Monday, June 24, 2024
Homeराजनीतिमुस्लिम करते हैं सबसे ज्यादा कंडोम इस्तेमाल: जनसंख्या असंतुलन पर ओवैसी ने कहा- इसकी...

मुस्लिम करते हैं सबसे ज्यादा कंडोम इस्तेमाल: जनसंख्या असंतुलन पर ओवैसी ने कहा- इसकी कोई टेंशन नहीं; मौलवियों से बोले- लोगों को जिहाद के बारे में बताओ

ओवैसी ने जनसंख्या असंतुलन पर बात के अलावा उत्तर प्रदेश में हो रहे मदरसों के सर्वे का विरोध किया। उन्होंने कहा कि इस देश में मदरसों को निशाना बनाया जा रहा। मौलाना और मौलवियों से ओवैसी ने लोगों से जिहाद और फसाद में फर्क बताने के लिए भी कहा।

हाल ही में जनसंख्या असंतुलन पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) प्रमुख्य मोहन भागवत के बयान पर असहमति जताते हुए असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि सबसे ज्यादा कंडोम मुस्लिम इस्तेमाल करते हैं। ओवैसी के मुताबिक मुस्लिमों की जनसंख्या बढ़ने के बजाए घट रही है। उन्होंने लोगों से टेंशन न लेने की भी अपील की है।

इसी दौरान उन्होंने एक TV डिबेट का हवाला देते हुए भाजपा नेताओं के पिता पर सवाल खड़ा किया और उनके द्वारा पैदा किए गए बच्चों का जिक्र किया। ओवैसी ने यह बयान शनिवार (8 अक्टूबर 2022) को हैदराबाद के दारुलसलाम नाम से आयोजित सभा में दिया।

जनसंख्या असंतुलन पर क्या बोले ओवैसी?

अपने बयान में ओवैसी ने डॉ मोहन भगवत को सम्बोधित करते हुए कहा, “तुम बेवजह टेंशन में मत आओ क्योंकि मुस्लिमों की आबादी बढ़ नहीं बल्कि घट रही है।” इसी दौरान उन्होंने TV डिबेट में इस मुद्दे पर मुस्लिमों को लेकर होने वाली बहस को भी बेवजह बताया। ओवैसी ने एक डिबेट का हवाला देते हुए सवाल किया कि भाजपा नेताओं के पिता ने कितने बच्चे पैदा किए थे। इसी भाषण में ओवैसी ने मोहन भागवत से आँकड़ों पर बात करने के लिए भी कहा।

ओवैसी ने आगे कहा कि मुस्लिम बच्चों का TFR (टोटल फर्टिलिटी रेट) गिर रहा है। उन्होंने बताया कि इसके चलते मुस्लिमों में 2 बच्चों के बीच जन्म का अंतर जिसे स्पेंसिंग बोलते हैं, वो भी बाकियों के मुकाबले सबसे ज्यादा है। ओवैसी के बताया कि मोहन भागवत इस बात पर नहीं बोलेंगे कि सबसे ज्यादा कंडोम का इस्तेमाल तो मुस्लिम ही करते हैं। ओवैसी के इस भाषण पर वहाँ मौजूद भीड़ जोर-जोर से चिल्ला कर उनकी बातों को समर्थन दे रही थी।

इसी सभा में ओवैसी ने उत्तर प्रदेश में हो रहे मदरसों के सर्वे का विरोध किया। उन्होंने कहा कि इस देश में मदरसों को निशाना बनाया जा रहा। मौलाना और मौलवियों से ओवैसी ने लोगों से जिहाद और फसाद में फर्क बताने के लिए भी कहा। इसी सभा में ओवैसी ने कहा कि आज के भारत में किसी मुस्लिम की कीमत सड़क के किनारे चल रहे कुत्ते से कम है। उन्होंने लोगों से सियासी ताकत बढ़ाने की अपील की।

ईरान का हिजाब विवाद उनका आंतरिक मामला: ओवैसी

ईरान में हिजाब को ले कर चल रहे विवाद पर ओवैसी ने कहा कि ये उनके देश का मामला है। उन्होंने कहा कि ये ईरान नहीं बल्कि भारत मेरे बाप का मुल्क है। ओवैसी का कहना है कि भारत में मुस्लिम बहन बेटियों को हिजाब पहनने से मना किया जा रहा है और इसके लिए समानता की दुहाई दी जाती है। उन्होंने कहा कि अब्बा आदम सबसे पहले भारत में आए थे।

पत्थरबाजों के घर पर बुलडोजर का विरोध

इसी सभा में ओवैसी ने पत्थरबाजों के घरों पर बुलडोजर चलने का विरोध किया है। उन्होंने कहा कि अगर सभी निर्णय सरकार को ही लेने हैं तो अदालतें क्यों बनी हैं। चेतावनी भरे लहजे में ओवैसी ने कहा कि याद रहे सत्ता हमेशा किसी के पास नहीं रहती। इनके लिए ओवैसी ने राजीव गाँधी, इंदिरा गाँधी और नेहरू का हवाला भी दिया।

गौरतलब है कि विजयदशमी (5 अक्टूबर 2022) के दिन संघ प्रमुख मोहन भागवत ने जनसंख्या नियंत्रण (Population Control) पर जोर देते हुए इसके लिए एक समान कानून की पैरवी की थी। तब उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा था कि आबादी के ही असंतुलन से इंडोनेशिया से ईस्ट तिमोर, सूडान व सर्बिया से कोसोवा नाम के नए देश बन चुके हैं।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘तू क्यों नहीं करता पत्रकारिता?’: नाना पाटेकर ने की ऐसी खिंचाई कि आह-ओह करने लगे राजदीप सरदेसाई, अभिनेता ने पूछा – तुझे सिर्फ बुरा...

राजदीप सरदेसाई ने कहा कि 'The Lallantop' ने वाकई में पत्रकारिता के नियम को निभाया है, जिस पर नाना पाटेकर पूछ बैठे कि तू क्यों नहीं इसको फॉलो करता है?

13 लोग ऐसे भी जो घर में सोने आए, लेकिन फिर कभी जगे नहीं: तमिलनाडु में जहरीली शराब से अब तक 56 मौतें, चुप्पी...

भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा ने कॉन्ग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे को तमिलनाडु में जहरीली शराब से हुई मौतों के मामले में एक पत्र लिखा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -