Saturday, October 31, 2020
Home विचार सामाजिक मुद्दे उनके प्रपंच का गुंबद था अयोध्या, ढह गया, पर राम मंदिर के उत्साह में...

उनके प्रपंच का गुंबद था अयोध्या, ढह गया, पर राम मंदिर के उत्साह में मथुरा-काशी का दर्द न दबे

अयोध्या विवाद लिबरलों, वामपंथियों और मुसलमानों की जिद की नींव पर ही बुलंद था। वरना, सुलह के मौके तो अतीत में कई बार मिले थे। इसलिए, सचेत रहें। अयोध्या के उत्साह में इस कदर न डूबें कि मथुरा-काशी याद न रहे।

अयोध्या में 5 अगस्त 2020 को भव्य श्रीराम मंदिर का भूमिपूजन हुआ। यह केवल एक मंदिर की नींव नहीं है। यह इस्लामिक आक्रांताओं के उन गुंबदों के ढहने की शुरुआत है जो उन्होंने हथियारों के बल पर गढ़े थे। जिन्हें वामपंथियों ने आजाद भारत में अपने प्रपंचों से सींचा था।

इसका रास्ता बीते साल सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने खोला था। यदि आपको वह वक्त ध्यान हो तो याद आएगा कि फैसला आने से जो लोग कह रहे थे कि सुप्रीम कोर्ट जो भी निर्णय देगा वह उन्हें मान्य होगा, वे फैसला आने के चंद मिनट के भीतर ही बदल गए थे। याद करिए सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील जफरयाब जिलानी से लेकर असदुद्दीन ओवैसी और कमाल फारूकी जैसों के सुर बदल गए। लिबरल गिरोह को फैसला वीएचपी को पुरस्कार देने जैसा लगने लगा था। का लेख

असल में, सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के दौरान ही मुस्लिम पक्ष जिरह की बाजी हार गए थे। अपने दावे के पक्ष में कोई सबूत पेश नहीं कर पाए थे। शीर्ष अदालत ने अपने फैसले में कहा भी है कि सुन्नी वक्फ बोर्ड ऐसे सबूत पेश नहीं कर पाया जिससे विवादित जमीन पर उनका हक साबित हो सके। मुस्लिम पक्ष को यह भी पता था कि पुरातात्विक सबूत​ उनके खिलाफ हैं। चाहे 1822 में सरकार को भेजी गई फैजाबाद अदालत के मुलाजिम हफीजुल्ला की रिपोर्ट हो या उस जमाने के दस्तावेज, सब इस बात की चुगली कर रहे थे कि मंदिर तोड़कर बाबर के सिपहसलार ने मस्जिद बनवाई थी। अंग्रेजों की अदालत में भी वे कानूनी लड़ाई हार थे।

दरअसल, उनके बदले सुर उस साजिश का हिस्सा थे जो वामपंथी इतिहासकारों, तुष्टिकरण की राजनीति के उस्तादों की शह पर अयोध्या मामले को लटकाने के लिए आजादी के बाद से ही रचा जा रहा था। अब यह प्रपंच रचा रहा है कि अयोध्या के उत्साह में बहुसंख्यक उस गुनाह को भूल जाएँ जो मथुरा-काशी में मुस्लिम अक्रांताओं ने किया।

कोशिश हो रही है ‘यह तो पहली झॉंकी है, मथुरा-काशी बाकी है’ की आवाज को दबाने की। इसकी शुरुआत उसी दिन हो गई थी जब यह खबर सामने आई कि सुन्नी वक्फ बोर्ड अपने दावे से पीछे हटने को राजी है और इसके लिए उसकी तीन शर्तें हैं। इन शर्तों का लब्बोलुबाब यह था कि मस्जिद के लिए मुसलमानों को नई जमीन मिले, बहुसंख्यक हिंदुओं के टैक्स से आए पैसे को सरकार मस्जिदों पर खर्च करें और अयोध्या के अलावा हिंदू अपने किसी भी ऐसे पवित्र स्थल पर दावा न कर सकें जिन्हें मुस्लिम आक्रांताओं ने हथियार के जोर पर तबाह किया। कब्जा किया।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से उन्हें मस्जिद के लिए पॉंच एकड़ जमीन मिल गई है। वे शोर केवल इसलिए मचा रहे कि बहुसंख्यक समाज मथुरा-काशी में अपना हक न मॉंगे। यानी, मथुरा-काशी पर हिंदुओं का दावा दफन करने की साजिश चुपचाप रची जा रही है। आजाद भारत में मथुरा-काशी को मु​क्त कराने की लड़ाई अयोध्या के साथ ही बनी थी। यह दूसरी बात है कि अयोध्या इस लड़ाई का केंद्र रहा। इसलिए, उनका पहला

