Thursday, July 16, 2020
Home बड़ी ख़बर नक़ाबपोश एक्सपर्ट के समर्थकों, तुम्हारे कपड़ों का ही नक़ाब उसने पहना है!

नक़ाबपोश एक्सपर्ट के समर्थकों, तुम्हारे कपड़ों का ही नक़ाब उसने पहना है!

'थूक कर भागने वालों का सक्रिय गिरोह' जब नैरेटिव में दोबारा इस तरह की बातें ला सकता है, तो हमारी ज़िम्मेदारी है कि हम भी एक स्टैंड लें और सारी बातें क्लियर करें कि ईवीएम हैकिंग क्यों संभव नहीं है।

ये भी पढ़ें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

कल शाम एक भद्दा मजाक हुआ ‘ईवीएम हैकिंग’ के नाम पर। यूँ तो, ये वाक्यांश इतनी बेहूदगी से, इतनी बार दोहराया जा चुका है कि नक़ाबपोश एक्सपर्ट की पहचान के विशेषणों को सुनने के बाद ही किसी भी चैनल या मीडिया को इसे गम्भीरता से नहीं लेना चाहिए था, लेकिन खलिहर मीडिया इसे लाइव और लाइव ब्लॉग बनाकर चलाती रही। मैंने भी अपनी वाल पर एक विडियो डाली उस कैरिकेचर के कैरिकेचर की, नक़ाब लगाकर। उस व्यक्ति और इस मुद्दे का हासिल अब इतना ही है कि लोगों को उसे सुनकर आगे बढ़ जाना चाहिए।

लेकिन कुछ लोग अटक जाते हैं, क्योंकि कुछ लोग अटकना चाहते हैं। इसी में से एक व्यक्ति है जो स्वयं को ही ‘निष्पक्ष पत्रकारिता’ का एकमेव मानदंड मानता है। उसने अपने प्राइम टाइम शो में इस पूरी नौटंकी का ज़िक्र करते हुए जो एक लाइन कही वह इस लिहाज़ से सोचने योग्य है कि आख़िर पत्रकारिता के नाम पर स्टूडियो से महागठबंधन की रैली कब तक चलती रहेगी? 

पत्रकार श्रेष्ठ ने बड़े ही क्यूट अंदाज में पूछा कि जब हैकर बता रहा है कि उसे बारह दलों ने हैकिंग के लिए सम्पर्क किया था, तो इस पर जाँच क्यों नहीं हो सकती? बहुत ही सहज भाव से, सीरियस चेहरा लेकर पत्रकार महोदय पूछ देते हैं कि कोई अगर सवाल उठा रहा है तो जाँच में क्या समस्या है? अब यही पत्रकार यह बात भूल जाता है कि चुनाव आयोग ने सारी पार्टियों को न्योता दिया था कि ईवीएम मशीन लो, और हैक करके दिखाओ। ये बात और है कि कुछ पार्टियाँ और पत्रकार उसे घर ले जाने की बात कर रहे थे। 

आख़िर सवाल यह है कि क्यों करा ली जाए जाँच? क्या लगातार हो रहे चुनावों में अलग-अलग पार्टियों की जीत इस सवाल का स्वतः जवाब नहीं दे देती? या फिर हमारे देश के नेता और पार्टियाँ सत्ता में होते हुए, दूसरी पार्टियों को ईवीएम हैक करने दे दे रहे हैं ताकि लोगों का लोकतंत्र में विश्वास बना रहे? 

आख़िर जाँच किस आधार पर हो? एक नक़ाबपोश के कहने पर कि कॉन्ग्रेस को तो 245 सीटें आने वाली थीं, उसे हैकिंग से 201 सीटों का नुकसान हो गया? एक ऐसे व्यक्ति के विडियो कॉन्फ़्रेंस के आधार पर जिसने उन्हीं लोगों का नाम लिया जो मर चुके हैं, क्योंकि वो उसकी बातों का खंडन करने नहीं आ सकते? 

गौरी लंकेश उस व्यक्ति की बातों को छापने वाली थी, और उसकी हत्या कर दी गई! गोपीनाथ मुंडे को पता था, तो उसकी हत्या हो गई! तंज़ील अहमद प्राथमिकी दर्ज़ करने वाले थे, और उनकी मृत्यु हो गई! ऐसी बातें करने वाले व्यक्ति के आरोप पर विश्वास कर लिया जाए जिसकी पहचान में ‘भारतीय मूल के अमेरिकी साइबर एक्सपर्ट ने लंदन में की विडियो चैट के ज़रिए प्रेस कॉन्फ़्रेंस’ लिखा आ रहा था?

मुझे ख़ुद पर ही आश्चर्य हो रहा है कि मैं ही इस इस व्यक्ति को इतना महत्व क्यों दे रहा हूँ? फिर लगता है कि ‘थूक कर भागने वालों का सक्रिय गिरोह’ जब नैरेटिव में दोबारा इस तरह की बातें ला सकता है, तो हमारी ज़िम्मेदारी है कि हम भी एक स्टैंड लें और सारी बातें क्लियर करें कि ईवीएम हैकिंग क्यों संभव नहीं है। 

आप चुनाव आयोग की वेबसाइट से इस पूरी प्रक्रिया को लेकर तय प्रोटोकॉल की हैंडबुक पढ़ सकते हैं। और, आप जान लीजिए कि केन्द्रीय चुनाव आयोग से लेकर, राज्यों को चुनाव आयोगों से होते हुए, ज़िला, प्रखंड, पंचायत और बूथ के स्तर तक, ईवीएम को लेकर बरते जाने वाले एहतियात इतने सारे हैं, और इतने रैंडम हैं, जहाँ हर पार्टी के प्रतिनिधियों/पोलिंग एजेंटों का होना ज़रूरी होता है, कि छेड़-छाड़ की गुंजाइश नगण्य है। 

इससे इनकार नहीं है कि कुछ मशीनें ख़राब होती हैं। चुनाव आयोग स्वयं इस बात को स्वीकारता है कि पाँच प्रतिशत मशीनें ‘तकनीकी कारणों’ से ख़राब हो सकती हैं। इसके लिए इंतज़ाम होते हैं। मध्यप्रदेश के चुनावों में कुल 65,000 बूथ थे, जिनमें 1500 वीवीपैट, 383 कंट्रोल यूनिट और 563 बैलट यूनिट ख़राब निकले। आप प्रतिशत निकाल लीजिए, अगर एक बूथ पर एक सेट ही इस्तेमाल हुआ हो फिर भी।  ऐसा कभी नहीं होता कि आपको ख़बर मिले कि फ़लाँ जगह मशीन में ख़राबी आ गई, तो वो मशीन बदली नहीं जाती। आप वो इसलिए नहीं सुनते क्योंकि मशीन का ख़राब होना, हर वोट किसी एक ही पार्टी को जाना आदि ख़बरें बिकने योग्य हैं, जबकि ‘ख़राब ईवीएम को आधे घंटे में चुनाव आयोग ने बदला’ एक बोरिंग और बेकार हेडलाइन है। 

अपनी पूरी बकवास के दौरान शूजा नाम के इस तथाकथित एक्सपर्ट ने ऐसी हास्यास्पद बातें बोली हैं जो कोई भी बोलने से पहले एक बार ज़रूर सोचेगा। इन सबमें सबसे लम्बी छलाँग कॉन्ग्रेस को 201 सीटों का घाटा थी। उसके बाद उसका यह कहना कि मशीन को लो-फ़्रीक्वेंसी सिग्नल से बाधित किया जा सकता है, टेक जार्गन फेंक कर लोगों को पागल बनाने के अलावा कुछ भी नहीं है। चुनाव आयोग ने दसियों बार इस बात को नकारा है, और लोगों को बुलाकर स्वयं को गलत साबित करने कहा है, कि मशीनों को किसी भी तरह के ब्लूटूथ, वाई-फ़ाई या वैसे ही तरंगों के ज़रिए हैक नहीं किया जा सकता क्योंकि उसमें वायरलेस नेटवर्किंग की कोई सुविधा है ही नहीं।

ईवीएम के दो हिस्से, बैलेट यूनिट और कंट्रोल यूनिट, आपस में तार से जुड़े होते हैं, और बैटरी से उनको ऊर्जा मिलती है। इसमें न तो कोई तार बाहर से जाता है जो कि पोलिंग अफ़सरों की नज़र से दूर हो, न ही बाहर से किसी भी तरह के सिग्नल से प्रभावित किया जा सकता है। इसमें या तो पूरा गाँव, शहर, या राज्य ही मिल जाए, और सारी पार्टियाँ साथ होकर किसी एक को जिताने का तय कर ले, तभी कुछ हो सकता है। उस स्थिति में भी जिसके नाम का बटन दबेगा, वोट उसी को जाएगा, न कि किसी और को। क्योंकि, अगर हर पार्टी के पोलिंग एजेंट नहीं मिले रहेंगे तो सुबह में हर बूथ पर हुई मॉक वोटिंग में ही, मशीनों के ख़राब होने पर पता चल जाएगा। 

शूजा बोलते-बोलते इतना बोल गया कि रिलायंस जियो ने भाजपा को ‘लो-फ़्रीक्वेंसी सिग्नल’ उपलब्ध कराए थे। बेहतरीन बात यह है कि जियो 2015 के दिसंबर में अनाउंस हुई, और अगले साल लॉन्च हुई।

शूजा के सारे दावे बिना किसी प्रूफ़ या एक्सप्लेनेशन के हैं। वो बस आरोप लगाता रहा, नाम गिनाता रहा, और टेक्निकल टर्म्स के नाम पर ‘सायबर एक्सपर्ट’ और ‘लो फ़्रीक्वेंसी’ के अलावा कुछ भी नहीं बोल पाया। ‘लो फ्रीक्वेंसी’ से क्या होता है, कैसे होता है, हैकिंग कैसे की जाती है, ऐसी बातों को बताने की ज़रूरत नहीं समझी गई। 

सत्ता से दूर एक पार्टी सत्ता को हथियाने के सारे हथकंडे इस्तेमाल करना चाहती है। वो पहले राफ़ेल का गीत गाती है, और संसद से लेकर सोशल मीडिया तक अपनी भद पिटवाती है। राज्यों में नई सरकारों के बावजूद वो जानती है कि उन्हीं राज्यों में लोकसभा चुनाव जीतना कितना कठिन होगा। इसलिए ईवीएम हैकिंग की हवा फिर से बाँधी जा रही है। 

लगातार चल रहे विकास कार्यों और राष्ट्रीय स्तर पर नरेन्द्र मोदी की बढ़ती स्वीकार्यता, जिसने ‘मोदी तुझसे बैर नहीं, राजे तेरी ख़ैर नहीं’ जैसे नारों को जन्म दिया, बताता है कि भाजपा का रथ एक तय गति से आगे बढ़ रहा है, और उसे धक्का देने वाले वो करोड़ों लोग हैं जिन्हें लोकतंत्र के ज़रिए अपने जीवन में बेहतरी की संभावना फिर से दिखने लगी है। 

इसलिए, ये गिरोह सक्रिय होकर नई बातें कर रहा है। इसीलिए हर चुनाव से पहले भाजपा ही नहीं, राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार तक पर भ्रष्टाचार के बेबुनियाद आरोप लगा रहा है। इसलिए लोगों को जागरुक होकर, झूठ के नैरेटिव को बेहतर तर्कों से काटना होगा। अभी ईवीएम का राग फिर से फूटा है, कुछ दिन में विवेक और शौर्य डोभाल पर काले धन और टैक्स चोरी के आरोप लगाने वालों से जब न्यायालय में जवाब माँगा जाएगा, तो आपातकाल भी आएगा, और प्रेस फ़्रीडम पर हमला भी होगा।

देखते रहिए, चिल मारिए और इस नंगी बेहयाई का आनंद लीजिए, क्योंकि इस एक्सपर्ट के नक़ाब बुनने के लिए इस गिरोह के लोगों ने पैंट उतारकर दान किया है। 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत भारतीhttp://www.ajeetbharti.com
सम्पादक (ऑपइंडिया) | लेखक (बकर पुराण, घर वापसी, There Will Be No Love)

ख़ास ख़बरें

पैगंबर की फिल्म से भावनाएँ होंगी आहत, YouTube, फेसबुक, Instagram सब जगह करो बैन: महाराष्ट्र सरकार

इस्लाम धर्म के पैगंबर हजरत मुहम्मद के जीवन पर आधारित ईरानी फिल्म ‘मुहम्मद दी मेसेंजर ऑफ गॉड’ पर प्रतिबंध लगाने को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा है।

सुशांत सिंह केस: सुब्रमण्यम स्वामी ने पत्र लिख PM मोदी से की CBI जाँच की माँग, कहा- पुलिस छिपाना चाहती है बॉलीवुड के बड़े...

"आप महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को सीधे या राज्यपाल के ज़रिए सीबीआई जाँच के लिए सहमत कर सकते हैं। मुंबई पुलिस पहले ही कोरोना वायरस पैनडेमिक और दूसरे मामलों में व्यस्त है। जनता के भरोसे को बहाल करने के लिए सीबीआई जाँच ज़रूरी है।''

रक्षाबंधन पर गाय के चमड़े के उपयोग न करने की सलाह पर खुद ही फँसा PETA इंडिया, लोगों ने पूछा- राखी में कहाँ होता...

PETA इंडिया की सूर्यवंशी ने कहा, "हमें इस हिंसा के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करनी चाहिए। लेकिन लोग इस हिंसा के प्रति नहीं बल्कि अपना गुस्सा पेटा के खिलाफ निकालते है जब कि हम गायों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।"

7 कॉमेडियनों ने डिएक्टिवेट या प्रोटेक्ट किया अकॉउंट: हिन्दू धर्म और महापुरुषों के अपमान की ट्वीट-वीडियो होने लगी थी वायरल

स्टैंड-अप ‘कॉमेडियन’ अग्रिमा जोशुआ का मामला तूल पकड़ने के बाद स्टैंड अप कॉमेडी के नाम पर लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने वाले तथाकथित कॉमेडियन्स को चुन-चुन कर सोशल मीडिया यूजर्स आड़े हाथों ले रहे हैं।

पायलट नर्म, गहलोत गर्म: साजिशकर्ता बता कर कहा – ‘अंग्रेजी बोलने, हैंडसम होने से कुछ नहीं होता’

गहलोत ने कहा कि पायलट बिना रगड़ाई हुए ही केंद्रीय मंत्री और पीसीसी चीफ बन गए और अगर 'रगड़ाई' हुई होती तो आज और अच्छा काम करते।

गहलोत ने सचिन पायलट को कहा हैंडसम: धरने पर बैठे नाराज साइंटिस्ट सिसोदिया, युवा राहुल का भी छलका दर्द

मनीष सिसोदिया ने कहा कि इस देश में एक समय में सिर्फ एक ही हैंडसम व्यक्ति हो सकता था और वो निर्विवाद रूप से स्वयं मनीष सिसोदिया हैं।

प्रचलित ख़बरें

अनस कुरैशी ने शिव मंदिर के उपाध्यक्ष को पीट-पीट कर मार डाला… क्योंकि उन्होंने भगवा पहना था

कांति प्रसाद की मौत से हिंदू संगठनों में रोष व्याप्त। थाने पर उन्होंने जमकर हंगामा किया। पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए अनस पर...

‘मुझे बचा लो… बॉयफ्रेंड हबीब मुझे मार डालेगा’: रिदा चौधरी का आखिरी कॉल, फर्श पर पड़ी मिली लाश

आरोप है कि हत्या के बाद हबीब ने रिदा के शव को पंखे से लटका कर इसे आत्महत्या का रूप देने का प्रयास किया। गुरुग्राम पुलिस जाँच कर रही है।

जब मेरी डिलीवरी हुई, तब नवाजुद्दीन घर पर लाए थे लड़कियाँ, उनके भाई ने मारा था मुझे थप्पड़: बीवी अंजना पांडे

"उस वक्त कुछ बहुत बड़ा ऐसा हुआ था, जो मेरी बेटी की इज्जत से जुड़ा था और मैंने उनके खिलाफ बोला था। इसलिए उन्होंने मुझे थप्पड़ मारा था।"

UAE दूतावास की सील-राजकीय चिन्ह से छेड़छाड़ कर आतंक के लिए 10 महीने में 150 किलो सोने की तस्करी: NIA ने किया खुलासा

हिरासत के आवेदन को आगे बढ़ाते हुए, एजेंसी ने अदालत को बताया कि गृह मंत्रालय ने प्रारंभिक जाँच की थी और पाया था कि तस्करी का सोना आतंकवादी गतिविधियों के लिए उपयोग किया जाता था।

तो रुक जाएगी चीन में जाने वाली 80% ऊर्जा… भारत ऐसे ख़त्म करेगा ड्रैगन और अरब का व्यापार, साथ आए कई देश

मलक्का को लेकर भारत द्वारा खास रणनीति पर काम करने की खबरें सामने आ रही हैं। चीन में ऊर्जा की 80% ज़रूरत मलक्का रूट से ही पूरी होती है।

विदेश में पढ़ाई के दौरान मोहब्बत, पहले मजहब फिर सारा के CM पिता फारूक अब्दुल्ला बने रोड़ा: सचिन पायलट की लव स्टोरी

सारा और सचिन पेंसिल्वेनिया विश्वविद्यालय के व्हार्टन स्कूल में उच्च शिक्षा प्राप्त करने के दौरान एक दूसरे से मिले थे। एक दूसरे को डेट करने के बाद, दोनों ने सारा के परिवार की तरफ से लगातार आपत्तियों के बावजूद 2004 में एक बंधन में बँधने का फैसला किया।

Covid-19: भारत में पिछले 24 घंटे में सामने आए संक्रमण के 29429 मामले, अब तक 24309 की मौत

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के आँकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में देशभर में कोरोना वायरस के 29,429 नए मामले सामने आए हैं और 582 लोगों की मौत हुई है।

अपहरण किए गए बीजेपी नेता को पुलिस ने किया रेस्क्यू, लश्कर कमांडर ​​हैदर के परिवार को हिरासत में लेकर शुरू हुआ था ऑपरेशन

बारामूला के वाटरगाम में नगर समिति के उपाध्यक्ष मेराजुद्दीन मल्ला को बचाने के लिए चलाए गए ऑपरेशन को लश्कर के सोपोर कमांडर सज्जाद उर्फ ​​हैदर के परिवार के सदस्यों को हिरासत में लेकर शुरू किया गया था।

Qraa Men ब्रांड ने महिलाओं की नग्न तस्वीरों के साथ किया पुरुष प्रॉडक्ट का प्रचार, सोशल मीडिया पर भड़के लोग, किया विरोध

लोगों की कड़ी प्रतिक्रियाओं को देखते हुए Qraa Men हालही में पोस्ट किए विज्ञापन सामग्री को हटा दिया है, जिसमें उन्होंने सीधे तौर पर महिलाओं ऑब्जेक्टिफाई किया था।

पैगंबर की फिल्म से भावनाएँ होंगी आहत, YouTube, फेसबुक, Instagram सब जगह करो बैन: महाराष्ट्र सरकार

इस्लाम धर्म के पैगंबर हजरत मुहम्मद के जीवन पर आधारित ईरानी फिल्म ‘मुहम्मद दी मेसेंजर ऑफ गॉड’ पर प्रतिबंध लगाने को लेकर महाराष्ट्र की उद्धव सरकार ने केंद्र सरकार को पत्र लिखा है।

सुशांत सिंह केस: सुब्रमण्यम स्वामी ने पत्र लिख PM मोदी से की CBI जाँच की माँग, कहा- पुलिस छिपाना चाहती है बॉलीवुड के बड़े...

"आप महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को सीधे या राज्यपाल के ज़रिए सीबीआई जाँच के लिए सहमत कर सकते हैं। मुंबई पुलिस पहले ही कोरोना वायरस पैनडेमिक और दूसरे मामलों में व्यस्त है। जनता के भरोसे को बहाल करने के लिए सीबीआई जाँच ज़रूरी है।''

पालघर: महाराष्ट्र CID की चार्जशीट से साधुओं की लिंचिंग में धार्मिक कारण से इनकार, हत्या को बताया अफवाहों पर आधारित

चार्ज शीट में पालघर, महाराष्ट्र में हुई साधुओं की लिंचिंग को अफवाहों के आधार पर बताते हुए कहा गया है कि इसके पीछे कोई धार्मिक कारण नहीं था।

हैंड-सैनिटाइजर पर GST छूट घरेलू उत्पादों की कीमत बढ़ाने और चीन से आयात को प्रोत्साहित कर सकता है, जानिए कैसे

एक बार के लिए ऐसा लग सकता है कि कर की दर शून्य होने पर कीमतें कम होंगी, लेकिन यह सच नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि जीएसटी वास्तव में एक ऐसा VAT है, जहाँ उत्पादन के प्रत्येक चरण में जोड़े गए मूल्य पर कर लगाया जाता है।

रक्षाबंधन पर गाय के चमड़े के उपयोग न करने की सलाह पर खुद ही फँसा PETA इंडिया, लोगों ने पूछा- राखी में कहाँ होता...

PETA इंडिया की सूर्यवंशी ने कहा, "हमें इस हिंसा के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर करनी चाहिए। लेकिन लोग इस हिंसा के प्रति नहीं बल्कि अपना गुस्सा पेटा के खिलाफ निकालते है जब कि हम गायों को बचाने की कोशिश कर रहे हैं।"

पीएम ओली के ‘अयोध्या ज्ञान’ पर माहौल बिगड़ने के बाद नेपाल ने जारी किया स्पष्टीकरण, कहा- किसी को दुख पहुँचाने की नहीं थी नियत

''वास्तविक अयोध्या बीरगंज के पश्चिम में थोरी में स्थित है, भारत अपने यहाँ भगवान राम का जन्मस्थल होने का दावा करता है।'' वहीं अब अजीबोगरीब दावे के बाद खुद को बुरी तरह घिरता देख ओली ने विदेश मंत्रालय के जरिए सफाई पेश करवाई है।

7 कॉमेडियनों ने डिएक्टिवेट या प्रोटेक्ट किया अकॉउंट: हिन्दू धर्म और महापुरुषों के अपमान की ट्वीट-वीडियो होने लगी थी वायरल

स्टैंड-अप ‘कॉमेडियन’ अग्रिमा जोशुआ का मामला तूल पकड़ने के बाद स्टैंड अप कॉमेडी के नाम पर लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने वाले तथाकथित कॉमेडियन्स को चुन-चुन कर सोशल मीडिया यूजर्स आड़े हाथों ले रहे हैं।

हमसे जुड़ें

239,925FansLike
63,560FollowersFollow
275,000SubscribersSubscribe