Wednesday, May 27, 2020
होम विचार सामाजिक मुद्दे कट्टरपंथी मुसलमानों और वामपंथियों का तीन तिकड़म, राम मंदिर लटकाएँगे और टपकाएँगे

कट्टरपंथी मुसलमानों और वामपंथियों का तीन तिकड़म, राम मंदिर लटकाएँगे और टपकाएँगे

दिसंबर 1992 में अटल बिहारी वाजपेयी ने लोकसभा में कहा था कि 'राम का मंदिर छल और छद्म' से नहीं बनेगा। यकीनन हिंदुओं के नैतिक बल पर, अदालत के फैसले से ही राम मंदिर बनेगा। लेकिन, इस छल और छद्म से सावधान रहने की जरूरत है ताकि उसकी काली छाया में राम का वनवास और लंबा न हो।

ये भी पढ़ें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

एक चीफ जस्टिस जो 17 नवंबर को रिटायर होने से पहले दशकों से लटके अयोध्या विवाद पर फैसला सुनाना चाहता है। इसके लिए वह और उसकी अगुवाई वाली संविधान पीठ में शामिल साथी जस्टिस मध्यस्थता प्रक्रिया नाकाम होने के बाद लगातार 40 दिन मामले की सुनवाई करते हैं। चीफ जस्टिस इस मामले को अहमियत देकर कई मामलों की सुनवाई आगे टाल देते हैं। यहॉं तक कि ‘अनिवार्य कार्य’ का हवाला देकर पहले से तय अपनी विदेश यात्रा रद्द कर देते हैं।

दूसरी ओर, वो साजिशें जिसकी वजह से आज तक अयोध्या मामला का फैसला नहीं हो पाया। लिबरलों, वामपंथियों, मुसलमानों और कॉन्ग्रेसियों का वो गिरोह फिर से सक्रिय हो गया है ताकि भव्य राम मंदिर के निर्माण की हर संभावना को खत्म किया जाए। इसके लिए दोहरा आक्रमण हो रहा है। क्या इसे संयोग माना जाए कि सुन्नी वक्फ बोर्ड अपना दावा छोड़ने के लिए उस दिन तैयार होता है, जिस दिन सुनवाई का आखिरी दिन होता है। उससे पहले किस तरह सुनवाई को लंबा खींचने की कोशिश की गई उसे याद कीजिए। कभी सुनवाई से एक खास पार्टी को फायदा होने की दलील दी गई। जब अदालत ने रोजाना सुनवाई का फैसला कर लिया तो सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील ने दलील दी कि वे पॉंच दिन की सुनवाई से तालमेल बिठाने में सक्षम नहीं है। ऐसा हुआ तो वे केस छोड़ने को मजबूर होंगे। पीठ ने दलील नहीं मानी तो मिड ब्रेक का बहाना बनाया गया और जब मामले को लंबा खींचने का हर तिकड़म नाकाम रह गया तो हलफनामा दायर कर दावे से पीछे हटने की बात कही गई।

इस मामले में मुसलमानों की तरफ से जो 7 पक्षकार हैं उसमें सुन्नी वक्फ बोर्ड की अहमियत इस लिहाज से भी ज्यादा कि इलाहाबाद हाई कोर्ट ने जिन तीन पक्षों के बीच जमीन बॉंटा था, उसमें बोर्ड था। हलफनामा दायर किए जाने के बाद से ही यह अंदेशा जताया जा रहा था कि मामले को लटकाने के लिए शायद ऐसा किया जा रहा है। यह अगले दिन ही जाहिर हो गया, जब अन्य मुस्लिम पक्षकारों ने इस समझौते को खारिज कर दिया। कानून के जानकारों का मानना है कि अब अदालत ने इस समझौते पर गौर किया तो शायद फैसला लटक जाए। यानी उनका मंसूबा पूरा हो जाएगा। वे चाहते भी यही हैं। उन्हें पता है कि चीफ जस्टिस रंजन गोगोई यदि फैसला सुनाए बिना रिटायर हुए तो फिर से एक नया पीठ बनेगा। नए सिरे से सुनवाई होगी और वे फिर से वहीं दलीलें रखेंगे जो कैमियर की अदालत से लेकर आज तक टिक नहीं पाए हैं।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

क्या यह भी महज संयोग है कि जिस दिन अयोध्या विवाद के अन्य मुस्लिम पक्षकार सुन्नी वक्फ बोर्ड के हलफनामे से खुद को अलग करते हैं उसी दिन हिंदू महासभा के नेता कमलेश तिवारी की निर्मम हत्या कर दी जाती है। यूपी के डीजीपी ओपी सिंह का कहना है कि इस वारदात में शामिल संदिग्धों से प्रारंभिक पूछताछ से पता चला है कि हत्या की साजिश के पीछे मुख्य वजह कमलेश तिवारी का 2015 का एक बयान था। सिंह ने उस समय पैंगबर मुहम्मद को लेकर विवादित टिप्पणी की थी। इसके लिए उस पर रासुका लगाई गई थी और वह जेल में भी रहा था। उसकी हत्या में यूपी के बिजनौर से मुफ्ती नईम काजमी और मौलाना अनवारुल हक को हिरासत में लिया गया है। गुजरात से राशिद पठान, मौलवी मोहसिन शेख और फैजान को पकड़ा गया। उसकी हत्या के बाद सोशल मीडिया में हा-हा करते शांतिदूतों की प्रतिक्रिया आती है। क्या यह सब महज संयोग हैं?

ये वही लोग हैं जिन्होंने अपने धर्म के शासकों की बदौलत और हथियारों के दम पर बहुसंख्यकों के पवित्र स्थलों को तबाह किया, उन पर कब्जा किया। ये जानते हैं कि अयोध्या में बनने वाला भव्य राम मंदिर केवल बहुसंख्यक हिंदुओं की आस्था का प्रतीक नहीं होगा। विदेशी अक्रांताओं की, हथियार के बल पर अपना धर्म थोपने वालों की हार होगी। उनके हमदर्द वामपंथी जानते हैं कि भव्य मंदिर के सामने इतिहास को तोड़-मरोड़कर पेश किए गए उनके तथ्य बौने हो जाएँगे। लिबरल जानते हैं कि उनका यह झूठ औंधे मुॅंह गिरेगा कि बहुसंख्यक हिंदू अल्पसंख्यकों को डराते हैं। कॉन्ग्रेसी जानते हैं कि भव्य मंदिर में विराजमान रामलला बार-बार बताएँगे कि उन्हें कैसे नेहरू ने बेदखल करने की कोशिश की थी। कैसे उनके नाम पर राजीव गॉंधी ने शाहबानो का पाप धोने की कोशिश की। इसलिए वे नहीं चाहते कि अयोध्या का फैसला आए। वे पर्दे के पीछे से साजिश भी रचेंगे और आपको डराने के लिए खून भी बहाएँगे। वे चाहेंगे कि माहौल बिगड़े ताकि मंदिर निर्माण टलता रहे। वे पूछेंगे कि राम मंदिर का ये डिजाइन किसने बनाया? वे नक्शे को भरी अदालत में फाड़ेंगे, क्योंकि वे जानते हैं कि जिस दिन बहुसंख्यक हिंदू जग जाएगा उस दिन उनका इतिहास हर गली-नुक्कड़ पर फाड़ा जाएगा।

दिसंबर 1992 में अविश्वास प्रस्ताव पर बहस के दौरान अटल बिहारी वाजपेयी ने लोकसभा में कहा था कि ‘राम का मंदिर छल और छद्म’ से नहीं बनेगा। यकीनन हिंदुओं के नैतिक बल पर, अदालत के फैसले से ही राम मंदिर बनेगा। काशी और मथुरा का हल भी निकलेगा। लेकिन, इस छल और छद्म से सावधान रहने की जरूरत है ताकि उसकी काली छाया में राम का वनवास और लंबा न हो।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ख़ास ख़बरें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

‘उत्तराखंड जल रहा है… जंगलों में फैल गई है आग’ – वायरल तस्वीरों की सच्चाई का Fact Check

क्या उत्तराखंड के जंगल इस साल की गर्मियों में वास्तव में आग में झुलस रहे हैं? जवाब है- नहीं।

ईद का जश्न मनाने के लिए दी विशेष छूट: उद्धव के तुष्टिकरण की शिवसेना के मुखपत्र सामना ने ही खोली पोल

शिवसेना के मुखपत्र सामना में प्रकाशित एक लेख के मुताबिक मुंब्रा में समुदाय विशेष के लोगों को ईद मनाने के लिए विशेष रियायत दी गई थी।

वियतनाम: ASI को खुदाई में मिला 1100 साल पुराना शिवलिंग, बलुआ पत्थर से है निर्मित

ASI को एक संरक्षण परियोजना की खुदाई के दौरान 9वीं शताब्दी का शिवलिंग मिला है। इसकी जानकारी विदेश मंत्री एस जयशंकर ने ट्वीट कर दी है।

‘मोदी मंदिर’ बनाने की खबर फर्जी: MLA गणेश जोशी ने कॉन्ग्रेस को बताया ‘मोदीफोबिया’ से ग्रसित

"मोदी मंदिर' बनाने की खबर पूरी तरह फर्जी है। जबकि मोदी-आरती लिखने वाली डॉ. रेनू पंत का भाजपा से कोई लेना-देना नहीं है और वो सिर्फ..."

चुनाव से पहले फिर ‘विशेष राज्य’ के दर्जे का शिगूफा, आखिर इस राजनीतिक जुमले से कब बाहर निकलेगा बिहार

बिहार के नेता और राजनीतिक दल कब तक विशेष राज्य का दर्जा माँगते रहेंगे, जबकि वे जानते हैं कि यह मिलना नहीं है और इसके बिना भी विकास संभव है।

‘पूरी डायन हो, तुझे आत्महत्या कर लेनी चाहिए’: रुबिका लियाकत की ईद वाली फोटो पर टूट पड़े इस्लामी कट्टरपंथी

रुबिका लियाकत ने पीले परिधान वाली अपनी फोटो ट्वीट करते हुए ईद की मुबारकबाद दी। इसके बाद कट्टरपंथियों की पूरी फौज उन पर टूट पड़ी।

प्रचलित ख़बरें

‘चीन, पाक, इस्लामिक जिहादी ताकतें हो या नक्सली कम्युनिस्ट गैंग, सबको एहसास है भारत को अभी न रोक पाए, तो नहीं रोक पाएँगे’

मोदी 2.0 का प्रथम वर्ष पूरा हुआ। क्या शानदार एक साल, शायद स्वतंत्र भारत के इतिहास का सबसे ज्यादा अदभुत और ऐतिहासिक साल। इस शानदार एक वर्ष की बधाई, अगले चार साल अद्भुत होंगे। आइए इस यात्रा में उत्साह और संकल्प के साथ बढ़ते रहें।

लगातार 3 फेक न्यूज शेयर कर रवीश कुमार ने लगाई हैट्रिक: रेलवे पहले ही बता चुका है फर्जी

रवीश कुमार ने अपने फेसबुक पेज पर ‘दैनिक भास्कर’ अखबार की एक ऐसी ही भावुक किन्तु फ़ेक तस्वीर शेयर की है जिसे कि भारतीय रेलवे एकदम बेबुनियाद बताते हुए पहले ही स्पष्ट कर चुका है कि ये पूरी की पूरी रिपोर्ट अर्धसत्य और गलत सूचनाओं से भरी हुई है।

मोदी-योगी को बताया ‘नपुंसक’, स्मृति ईरानी को कहा ‘दोगली’: अलका लाम्बा की गिरफ्तारी की उठी माँग

अलका लाम्बा PM मोदी और CM योगी के मुँह पर थूकने की बात करते हुए उन्हें नपुंसक बता रहीं। उन्होंने स्मृति ईरानी को 'दोगली' तक कहा और...

‘राम मंदिर की जगह बौद्ध विहार, सुप्रीम कोर्ट ने माना’ – शुभ कार्य में विघ्न डालने को वामपंथन ने शेयर की पुरानी खबर

पहले ये कहते थे कि अयोध्या में मस्जिद था। अब कह रहे हैं कि बौद्ध विहार था। सुभाषिनी अली पुरानी ख़बर शेयर कर के राम मंदिर के खिलाफ...

38 लाख फॉलोवर वाले आमिर सिद्दीकी का TikTok अकॉउंट सस्पेंड, दे रहा था कास्टिंग डायरेक्टर को धमकी

जब आमिर सिद्दीकी का अकॉउंट सस्पेंड हुआ, उस समय तक उसके 3.8 मिलियन फॉलोवर्स थे। आमिर पर ये कार्रवाई कास्टिंग डायरेक्टर को धमकी...

हमसे जुड़ें

207,939FansLike
60,325FollowersFollow
242,000SubscribersSubscribe
Advertisements