओं के त्योहारों के लिए क्यों?

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

वो सीक्रेट बैठक, जिससे उड़ी इमरान खान की नींद: तुर्की की गोद में बैठा कंगाल Pak अब चीन के लिए होगा खिलौना

पाकिस्तान समेत ज़्यादातर मुस्लिम देश इजरायल को अपना दुश्मन नंबर एक मानते हैं। सऊदी अरब व इजरायल के रिश्ते मजबूत होने से इमरान की उड़ी नींद।

‘PFI वाले मुझे घर, नौकरी और रुपए देंगे’: इस्लाम अपनाने की घोषणा करने वाली केरल की दलित महिला

केरल की दलित महिला ऑटोरिक्शा ड्राइवर चित्रलेखा ने इस्लामी धर्मांतरण की घोषणा की थी। अब सामने आया है कि PFI ने उन्हें इसके लिए प्रलोभन दिया।

उमर खालिद नास्तिकता का ढोंग करता है, वस्तुतः वह कट्टर मुस्लिम है जो भारत को तोड़ना चाहता है: दिल्ली पुलिस

खालिद के लिए दिल्ली में रहने वाले बांग्लादेशी और रोहिंग्या अप्रवासी ऐसे लोग थे, जिनका इस्तेमाल करना आसान था। उसने इस्लाम और अल्ट्रा लेफ्ट...

वो अहमद पटेल, जिसे राज्यसभा सीट जिताने के लिए कॉन्ग्रेस ने खो दिया था पूरे गुजरात को

71 साल के अहमद पटेल का इंतकाल हो गया। उनकी मौत का कारण मल्टिपल ऑर्गन फेलियर रहा। उनसे यूपीए काल में हुए कई घोटालों के...

‘स्पीकर के चुनाव में साथ दो, तुम्हें मंत्री बनाएँगे’: लालू यादव का MLA को लालच देने वाला कॉल, सुनें ऑडियो क्लिप

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने लालू यादव पर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप लगाया है। साथ ही एक ऑडियो क्लिप भी शेयर किया।

जानिए क्या है रोशनी एक्ट, जिसका गुनाह छिपाने के लिए हंगामा कर रहा है घोटालेबाज गुपकार गैंग

जम्मू-कश्मीर के ‘रोशनी एक्ट’ भूमि घोटाले की लिस्ट सार्वजनिक कर दी गई है। इस लिस्ट में जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारुक अब्दुल्ला समेत...

प्रचलित ख़बरें

‘मेरे पास वकील रखने के लिए रुपए नहीं हैं’: सुप्रीम कोर्ट में पूर्व सैन्य अधिकारी की पत्नी से हरीश साल्वे ने कहा- ‘मैं हूँ...

साल्वे ने अर्णब गोस्वामी का केस लड़ने के लिए रिपब्लिक न्यूज नेटवर्क से 1 रुपया भी नहीं लिया। अंतरराष्ट्रीय न्यायालय में उन्होंने कुलभूषण जाधव का केस भी मात्र 1 रुपए में लड़ा था।

बहन से छेड़खानी करता था ड्राइवर मुश्ताक, भाई गोलू और गुड्डू ने कुल्हाड़ी से काट डाला: खुद को किया पुलिस के हवाले

गोलू और गुड्डू शाम के वक्त मुश्ताक के घर पहुँच गए। दोनों ने मुश्ताक को उसके घर से घसीट कर बाहर निकाला और जम कर पीटा, फिर उन्होंने...

रहीम ने अर्जुन बनकर हिंदू विधवा से बनाए 5 दिन शारीरिक संबंध, बाद में कहा- ‘इस्लाम कबूलो तब करूँगा शादी’

जब शादी की कोई बात किए बिना अर्जुन (रहीम) महिला के घर से जाने लगा तो पीड़िता ने दबाव बनाया। इसके बाद रहीम ने अपनी सच्चाई बता...

इतिहास में गुम हैं मुगलों को 17 बार हराने वाले अहोम योद्धा: देश भूल गया ब्रह्मपुत्र के इन बेटों को

राजपूतों और मराठों की तरह कोई और भी था, जिसने मुगलों को न सिर्फ़ नाकों चने चबवाए बल्कि उन्हें खदेड़ कर भगाया। असम के उन योद्धाओं को राष्ट्रीय पहचान नहीं मिल पाई, जिन्होंने जलयुद्ध का ऐसा नमूना पेश किया कि औरंगज़ेब तक हिल उठा। आइए, चलते हैं पूर्व में।

कंगना को मुँह तोड़ने की धमकी देने वाले शिवसेना MLA के 10 ठिकानों पर ED की छापेमारी: वित्तीय अनियमितता का आरोप

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने मंगलवार को शिवसेना नेता प्रताप सरनाईक के आवास और दफ्तर पर छापेमारी की। यह छापेमारी सरनाईक के मुंबई और ठाणे के 10 ठिकानों पर की गई।

‘मुस्लिमों ने छठ में व्रती महिलाओं का कपड़े बदलते वीडियो बनाया, घाट पर मल-मूत्र त्यागा, सब तोड़ डाला’ – कटिहार की घटना

बिहार का कटिहार मुस्लिम बहुत सीमांचल का हिस्सा है, जिसकी सीमाएँ पश्चिम बंगाल से लगती हैं। वहाँ के छठ घाट को तहस-नहस कर दिया गया।
- विज्ञापन -

‘उन्हें देश के गरीबों की समझ नहीं, राजनीति में नहीं आना चाहिए’: TMC ने सौरभ गांगुली पर साधा निशाना, अटकलों का बाजार गर्म

TMC के वरिष्ठ नेता ने कहा कि वो पूरे बंगाल के एक आइकॉन हैं और एकमात्र ऐसे बंगाली क्रिकेटर हैं, जिन्हें भारतीय टीम का नेतृत्व करने का मौका मिला।

राजस्थान में कोरोना संक्रमित कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RUHS का दौरा कर उड़ाई प्रोटोकॉल की धज्जियाँ: तस्वीरें वायरल

“आरयूएचएस में पहले से सब पॉजिटिव हैं और मैं भी पॉजिटिव हूँ, इसलिए प्रश्न उठता है कि मुझसे कोरोना फैलेगा कैसे? मैं डॉक्टरों की सलाह के बाद इंतजामों को देखने गया था।”

वो सीक्रेट बैठक, जिससे उड़ी इमरान खान की नींद: तुर्की की गोद में बैठा कंगाल Pak अब चीन के लिए होगा खिलौना

पाकिस्तान समेत ज़्यादातर मुस्लिम देश इजरायल को अपना दुश्मन नंबर एक मानते हैं। सऊदी अरब व इजरायल के रिश्ते मजबूत होने से इमरान की उड़ी नींद।

‘PFI वाले मुझे घर, नौकरी और रुपए देंगे’: इस्लाम अपनाने की घोषणा करने वाली केरल की दलित महिला

केरल की दलित महिला ऑटोरिक्शा ड्राइवर चित्रलेखा ने इस्लामी धर्मांतरण की घोषणा की थी। अब सामने आया है कि PFI ने उन्हें इसके लिए प्रलोभन दिया।

उमर खालिद नास्तिकता का ढोंग करता है, वस्तुतः वह कट्टर मुस्लिम है जो भारत को तोड़ना चाहता है: दिल्ली पुलिस

खालिद के लिए दिल्ली में रहने वाले बांग्लादेशी और रोहिंग्या अप्रवासी ऐसे लोग थे, जिनका इस्तेमाल करना आसान था। उसने इस्लाम और अल्ट्रा लेफ्ट...

वो अहमद पटेल, जिसे राज्यसभा सीट जिताने के लिए कॉन्ग्रेस ने खो दिया था पूरे गुजरात को

71 साल के अहमद पटेल का इंतकाल हो गया। उनकी मौत का कारण मल्टिपल ऑर्गन फेलियर रहा। उनसे यूपीए काल में हुए कई घोटालों के...

‘स्पीकर के चुनाव में साथ दो, तुम्हें मंत्री बनाएँगे’: लालू यादव का MLA को लालच देने वाला कॉल, सुनें ऑडियो क्लिप

बिहार के पूर्व उप-मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने लालू यादव पर विधायकों को प्रलोभन देने का आरोप लगाया है। साथ ही एक ऑडियो क्लिप भी शेयर किया।

जानिए क्या है रोशनी एक्ट, जिसका गुनाह छिपाने के लिए हंगामा कर रहा है घोटालेबाज गुपकार गैंग

जम्मू-कश्मीर के ‘रोशनी एक्ट’ भूमि घोटाले की लिस्ट सार्वजनिक कर दी गई है। इस लिस्ट में जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारुक अब्दुल्ला समेत...

‘मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम हवाई अड्डा पर आपका स्वागत है’ – योगी कैबिनेट ने प्रस्ताव को दी मंजूरी, होंगी विश्व स्तरीय सुविधाएँ

उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने निर्माणाधीन अयोध्या एयरपोर्ट का नाम 'मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम एयरपोर्ट' रखने का निर्णय लिया है।

कर्नाटक की माला होंगी USA की नई 1st Lady की नीति निदेशक, जो बायडेन के कार्यकाल में बढ़ेगा भारतीयों का दबदबा

जो बायडेन ने यूएस की नई 'फर्स्ट लेडी' और अपनी पत्नी जिल के पॉलिसी डायरेक्टर (नीति निदेशक) के रूप में माला अडिगा को नियुक्त किया है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,374FollowersFollow
357,000SubscribersSubscribe