आज भले सुप्रीम कोर्ट के फैसले से अयोध्या पर उनके प्रपंच का गुम्बद ढह गया है। लेकिन बाबरी मस्जिद बनाने के बाद से अयोध्या का करीब 500 साल का इतिहास जोर, छल और प्रपंच का ही गवाह रहा। हथियारों का जोर, जिसके दम पर एक मुगल शासक का प्यादा अपनी वफादारी साबित करने के लिए मंदिर ध्वस्त कर मस्जिद बनाता है। वामपंथी इतिहासकारों का छल, जो आजाद भारत में राम को कल्पना साबित करने पर तुला रहा। कॉन्ग्रेस का धर्मनिरपेक्षता का प्रपंच, जिसके तहत उसके नेता ने कभी राम की मूर्ति हटानी चाही तो कभी बाबरी मस्जिद को फिर से बनाने खम ठोंका। इन सबके बीच, विवादित जमीन पर अस्पताल, संग्रहालय, स्कूल बनाने के विचारों का प्रपंच भी।

अयोध्या विवाद लिबरलों, वामपंथियों और मुसलमानों की जिद की नींव पर ही बुलंद था। वरना, सुलह के मौके तो अतीत में कई बार मिले थे। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधिकारी रहे केके मुहम्मद तो कई मौकों पर कहा था कि मुसलमानों को अयोध्या, मथुरा और काशी हिंदुओं को सौंप देना चाहिए ताकि हिंदू भी अक्रांताओं द्वारा रौंदे गए अपने शेष 39,997 स्थानों पर दावे से पीछे हट जाएँ।

मुहम्मद वही शख्स हैं, जिन्होंने सबसे पहले बताया था कि अयोध्या में खुदाई से इस बात के सबूत मिले हैं कि मंदिर तोड़ कर बाबरी मस्जिद बनाई गई थी। अपनी किताब ‘मैं हूॅं भारतीय’ में वे लिखते हैं, “एक मुसलमान के लिए मक्का-मदीना जितना महत्वपूर्ण है, उतना ही महत्वपूर्ण एक हिंदू के लिए अयोध्या है। मक्का-मदीना अन्य धर्मावलंबियों के हाथ पड़े तो… मुसलमान इसकी कल्पना नहीं कर सकते। लेकिन, हिंदुओं के बहुसंख्यक होने पर भी उनका पुण्यतीर्थ अन्य धर्मावलंबियों के अधीन हो गया। मुसलमानों के प्रवाचक मुहम्मद नबी से अयोध्या का कोई संबंध नहीं है। सहावी से, खुलफाउराशीदी से संबंध नहीं। ताबिउ, औलिया और सलफुस्सालीहिन से भी कुछ रिश्ता नहीं। मुगल संस्थापक बाबर से मात्र इसका संबंध है। इस तरह की एक मस्जिद के लिए मुस्लिम क्यों जिद्दी हो जाते हैं?”

लेकिन, मुसलमानों ने उनकी नहीं सुनी। अटल बिहारी वाजपेयी ने तो 1986 में बंबई की एक सार्वजनिक सभा में कहा था कि मुस्लिम समुदाय यदि स्वेच्छा से सारा ढाँचा हिंदुओं को सौंप दे तो इस पूरे विवाद का हल निकल जाएगा। लेकिन, उनकी भी नहीं सुनी गई। 1822 में फैजाबाद अदालत का मुलाजिम हफीजुल्ला सरकार को एक रिपोर्ट भेजता है। उसमें कहता है कि राम के जन्मस्थान पर बाबर ने एक मस्जिद बनाई। लेकिन, मुसलमान पीछे नहीं हटे।

17 मार्च 1886 को फैजाबाद का जिला जज कर्नल एफईए कैमियर अपने फैसले में लिखता है कि मस्जिद हिंदुओं के पवित्र स्थान पर बनी है। वह 356 साल पुरानी गलती को सुधारने से इनकार कर यथास्थिति बनाए रखने का आदेश देता है। लेकिन, मुसलमानों का बड़ा दिल इस फैसले के बाद भी नहीं दिखा। उलटे, 1912 में बहुसंख्यकों की भावनाओं को भड़काने के लिए अयोध्या में गौहत्या की जाती है, जबकि म्यूनिसिपल कानून के तहत 1906 में ही अयोध्या में गौहत्या पर पाबंदी लगा दी गई थी।

2010 में इलाहाबाद हाई कोर्ट का फैसला आता है। विवादित गुंबद राम का जन्मस्थान माना जाता है, फिर भी जमीन के तीन टुकड़े कर दिए जाते हैं। अदालत में पेश भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण की रिपोर्ट से यह प्रमाणित हो गया था कि बाबरी मस्जिद से पहले उस जगह मंदिर था। लेकिन, मुसलमान तब भी पीछे नहीं हटे। उन्होंने तो सुप्रीम कोर्ट में भी साक्ष्यों को झुठलाने के लिए तमाम हथकंडे अपनाए।

ऐसे में सवाल उठना लाजिमी है कि एक खास किस्म की सांप्रदायिकता और कट्टरता को गंगा-जमुनी तहजीब के तले छिपाने की कोशिश तो नहीं हो रही? कहीं, फिर से तो ​आपकी मान्यताओं और विश्वास को छलने की साजिश तो नहीं रची जा रही? इसलिए, सचेत रहें। अयोध्या के उत्साह में इस कदर न डूबें कि मथुरा-काशी याद न रहे। वैसे भी इनकी विश्वसनीयता का कोई भरोसा नहीं है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

बाहर पुलिस, घर में घुसे ‘खेद जताने’ कुछ मुस्लिम, राहुल के पिता ने कहा – ‘अपने बच्चों की मानसिकता सुधारो, सबकी मदद हो जाएगी’

कुछ मुस्लिम उनके घर के अंदर घुस आए। उन्होंने मदद की बात की। इस पर राहुल के पिता ने कहा कि वह बस अपने बच्चों की मानसिकता को सुधार लें...

यूपी पुलिस ने मिशन शक्ति के तहत जावेद को किया गिरफ्तार: फर्जी फेसबुक ID से लड़की को भेज रहा था अश्लील फोटो

उत्तर प्रदेश पुलिस ने आज जावेद नाम के एक शख्स को फेसबुक पर अश्लील तस्वीरें और अश्लील टिप्पणी पोस्ट करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

‘अल्लाह-हू-अकबर’ और ‘हत्या’ को इस्लाम से नहीं जोड़ा जा सकता: दिल्ली दंगों के ‘मास्टरमाइंड’ अपूर्वानंद का फ्रांस पर मास्टरस्ट्रोक

अपूर्वानंद ने अपने ट्वीट के माध्यम से यह बताना चाहा कि पिछले कुछ दिनों में फ्रांस में इस्लामिक आतंकवादियों द्वारा किए गए गैर-मुस्लिमों की हत्या का इस्लाम के साथ कोई लेना-देना नहीं है।

द हिंदू ने चीनी प्रोपेगेंडा छापने के एक महीने बाद ही पैंगोंग त्सो में PLA घुसपैठ को लेकर छापी फेक न्यूज़: PIB ने किया...

फर्जी खबर में द हिंदू ने दावा किया कि पैंगोंग त्सो झील के उत्तरी किनारे पर चीनी सेना ने फिंगर 2 और फिंगर 3 क्षेत्रों पर कब्जा कर लिया है।

NDTV, इंडिया टुडे में पुलवामा आतंकी हमले में पाकिस्तानी हाथ स्वीकारने वाले मंत्री से सफाई लेने की होड़: राजदीप ने किया इंटरव्यू

पूरे साक्षात्कार में राजदीप सरदेसाई ने फवाद चौधरी को अपने ही दावों से पलटने का मौका दिया और उलटा फवाद चौधरी ने ही भारत सरकार पर आरोप लगा दिए कि भारत खुद मुसीबतों को निमंत्रण देने वाला देश है।

पुलिस ने ही की थी मुंगेर में भीड़ पर फायरिंग, गलत साबित हुआ SP लिपि सिंह का दावा: CISF की रिपोर्ट में खुलासा

रिपोर्ट में कहा गया है कि घटना में पुलिस की तरफ से बड़ी गलती हुई। रिपोर्ट में यह बात भी कही गई है कि 26 अक्टूबर को गोली पुलिस द्वारा ही...

प्रचलित ख़बरें

माँ की गोद में बेटे का सर, फटे सर से निकला दिमाग भूमि पर: हिन्दुओं की गति यही है प्यारे!

हिन्दू 'बीरबल की खिचड़ी' के उस ब्राह्मण की तरह है जो तुम्हारे शाही किले में जलते दीपक की लौ से भी ऊष्मा पाता है। हिन्दू को बस इससे मतलब है कि उसके आराध्य का मंदिर बन रहा है। लेकिन सवाल यह है, हे सत्ताधीश! कि क्या तुम्हें हिन्दुओं से कुछ मतलब है?

कुरान में गलती से जिस शख्स का पैर लग गया, पहले उसे मारा और फिर आग में झोंक दिया

“हमने उन्हें अपने पास सुरक्षित रखने की कोशिश की। लेकिन भीड़ ने इमारत को गिरा दिया और उनमें से एक को अपने साथ जबरन ले गए।”

पुलिस ने ही की थी मुंगेर में भीड़ पर फायरिंग, गलत साबित हुआ SP लिपि सिंह का दावा: CISF की रिपोर्ट में खुलासा

रिपोर्ट में कहा गया है कि घटना में पुलिस की तरफ से बड़ी गलती हुई। रिपोर्ट में यह बात भी कही गई है कि 26 अक्टूबर को गोली पुलिस द्वारा ही...

‘अल्लाह हू अकबर’ चिल्लाती है भीड़ बर्लिन में… और केंपेन शहर में 4 लोगों को रौंद देती है एक कार

केंपेन में कार से पैदल यात्रियों के रौंदे जाने की घटना में एक की मौत हो गई है, 3 बुरी तरह घायल हैं। स्थानीय पुलिस अभी जाँच कर रही है कि...

‘चोरी, बलात्कार व अन्य कुकर्म यही बहरूपिए करते हैं’: भगवा पहन कर घूम रहे 3 मुस्लिम युवकों ने सख्ती होने पर उगली सच्चाई, वीडियो...

साधुओं का भेष बना कर लोगों की आस्था से खिलवाड़ करते कई धोखेबाज आपको राह चलते मिल जाएँगे। इसी सच्चाई की पोल खोलते सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रही है।

चूड़ियाँ टूटने के विवाद पर रिजवान, दानिश, कामरान समेत 15-20 लोगों ने बीच बाजार चलाई गोलियाँ: अमित गुप्ता की मौत, 2 घायल

इस हमले में आरोपितों को पकड़ने के लिए 6 टीमें गठित की गई है। सीसीटीवी कैमरों से उपद्रवियों की पहचान की जा रही है। मामला दो समुदायों का होने के कारण एहतियातन फोर्स तैनात है।
- विज्ञापन -

बाहर पुलिस, घर में घुसे ‘खेद जताने’ कुछ मुस्लिम, राहुल के पिता ने कहा – ‘अपने बच्चों की मानसिकता सुधारो, सबकी मदद हो जाएगी’

कुछ मुस्लिम उनके घर के अंदर घुस आए। उन्होंने मदद की बात की। इस पर राहुल के पिता ने कहा कि वह बस अपने बच्चों की मानसिकता को सुधार लें...

यूपी पुलिस ने मिशन शक्ति के तहत जावेद को किया गिरफ्तार: फर्जी फेसबुक ID से लड़की को भेज रहा था अश्लील फोटो

उत्तर प्रदेश पुलिस ने आज जावेद नाम के एक शख्स को फेसबुक पर अश्लील तस्वीरें और अश्लील टिप्पणी पोस्ट करने के आरोप में गिरफ्तार किया है।

चुनाव अयोग ने कॉन्ग्रेस नेता कमलनाथ का स्टार प्रचारक का दर्जा छीना: प्रचार ने दौरान BJP महिला नेता को कहा था ‘आइटम’

चुनाव आयोग ने कमलनाथ को उपचुनावों के लिए चुनाव प्रचार के दौरान एक महिला को संबोधित करने के लिए 'आइटम' जैसे अपमानजनक शब्दों का उपयोग करने के लिए उन्हें जमकर लताड़ा भी था।

तुर्की और ग्रीस में भीषण भूकंप से तबाही: 100 से अधिक लोग घायल, 6 की मौत

अमेरिका के भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार भूकंप की तीव्रता 7.0 थी। तुर्की के आपदा और आपात प्रबंधन विभाग ने कहा कि भूकंप का केन्द्र एजियन सागर में 16.5 किलोमीटर नीचे था।

नाबालिग लड़कियों से आलिंगन की इच्छा जताने वाला ईसाई प्रीचर गिरफ्तार: कई लड़कियों को भेज चुका है अश्लील मैसेज

जब बच्ची को इस संबंध में शिकायत के बारे में पता चला और उसने जाना कि उपदेशक कई लड़कियों को निशाना बना चुका है, तब वह आगे बढ़कर शिकायत करवाने आई।

भोपाल में हजारों मुस्लिमों की भीड़ के साथ उतरने वाले कॉन्ग्रेस MLA आरिफ मसूद ने कहा- बस चलता तो फ्रांस के राष्ट्रपति का चेहरा...

भोपाल सेंट्रल के कॉन्ग्रेस विधायक आरिफ मसूद ने फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रो के खिलाफ विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया था। मसूद ने अपने एक ट्वीट में कहा कि....

मुख्तार अंसारी के भाई व सपा नेता अफजल अंसारी की पत्नी फरहत पर FIR दर्ज: सरकारी संपत्ति पर अवैध कब्जे का आरोप

लेखपाल ने अपनी तहरीर में कहा है कि फरहत अंसारी द्वारा लखनऊ में अवैध रूप से अपने मकानों का निर्माण कराया गया है और वह लगातार अवैध रूप से मकान में रहकर सरकारी सम्पत्ति को नुकसान पहुँचा रही हैं।

‘अल्लाह-हू-अकबर’ और ‘हत्या’ को इस्लाम से नहीं जोड़ा जा सकता: दिल्ली दंगों के ‘मास्टरमाइंड’ अपूर्वानंद का फ्रांस पर मास्टरस्ट्रोक

अपूर्वानंद ने अपने ट्वीट के माध्यम से यह बताना चाहा कि पिछले कुछ दिनों में फ्रांस में इस्लामिक आतंकवादियों द्वारा किए गए गैर-मुस्लिमों की हत्या का इस्लाम के साथ कोई लेना-देना नहीं है।

‘चोरी, बलात्कार व अन्य कुकर्म यही बहरूपिए करते हैं’: भगवा पहन कर घूम रहे 3 मुस्लिम युवकों ने सख्ती होने पर उगली सच्चाई, वीडियो...

साधुओं का भेष बना कर लोगों की आस्था से खिलवाड़ करते कई धोखेबाज आपको राह चलते मिल जाएँगे। इसी सच्चाई की पोल खोलते सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रही है।

चूड़ियाँ टूटने के विवाद पर रिजवान, दानिश, कामरान समेत 15-20 लोगों ने बीच बाजार चलाई गोलियाँ: अमित गुप्ता की मौत, 2 घायल

इस हमले में आरोपितों को पकड़ने के लिए 6 टीमें गठित की गई है। सीसीटीवी कैमरों से उपद्रवियों की पहचान की जा रही है। मामला दो समुदायों का होने के कारण एहतियातन फोर्स तैनात है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
79,403FollowersFollow
342,000SubscribersSubscribe