Monday, July 22, 2024
Homeराजनीति'दूसरे लोगों को भी टाइप-7 बंगला आवंटित किया गया है, लेकिन मेरा छिन लिया...

‘दूसरे लोगों को भी टाइप-7 बंगला आवंटित किया गया है, लेकिन मेरा छिन लिया गया’: कोर्ट के निर्णय पर AAP सांसद राघव चड्ढा ने रोया दुखड़ा

बंगला खाली कराने पर हाल ही में बॉलीवुड अभिनेत्री परिणिति चोपड़ा से शादी करने वाले आम आदमी पार्टी के सांसद राघव चड्ढा ने हर्जाने की माँग की है। उन्होंने कहा कि बिना नोटिस दिए बंगला खाली कराने से उन्हें मानसिक पीड़ा हुई है। इसलिए उन्होंने राज्यसभा सचिवालय से 5.5 लाख रुपए हर्जाने की भी माँग की है।

आम आदमी पार्टी (AAP) के सांसद राघव चड्ढा को दिल्ली में आवंटित टाइप-7 का सरकारी बंगला खाली करना पड़ा सकता है। दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट ने शुक्रवार (6 अक्टूबर) अपने पुराने आदेश को वापस ले लिया है। इस आदेश में राज्यसभा सचिवालय को कहा गया था कि राघव चड्ढा से बंगला खाली न करवाया जाए। मार्च में सचिवालय ने चड्ढा को बंगला खाली करने का नोटिस दिया था।

दरअसल, कोर्ट ने इस साल अप्रैल में उन्हें इस सरकारी आवास से बेदखल किए जाने पर रोक लगा दी थी। इस रोक को एडिशनल डिस्ट्रिक्ट जज सुधांशु कौशिक ने गुरुवार (6 अक्टूबर 2023) को हटा लिया। अदालत ने कहा कि राघव चड्ढा को आवंटित आवास एक विशेषाधिकार मात्र है, जो उन्हें एक सांसद के रूप में दिया गया है। इस पर वे कब्जे के अधिकार का दावा नहीं कर सकते। 

इस मामले में चड्ढा ने अजीबो-गरीब तर्क दिया है। AAP सांसद ने कहा, “मेरे कई पड़ोसी पहली बार सांसद बने हैं, जिनमें श्री सुधांशु त्रिवेदी, श्री दानिश अली, श्री राकेश सिन्हा और सुश्री रूपा गांगुली शामिल हैं। इन्हें भी इनकी पात्रता से ऊपर वाले आवास आवंटित है। मुझे भी इनके समकक्ष का ही आवास आवंटित किया गया।”

दरअसल, राज्यसभा सचिवालय का कहना है कि पहली बार सांसद बने राघव चड्ढा को टाइप-6 बंगला आवंटित करने का अधिकार है। टाइप-7 बंगला उन सदस्यों को है, जो पहले केंद्रीय कैबिनेट मंत्री, राज्यपाल, मुख्यमंत्री या लोकसभा अध्यक्ष रह चुके हैं।

उधर, पंजाब से राज्यसभा सांसद राघव चड्ढा का कहना है कि राज्यसभा सचिवालय नियमों को ताक पर रखकर ये कार्रवाई की है। उन्होंने सत्ताधारी पार्टी पर आरोप लगाते हुए कहा कि ये सब भाजपा के आदेश पर राजनीतिक उद्देश्यों और निजी स्वार्थों के लिए किया गया है, ताकि आम आदमी पार्टी की आवाज को दबाई जा सके।

राघव चड्ढा ने कहा कि यह बंगला नियमानुसार उन्हें आवंटित किया गया था और इसे बिना किसी सूचना के रद्द किया गया है। यह राज्यसभा सचिवालय का मनमाना रवैया है। उन्होंने कहा कि वे वे वर्तमान में राज्यसभा के सदस्य हैं और उनका कार्यकाल अभी 4 साल बाकी है। उन्होंने कहा कि इस तरह से आवास छिनना 70 से अधिक वर्षों के इतिहास की अप्रत्याशित घटना है।

दरअसल, राघव चड्ढा को 6 जुलाई 2022 को राज्यसभा सांसद के रूप में पंडारा पार्क में टाइप-6 बंगला आवंटित किया गया था। इसके बाद उन्होंने 29 अगस्त 2022 को राज्यसभा के सभापति से अनुरोध किया कि उन्हें टाइप-7 बंगला दी जाए। इसके बाद उन्हें राज्यसभा पूल से पंडारा रोड पर एक और बंगला आवंटित किया गया था।

इस साल 3 मार्च को राज्यसभा सचिवालय ने इस आवंटन को रद्द कर दिया। आवंटन रद्द करने के आदेश के खिलाफ राघव चड्ढा कोर्ट पहुँच गए। कोर्ट ने अपने अंतरिम आदेश में चड्ढा के आवास आवंटन को निलंबित करने पर रोक लगा दी। इसके बाद अब अपने पुराने आदेश में संशोधन करते हुए कोर्ट ने आवास को खाली करने का आदेश दे दिया।

बंगला खाली कराने पर हाल ही में बॉलीवुड अभिनेत्री परिणिति चोपड़ा से शादी करने वाले आम आदमी पार्टी के सांसद राघव चड्ढा ने हर्जाने की माँग की है। उन्होंने कहा कि बिना नोटिस दिए बंगला खाली कराने से उन्हें मानसिक पीड़ा हुई है। इसलिए उन्होंने राज्यसभा सचिवालय से 5.5 लाख रुपए हर्जाने की भी माँग की है।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कोई भी कार्रवाई हो तो हमारे पास आइए’: हाईकोर्ट ने 6 संपत्तियों को लेकर वक्फ बोर्ड को दी राहत, सेन्ट्रल विस्टा के तहत इन्हें...

दिसंबर 2021 में सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने हाईकोर्ट को आश्वासन दिया था कि वक्फ बोर्ड की संपत्तियों को कोई नुकसान नहीं पहुँचाया जाएगा।

‘कागज़ पर नहीं, UCC को जमीन पर उतारिए’: हाईकोर्ट ने ‘तीन तलाक’ को बताया अंधविश्वास, कहा – ऐसी रूढ़िवादी प्रथाओं पर लगे लगाम

मध्य प्रदेश हाई कोर्ट ने कहा है कि समान नागरिक संहिता (UCC) को कागजों की जगह अब जमीन पर उतारने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -