Tuesday, June 15, 2021
Home विचार सामाजिक मुद्दे लड़की की शॉर्ट ड्रेस, रेप की धमकी और BJP कनेक्शन: 'भोट-कटवा कॉन्ग्रेस' की नई...

लड़की की शॉर्ट ड्रेस, रेप की धमकी और BJP कनेक्शन: ‘भोट-कटवा कॉन्ग्रेस’ की नई वाली राजनीति

मुद्दों के अभाव से जूझता विपक्ष, बीच चुनाव में अब बौखलाहट के मारे इसी तरह के हथकंडों के सहारे प्रचार अभियान चला रहा है। पंखुड़ी पाठक जैसी युवा राजनीतिज्ञों से इस तरह की अपेक्षा नहीं थी, लेकिन...

देश की सबसे ‘वरिष्ठ’ पार्टी, यानी कॉन्ग्रेस ने अब अपनी घटिया मानसिकता का परिचय देते हुए निर्दोषों को अपराधी घोषित करने का बीड़ा उठाया है। कॉन्ग्रेस के इस कुकृत्य में कुछ ऐसे लिबरल और वामपंथी भी शामिल हैं, जो ‘Cyber Bullying’ में दक्ष हो गए हैं। इन्होंने इसके लिए एक नायाब तरीका अपनाया है। उदाहरण के तौर पर मान लीजिए, अगर शशि (बदला हुआ नाम) किसी के बगीचे से चोरी-छिपे आम तोड़ कर खा जाता है और उसके नाना की बहन के दामाद के भांजे के पास जियो (Reliance Jio) का सिम है, तो आम की चोरी का दोष मुकेश अम्बानी पर मढ़ दिया जाता है।

हमने देखा है कि किस तरह से एक गिरोह विशेष स्क्रीनशॉट्स शेयर कर के किसी भी अपराधी के भाजपाई होने का दावा सिर्फ़ इसीलिए कर देता है, क्योंकि उसने 2 साल पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का कोई पोस्ट लाइक किया था। अगर किसी पर कुछ आरोप भी हों, तो उसके भाई-भतीजे और फूफे की फेसबुक प्रोफाइल खंगालने के बाद मिले लेख के आधार पर उस पर भाजपाई या संघी होने का ठप्पा लगा दिया जाता है। इस खेल के ये माहिर खिलाड़ी हो चुके हैं।

ताजा मामला भी कुछ ऐसा ही है। हालाँकि, जरा अजीब है। गुरुग्राम में हुई एक घटना में जबरदस्ती पीएम मोदी, भाजपा और रिलायंस को ठूँस देने की कोशिश की गई है। कॉन्ग्रेस ने क्या किया, इसे समझने से पहले गुरुग्राम में हुई उस घटना को जान लेना आवश्यक है, जो तेज़ी से यूट्यूब और सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। इस वीडियो के अनुसार, गुरुग्राम में कुछ युवतियों ने मिलकर एक महिला की खिंचाई की। उनका आरोप था कि उक्त महिला ने युवतियों के छोटे कपड़ों पर तंज कसते हुए, वहाँ उपस्थित लोगों से उनका रेप करने को कहा था। ये घटना का एक पक्ष है। उक्त युवतियों ने महिला की खिंचाई करने के बाद वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल कर दिया। साइबर वर्ल्ड में जैसा कि आम है, उस महिला को गालियाँ पड़ीं, उसकी सोच को ‘हीन’ बताते हुए युवतियों के साथ सहानुभूति जताई जा रही है।

हालाँकि, अगर उस महिला ने ऐसा कुछ भी कहा है, जैसा युवतियों ने दावा किया है, तो इस बयान की जितनी भी निंदा की जाए कम है। लेकिन उसी समय युवतियों को इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए था कि जिस महिला का चेहरा वो सोशल मीडिया पर वायरल कर रही हैं। अगर, उस के साथ इसी आधार पर भविष्य में कुछ गलत होता है, तो उसकी ज़िम्मेदारी कौन लेगा? यदि राह चलते हुए लोग उसे पहचान कर इसी तरह की ‘Bullying’ करने लगें, तो क्या यह गलत नहीं है? यहाँ इस घटना के अलग-अलग पक्ष हो सकते हैं और सही-गलत का निर्णय उसी आधार पर किया जा सकता है, लेकिन इस मामले में एक अन्य महिला भी कूदीं हैं और उनके बारे में ये कहने में संकोच नहीं होना चाहिए कि उन्होंने इस घटना को राजनीतिक रंग से पोत दिया।

