पीएमसी मामले में खाता धारकों के हंगामे पर सीतारमण बोलीं – जरूरत पड़ी तो कानून में करेंगे ज़रूरी संशोधन

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रदर्शन कर रहे खाताधारकों से भी मुलावत की, उन्होंने इस मुद्दे को लेकर कहा "हम ऐसी घटनाओं को रोकने की दिशा में काम कर रहे हैं। इस पूरे मामले पर आरबीआई नज़र रखे हुए है, इस मामले का वित्त मंत्रालय से कोई लेना देना नहीं है लेकिन......

पीएमसी यानी पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक घोटाला मामले में बवाल थमने की बजाए अलग ही रूप लेता जा रहा है। बैंक पर सरकार द्वारा लगाई गई पाबंदियों के चलते कई खाताधारक नाराज़ हैं जिन्होंने आज खाताधारकों ने मुंबई स्थित भारतीय जनता पार्टी के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन कर अपना विरोध जताया। बता दें कि खाताधारकों का यह प्रदर्शन उस वक़्त हुआ जब केन्द्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मुंबई के नरीमन पॉइंट स्थित बीजेपी दफ्तर में प्रेस कांफ्रेंस करने जा रहीं थीं।

हालांकि, पुलिस की मदद से प्रदर्शनकारियों पर काबू पा लिया गया। पूरे प्रदर्शन के दौरान नाराज़ खाताधारकों की मांग थी उनके साथ जो छल किया गया है उसके खिलाफ त्वरित कार्रवाई करते हुए उनके पैसे उन्हें लौटाए जाएं।
प्रदर्शन में शामिल एक व्यक्ति ने कहा “हमें हमारे पैसे दिलाए जाएं। हमें इससे कोई मतलब नहीं कि कोर्ट या फिर आरबीआई क्या कर रहा है, हमें बस अपने पैसे चाहिए, क्योंकि जितने पैसे मैंने जोड़कर खाते में जमा किए थे वह मैं अब फिर से नहीं कमा सकता।”

इस दौरान वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने प्रदर्शन कर रहे खाताधारकों से भी मुलावत की, उन्होंने इस मुद्दे को लेकर कहा “हम ऐसी घटनाओं को रोकने की दिशा में काम कर रहे हैं। इस पूरे मामले पर आरबीआई नज़र रखे हुए है, इस मामले का वित्त मंत्रालय से कोई लेना देना नहीं है लेकिन अगर ज़रूरत पड़ी तो हम एक्ट में ज़रूरी बदलाव करेंगे, लेकिन अभी हम इस बदलाव के बारे में ज्यादा कुछ नहीं कह सकते।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

उन्नाव गैंगरेप, यूपी पुलिस, कांग्रेस
यूपी में कॉन्ग्रेसी भी योगी सरकार के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करते हुए सड़कों पर निकल गए। लेकिन उत्तर प्रदेश विधानसभा के बाहर कॉन्ग्रेस के झंडे लेकर पहुँचे कार्यकर्ताओं ने तब भागना शुरू कर दिया, जब यूपी पुलिस ने लाठियों से उन्हें जम कर पीटा। सोशल मीडिया पर इसका वीडियो भी वायरल हो गया।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

117,585फैंसलाइक करें
25,871फॉलोवर्सफॉलो करें
126,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: