Wednesday, October 21, 2020
Home बड़ी ख़बर मनोहर पर्रिकर के निधन पर 'हँसने' वाले इस्लामोफोबिया को बढ़ाते हैं

मनोहर पर्रिकर के निधन पर ‘हँसने’ वाले इस्लामोफोबिया को बढ़ाते हैं

फिर तो, बाकी दुनिया भी किसी दाढ़ी वाले व्यक्ति को किसी अमेरिकी महिला द्वारा ट्रेन की ट्रैक पर ढकेल देने पर यही कहेगी कि वो 'अच्छी ईसाई' नहीं थी। न्यूज़ीलैंड के मस्जिदों पर गोली बरसाने वाला भी 'अच्छा आदमी' नहीं था।

एक प्रयोग कर लीजिए अभी आप लोग। जिस किसी भी न्यूज़ चैनल/साइट/पोर्टल को आप फॉलो करते हैं उनके पेज पर जाइए और मनोहर पर्रिकर की मृत्यु की खबर पर ‘रिएक्शन्स’ पर क्लिक करके ‘हा-हा’ के नीचे के नाम पढ़ लीजिए। इस बार मैं स्क्रीनशॉट्स नहीं लगा रहा, क्योंकि आपकी जब इच्छा हो खुद जाकर देख सकते हैं। इसके साथ ही, यह कहना भी ज़रूरी है कि एक ख़ास तरह के नामों के अलावा इस तरह की संवेदनहीनता दिखाने में कई और लोग भी थे, जो दूसरी विचारधारा के थे। फिर भी, ऐसे हर मौके पर एक ही तरह के नाम का आना उन लोगों को प्रभावित करता है जिन्हें यह समझ में नहीं आता कि किसी की मौत पर कोई खुश कैसे हो सकता है।

कुछ लोग कहेंगे क्या साबित होता है इससे। ये लोग वो लोग हैं जो दिन भर ‘गरिमा’, ‘नैतिकता’, ‘लोक व्यवहार’ आदि के नाम पर फेसबुक पेज से लेकर नेता, व्यक्ति या संस्थानों को गरियाते दिखते हैं। 

इससे साबित इतना ही होता है कि समाज में एक सम्प्रदाय के कुछ लोगों की सामूहिक संवेदनहीनता हर ऐसे मौके पर दिख जाती है। इस्लामोफोबिया का भाव आकाश से नहीं टपकता। यही वो मौके हैं जब वैसे लोग सोचने लगते हैं कि ये किस तरह के लोग हैं?

कुछ लोगों के संवेदनहीनता के आधार पर सबको जज करना गैरज़रूरी है, लेकिन वास्तविकता यही है कि ऐसे लोग ही इस्लामोफोबिया के बड़े कारण हैं। इस्लामी आतंकवाद तो एक कारण है ही, लेकिन पुलवामा हमले के बाद सैनिकों के बलिदान होने की खबर पर ‘हा-हा’ करने वालों का भी रिलिजन था, पर्रिकर की मृत्यु की खबर पर हँसने वालों का भी और पुलवामा में आत्मघाती हमला करने वालों का भी।

किसी भी समाज या सम्प्रदाय से सामूहिक रूप से घृणा करना सही नहीं, लेकिन उसकी वजहें होती हैं। हो सकता है कि आप उन लोगों के ऐसे कार्यों से सीधे तौर पर प्रभावित न हो रहे हों, आपको पूरे जीवन उनसे कोई काम न पड़े, लेकिन मानवीय संवेदनाएँ निजी तौर पर ही हमें प्रभावित नहीं करती। अगर कोई चालीस जवानों के बलिदान पर ‘हँस’ रहा है, तो ज़ाहिर है कि उसकी संवेदना जवानों के साथ, उनके परिवारों के साथ तो नहीं ही है। 

ऐसे लोगों की संवेदना पर चर्चा करना भी अजीब ही है क्योंकि ऐसे लोग हर ऐसी घटना पर सामने आ जाते हैं। मनोहर पर्रिकर की मृत्यु पर ‘हा-हा’ करता हुआ मजहबी नाम वाला व्यक्ति इस ख़बर से किस स्तर पर प्रभावित हो रहा है, ये हम या आप नहीं समझ सकते। उसे बस एक विरोधी (शायद) विचारधारा या पार्टी के नेता की मृत्यु की खुशी है। उसे उस सरकार के कार्यकाल में वीरगति को प्राप्त हुए भारतीय सैनिकों की मृत्यु की खुशी है। खुशी का कारण यह भी हो सकता है कि जिसने आत्मघाती हमला किया वो भी उसी धर्म का हो।

यहाँ घृणा एक स्तर पर ही नहीं है। यहाँ घृणा, एक समूह के द्वारा, जिनकी पहचान उनके नामों से खुलकर सामने आती है, और वो ऐसा करने से छुपते नहीं, कहीं नाम छुपाकर ऐसी बातें नहीं करते, जो हर ऐसे मौक़े पर सरकार या दूसरे धर्म से संबंधित लोगों की मृत्यु पर हँसते हैं। ये एक बुनियादी मानवीय गुण है कि किसी की मृत्यु पर अगर अच्छी बातें नहीं बोल सकते, तो चुप रहना पसंद कर सकते हैं। 

लेकिन कुछ लोगों की घृणा का स्तर इतना ज़्यादा होता है कि वो अपनी भावनाओं को छुपा नहीं पाते। यही कारण है कि ऐसे कुछ लोगों की बेहूदगी के कारण इस्लामोफोबिया, या इस्लाम मज़हब से नफ़रत, को हवा मिलती है। ये कट्टरपंथी वैसे कट्टरपंथी हैं जो चाहते हैं कि लोग उनसे घृणा करें। वरना आज के समाज में, जहाँ करुणा और दया की बात करते हुए दीवाली पर पटाखों के शोर से परेशान होने वाले जानवरों की हालत पर चर्चाएँ होती हैं, वहाँ ऐसे लोग इस तरह के काम भला क्यों करते हैं! 

मेरी अपील है इस मज़हब के बेहतर लोगों से कि वो सामने आएँ और ऐसे लोगों को धिक्कारें। वो अगर पचास हैं, तो आप में से सौ को आगे आकर इस पर लिखना और बोलना चाहिए कि ये गलत है। आप यह कहकर बच नहीं सकते कि ये लोग ‘अच्छे मजहबी’ नहीं हैं। फिर तो, बाकी दुनिया भी किसी दाढ़ी वाले व्यक्ति को किसी अमेरिकी महिला द्वारा ट्रेन की ट्रैक पर ढकेल देने पर यही कहेगी कि वो ‘अच्छी ईसाई’ नहीं थी

ये ‘अच्छा मजहबी’ और ‘हमारा मज़हब यह नहीं सिखाता’ की नकारी सोच से ऊपर उठकर, एक बेहतर समाज के लिए अपने भीतर से ही सफ़ाई जरूरी है। अगर पूरा समुदाय ऐसे समय पर भर्त्सना नहीं करता, जैसा कि कई लोगों ने न्यूज़ीलैंड हमले के बाद ‘खुश होने वाले’ लोगों के साथ किया था, तब तक कट्टरपंथियों से घृणा की हवा और तेज ही बहेगी। और यही नफ़रत किसी युवक को मस्जिदों में पंद्रह मिनट तक गोली चलाने तक पहुँचा देती है। 

इस नफ़रत को फेसबुक जैसी जगहों से ही रोकना ज़रूरी है क्योंकि अगर वहाँ आप उस पर कड़ा रुख़ नहीं रख पा रहे, तो वहाँ उन नामों को भी वह रास्ता चुनने में सहजता होगी जो अभी तक इस तरह की घृणा पान की दुकान पर, सड़क के किनारे या चाय पीते हुए चार लोगों के बीच फैलाते थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

#Tweet4Bharat: राष्ट्रीय महत्त्व के मुद्दों पर हिंदी श्रेणी में विजेताओं की सूची और उनको जीत दिलाने वाले ट्वीट थ्रेड्स यहाँ देखें

“#Tweet4Bharat” का उद्देश्य राष्ट्रीय महत्व के महत्वपूर्ण मुद्दों पर लिखने, चर्चा करने और विचार-विमर्श करने के लिए युवाओं को ‘ट्विटर थ्रेड्स’ का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित और प्रेरित करना था।

क्या India Today का खेल खत्म? CBI ने TRP घोटाले में दर्ज की FIR: यूपी सरकार द्वारा की गई थी जाँच की सिफारिश

सीबीआई ने टीआरपी घोटाले की जाँच के लिए एक FIR दर्ज कर ली है। शुरुआत में इस मामले के संबंध में मुंबई पुलिस की FIR में इंडिया टुडे चैनल का नाम सामने आया था।

लॉकडाउन भले चला गया हो, मगर वायरस नहीं गया, थोड़ी सी लापरवाही हमारी खुशियों को धूमिल कर सकती है: PM मोदी

"हमें ये भूलना नहीं है कि लॉकडाउन भले चला गया हो, मगर वायरस नहीं गया है। बीते 7-8 महीनों में, प्रत्येक भारतीय के प्रयास से, भारत आज जिस संभली हुई स्थिति में हैं, हमें उसे बिगड़ने नहीं देना है और अधिक सुधार करना है।"

BJP का गया दुर्ग कितना मजबूत, क्या लगातार 8वीं बार कामयाब रहेंगे प्रेम कुमार?

गया देश का सबसे गंदा शहर है। जाम, संकरी सड़कें शहर की पहचान हैं। बावजूद बीजेपी का यह दुर्ग क्यों अभेद्य दिख रहा?

‘परमबीर सिंह ने 26/11 मुंबई हमले के दौरान आतंकियों का मुकाबला करने से इनकार किया था’: पढ़िए उनका ‘काला-चिट्ठा’

2009 में 26/11 मुंबई आतंकवादी हमले के तुरंत बाद हमले के दौरान कर्तव्य की लापरवाही के आरोप में परमबीर सिंह और तीन अन्य अतिरिक्त पुलिस कमिश्नरों के खिलाफ याचिका दायर की गई थी।

प्रचलित ख़बरें

मैथिली ठाकुर के गाने से समस्या तो होनी ही थी.. बिहार का नाम हो, ये हमसे कैसे बर्दाश्त होगा?

मैथिली ठाकुर के गाने पर विवाद तो होना ही था। लेकिन यही विवाद तब नहीं छिड़ा जब जनकवियों के लिखे गीतों को यूट्यूब पर रिलीज करने पर लोग उसके खिलाफ बोल पड़े थे।

37 वर्षीय रेहान बेग ने मुर्गियों को बनाया हवस का शिकार: पत्नी हलीमा रिकॉर्ड करती थी वीडियो, 3 साल की जेल

इन वीडियोज में वह अपनी पत्नी और मुर्गियों के साथ सेक्स करता दिखाई दे रहा था। ब्रिटेन की ब्रैडफोर्ड क्राउन कोर्ट ने सबूतों को देखने के बाद आरोपित को दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुनाई है।

हिन्दुओं की हत्या पर मौन रहने वाले हिन्दू ‘फ़्रांस की जनता’ होना कब सीखेंगे?

हमें वे तस्वीरें देखनी चाहिए जो फ्रांस की घटना के पश्चात विभिन्न शहरों में दिखती हैं। सैकड़ों की सँख्या में फ्रांसीसी नागरिक सड़कों पर उतरे यह कहते हुए - "हम भयभीत नहीं हैं।"

ऐसे मुस्लिमों के लिए किसी भी सेकुलर देश में जगह नहीं होनी चाहिए, वहीं जाओ जहाँ ऐसी बर्बरता सामान्य है

जिनके लिए शिया भी काफिर हो चुका हो, अहमदिया भी, उनके लिए ईसाई तो सबसे पहला दुश्मन सदियों से रहा है। ये तो वो युद्ध है जो ये बीच में हार गए थे, लेकिन कहा तो यही जाता है कि वो तब तक लड़ते रहेंगे जब तक जीतेंगे नहीं, चाहे सौ साल लगे या हजार।

‘कश्मीर टाइम्स’ अख़बार का श्रीनगर ऑफिस सील, सरकारी सम्पत्तियों पर कर रखा था कब्ज़ा

2 महीने पहले कश्मीर टाइम्स की एडिटर अनुराधा भसीन को भी उनका आधिकारिक निवास खाली करने को कहा गया था।

शिक्षक का गला रेतने के बाद इस्लामी कट्टरपंथियों के विरुद्ध फ्रांस का सख्त एक्शन: 231 कट्टरपंथी किए जाएँगे देश से बाहर

एफ़एसपीआरटी की रिपोर्ट के अनुसार 231 विदेशी नागरिकों में से 180 कारावास में कैद हैं। इसके अलावा बचे हुए 51 को अगले कुछ घंटों में गिरफ्तार किया जाना था।
- विज्ञापन -

‘बिलाल ने नाम बदला, टीका लगाता था, हमें लगा हिन्दू होगा’: 8 लाख लेकर भागी छात्रा, परिजनों ने लगाया ‘लव जिहाद’ का आरोप

लड़की के पिता ने बताया कि उनकी बेटी बीएससी की छात्रा है और कम्प्यूटर कोचिंग के लिए जाती है। अक्टूबर 17 को जब वो कोचिंग से वापस नहीं आई तो परिजनों ने खोजबीन शुरू की। फिर किसी ने बताया कि एक लड़का उसे ले गया है।

PAK में ‘गृहयुद्ध’: सेना के खिलाफ लगे सड़कों पर नारे, नवाज शरीफ के दामाद की गिरफ्तारी पर आर्मी चीफ को देने पड़े जाँच के...

पाकिस्तान में यह सारी हलचल ठीक तब शुरू हुई जब विपक्ष ने प्रधानमंत्री इमरान खान के प्रशासन के खिलाफ़ रैली हुई और नवाज शरीफ के दामाद गिरफ्तार कर लिए गए थे।

गोहत्या करने से मना करता था युवक, मुन्नू कुरैशी और कइल ने गला रेत कर मार डाला: माँ ने झारखण्ड सरकार से लगाई न्याय...

मृतक की माँ ने बताया कि उनका बेटा आसपास के लोगों को गोहत्या करने से मना करता था, जिसके कारण उसकी हत्या कर दी गई।

पूर्व IIT प्रोफेसर ने विदेश से लाए थे माओवादी साहित्य, उमर खालिद था ‘अर्बन पार्टी मेंबर’: ‘दलित आतंकवाद’ पर हो रहा था काम

दिल्ली में ऐसे दलित छात्रों को चिह्नित किया जाता था, जो पिछड़े परिवारों से आते हैं, इसके बाद उनके मन में माओवादी आंदोलन के लिए सहानुभूति बिठाई जाती थी।

सूरजभान सिंह: वो बाहुबली, जिसके जुर्म की तपिश से सिहर उठा था बिहार, परिवार हो गया खाक, शर्म से पिता और भाई ने की...

कामदेव सिंह का परिवार को जब पता चला कि सूरजभान ने उनके किसी रिश्तेदार को जान से मारने की धमकी दी है तो सूरजभान को उसी के अंदाज में संदेश भिजवाया गया- “हमने हथियार चलाना बंद किया है, हथियार रखना नहीं। हमारी बंदूकों से अब भी लोहा ही निकलेगा।”

37 वर्षीय रेहान बेग ने मुर्गियों को बनाया हवस का शिकार: पत्नी हलीमा रिकॉर्ड करती थी वीडियो, 3 साल की जेल

इन वीडियोज में वह अपनी पत्नी और मुर्गियों के साथ सेक्स करता दिखाई दे रहा था। ब्रिटेन की ब्रैडफोर्ड क्राउन कोर्ट ने सबूतों को देखने के बाद आरोपित को दोषी मानते हुए तीन साल की सजा सुनाई है।

#Tweet4Bharat: राष्ट्रीय महत्त्व के मुद्दों पर हिंदी श्रेणी में विजेताओं की सूची और उनको जीत दिलाने वाले ट्वीट थ्रेड्स यहाँ देखें

“#Tweet4Bharat” का उद्देश्य राष्ट्रीय महत्व के महत्वपूर्ण मुद्दों पर लिखने, चर्चा करने और विचार-विमर्श करने के लिए युवाओं को ‘ट्विटर थ्रेड्स’ का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित और प्रेरित करना था।

क्या India Today का खेल खत्म? CBI ने TRP घोटाले में दर्ज की FIR: यूपी सरकार द्वारा की गई थी जाँच की सिफारिश

सीबीआई ने टीआरपी घोटाले की जाँच के लिए एक FIR दर्ज कर ली है। शुरुआत में इस मामले के संबंध में मुंबई पुलिस की FIR में इंडिया टुडे चैनल का नाम सामने आया था।

हाथरस कांड में CBI जाँच तेज: अलीगढ़ JNMC के डॉ. मो अजीमुद्दीन और डॉ. उबेद इम्तियाज टर्मिनेट, रेप सैंपल पर दी थी राय

अलीगढ़ के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल में काम कर रहे दो डॉक्टरों को तत्काल प्रभाव से टर्मिनेट कर दिया गया है। हाथरस रेप पीड़िता को दिल्ली शिफ्ट किए जाने से पहले उसकी इसी अस्पताल में इलाज हुई थी।

‘माफिया ऑन बेड रेस्ट’: मुख्तार अंसारी को लेने गई UP पुलिस को पंजाब से आना पड़ा खाली हाथ, कहा- 3 महीने आराम की मिली...

इससे पहले भी कई बार यूपी पुलिस पंजाब जाकर मुख्तार अंसारी को प्रदेश लाने की कोशिश करती रही है। हालाँकि हर बार वह बहाने बना कर बच गया ।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
78,897FollowersFollow
335,000SubscribersSubscribe