यह भी जानने लायक बात है कि क्या एक परिवार में सभी सदस्यों की विचारधारा, राजनीतिक रुझान और पसंद-नापसंद समान हो सकती हैं? अगर किसी घर में पति भाजपा समर्थक है, तो क्या पत्नी कॉन्ग्रेस समर्थक नहीं हो सकती है? अगर एक भाई मुंबई इंडियंस का फैन है, तो दूसरा कोलकाता नाइट राइडर्स का फॉलोवर क्यों नहीं हो सकता है?

किसी परिवार के एक सदस्य की विचारधारा के आधार पर ही उसी परिवार के दूसरे सदस्य को दोषी ठहरा देना किस प्रकार का चलन है? वो भी तब, जब कि उस घटना में उस विचारधारा का कुछ योगदान ही न हो। एक झूठ होता है, किसी को जबरन संघ, भाजपा और रिलायंस समर्थक घोषित कर देना। दूसरा झूठ हुआ, इन तीनों में लिंक ढूँढ कर, इसे बलात्कारी मानसिकता से जबरन जोड़ देना। इन सबसे ऊपर, तीसरा झूठ हुआ यह मान लेना कि परिवार में सबकी विचारधारा समान है।

समाजवादी पार्टी से कॉन्ग्रेस में आईं पंखुड़ी पाठक वर्तमान में कॉन्ग्रेस पार्टी की मीडिया पैनलिस्ट हैं। ‘लड़के हैं, ग़लती हो जाती है’ से लेकर ‘लड़की है, ग़लती हो जाती है’ तक के उनके सफ़र में उन्होंने कॉन्ग्रेस की मानसिकता को सिरे से आत्मसात किया है। अब जानते हैं कि पंखुड़ी पाठक ने आखिर किया क्या है? दरअसल, उन्होंने एक ट्वीट किया, जिसमें गुरुग्राम प्रकरण वाली महिला की इस कथित सोच के लिए उनके पति को ज़िम्मेदार ठहराया है। उन्होंने उस महिला के पति का सोशल मीडिया एकाउंट खंगाला और फिर ये साबित करने की कोशिश की है कि इस महिला ने अपने पति की सोच के कारण उन युवतियों से कथित तौर पर ऐसा कहा। पंखुड़ी पाठक ने अपने ट्वीट में लिखा:

“बलात्कार समर्थक आंटी के पति मोदी समर्थक हैं। वह फेसबुक पर विभिन्न प्रकार के संघी पेजों को फॉलो करते हैं। घृणा फैलाने वालों के पोस्ट्स शेयर करते हैं, फेक न्यूज़ फैलाने वाले अंशुल सक्सेना के पोस्ट शेयर करते हैं और हाँ, रिलायंस के साथ भी उनके कुछ कनेक्शन हैं। अब पता चलता है कि ‘बलात्कार समर्थक आंटी’ के अंदर ऐसा बोलने की हिम्मत कहाँ से आई।”

पंखुड़ी पाठक ने अपनी ट्वीट्स के साथ कुछ स्क्रीनशॉट्स भी शेयर किए, जिसमें उक्त महिला के पति शांतनु चक्रवर्ती ने ‘जन औषधि योजना’ का पोस्टर लगा रखा था और उनकी पिछली जॉब्स की मदद से यह दिखाया कि वो कभी रिलायंस के डिस्ट्रीब्यूशन में कार्य करते थे। इसके अलावा, पंखुड़ी पाठक ने एक स्क्रीनशॉट के माध्यम से दिखाया है कि उन्होंने अंशुल सक्सेना का पोस्ट शेयर किया था।

इन सब बातों से तीन चीजें पता चलती है। पहली, अब तक इस मामले में उक्त महिला के पति शांतनु पर किसी भी तरह का कोई आरोप नहीं लगा है, फिर भी जबरदस्ती उनका नाम इसमें घसीटा जा रहा है। दूसरी, क्या इस तरह से किसी के प्रोफाइल पर बेवजह जाकर स्क्रीनशॉट्स लेना और फिर उसे वायरल कर लोगों को उनके खिलाफ उकसाना तार्किक है? अगर वह महिला कुछ बोलने की दोषी हैं भी, तो इसमें भाजपा, आरएसएस और रिलायंस का मनगढंत सम्बन्ध जोड़कर, उन्हें किस तरह से दोषी ठहरा दिया गया है?

दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते भाजपा के 11 करोड़ सदस्य हैं। अगर इन सबके रिश्तेदारों को भी मिला दें, तो इस परिभाषा के हिसाब से देश का हर व्यक्ति किसी न कसी तरह से भाजपा समर्थक निकल आएगा। यदि कॉन्ग्रेस नेता राजीव शुक्ला पर कोई आरोप लगता है, तो क्या उसके लिए भाजपा को इस वजह से ज़िम्मेदार ठहराया जा सकता है कि केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद उनके क़रीबी रिश्तेदार हैं? क्या तहसीन पूनावाला पर लगे आरोपों के लिए भी भाजपा को ज़िम्मेदार ठहराया जा सकता है, क्योंकि उनके भाई शहजाद पूनावाला भाजपा नेताओं के साथ दिखते हैं और उनका पक्ष लेते रहे हैं? हर चीज में भाजपा का हाथ दिखाने के लिए किसी की ‘Stalking’ करना क्या उसकी सुरक्षा के साथ खिलवाड़ नहीं है?

जिस तरह से इस प्रकरण में कुछ युवतियों व एक महिला के बीच हुई बहस के लिए भी मोदी और रिलायंस को जिम्मेदार ठहराने की कोशिश की गई है, उससे पता चलता है कि मुद्दों के अभाव से जूझता विपक्ष, बीच चुनाव में अब बौखलाहट के मारे इसी तरह के हथकंडों के सहारे प्रचार अभियान चला रहा है। पंखुड़ी पाठक ने यह भी साबित करने की कोशिश की है कि बलात्कार के लिए उकसाना संघी और भाजपाई सोच है। उनसे पूछा जाना चाहिए कि यह निष्कर्ष उन्होंने किन तथ्यों के आधार पर निकाला है? क्या केंद्र सरकार की जनहित में जारी योजनाओं के बारे में जागरूकता फैलाना भी बलात्कारी सोच की श्रेणी में आता है? पंखुड़ी पाठक जैसी युवा राजनीतिज्ञों से इस तरह की अपेक्षा नहीं थी, लेकिन वोट कटवा कॉन्ग्रेस की सोच आज इसी प्रकार के ‘भटके हुए’ मासूम नेताओं के सहारे अपना अस्तित्व तलाश रही है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अनुपम कुमार सिंहhttp://anupamkrsin.wordpress.com
चम्पारण से. हमेशा राइट. भारतीय इतिहास, राजनीति और संस्कृति की समझ. बीआईटी मेसरा से कंप्यूटर साइंस में स्नातक.

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र द्वारा किए गए जमीन के सौदे की पूरी सच्चाई, AAP के खोखले दावों की पूरी पड़ताल

अंसारी को जमीन का मालिकाना मिलने के बाद मंदिर ट्रस्ट और अंसारी के बीच बिक्री समझौता हुआ। अंसारी ने जमीन को 18.5 करोड़ रुपए में ट्रस्ट को बेचने की सहमति जताई।

2030 तक 2.6 करोड़ एकड़ बंजर जमीन का होगा कायाकल्प, 10 साल में बढ़ा 30 लाख हेक्टेयर वन क्षेत्र: UN वर्चुअल संवाद में PM...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को संयुक्त राष्ट्र में मरुस्थलीकरण, भूमि क्षरण और सूखे पर उच्च स्तरीय वर्चुअल कार्यक्रम को संबोधित किया।

ट्रस्ट द्वारा जमीन के सौदे में घोटाले का आरोप एक सुनियोजित दुष्प्रचार, समाज में उत्पन्न हुई भ्रम की स्थिति: चंपत राय

पारदर्शिता के विषय में चंपत राय ने कहा कि तीर्थ क्षेत्र का प्रथम दिवस से ही निर्णय रहा है कि सभी भुगतान बैंक से सीधे खाते में ही किए जाएँगे, सम्बन्धित भूमि की क्रय प्रक्रिया में भी इसी निर्णय का पालन हुआ है।

श्रीराम मंदिर के लिए सदियों तक मुगलों से सैकड़ों लड़ाई लड़े तो कॉन्ग्रेस-लेफ्ट-आप इकोसिस्टम से एक और सही

जो कुछ भी शुरू किया गया है वह हवन कुंड में हड्डी डालने जैसा है पर सदियों से लड़ी गई सैकड़ों लड़ाई के साथ एक लड़ाई और सही।

महाराष्ट्र में अब अकेले ही चुनाव लड़ेगी कॉन्ग्रेस, नाना पटोले ने सीएम उम्मीदवार बनने की जताई इच्छा

पटोले ने अमरावती में कहा, ''2024 के चुनाव में कॉन्ग्रेस महाराष्ट्र में सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरेगी। केवल कॉन्ग्रेस की विचारधारा ही देश को बचा सकती है।''

चीन की वुहान लैब में जिंदा चमगादड़ों को पिंजरे के अंदर कैद करके रखा जाता था: वीडियो से हुआ बड़ा खुलासा

वीडियो ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के उस दावे को भी खारिज किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि चमगादड़ों को लैब में रखना और कोरोना के वुहान लैब से पैदा होने की बात करना महज एक 'साजिश' है।

प्रचलित ख़बरें

राम मंदिर में अड़ंगा डालने में लगी AAP, ट्रस्ट को बदनाम करने की कोशिश: जानिए, ‘जमीन घोटाले’ की हकीकत

राम मंदिर जजमेंट और योगी सरकार द्वारा कई विकास परियोजनाओं की घोषणाओं के कारण 2 साल में अयोध्या में जमीन के दाम बढ़े हैं। जानिए क्यों निराधार हैं संजय सिंह के आरोप।

‘हिंदुओं को 1 सेकेंड के लिए भी खुश नहीं देख सकता’: वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप से पहले घृणा की बैटिंग

भारत के पूर्व तेज़ गेंदबाज वेंकटेश प्रसाद ने कहा कि जीते कोई भी, लेकिन ये ट्वीट ये बताता है कि इस व्यक्ति की सोच कितनी तुच्छ और घृणास्पद है।

सिख विधवा के पति का दोस्त था महफूज, सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण करा किया निकाह; दो बेटों का भी करा दिया खतना

रामपुर जिले के बेरुआ गाँव के महफूज ने एक सिख महिला की पति की मौत के बाद सहारा देने के नाम पर धर्मांतरण कर उसके साथ निकाह कर लिया।

केजरीवाल की प्रेस कॉन्फ्रेंस में फिर होने वाली थी पिटाई? लोगों से पहले ही उतरवा लिए गए जूते-चप्पल: रिपोर्ट

केजरीवाल पर हमले की घटनाएँ कोई नई बात नहीं है और उन्हें थप्पड़ मारने के अलावा स्याही, मिर्ची पाउडर और जूते-चप्पल फेंकने की घटनाएँ भी सामने आ चुकी हैं।

6 साल के पोते के सामने 60 साल की दादी को चारपाई से बाँधा, TMC के गुंडों ने किया रेप: बंगाल हिंसा की पीड़िताओं...

बंगाल हिंसा की गैंगरेप पीड़िताओं ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। बताया है कि किस तरह टीएमसी के गुंडों ने उन्हें प्रताड़ित किया।

इब्राहिम ने पड़ोसी गंगाधर की गाय चुराकर काट डाला, मांस बाजार में बेचा: CCTV फुटेज से हुआ खुलासा

इब्राहिम की गाय को जबरदस्ती घसीटने की घिनौनी हरकत सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। गाय के मालिक ने मालपे पुलिस स्टेशन में आरोपित के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।
- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
103,898FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe