Wednesday, July 28, 2021
Homeराजनीतिशिवसेना के आदित्य ठाकरे करेंगे 'टुकड़े-टुकड़े गैंग' उमर खालिद के साथ CAA-NRC विरोधी आयोजन...

शिवसेना के आदित्य ठाकरे करेंगे ‘टुकड़े-टुकड़े गैंग’ उमर खालिद के साथ CAA-NRC विरोधी आयोजन में शिरकत

शिवसेना के कुर्सी के लोभ में कॉन्ग्रेस-एनसीपी से गठबंधन करने के बाद न केवल पार्टी और उसके नेता हिंदुत्व से भटक गए। बल्कि हिन्दू ह्रदय सम्राट बालासाहेब का पोता आदित्य ठाकरे भी राजनीति करते-करते, टुकड़े-टुकड़े गैंग के उमर खालिद जैसे कई सदस्यों के साथ मंच साझा करने के लिए तैयार है।

हिंदूहृदय सम्राट बाला साहेब ठाकरे ने शिवसेना की नींव हिंदुत्व के आधार पर रखी थी। लेकिन आज कुर्सी के लोभ में कॉन्ग्रेस-एनसीपी से गठबंधन कर न केवल पार्टी और उसके नेता उस बिंदु से भटक गए। बल्कि बालासाहेब का खुद का पोता आदित्य ठाकरे भी राजनीति करते-करते, टुकड़े-टुकड़े गैंग के उमर खालिद जैसे कई सदस्यों के साथ मंच साझा करने के लिए तैयार हो गया है।

दरअसल, सोशल मीडिया पर छात्र भारती विद्यार्थी संगठन द्वारा आय़ोजित किए जाने वाले कार्यक्रम का एक पोस्टर सामने आया है। जिसके ऊपर CAA, NRC विरोधी छात्र परिषद लिखा हुआ है। और नीचे पोस्टर में उमर खालिद, ऋचा सिंह, AMUSU अध्यक्ष सलमान इम्तियाज, जावेद अख्तर, जामिया छात्र नेता हम्मादुररहमान, सादिया शेख जैसे लोगों के साथ शिवसेना से आदित्य ठाकरे का नाम भी शामिल है।

हालाँकि, इस सूची में टुकड़े-टुकड़े गैंग का मुख्य चेहरा रहे उमर खालिद के अलावा AMUSU अध्यक्ष सलमान इम्तियाज, जावेद अख्तर, जामिया छात्र नेता हम्मादुररहमान का नाम हैरानी की बात नहीं है। क्योंकि इनमें जावेद अख्तर जैसे लोग वो चेहरा हैं जो अफजल गुरु की दया याचिका तक पर हस्ताक्षर कर चुके हैं। लेकिन यहाँ पर आदित्य ठाकरे की उपस्थिति किसी अचंभे से कम नहीं है।

आदित्य ठाकरे एक ऐसे शख्स के पोते हैं। जिन्होंने अपना पूरा जीवन हिंदुत्व के नाम पर जिया और हमेशा कट्टर हिंदू के रूप में पहचाने जाते रहे। मगर, अब उनकी गैर-उपस्थिति में उनकी पार्टी, उनका बेटा और उनका पोता सब उनके दिखाए रास्ते से भटक गए हैं। जो खुद को सेकुलर दिखाने के लिए वामपंथियों द्वारा आयोजित मंच को देश विरोधी नारे लगाने वालों के साथ साझा करने को तैयार हैं।

छात्र भारती का फेसबुक पोस्ट

याद दिला दें, अभी बीते अक्टूबर में विधानसभा चुनाव के बाद शिवसेना ने सत्ता पाने के लिए लंबे समय से चले आ रहे गठबंधन को भाजपा के साथ तोड़ लिया था और एनसीपी-कॉन्ग्रेस के साथ गठजोड़ किया था। शिवसेना के इस कदम को मतदाताओं को दिए धोखे के रूप में परखा गया था।

मगर, शिवसेना द्वारा सरकार बनाने के बाद उम्मीद की गई थी कि जिस तरह पार्टी ने भाजपा को धोखा दिया, वे उस तरह हिंदुत्व यानी पार्टी की विचारधारा के साथ बेईमानी न करें। लेकिन अब आदित्य ठाकरे के ऐसे समारोह में शामिल होने की खबर देखकर लग रहा है कि शिवसेना अपनी मूल विचारधारा पर भी पानी फेरने को तैयार है।

बता दें छात्र भारती द्वारा करवाया जा रहा ये कार्यक्रम यशवंत राव चवन सेंटर में 5 जनवरी को मुंबई में आयोजित होगा। जिसमें अलग-अलग संगठन और संस्थान से आए मुस्लिम युवा नेताओं के साथ वामपंथी लोग शामिल होंगे। पोस्टर में प्रकाशित जानकारी के अनुसार इस कार्यक्रम को एसएफआई जैसे वामपंथी संगठनों का सहयोग प्राप्त हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दामाद के परिवार का दिवालिया कॉलेज खरीदेगी भूपेश बघेल सरकार: ₹125 करोड़ का कर्ज, मान्यता भी नहीं

छत्तीसगढ़ की कॉन्ग्रेस सरकार ने एक ऐसे मेडिकल कॉलेज के अधिग्रहण की तैयारी शुरू की, जो सीएम भूपेश बघेल की बेटी दिव्या के ससुराल वालों का है।

एक शक्तिपीठ जहाँ गर्भगृह में नहीं है प्रतिमा, जहाँ हुआ श्रीकृष्ण का मुंडन संस्कार: गुजरात का अंबाजी मंदिर

गुजरात के बनासकांठा जिले में राजस्थान की सीमा पर अरासुर पर्वत पर स्थित है शक्तिपीठों में से एक श्री अरासुरी अंबाजी मंदिर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,580FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe