Monday, July 26, 2021
Homeराजनीति'असम में दाढ़ी, टोपी और लुंगी वालों की होगी सरकार': बदरुद्दीन अजमल के बेटे...

‘असम में दाढ़ी, टोपी और लुंगी वालों की होगी सरकार’: बदरुद्दीन अजमल के बेटे ने अलापा ‘बुर्का’ और ‘इस्लामी टोपी’ का राग

असम में दाढ़ी, टोपी और बुर्का बांग्लादेशी घुसपैठियों की ओर इशारा करता है। असम के मुसलमान ऐसी पोशाकों से पहचाने नहीं जाते। वह असमियों की तरह की रहते हैं।

असम में कॉन्ग्रेस की साझेदार बदरुद्दीन अजमल की AIUDF लगातार विवादों में बनी हुई है। अब AIUDF प्रमुख के बेटे अब्दुर रहीम अजमल ने विवादित बयान दिया है। रहीम ने दावा किया है कि वह दाढ़ी, टोपी और लुंगी पहनने वाले लोगों की सरकार बनाएँगे।

अपनी पार्टी उम्मीदवार फणीधर तालुकदार के लिए असम के बभनीपुर में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए, अब्दुर रहीम अजमल ने बंगाली में कहा, “इस बार यह गरीब लोगों की सरकार होगी। सरकार में दाढ़ी, टोपी और लुंगी वाले पुरुष होंगे।”

दूसरी रैली में अजमल ने कहा कि चुनाव जीतने के बाद लोगों को बुर्का, दाढ़ी और इस्लामी टोपी की इज्जत करनी होगी। AIUDF प्रत्याशी अशरफ्फुल हुसैन के लिए चेंगा विधानसभा में रैली को संबोधित करते हुए अजमल ने कहा, “हमारी माताओं और बहनों के दुपट्टे का सम्मान करना होगा, हमारी माताओं और बहनों के बुर्का का सम्मान करना होगा, हमारी दाढ़ी और टोपी का सम्मान करना होगा।”

बता दें कि अब्दुर रहीम अजमल जमुनामुख निर्वाचन क्षेत्र से AIUDF विधायक हैं। हालाँकि, इस बार एआईयूडीएफ द्वारा बदरुद्दीन अजमल के भाई सिराजुद्दीन अजमल को इस सीट से उम्मीदवार बनाया गया है।

गौरतलब है कि राज्य में दाढ़ी, टोपी और बुर्का बांग्लादेशी घुसपैठियों की ओर इशारा करता है। असम के मुसलमान ऐसी पोशाकों से पहचाने नहीं जाते। वह असमियों की तरह की रहते हैं। ऐसे में बार-बार चुनावी रैली में दाढ़ी, इस्लामी टोपी, लुंगी, बुर्के का नाम लाकर अब्दुर रहीम बता रहे हैं कि कॉन्ग्रेस के नेतृत्व वाला गठबंधन यदि सत्ता में आया तो वह मियाँ मुस्लिमों की सरकार बनवाएँगे और बांग्लादेशी घुसपैठियों के लिए काम करेंगे।

गौरतलब है कि अभी हाल में एक चुनावी रैली में स्वयं ऑल इंडिया यूनाइटेड डेमोक्रेटिक फ्रंट (AIUDF) के प्रमुख बदरुद्दीन अजमल असम के सांस्कृतिक प्रतीक ‘गमोसा’ का अपमान करते नजर आए थे। इसके बाद AIUDF मुखिया की हर जगह आलोचना हुई। पीएम ने भी रैली में कहा कि इससे लोगों की भावनाएँ आहत हुई है और उनमें गुस्सा है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

यूपी के बेस्ट सीएम उम्मीदवार हैं योगी आदित्यनाथ, प्रियंका गाँधी सबसे फिसड्डी, 62% ने कहा ब्राह्मण भाजपा के साथ: सर्वे

इस सर्वे में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को सर्वश्रेष्ठ मुख्यमंत्री बताया गया है, जबकि कॉन्ग्रेस की उत्तर प्रदेश प्रभारी प्रियंका गाँधी सबसे निचले पायदान पर रहीं।

असम को पसंद आया विकास का रास्ता, आंदोलन, आतंकवाद और हथियार को छोड़ आगे बढ़ा राज्य: गृहमंत्री अमित शाह

असम में दूसरी बार भाजपा की सरकार बनने का मतलब है कि असम ने आंदोलन, आतंकवाद और हथियार तीनों को हमेशा के लिए छोड़कर विकास के रास्ते पर जाना तय किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,226FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe