Wednesday, December 1, 2021
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस ने फारूक अब्‍दुल्‍ला के पिता को 11 साल जेल में रखा, हम वैसा...

कॉन्ग्रेस ने फारूक अब्‍दुल्‍ला के पिता को 11 साल जेल में रखा, हम वैसा नहीं करेंगे: अमित शाह

“हम जम्मू-कश्मीर के नेताओं को एक अतिरिक्त दिन भी जेल में नहीं रखना चाहते। जब प्रशासन को लगेगा कि सही समय आ गया है, उन्हें रिहा कर दिया जाएगा। फारूक अब्दुल्ला के पिता को कांग्रेस ने 11 साल जेल में रखा था। हम उनका अनुसरण नहीं करना चाहते।”

लोकसभा में मंगलवार (दिसंबर 10, 2019) को प्रश्नकाल के दौरान जम्मू-कश्मीर के ताजा हालात का मुद्दा उठाया गया। विपक्ष ने सरकार को घेरने की कोशिश करते हुए जमकर हंगामा किया। कॉन्ग्रेस संसदीय दल के नेता अधीर रंजन चौधरी ने पूछा कि हिरासत में लिए गए नेताओं को कब छोड़ा जाएगा? वहाँ की स्थिति कब सामान्य होगी?

जवाब में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने याद दिलाया कि आज फारूक अब्दुल्ला के हिरासत पर चिंता जताने वाली कॉन्ग्रेस ने उनके पिता शेख अब्दुल्ला को 11 साल जेल में रखा था। साथ ही कहा कि मौजूदा सरकार का ऐसा कोई इरादा नहीं है। सही समय आते ही इनकी रिहाई हो जाएगी।

शाह ने कहा, “हम जम्मू-कश्मीर के राजनेताओं को एक अतिरिक्त दिन भी जेल में नहीं रखना चाहते। जब प्रशासन को लगेगा कि सही समय आ गया है, राजनीतिक नेताओं को रिहा कर दिया जाएगा। फारूक अब्दुल्ला के पिता को कांग्रेस ने 11 साल जेल में रखा था। हम उनका अनुसरण नहीं करना चाहते। जैसे ही प्रशासन तय करेगा, उन्हें छोड़ दिया जाएगा।”

वहीं जम्मू-कश्मीर के हालात पर अधीर रंजन को जवाब देते हुए कहा, “वहाँ पर हालात सामान्य है। मैं कॉन्ग्रेस की स्थिति को सामान्य नहीं बना सकता, क्योंकि उसने अनुच्छेद 370 को निरस्त करने के बाद खून-खराबे की भविष्यवाणी की थी। मगर उस तरह का कुछ नहीं हुआ, एक गोली नहीं चली।”

साथ ही गृह मंत्री ने कहा, “आर्टिकल 370 हटने के बाद कश्मीर में 99.5 प्रतिशत छात्रों ने परीक्षा में हिस्सा लिया। 7 लाख मरीजों का इलाज किया गया। सभी थाने सही से काम कर रहे हैं। धारा 144 भी हटा ली गई है। लेकिन अधीर जी के लिए केवल सामान्य स्थिति का पैरामीटर राजनीतिक गतिविधि है। स्थानीय निकाय चुनावों का क्या?”

फारूक अब्दुल्ला को सुप्रीम झटका: हिरासत के खिलाफ याचिका खारिज, जज ने कहा- इसमें विचार करने को कुछ भी नहीं

शेख अब्दुल्ला ने लकड़ी तस्करों के लिए बनाया कानून, फॅंस गए बेटे फारूक अब्दुल्ला

J&K: हिरासत में हॉलीवुड मूवी देख रहे उमर अब्दुल्ला तो महबूबा मुफ़्ती पढ़ रहीं किताबें

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कभी ज़िंदा जलाया, कभी काट कर टाँगा: ₹60000 करोड़ का नुकसान, हत्या-बलात्कार और हिंसा – ये सब देश को देकर जाएँगे ‘किसान’

'किसान आंदोलन' के कारण देश को 60,000 करोड़ रुपए का घाटा सहना पड़ा। हत्या और बलात्कार की घटनाएँ हुईं। आम लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी।

बारबाडोस 400 साल बाद ब्रिटेन से अलग होकर बना 55वाँ गणतंत्र देश: महारानी एलिजाबेथ द्वितीय का शासन पूरी तरह से खत्म

बारबाडोस को कैरिबियाई देशों का सबसे अमीर देश माना जाता है। यह 1966 में आजाद हो गया था, लेकिन तब से यहाँ क्वीन एलीजाबेथ का शासन चलता आ रहा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,729FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe