बौद्ध, जैन, सिख, यहूदी, पारसी: इन्हें कभी ‘इनटॉलेरेंस’ की पीड़ा क्यों नहीं होती?

आखिर ऐसा क्यों है कि हिंदुस्तान में सारी दिक्कतें केवल दो पंथों इस्लाम और ईसाईयत को मानने वालों को ही हो रहीं हैं? क्या इसका कारण यह है कि हिंदुस्तान की बहुसंख्यक आबादी हिन्दुओं का इन दोनों मज़हबों से कोई खास बैर है? या फिर ये कि इन पंथों की विचारधारा या इनके.......

जिस अमेरिकी कमीशन ने हिंदुस्तान में ‘डरा हुआ मुस्लिम’ और ‘डर का माहौल’ के झूठे कथानक (नैरेटिव) पर अपनी अनिमंत्रित चौधराहट की मुहर लगाई, उसी कमीशन के चेयरपर्सन डॉ. तेंज़िन दोरजी ने कमीशन के बहुमत से अलग न केवल राय रखी बल्कि संख्याबल से दबाए जाने पर कमीशन की रिपोर्ट से अलग राय का असहमति-पत्र (डिसेंट नोट) लिखा। इस नोट में डॉ. दोरजी ने साफ-साफ लिखा कि कमीशन की रिपोर्ट ने हिंदुस्तान का जो चित्रण किया है, उनके व्यक्तिगत अनुभव उससे कतई मेल नहीं खाते। उन्होंने बताया कि एक तिब्बती बौद्ध होने के नाते वह हिंदुस्तान के सबसे कमज़ोर अल्पसंख्यक वर्ग के तौर पर 30 वर्ष रहे हैं। इस दौरान उन्होंने “पूर्ण धार्मिक स्वतंत्रता” का अनुभव किया है।

‘खुला समाज, सुदृढ़ लोकतंत्र और न्यायपालिका’

डॉ. दोरजी ने हिंदुस्तान को महान सभ्यता और प्राचीन समय से ही बहुपंथिक, बहुभाषी और बहुसांस्कृतिक समाज बताया। उन्होंने लिखा कि हालाँकि छिटपुट हिंसक घटनाएँ (जो दुर्भाग्यपूर्ण, गैरकानूनी और गलत हैं, इसमें कोई दोराय नहीं) होती रहतीं हैं, लेकिन हिंदुस्तान के बहुपंथिक और सेक्युलर (लिबरल गैंग के नीम-हकीमी अर्थ में नहीं, सही अर्थ में) होने में कोई शक नहीं। वह दलाई लामा को भी उद्धृत करते हुए कहते हैं कि हिंदुस्तान की भिन्नता, समरसता और आदर व करुणा के कायल दलाई लामा भी हैं।

डॉ. दोरजी अपने भारतीय ‘गृह-राज्यों’ कर्नाटक और हिमाचल का ज़िक्र करते हुए उनकी और समूचे हिंदुस्तान की तुलना तिब्बत पर कब्ज़ा किए हुए चीन से करते हैं। वह बताते हैं कि कैसे हिंदुस्तान में समृद्ध हो रही तिब्बती भाषा और संस्कृति खुद तिब्बत में चीनी बूटों तले दम तोड़ रहे हैं।

इतिहास भी करता है तस्दीक

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

डॉ. दोरजी के इन कथनों की तस्दीक हिंदुस्तान का समूचा इतिहास भी करता है- चाहे आप कितने हज़ार साल भी चले जाएँ। दुनिया के सबसे छोटे और प्राचीनतम धार्मिक समूहों में शामिल पारसियों से लेकर यहीं वैदिक समाज से विद्रोह कर उत्पन्न हुए बौद्धों, जैनों, सिखों और इस्लाम-ईसाईयत के पुरोधा यहूदियों तक हिंदुस्तान में विभिन्न ही नहीं, परस्पर विरोधी आस्था के लोग हज़ारों सालों से रहते आए हैं। यहूदी तो दुनिया की सबसे प्रताड़ित कौम हैं, और इतनी सदियों में इकलौता हिंदुस्तान है, जहाँ कभी उन्हें मज़हबी वजह से निशाना नहीं बनाया गया।

आखिर मुसलमानों-ईसाईयों में से ही क्यों आती है “इनटॉलेरेंस” की शिकायत?

अगर उपरोक्त बातें सही हैं, कि हिंदुस्तान की संस्कृति सर्व-समावेशी और शांतिपूर्ण सहअस्तित्व की है, तो सवाल यह है कि आखिर आज ‘इनटॉलेरेंस’ का इतना बाजा क्यों बज रहा है? तो जवाब जानने के लिए समकालीन हिन्दू समाज के साथ-साथ यह शोर जिस तबके से आ रहा है, उसकी ओर भी एक नज़र गहराई से डालना ज़रूरी हो जाता है।

आखिर ऐसा क्यों है कि हिंदुस्तान में सारी दिक्कतें केवल दो पंथों इस्लाम और ईसाईयत को मानने वालों को ही हो रहीं हैं? क्या इसका कारण यह है कि हिंदुस्तान की बहुसंख्यक आबादी हिन्दुओं का इन दोनों मज़हबों से कोई खास बैर है? या फिर ये कि इन पंथों की विचारधारा या इनके अनुयायियों के आचरण में कुछ ऐसा है जो इनके अन्य के साथ टकराव का कारण बन जाता है?

अगर खोट हिन्दुओं में है तो यहूदी क्यों नहीं शिकार?

अगर एकबारगी यह मान लिया जाए कि खोट हिन्दुओं में ही है, हिन्दुओं में इस्लाम और ईसाईयत के प्रति शत्रुता किसी बहाने ‘इनबिल्ट’ है, तो सवाल यह उठेगा कि इसी विचारधारा के पूर्ववर्ती यहूदियों को हिंदुस्तान में कोई दिक्क्त क्यों नहीं हुई? यहूदियों में भी ‘एक ही अदृश्य, अव्यक्त ईश्वर; मूर्तिपूजा/अन्य किसी शक्ति की उपासना अनंतकाल के नर्कभोग वाला पाप’ आदि अधिकांश वही सब बातें मान्य हैं जो इस्लाम और ईसाईयत में प्रचलित हैं। जहाँ तक मेरी जानकारी है, बड़ा अंतर खाली अंतिम नबी के सवाल पर है- यहूदी इंतजार में हैं, ईसाईयों के हिसाब से ईसा थे, मुसलमानों के हिसाब से हज़रत मोहम्मद। क्या इतने से ही हिन्दू भड़के हुए हैं?

या फिर जबरिया मतांतरण की ज़िद है ‘इनटॉलेरेंस’ की जड़ में?

अब दूसरी संभावना पर गौर करते हैं- कि हिन्दू विरोध इस्लाम और ईसाईयत की विचारधारा का नहीं करते, मुसलमान और ईसाई अपने दिमागों में क्या सोचते हैं इसका नहीं करते, बल्कि विरोध करते हैं कि अपनी सोच, अपना पंथिक आग्रह दूसरों पर थोपने की प्रवृत्ति का। विरोध करते हैं ईसाईयों के हिन्दुओं के पवित्र प्रतीक चिह्नों को ‘हड़प’ कर उन्हें हिंदुत्व से लोगों को काटने के प्रयोग का। विरोध करते हैं हिंसा और ज़ोर-ज़बर्दस्ती से लोगों के मतांतरण का, जो मुसलमानों द्वारा किए जाने की खबरें हम सुनते रहते हैं।

यहूदी इसी मामले में इस्लाम और ईसाईयत से अलग हैं- वे भले यह मानें कि हिन्दू ‘पापी’ हैं और नर्क के भागी होंगे मरने के बाद, लेकिन वे अपना मत, अपनी आस्था थोपते नहीं हैं। पारसियों में (जहाँ तक मेरी जानकारी है, जोकि शायद बहुत ज़्यादा नहीं है) ‘अहुरों’ की पूजा होती है और ‘दैवों’ की निंदा- सुनने में ऐसा लगता है (जोकि सम्भवतः सही न भी हो) मानो जिन असुरों के विरुद्ध हिन्दू देवता लड़ते थे, शायद पारसी उन्हीं के पूजक हैं। लेकिन तब भी कभी पारसी-विरोधी हिंसा क्यों नहीं हुई? क्योंकि उन्होंने कभी अपनी अहुर-पूजा को हिन्दुओं पर लादने की कोशिश नहीं की- न तलवार के दम पर, न पिछले दरवाज़ों से।

एक और बात, इस लेख में उठाना पढ़ रहा कोई छद्म-लिबरल उठाने को यह भी सवाल उठा सकता है कि हो सकता है ईसाईयों और मुसलमानों ने हिंदुत्व (हिन्दू धर्म) की ऐसी कोई विद्वत्तापूर्ण निंदा या आलोचना की हो जो और कोई पंथ न कर पाया हो, और यह ‘असहिष्णुता’ उस वजह से हो। हो “सकता” है, पर ऐसा है नहीं। है इसका उलट। इस्लामिक इतिहास हिंदुस्तान में अधिकाँश समय मंदिर-ध्वंस, बलात्कार और सामूहिक हत्याकांड, आदि का रहा है- और अब तो यह छद्म-लिबरल भी मानने को मजबूर हैं। और ईसाई ‘विद्वानों’ ने तर्कपूर्ण आलोचना तो दूर की बात, अनुवाद भी फ़र्ज़ी किए ताकि आर्यन आक्रमण थ्योरी की आड़ में हिन्दुओं को बाँटकर चर्च का साम्राज्य फैलाया जा सके।

वहीं बौद्धों ने वैदिक ऋचाओं से लेकर कर्मकांडों की, जैनों ने वैदिक यज्ञ-हिंसा से लेकर युद्ध में हिंसा करने वाले राम-कृष्ण जैसे अवतारों की आलोचना में ग्रंथ-के-ग्रंथ लिखे हैं, जिस पर सदियों हिन्दुओं ने बहस की है, शास्त्रार्थ हुए हैं, हिन्दुओं और अन्य ने एक-दूसरे के आगे सर मुड़ाया है, शिष्यत्व स्वीकार किया है। लेकिन मंदिर ढहाना, आर्य-द्रविड़ का कृत्रिम भेद खड़ा करने जैसे काम नहीं हुए हैं। हिन्दुओं ने तो किसी भी प्रकार की परा-शक्ति को नकारने वाली चार्वाक परम्परा को भी ऋषि-परम्पराओं में स्वीकार किया है। अतः डॉ. दोरजी के इस बयान के आलोक में मुसलमानों और ईसाईयों को आत्म-विवेचन करने की जरूरत है कि ‘इनटॉलेरेंस’ के लिए जिम्मेदार ‘भगवाकरण’ है, ‘हिन्दू राष्ट्रवाद’ है, या हिन्दुओं को आक्रामकता अख्तियार करने के लिए मजबूर करने वाले उनके आचरण।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by paying for content

यू-ट्यूब से

बड़ी ख़बर

पीड़ित के मुताबिक उसके क्वालिटी बार पर सन 2013 में यह लोग लूटपाट और तोड़फोड़ किए थे। उनके मुताबिक जो उनकी जगह थी उसको पूर्व मंत्री आजम खान की पत्नी तंजीम फातिमा के नाम आवंटित कर दिया गया था।

ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

इमरान ख़ान

मोदी के ख़िलाफ़ बयानबाजी बंद करें इमरान ख़ान: मुस्लिम मुल्कों की पाकिस्तान को 2 टूक

मुस्लिम देशों ने प्रधानमंत्री इमरान खान से कहा है कि कश्मीर मुद्दे को लेकर दोनों देशों के बीच जारी तनाव को कम करने के लिए वह अपने भारतीय समकक्ष के खिलाफ अपनी भाषा में तल्खी को कम करें।
सीजेआई रंजन गोगोई

CJI रंजन गोगोई: कश्मीर, काटजू, कन्हैया…CM पिता जानते थे बेटा बनेगा मुख्य न्यायाधीश

विनम्र स्वभाव के गोगोई सख्त जज माने जाते हैं। एक बार उन्होंने अवमानना नोटिस जारी कर सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज मार्कंडेय काटजू को अदालत में तलब कर लिया था। काटजू ने सौम्या मर्डर केस में ब्लॉग लिखकर उनके फैसले पर सवाल उठाए थे।
तजिंदर बग्गा, एंड्रिया डिसूजा

‘₹500 में बिक गईं कॉन्ग्रेस नेता’: तजिंदर बग्गा ने खोली रिया (असली नाम एंड्रिया डिसूजा) की पोल

बग्गा ने रिया को व्हाट्सएप मैसेज किया और कहा कि वो उनसे एक प्रमोशनल ट्वीट करवाना चाहते हैं। रिया ने इसके लिए हामी भर दी और इसकी कीमत पूछी। बग्गा ने रिया को प्रत्येक ट्वीट के लिए 500 रुपए देने की बात कही। रिया इसके लिए भी तैयार हो गई और एक फेक ट्वीट को...
सिंध, पाकिस्तान

मियाँ मिट्ठू के नेतृत्व में भीड़ ने हिन्दू शिक्षक को पीटा, स्कूल और मंदिर में मचाई तोड़फोड़

इस हमले में कट्टरपंथी नेता मियाँ मिट्ठू का हाथ सामने आया है। उसने न सिर्फ़ मंदिर बल्कि स्कूल को भी नुक़सान पहुँचाया। मियाँ मिट्ठू के नेतृत्व में भीड़ ने पुलिस के सामने शिक्षक की पिटाई की, मंदिर में तोड़फोड़ किया और स्कूल को नुक़सान पहुँचाया।
नितिन गडकरी

भारी चालान से परेशान लोगों के लिए गडकरी ने दी राहत भरी खबर, अब जुर्माने की राशि 500-5000 के बीच

1 सितंबर 2019 से लागू हुए नए ट्रैफिक रूल के बाद से चालान के रोजाना नए रिकॉर्ड बन और टूट रहे हैं। दिल्ली से लेकर अन्य राज्यों में कई भारी-भरकम चालान काटे गए जो मीडिया में छाए रहे जिसे देखकर कुछ राज्य सरकारों ने पहले ही जुर्माने की राशि में बदलाव कर दिया था।
दिग्विजय के भाई लक्ष्मण सिंह

क़र्ज़माफ़ी संभव नहीं, राहुल गाँधी को नहीं करना चाहिए था वादा: दिग्विजय के भाई लक्ष्मण सिंह

राहुल गाँधी ने चुनाव के दौरान सरकार गठन के 10 दिनों के भीतर किसानों की क़र्ज़माफ़ी करने का ऐलान किया था। लेकिन लक्ष्मण सिंह के कहना है कि क़र्ज़माफ़ी किसी भी क़ीमत पर संभव नहीं है। राहुल गाँधी को ऐसा वादा नहीं करना चाहिए था।
हिना सिद्धू, मलाला युसुफ़ज़ई

J&K पाकिस्तान को देना चाहती हैं मलाला, पहले खुद घर लौटकर तो दिखाएँ: पूर्व No.1 शूटर हिना

2013 और 2017 विश्वकप में पहले स्थान पर रह कर गोल्ड मेडल जीत चुकीं पिस्टल शूटर हिना सिद्धू ने मलाला को याद दिलाया है कि ये वही पाकिस्तान है, जहाँ कभी उनकी जान जाते-जाते बची थी। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में लड़कियों की शिक्षा के लिए कितने मौके हैं, इसे मलाला बेहतर जानती हैं।

शेख अब्दुल्ला ने लकड़ी तस्करों के लिए बनाया कानून, फॅंस गए बेटे फारूक अब्दुल्ला

फारूक अब्दुल्ला को जिस पीएसए एक्ट तहत हिरासत में लिया गया है उसमें किसी व्यक्ति को बिना मुक़दमा चलाए 2 वर्षों तक हिरासत में रखा जा सकता है। अप्रैल 8, 1978 को जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल से इसे मंजूरी मिली थी। यह क़ानून लकड़ी की तस्करी रोकने के लिए लाया गया था।
हिन्दू लड़की की हत्या

…बस एक एग्जाम और डेंटल डॉक्टर बन जातीं नमृता लेकिन पाकिस्तान में रस्सी से बंधा मिला शव

बहन के मृत शरीर को देख नमृता के भाई डॉ विशाल सुंदर ने कहा, "उसके शरीर के अन्य हिस्सों पर भी निशान हैं, जैसे कोई व्यक्ति उन्हें पकड़ रखा था। हम अल्पसंख्यक हैं, कृपया हमारे लिए खड़े हों।"
एन राम

‘The Hindu’ के चेयरमैन बने जज: चिदंबरम को कॉन्ग्रेस के कार्यक्रम में दी क्लीन चिट, कहा- कोई सबूत नहीं

एन राम चिदंबरम को जेल भेजने के लिए देश की अदालतों की आलोचना करने से भी नहीं चूके। उन्होंने कहा कि इस गिरफ्तारी की साजिश करने वालों का मकसद सिर्फ और सिर्फ चिदंबरम की आजादी पर बंदिश लगाना था और दुर्भाग्यवश देश की सबसे बड़ी अदालतें भी इसकी चपेट में आ गईं।

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

91,243फैंसलाइक करें
15,199फॉलोवर्सफॉलो करें
97,600सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

शेयर करें, मदद करें: