Tuesday, October 19, 2021
Homeराजनीतिआखिरकार लौट आए राहुल गाँधी, एक हफ्ते बाद सांत्वना देने पहुँचे शीला दीक्षित...

आखिरकार लौट आए राहुल गाँधी, एक हफ्ते बाद सांत्वना देने पहुँचे शीला दीक्षित के घर

कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी उस समय अमेरिका में छुट्टी मनाने भारत से रवाना हुए थे जब कर्नाटक में कॉन्ग्रेस-जेडीएस का गठबंधन को राजनैतिक संकट झेलना पड़ रहा था।

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री और कॉन्ग्रेस की वरिष्ठ नेता शीला दीक्षित को देह त्यागे एक हफ्ता बीत चुका है। लेकिन राहुल गाँधी को उनके परिवार से मिलकर सांत्वना देने का समय आज (जुलाई 26, 2019) मिला। दो हफ्तों से सबकी नजरों से गायब चल रहे राहुल गाँधी आज पूर्व मुख्यमंत्री के घर उनके बेटे संदीप दीक्षित से मिले।

वे न तो दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री की अंतिम विदाई में शामिल हुए और न ही उस समय दिखे जब शीला दीक्षित का शव AICC (ऑल इंडिया कॉन्ग्रेस कमेटी) के दफ्तर रखा गया। उनकी इस गैर-मौजूदगी ने कई लोगों के मन में सवाल खड़े किए।

मीडिया रिपोर्टों की माने तों शीला दीक्षित के अंतिम संस्कार के दौरान उन्हें पुष्पांजलि देने के लिए राहुल गाँधी का नाम भी सूची में था। लेकिन वे वहाँ नहीं पहुँचे, जिस कारण पार्टी कार्यकर्ताओं को काफ़ी ठेस पहुँची। इस दौरान राजनीति से जुड़े सभी बड़े नेता वहाँ मौजूद थे। जिनमें सोनिया गाँधी और प्रियंका वाड्रा का नाम भी शामिल है।

जानकारी के मुताबिक कॉन्ग्रेस के कई नेताओं को यही नहीं पता था कि आखिर राहुल हैं कहाँ? लेकिन मीडिया रिपोर्टों के मानें तो राहुल आज सुबह ही विदेश से भारत लौंटे हैं। मीडिया रिपोर्टों का कहना है कि वे अमेरिका में अपनी छुट्टियाँ मनाने गए थे।

गौरतलब है कॉन्ग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी उस समय अमेरिका में छुट्टी मनाने भारत से रवाना हुए थे जब कर्नाटक में कॉन्ग्रेस-जेडीएस का गठबंधन को राजनैतिक संकट झेलना पड़ रहा था।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

धर्मांतरण कराने आए ईसाई समूह को ग्रामीणों ने बंधक बनाया, छत्तीसगढ़ की गवर्नर का CM को पत्र- जबरन धर्म परिवर्तन पर हो एक्शन

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में ग्रामीणों ने ईसाई समुदाय के 45 से ज्यादा लोगों को बंधक बना लिया। यह समूह देर रात धर्मांतरण कराने के इरादे से पहुँचा था।

सूरत में मंदिरों-घर की छत पर लाउडस्पीकर, सुबह-शाम हनुमान चालीसा; शनिवार को सत्संग भी: धर्म के लिए हिंदू हुए लामबंद

सूरत में आठ महीने पहले लाउडस्पीकर पर हनुमान चालीसा की हुई शुरुआत ने कैसे हिंदुओं को जोड़ा, इसका संदेश कितना गहरा हुआ, पढ़िए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
129,980FollowersFollow
411,000SubscribersSubscribe