Wednesday, July 28, 2021
Homeराजनीतिकृषि मंत्री का किसानों के नाम 8 पन्ने का खुला पत्र: विपक्षी बहकावे और...

कृषि मंत्री का किसानों के नाम 8 पन्ने का खुला पत्र: विपक्षी बहकावे और साजिश की बताई सच्चाई, हर बिंदु पर रखी बात

तोमर ने किसानों के उत्थान को पीएम मोदी का प्रमुख उद्देश्य कहा। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार 6 साल से किसानों के हित में काम कर रही है, जिसका फायदा छोटे किसानों तक को हो रहा है। विभिन्न योजनाओं का मकसद समझाते हुए वह कहते हैं देश इस लक्ष्य से आगे बढ़ रहा है कि अन्नदाता उर्जादाता बने।

किसान आंदोलन की आड़ में विपक्षी दलों की राजनीति देख कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने आज किसानों के नाम 8 पन्नों का पत्र लिखा है। इस पत्र में उन्होंने निवेदन किया है कि किसान ऐसे राजनीतिक दलों और तथाकथित बुद्धिजीवियों के बहकावे में न आएँ जिन्होंने सालों से किसानों को सुविधा रहित रखने के लिए एड़ी चोटी का जोर लगा दिया।

पृष्ठ-1

अपनी कृषि पृष्ठभूमि का हवाला देते हुए उन्होंने किसानों को बताया कि जिन तकलीफों से वह लोग गुजरतें है, उससे वह स्वयं भी भली भाँति वाकिफ हैं। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में जब झूठ की दीवार तैयार करके साजिशें रची जा रही हैं तो उनका दायित्व है वस्तुस्थिति को सामने रखा जाए।

पृष्ठ-2

कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कृषि कानून के ऊपर पर फैलाए जा रहे झूठ का उल्लेख करके उसकी सच्चाई बताई। उन्होंने ध्यान दिलवाया कि कैसे कोरोना के दौर में किसानों की भूमिका ने अर्थव्यवस्था को गति दी थी और MSP पर सरकारी खरीद के सारे रिकॉर्ड तोड़ा था। लेकिन बावजूद इसके विपक्ष इस पर झूठ फैला रहा है।

पृष्ठ-3

तोमर ने किसानों के उत्थान को पीएम मोदी का प्रमुख उद्देश्य कहा। उन्होंने कहा कि उनकी सरकार 6 साल से किसानों के हित में काम कर रही है, जिसका फायदा छोटे किसानों तक को हो रहा है। विभिन्न योजनाओं का मकसद समझाते हुए वह कहते हैं देश इस लक्ष्य से आगे बढ़ रहा है कि अन्नदाता उर्जादाता बने।

पृष्ठ-4

उन्होंने जानकारी दी कि सरकार ने किसानों के लिए ही 1 लाख करोड़ रुपए का कृषि इंफ्रास्ट्रक्चर बनाया है और अब किसानों के लिए ही वह ये कानून लाए हैं जिसके बाद किसान कहीं भी अपनी उपज बेचने के लिए आजाद होगा।

पृष्ठ-5

केंद्रीय मंत्री ने इस पत्र में उन सभी मौकों और राजनीतिक पार्टियों की चर्चा की जब किसानों के हित का हवाला देकर ऐसे बदलावों का समर्थन किया। उन्होंने हर उस बिंदु की हकीकत बताई जिस पर झूठ फैलाया जा रहा है। राजनीतिक कुचक्र की पोल खोलते हुए अपने पत्र में तोमर ने बुद्धिजीवियों को लताड़ा और इनके राजनीतिक स्वार्थ की ओर गौर करवाया।

पृष्ठ-6

एक समय में स्वामीनाथन रिपोर्ट को 8 साल तक दबाए रखने वाली कॉन्ग्रेस, आजाद मंडी का माँग करने वाली AAP, कृषि सुधार की माँग करने वाले अकाली दल की मंशा पर उन्होंने सवाल उठाया।

पृष्ठ-7

उन्होंने बताया कि एक विचारधारा के लोग कैसे अलग-अलग मुद्दे पर समाज में असंतोष और अराजकता फैलाने का प्रयास करते रहे हैं और आज भी ये यही सब कर रहे हैं। आंदोलन के पीछे छिपकर रची जा रही साजिश पर गौर करवाते हुए वह किसानों से अपील करते हैं कि सब किसान इस विचारधारा की मंशा को पहचानें, जिसने 62 की लड़ाई में देश का साथ नहीं दिया था।

पृष्ठ-8

अपने पत्र में तोमर ने किसानों को आश्वस्त किया है कि उनकी सरकार हर तरह से किसानों को सुनने को तैयार है। उनका कहना है कि ये सुधार कानून कृषि के नए अध्याय की नींव बनेंगे और किसान इससे स्वतंत्र व सशक्त होंगे। वहीं हमारी कृषि समृद्ध और संपन्न होगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

उत्तर-पूर्वी राज्यों में संघर्ष पुराना, आंतरिक सीमा विवाद सुलझाने में यहाँ अड़ी हैं पेंच: हिंसा रोकने के हों ठोस उपाय  

असम के मुख्यमंत्री नॉर्थ ईस्ट डेमोक्रेटिक अलायंस के सबसे महत्वपूर्ण नेता हैं। उनके और साथ ही अन्य राज्यों के मुख्यमंत्रियों के लिए यह अवसर है कि दशकों से चल रहे आंतरिक सीमा विवाद का हल निकालने की दिशा में तेज़ी से कदम उठाएँ।

बकरीद की ढील का दिखने लगा असर? केरल में 1 दिन में कोरोना संक्रमण के 22129 केस, 156 मौतें भी

पूरे देश भर में रिपोर्ट हुए कोविड केसों में 53 % मामले अकेले केरल से आए हैं। भारत में कुल मामले जहाँ 42, 917 रिपोर्ट हुए। वहीं राज्य में 1 दिन में 22129 केस आए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,660FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe