Monday, July 13, 2020
Home बड़ी ख़बर मनोहर पर्रिकर के निधन पर 'हँसने' वाले इस्लामोफोबिया को बढ़ाते हैं

मनोहर पर्रिकर के निधन पर ‘हँसने’ वाले इस्लामोफोबिया को बढ़ाते हैं

आप यह कहकर बच नहीं सकते कि ये लोग 'अच्छे मुसलमान' नहीं हैं। फिर तो, बाकी दुनिया भी किसी दाढ़ी वाले व्यक्ति को किसी अमेरिकी महिला द्वारा ट्रेन की ट्रैक पर ढकेल देने पर यही कहेगी कि वो 'अच्छी ईसाई' नहीं थी। न्यूज़ीलैंड के मस्जिदों पर गोली बरसाने वाला भी 'अच्छा आदमी' नहीं था।

ये भी पढ़ें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

एक प्रयोग कर लीजिए अभी आप लोग। जिस किसी भी न्यूज़ चैनल/साइट/पोर्टल को आप फॉलो करते हैं उनके पेज पर जाइए और मनोहर पर्रिकर की मृत्यु की खबर पर ‘रिएक्शन्स’ पर क्लिक करके ‘हा-हा’ के नीचे के नाम पढ़ लीजिए। इस बार मैं स्क्रीनशॉट्स नहीं लगा रहा, क्योंकि आपकी जब इच्छा हो खुद जाकर देख सकते हैं। इसके साथ ही, यह कहना भी ज़रूरी है कि एक ख़ास तरह के नामों के अलावा इस तरह की संवेदनहीनता दिखाने में कई और लोग भी थे, जो दूसरी विचारधारा के थे। फिर भी, ऐसे हर मौके पर एक ही तरह के नाम का आना उन लोगों को प्रभावित करता है जिन्हें यह समझ में नहीं आता कि किसी की मौत पर कोई खुश कैसे हो सकता है।

कुछ लोग कहेंगे क्या साबित होता है इससे। ये लोग वो लोग हैं जो दिन भर ‘गरिमा’, ‘नैतिकता’, ‘लोक व्यवहार’ आदि के नाम पर फेसबुक पेज से लेकर नेता, व्यक्ति या संस्थानों को गरियाते दिखते हैं। 

इससे साबित इतना ही होता है कि समाज में एक सम्प्रदाय के कुछ लोगों की सामूहिक संवेदनहीनता हर ऐसे मौके पर दिख जाती है। इस्लामोफोबिया या मुसलमानों से घृणा का भाव आकाश से नहीं टपकता। यही वो मौके हैं जब वैसे लोग सोचने लगते हैं कि ये किस तरह के लोग हैं?

कुछ मुसलमानों के संवेदनहीनता के आधार पर सबको जज करना गैरज़रूरी है, लेकिन वास्तविकता यही है कि ऐसे लोग ही इस्लामोफोबिया के बड़े कारण हैं। इस्लामी आतंकवाद तो एक कारण है ही, लेकिन पुलवामा हमले के बाद सैनिकों के बलिदान होने की खबर पर ‘हा-हा’ करने वालों का भी रिलिजन था, पर्रिकर की मृत्यु की खबर पर हँसने वालों का भी और पुलवामा में आत्मघाती हमला करने वालों का भी।

किसी भी समाज या सम्प्रदाय से सामूहिक रूप से घृणा करना सही नहीं, लेकिन उसकी वजहें होती हैं। हो सकता है कि आप उन लोगों के ऐसे कार्यों से सीधे तौर पर प्रभावित न हो रहे हों, आपको पूरे जीवन उनसे कोई काम न पड़े, लेकिन मानवीय संवेदनाएँ निजी तौर पर ही हमें प्रभावित नहीं करती। अगर कोई चालीस जवानों के बलिदान पर ‘हँस’ रहा है, तो ज़ाहिर है कि उसकी संवेदना जवानों के साथ, उनके परिवारों के साथ तो नहीं ही है। 

ऐसे लोगों की संवेदना पर चर्चा करना भी अजीब ही है क्योंकि ऐसे लोग हर ऐसी घटना पर सामने आ जाते हैं। मनोहर पर्रिकर की मृत्यु पर ‘हा-हा’ करता हुआ मुसलमान नाम वाला व्यक्ति इस ख़बर से किस स्तर पर प्रभावित हो रहा है, ये हम या आप नहीं समझ सकते। उसे बस एक विरोधी (शायद) विचारधारा या पार्टी के नेता की मृत्यु की खुशी है। उसे उस सरकार के कार्यकाल में वीरगति को प्राप्त हुए भारतीय सैनिकों की मृत्यु की खुशी है। खुशी का कारण यह भी हो सकता है कि जिसने आत्मघाती हमला किया वो भी उसी धर्म का हो।

यहाँ घृणा एक स्तर पर ही नहीं है। यहाँ घृणा, एक समूह के द्वारा, जिनकी पहचान उनके नामों से खुलकर सामने आती है, और वो ऐसा करने से छुपते नहीं, कहीं नाम छुपाकर ऐसी बातें नहीं करते, जो हर ऐसे मौक़े पर सरकार या दूसरे धर्म से संबंधित लोगों की मृत्यु पर हँसते हैं। ये एक बुनियादी मानवीय गुण है कि किसी की मृत्यु पर अगर अच्छी बातें नहीं बोल सकते, तो चुप रहना पसंद कर सकते हैं। 

लेकिन कुछ लोगों की घृणा का स्तर इतना ज़्यादा होता है कि वो अपनी भावनाओं को छुपा नहीं पाते। यही कारण है कि ऐसे कुछ लोगों की बेहूदगी के कारण इस्लामोफोबिया, या इस्लाम मज़हब से नफ़रत, को हवा मिलती है। ये मुसलमान वैसे मुसलमान हैं जो चाहते हैं कि लोग उनसे घृणा करें। वरना आज के समाज में, जहाँ करुणा और दया की बात करते हुए दीवाली पर पटाखों के शोर से परेशान होने वाले जानवरों की हालत पर चर्चाएँ होती हैं, वहाँ ऐसे लोग इस तरह के काम भला क्यों करते हैं! 

मेरी अपील है इस मज़हब के बेहतर लोगों से कि वो सामने आएँ और ऐसे लोगों को धिक्कारें। वो अगर पचास हैं, तो आप में से सौ को आगे आकर इस पर लिखना और बोलना चाहिए कि ये गलत है। आप यह कहकर बच नहीं सकते कि ये लोग ‘अच्छे मुसलमान’ नहीं हैं। फिर तो, बाकी दुनिया भी किसी दाढ़ी वाले व्यक्ति को किसी अमेरिकी महिला द्वारा ट्रेन की ट्रैक पर ढकेल देने पर यही कहेगी कि वो ‘अच्छी ईसाई’ नहीं थी

ये ‘अच्छा मुसलमान’ और ‘हमारा मज़हब यह नहीं सिखाता’ की नकारी सोच से ऊपर उठकर, एक बेहतर समाज के लिए अपने भीतर से ही सफ़ाई जरूरी है। अगर पूरा समुदाय ऐसे समय पर भर्त्सना नहीं करता, जैसा कि कई लोगों ने न्यूज़ीलैंड हमले के बाद ‘खुश होने वाले’ लोगों के साथ किया था, तब तक मुसलमानों से घृणा की हवा और तेज ही बहेगी। और यही नफ़रत किसी युवक को मस्जिदों में पंद्रह मिनट तक गोली चलाने तक पहुँचा देती है। 

इस नफ़रत को फेसबुक जैसी जगहों से ही रोकना ज़रूरी है क्योंकि अगर वहाँ आप उस पर कड़ा रुख़ नहीं रख पा रहे, तो वहाँ उन नामों को भी वह रास्ता चुनने में सहजता होगी जो अभी तक इस तरह की घृणा पान की दुकान पर, सड़क के किनारे या चाय पीते हुए चार लोगों के बीच फैलाते थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

ख़ास ख़बरें

सरकारी घर में रहता था लड़कियों को शराब पिला नचवाने और रेप करने वाला प्यारे मियाँ: CM शिवराज ने रद्द की मान्यता

लड़कियों को पार्टी में बुला शराब पिलाकर नचवाने वाले और फिर उनका रेप करने वाले अख़बार मालिक से शिवराज सरकार ने सरकारी घर छीन लिया है।

कट्टर मुस्लिम किसी के बाप से नहीं डरता: अजान की आवाज कम करने की बात पर फरदीन ने रेप की धमकी दी

ये तस्वीर आशी ने ट्विटर पर 28 जून को शेयर की थी। इसके बाद सुहेल खान ने भी आशी के साथ अभद्रता से बात की थी ।

भारत में ₹75,000 करोड़ निवेश करेगा Google: PM मोदी से बातचीत के बाद CEO सुन्दर पिचाई का ऐलान

गूगल भारत में 'इंडिया डिजिटलाइजेशन फंड' के जारी 10 बिलियन डॉलर अगले 5-7 वर्षों मे क्रमवार तरीके से निवेश करेगा।

‘शूद्र स्तर की राजनीति कर रहे PM मोदी, प्रियंका गाँधी को जिंदगी भर मिलना चाहिए सरकारी बंगला’

"हमारे राजनीतिक मतभेद भले हो सकते हैं लेकिन सरकारी आवास से निकलने का आदेश जारी करना शूद्र स्तर की राजनीति है।"

राजस्थान: दर्जन भर ठिकानों पर IT और ED का छापा, CM गहलोत के बेटे वैभव पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप

आरोप है कि मॉरीशस की एक कम्पनी के जरिए हुए लेन-देन में वैभव गहलोत ने वित्तीय लाभ प्राप्त किया है। IT और ED के छापे से गरमाई राजनीति।

पद्मनाभस्वामी मंदिर के प्रबंधन में त्रावणकोर राजपरिवार का अधिकार बना रहेगा: SC

केरल हाईकोर्ट ने 2011 में सरकार से मंदिर के प्रबंधन और संपत्तियों को नियंत्रण में लेने को कहा था। इस फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी गई और उसने प्रबंधन में राजपरिवार के अधिकार को मान्यता दी है।

प्रचलित ख़बरें

मैं हिंदुओं को सबक सिखाना चाहता था, दंगों से पहले तुड़वा दिए थे सारे कैमरे: ताहिर हुसैन का कबूलनामा

8वीं तक पढ़ा ताहिर हुसैन 1993 में अपने पिता के साथ दिल्ली आया था और दोनों पिता-पुत्र बढ़ई का काम करते थे। पढ़ें दिल्ली दंगों पर उसका कबूलनामा।

22 लोगों के लिए नौकरी, सब सीट पर मुस्लिमों की भर्ती: पश्चिम बंगाल या पाकिस्तान का ऑफिस? – Fact Check

22 के 22 सीटों पर जिन लोगों का चयन हुआ है, वो सब मुस्लिम हैं। पश्चिम बंगाल के नाडिया जिले में हुई चयन प्रक्रिया को लेकर सोशल मीडिया में...

‘पाकिस्तान और बांग्लादेश का राष्ट्रगान याद करो’ – शिक्षिका शैला परवीन ने LKG और UKG के बच्चों को दिया टास्क

व्हाट्सप्प ग्रुप में पाकिस्तान और बांग्लादेश का राष्ट्रगान पोस्ट किया गया। बच्चों के लिए उन मुल्कों के राष्ट्रगान का यूट्यूब वीडियो डाला गया।

टीवी और मिक्सर ग्राइंडर के कचरे से ‘ड्रोन बॉय’ प्रताप एनएम ने बनाए 600 ड्रोन: फैक्ट चेक में खुली पोल

इन्टरनेट यूजर्स ऐसी कहानियाँ साझा कर रहे हैं कि कैसे प्रताप ने दुनिया भर के विभिन्न ड्रोन एक्सपो में कई स्वर्ण पदक जीते हैं, 87 देशों द्वारा उसे आमंत्रित किया गया है, और अब पीएम मोदी के साथ ही डीआरडीपी से उन्हें काम पर रखने के लिए कहा गया है।

व्यंग्य: विकास दुबे एनकाउंटर पर बकैत कुमार की प्राइमटाइम स्क्रिप्ट हुई लीक

आज सुबह खबर आई कि एनकाउंटर हो गया। स्क्रिप्ट बदलनी पड़ी। जज्बात बदल गए, हालात बदल गए, दिन बदल गया, शाम बदल गई!

‘मोदी का चमचा अमिताभ क्यों हुआ अस्पताल में भर्ती?’ – हिंदुओं से नफरत करने वाले प्रोफेसर ने उगला जहर

अशोक स्वैन के ट्विटर से गुजरते हुए मालूम चलता है कि उन्हें केवल हिंदुओं से नफरत नहीं है। बल्कि चीनियों के प्रति भी उनके मन में अपार प्रेम है।

राजस्थान: कॉन्ग्रेस ऑफिस में फिर से लगे सचिन पायलट के पोस्टर, मनुहार में जुटी पार्टी

कॉन्ग्रेस के जयपुर दफ्तर से सुबह में सचिन पायलट के पोस्टर हटा दिए गए थे। इन्हें दोपहर होते-होते फिर से लगा दिया गया।

सरकारी घर में रहता था लड़कियों को शराब पिला नचवाने और रेप करने वाला प्यारे मियाँ: CM शिवराज ने रद्द की मान्यता

लड़कियों को पार्टी में बुला शराब पिलाकर नचवाने वाले और फिर उनका रेप करने वाले अख़बार मालिक से शिवराज सरकार ने सरकारी घर छीन लिया है।

कट्टर मुस्लिम किसी के बाप से नहीं डरता: अजान की आवाज कम करने की बात पर फरदीन ने रेप की धमकी दी

ये तस्वीर आशी ने ट्विटर पर 28 जून को शेयर की थी। इसके बाद सुहेल खान ने भी आशी के साथ अभद्रता से बात की थी ।

भारत में ₹75,000 करोड़ निवेश करेगा Google: PM मोदी से बातचीत के बाद CEO सुन्दर पिचाई का ऐलान

गूगल भारत में 'इंडिया डिजिटलाइजेशन फंड' के जारी 10 बिलियन डॉलर अगले 5-7 वर्षों मे क्रमवार तरीके से निवेश करेगा।

COVID-19 की जाँच में 11 लाख का आँकड़ा पार कर अग्रणी राज्य बना UP, सरकार ने दिए डोर टू डोर मेडिकल स्क्रीनिंग के निर्देश

कोरोना संक्रकितों की बढ़ती संख्या को देखते हुए उत्तर प्रदेश सरकार ने डोर टू डोर कैंपेन चलाने का निर्देश दिया है।

‘शूद्र स्तर की राजनीति कर रहे PM मोदी, प्रियंका गाँधी को जिंदगी भर मिलना चाहिए सरकारी बंगला’

"हमारे राजनीतिक मतभेद भले हो सकते हैं लेकिन सरकारी आवास से निकलने का आदेश जारी करना शूद्र स्तर की राजनीति है।"

राजस्थान: दर्जन भर ठिकानों पर IT और ED का छापा, CM गहलोत के बेटे वैभव पर मनी लॉन्ड्रिंग का आरोप

आरोप है कि मॉरीशस की एक कम्पनी के जरिए हुए लेन-देन में वैभव गहलोत ने वित्तीय लाभ प्राप्त किया है। IT और ED के छापे से गरमाई राजनीति।

पद्मनाभस्वामी मंदिर के प्रबंधन में त्रावणकोर राजपरिवार का अधिकार बना रहेगा: SC

केरल हाईकोर्ट ने 2011 में सरकार से मंदिर के प्रबंधन और संपत्तियों को नियंत्रण में लेने को कहा था। इस फैसले को शीर्ष अदालत में चुनौती दी गई और उसने प्रबंधन में राजपरिवार के अधिकार को मान्यता दी है।

ताहिर हुसैन की जमानत याचिका खारिज, कोर्ट ने कहा – ‘दिल्ली दंगों की साजिश की जड़ें काफी गहरी’

ताहिर हुसैन की जमानत याचिका खारिज करते हुए सेशन कोर्ट ने कहा कि दिल्ली मे हुए दंगों के पीछे एक ऐसी साजिश थी, जिसकी जड़ें काफ़ी गहरी हैं।

BJP विधायक पश्चिम बंगाल में फाँसी के फंदे से झूलते मिले, बँधे हुए थे हाथ: परिजनों ने जताई हत्या की आशंका

हेमताबाद के भाजपा विधायक देबेन्द्र नाथ रॉय की पत्नी और पूर्व पंचायत प्रमुख चांदीमा रॉय ने भी अपने पति की साजिशन हत्या की आशंका जताई है।

हमसे जुड़ें

239,013FansLike
63,452FollowersFollow
274,000SubscribersSubscribe