Saturday, November 28, 2020
Home राजनीति बिहार में 10 नवंबर को क्या होगा? उलझे समीकरणों के बीच जमीन के संकेत...

बिहार में 10 नवंबर को क्या होगा? उलझे समीकरणों के बीच जमीन के संकेत स्पष्ट हैं

इस चुनाव में किसी की लहर जमीन पर नहीं। लिहाजा, हर सीट के अपने-अपने समीकरण हैं। 40 की करीब सीटें ऐसी हैं, जहाँ NDA या RJD के नेतृत्व वाले गठबंधन की जीत लोजपा, जाप, रालोसपा और निर्दलीय तय करेंगे या यूँ कहें कि इनमें से कुछ सीटें अन्य के खाते में जानी तय है।

बिहार विधानसभा की 243 सीटों के लिए तीन चरणों में हो रहा चुनाव अब अंतिम दौर में है। आखिरी चरण का मतदान 7 नवंबर को होना है। 10 नवंबर को नतीजे आएँगे। ऐसे में एक सवाल जो बार-बार लोग पूछ रहे हैं और जिसकी हम भी लगातार तलाश कर रहे हैं, वह है- किसकी सरकार बनने वाली है?

कितनी सीटें फँसी हैं?

असल में इस चुनाव में किसी की लहर जमीन पर नहीं दिखती। लिहाजा, हर सीट के अपने-अपने समीकरण हैं। 40 की करीब सीटें ऐसी हैं, जहाँ एनडीए या राजद के नेतृत्व वाले गठबंधन की जीत लोजपा, जाप, रालोसपा और निर्दलीय तय करेंगे या यूँ कहें कि इनमें से कुछ सीटें अन्य के खाते में जानी तय है। मसलन, जमुई की चकाई सीट पर निर्दलीय सुमित सिंह। सीतामढ़ी की सुरसंड सीट से लोजपा के अनिल चौधरी। बेनीपुर में लोजपा के ही कमल सेठ। हसनपुर में पप्पू यादव की जाप के अर्जुन यादव। शिवहर में जाप के मोहम्मद वामिक और बसपा के संजीव कुमार गुप्ता। हरलाखी में निर्दलीय मंदाकिनी चौधरी वगैरह, वगैरह…

चुनाव के तीन पिच

क्रिकेट की भाषा में कहें तो यह चुनाव तीन पिच पर लड़ी जा रही है। इसका सबसे बड़ा कारण किसी के पक्ष में लहर नहीं होना है। पहली पिच तेजस्वी यादव की है। वे चुनाव को रोजगार के मुद्दे पर केंद्रित करने की लगातार कोशिश करते रहे हैं पर अभी तक इसमें पूरी तरह सफल नहीं हुए हैं। नीतीश कुमार इसे लालू-राबड़ी शासनकाल के कथित जंगलराज की पिच पर लड़ना चाहते हैं, लेकिन अब उनके खिलाफ नाराजगी भी दिखती है। बीजेपी इसे मोदी सरकार के कामकाज के इर्द-गिर्द केंद्रित रखने की कोशिश में है। लेकिन यह फॉर्मूला भी हर सीट पर कारगर नहीं है।

यानी, जमीन पर उम्मीदवार का निजी प्रभाव और छवि इस बार सबसे असरकारी है। जो लगातार 10-15 साल से विधायक हैं, उनमें से ज्यादातर मुश्किल मुकाबले में फँसे हैं। चुनाव प्रचार के दौरान उन्हें कई जगह वोटरों का विरोध झेलना पड़ा है। जिन जगहों पर प्रमुख दलों ने फ्रेश चेहरे या पिछली बार हार गए उम्मीदवार को मौका दिया है, वे थोड़ी बेहतर स्थिति में हैं। इसका कारण यह है कि नीतीश सरकार के इस 5 साल को हर कोई निराशाजनक मान रहा है।

मोदी, नीतीश और तेजस्वी का कितना प्रभाव है?

यादव और मुस्लिम मतदाता ज्यादातर सीटों पर राजद के पीछे गोलबंद हैं। वे मानकर बैठे हैं कि यह फिर से सत्ता में प्रभाव में आने का अवसर है और तेजस्वी यादव का मुख्यमंत्री बनना तय है। तेजस्वी यादव अपनी सभाओं के लिए ऐसी जगह भी चुन रहे हैं, जिसके आसपास इन मतदाताओं का बाहुल्य हो। इसका असर उनकी सभाओं में भीड़ के तौर पर दिख भी रहा है। लेकिन, इस वर्ग के लोगों को भी उनके रोजगार के वादे पर भरोसा नहीं है।

नीतीश कुमार को लेकर नाराजगी दिखती है। लेकिन, उन्होंने जो अपना वोट बैंक इन सालों में बनाया है, वह ज्यादातर ग्रामीण इलाकों में है। ये वोटर साइलेंट हैं। महिलाओं में अब भी उनका असर बना हुआ है। महादलित और अतिपिछड़ों के बीच उनकी पकड़ थोड़ी कमजोर हुई है।

मोदी का प्रभाव बना हुआ है। बिहार सरकार में बीजेपी के कोटे से मंत्री रहे कई उम्मीदवारों ने भी हमें ऑफ द रिकॉर्ड बताया कि उनकी उम्मीदें मोदी की सभा पर टिकी है। कोरोना के कारण पैदा हुए संकट के दौरान ग्रामीण इलाकों में लोगों को जो सरकारी सहायता मिली है, उसका भी असर है। मोदी का चेहरा कई सीटों पर वोटरों को हिंदुत्व और राष्ट्रवाद के मुद्दे पर भी लामबंद कर रहा है।

बची हुई 200 सीटों पर क्या हो सकता है?

अन्य के प्रभाव वाली 40 सीटों को छोड़ दें तो इस चुनावी लड़ाई में बीजेपी सबसे आगे दिखती है। राजद और जदयू उसके पीछे। एनडीए के लिए अच्छी बात यह है कि नीतीश से नाराजगी के बावजूद जदयू का प्रदर्शन कॉन्ग्रेस के स्तर तक गिरने की कोई संभावना नहीं दिखती। राजद और कॉन्ग्रेस 2015 के नंबर के आसपास पहुँचती नहीं दिख रही।

तेजस्वी की इतनी चर्चा होने की एक बड़ी वजह यह है कि कुछ महीने पहले तक यह चुनाव एकतरफा लग रहा था, जिसे उन्होंने लड़ाई में बदल दी है और जदयू से राजद स्पष्ट तौर पर आगे दिखती है। राजद के पक्ष में लहर नहीं होने की बात इससे भी समझी जा सकती है कि हसनपुर से लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव की जीत इस सीट पर मतदान के बाद भी पक्की नहीं बताई जा रही। इसी तरह सुरसंड सीट पर लालू परिवार के खासमखास अबू दुजाना को इलाके में विरोध तक झेलना पड़ा है और वे भी मुश्किल में हैं। मुस्लिम बहुल केवटी सीट पर बीजेपी प्रत्याशी मुरारी मोहन झा की छवि के आगे माई समीरकण टूटता दिख रहा है और मतदान तक यही ट्रेंड बना रहा तो राजद के बड़े नेता अब्दुल बारी सिद्दीकी के लिए जीत मुश्किल हो जाएगी।

ई बिहार छै, थाह नै लागत

कल 3 नवंबर को बिहार की जिन सीटों पर मतदान हुआ, उसमें एक मधुबनी भी थी। शहर में सन्नाटा पसरा था और इक्का-दुक्का दुकानें ही खुली थीं। राजद के समीर महासेठ को यहाँ मतदान से पहले बढ़त दिख रही थी। मतदान के बाद वीआईपी के सुमन महासेठ के जीतने की भी चर्चा होने लगी है।

3 नवंबर को ही मधुबनी जिला मुख्यालय से कुछ किलोमीटर दूर कलुआही में चहल-पहल थी। केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय की सभा हुई। लेकिन, इसी दिन इसी जिले के हरलाखी में नीतीश कुमार को विरोध झेलना पड़ा।

कलुआही से सटे ढंगा गाँव के काली मंदिर के पास सत्यनारायण मिश्र मिले। वे कहते हैं, “उम्हर जरैल, दामोदरपुर सब आ इम्हर हरिपुर ढंगा सब युगेश्वर झा का बनायल इलाका छै।” उनके कहने का मतलब था कि बेनीपट्टी विधानसभा क्षेत्र के जरैल, दामोदरपुर, ढंगा जैसे इलाके युगेश्वर झा का गढ़ रहा है। दिवंगत युगेश्वर झा इस सीट से कॉन्ग्रेस की टिकट पर लड़ रहीं निवर्तमान विधायक भावना झा के पिता थे। पिछली बार उन्होंने बीजेपी के विनोद नारायण झा को करीबी मुकाबले में इसी इलाके में मिले इकतरफा वोट की बदौलत हराया था।

सत्यनारायण मिश्र ने अपने आँगन में ‘हर घर नल जल’ योजना के तहत लगा नल दिखाया, साथ ही बताया कि इसमें पानी अभी नहीं आता। मैंने उन्हें बगल के गाँव में पानी आने का हवाला दिया तो उन्होंने बताया कि कई बार सुना है कि अब पानी शुरू हो जाएगा लेकिन आज तक यहाँ पानी नहीं आया। मिश्र का दावा है कि वे मोदी समर्थक हैं और बीजेपी को ही वोट देंगे। पर वे आश्वस्त नहीं हैं कि बीजेपी यह सीट निकाल ही लेगी।

हालाँकि उनका मानना है कि अब उनके गॉंव में एकतरफा कॉन्ग्रेस वाला माहौल नहीं रहा। उनके गाँव के ज्यादातर ब्राह्मणों का झुकाव भावना झा की तरफ है। लेकिन, अन्य जतियाँ बीजेपी उम्मीदवार विनोद नारायण झा का खुलकर समर्थन कर रही हैं। इसकी वजह कोरोना के कारण पैदा हुए संकट के दौरान मिली सरकारी सहायताएँ हैं।

मंदिर के पास ही मिले महेंद्र झा कहते हैं, “ई बिहार छै बाबू, थाह नै लागत। लोग किछ कहत वोट ककरो द देतै।” यानी, ये बि​हार है। लोग बात किसी की करते हैं और वोट किसी को देते हैं।

उनकी बातें आसानी से खारिज नहीं की जा सकतीं। मोतिहारी के गाँधी मैदान में कैमरे के सामने जो युवा रोजगार और बदलाव की बातें कर रहे थे, उनमें से कई कैमरा बंद होते ही हिंदुत्व के मुद्दे पर बीजेपी का समर्थन करने की बात करने लगे थे। ग्रामीणों इलाकों में लोग कैमरे के सामने आने से बचते हैं। बिना कैमरे के उनसे बात करिए तो वे आपको जंगलराज की याद दिलाने लगते हैं। इससे समझा जा सकता है कि बदलाव और रोजगार का विपक्ष का वादा उन्हें नहीं लुभा रहा। इसी तरह खासकर, यादव विकास के दावों को खारिज कर लालू प्रसाद यादव को फँसाने की बात करने लगते हैं।

…तो क्या होगा?

असल में मेनस्ट्रीम मीडिया और सोशल मीडिया में जो बातें आ रही हैं, वह मुखर वोटरों का है। ये शहरों में रहते हैं। अगड़ी जातियों अथवा यादव होते हैं। इनकी गोलबंदी साफ दिखती है। पर ग्रामीण इलाकों में जहाँ वोटिंग ज्यादा होती है, वहाँ के वोटर साइलेंट हैं। बीजेपी के एलजेपी के साथ सरकार बना लेने की कोई संभावना नहीं दिखती। एनडीए ही बहुमत के करीब पहुँचती फिलहाल दिख रही है। अन्य के निर्णायक वाली सीटों के अंतिम नतीजे ही तय करेंगे कि एनडीए को मजबूत बहुमत मिलेगा या या फिर बहुमत से दूर नजर आ रहा विपक्ष और मजबूत होगा।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

अजीत झा
देसिल बयना सब जन मिट्ठा

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

कोरोना संक्रमण पर लगातार चेताते रहे, लेकिन दिल्ली सरकार ने कदम नहीं उठाए: सुप्रीम कोर्ट से केंद्र

दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने बताया है कि रोकथाम के लिए केजरीवाल सरकार ने प्रभावी कदम नहीं उठाए।

क्या घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को RAW में बहाल करने जा रही है भारत सरकार?

एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को रॉ में बहाल करने जा रही है। जानिए, क्या है इस दावे की सच्चाई?

‘नॉटी, दो टके के लोग’: कंगना पर फट पड़ीं मुंबई की मेयर, ऑफिस तोड़ने पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाई थी फटकार

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कंगना रनौत के लिए 'नॉटी' का इस्तेमाल किया है। शिवसेना सांसद संजय राउत के लिए इस शब्द का अर्थ 'हरामखोर' है।

जहाँ ममता बनर्जी ने खोदी थी वामपंथ की कब्र, वहीं उनकी सियासत को दफनाने की तैयारी में शुभेंदु अधिकारी

सिंगूर और नंदीग्राम के आंदोलन से ममता बनर्जी को सत्ता मिली। अब नंदीग्राम के शुभेंदु अधिकारी के बागी तेवरों ने उन्हें मुश्किल में डाल दिया है।

कॉन्ग्रेस का कोढ़ है धर्मांतरण, रोकने को देर से बने कानून कितने दुरुस्त?

जिस विषय में संविधान निर्माताओं को 1949 से पता था, उस पर कानून बनाने में इतनी देर आखिर क्यों? नियम बनने शुरू भी हुए हैं तो क्या ये काफी हैं, या हमें बहुत देर से और बहुत थोड़ा देकर बहलाया जा रहा है?

FIR में अर्णब पर लगाए आरोप साबित नहीं कर पाई मुंबई पुलिस: SC ने बॉम्बे हाई कोर्ट को भी लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह भी कहा कि आपराधिक कानून, उत्पीड़न का औजार नहीं बनना चाहिए, जमानत मानवता की अभिव्यक्ति है।

प्रचलित ख़बरें

‘उसे मत मारो, वही तो सबूत है’: हिंदुओं संजय गोविलकर का एहसान मानो वरना 26/11 तुम्हारे सिर डाला जाता

जब कसाब ने तुकाराम को गोलियों से छलनी कर दिया तो साथी पुलिसकर्मी आवेश में आ गए। वे कसाब को मार गिराना चाहते थे। लेकिन, इंस्पेक्टर गोविलकर ने ऐसा नहीं करने की सलाह दी। यदि गोविलकर ने उस दिन ऐसा नहीं किया होता तो दुनिया कसाब को समीर चौधरी के नाम से जानती।

फैक्टचेक: क्या आरफा खानम घंटे भर में फोटो वाली बकरी मार कर खा गई?

आरफा के पाँच बज कर दस मिनट वाले ट्वीट के साथ एक ट्वीट छः बज कर दस मिनट का था, जिसके स्क्रीनशॉट को कई लोगों ने एक दूसरे को व्हाट्सएप्प पर भेजना शुरु किया। किसी ने यह लिखा कि देखो जिस बकरी को सीने से चिपका कर फोटो खिंचा रही थी, घंटे भर में उसे मार कर खा गई।

हाथ में कलावा, समीर चौधरी नाम की ID: ‘हिंदू आतंकी’ की तरह मरना था कसाब को – पूर्व कमिश्नर ने खोला राज

"सभी 10 हमलावरों के पास फर्जी हिंदू नाम वाले आईकार्ड थे। कसाब को जिंदा रखना पहली प्राथमिकता थी। क्योंकि वो 26/11 मुंबई हमले का सबसे बड़ा और एकलौता सबूत था। उसे मारने के लिए ISI, लश्कर-ए-तैयबा और दाऊद इब्राहिम गैंग ने..."

‘कबीर असली अल्लाह, रामपाल अंतिम पैगंबर और मुस्लिम असल इस्लाम से अनजान’: फॉलोवरों के अजीब दावों से पटा सोशल मीडिया

साल 2006 में रामपाल के भक्तों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प हुई थी जिसमें 5 महिलाओं और 1 बच्चे की मृत्यु हुई थी और लगभग 200 लोग घायल हुए थे। इसके बाद नवंबर 2014 में उसे गिरफ्तार किया गया था।

जहाँ बहाया था खून, वहीं की मिट्टी पर सर रगड़ बोला भारत माता की जय: मुर्दों को देख कसाब को आई थी उल्टी

पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया सुबह साढ़े चार बजे कसाब से कहते हैं कि वो अपना माथा ज़मीन से लगाए... और उसने ऐसा ही किया। इसके बाद जब कसाब खड़ा हुआ तो मारिया ने कहा, “भारत माता की जय बोल” कसाब ने फिर ऐसा ही किया। मारिया दोबारा भारत माता की जय बोलने के लिए कहते हैं तो...

मैं नपुंसक नहीं.. हिंदुत्व का मतलब पूजा-पाठ या मंदिर का घंटा बजाना नहीं, फ़ोर्स किया तो हाथ धोकर पीछे पड़ जाऊँगा: उद्धव ठाकरे

साक्षत्कार में उद्धव ठाकरे ने कहा कि उन्हें विरोधियों के पीछे पड़ने को मजबूर ना किया जाए। इसके साथ ही ठाकरे ने कहा कि हिंदुत्व का मतलब मंदिर का घंटा बजाना नहीं है।

कोरोना संक्रमण पर लगातार चेताते रहे, लेकिन दिल्ली सरकार ने कदम नहीं उठाए: सुप्रीम कोर्ट से केंद्र

दिल्ली में कोरोना क्यों बना काल? सुप्रीम कोर्ट को केंद्र सरकार ने बताया है कि रोकथाम के लिए केजरीवाल सरकार ने प्रभावी कदम नहीं उठाए।

क्या घुसपैठ करने वाले रोहिंग्या मुसलमानों को RAW में बहाल करने जा रही है भारत सरकार?

एक वायरल मैसेज में दावा किया जा रहा है कि सरकार रोहिंग्या मुसलमानों को रॉ में बहाल करने जा रही है। जानिए, क्या है इस दावे की सच्चाई?

‘नॉटी, दो टके के लोग’: कंगना पर फट पड़ीं मुंबई की मेयर, ऑफिस तोड़ने पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने लगाई थी फटकार

मुंबई की मेयर किशोरी पेडनेकर ने कंगना रनौत के लिए 'नॉटी' का इस्तेमाल किया है। शिवसेना सांसद संजय राउत के लिए इस शब्द का अर्थ 'हरामखोर' है।

गाजीपुर में सड़क पर पड़े मिले गायों के कटे सिर: लोगों का आरोप- पहले डेयरी फार्म से गायब होती हैं गायें, फिर काट कर...

गाजीपुर की सड़कों पर गायों के कटे हुए सिर मिलने के बाद स्थानीय लोग काफी गुस्से में हैं। उन्होंने पुलिस पर मिलीभगत का आरोप लगाया है।

बंगाल: ममता के MLA मिहिर गोस्वामी बीजेपी में शामिल, शनिवार को शुभेंदु अधिकारी के आने की अटकलें

TMC के असंतुष्ट विधायक मिहिर गोस्वामी बीजेपी में शामिल हो गए हैं। शुभेंदु अधिकारी के भी शनिवार को बीजेपी में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही है।

जहाँ ममता बनर्जी ने खोदी थी वामपंथ की कब्र, वहीं उनकी सियासत को दफनाने की तैयारी में शुभेंदु अधिकारी

सिंगूर और नंदीग्राम के आंदोलन से ममता बनर्जी को सत्ता मिली। अब नंदीग्राम के शुभेंदु अधिकारी के बागी तेवरों ने उन्हें मुश्किल में डाल दिया है।

गरीब कल्याण रोजगार अभियान: प्रवासी श्रमिकों को रोजगार देने में UP की योगी सरकार सबसे आगे

प्रवासी श्रमिकों को काम मुहैया कराने के लिए केंद्र सरकार ने गरीब कल्याण रोजगार अभियान शुरू किया था। उत्तर प्रदेश ने उल्लेखनीय प्रदर्शन किया है।

12वीं शताब्दी में विष्णुवर्धन के शासनकाल में बनी महाकाली की मूर्ति को मिला पुन: आकार, पिछले हफ्ते की गई थी खंडित

मंदिर में जब प्रतिमा को तोड़ा गया तब हालात देखकर ये अंदाजा लगाया गया था कि उपद्रवी मंदिर में छिपे खजाने की तलाश में आए थे और उन्होंने कम सुरक्षा व्यवस्था देखते हुए मूर्ति तोड़ डाली।

कॉन्ग्रेस का कोढ़ है धर्मांतरण, रोकने को देर से बने कानून कितने दुरुस्त?

जिस विषय में संविधान निर्माताओं को 1949 से पता था, उस पर कानून बनाने में इतनी देर आखिर क्यों? नियम बनने शुरू भी हुए हैं तो क्या ये काफी हैं, या हमें बहुत देर से और बहुत थोड़ा देकर बहलाया जा रहा है?

FIR में अर्णब पर लगाए आरोप साबित नहीं कर पाई मुंबई पुलिस: SC ने बॉम्बे हाई कोर्ट को भी लगाई फटकार

सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए यह भी कहा कि आपराधिक कानून, उत्पीड़न का औजार नहीं बनना चाहिए, जमानत मानवता की अभिव्यक्ति है।

हमसे जुड़ें

272,571FansLike
80,439FollowersFollow
358,000SubscribersSubscribe