‘बुल डॉग है ग़ुलाम रसूल बलियावी’: BJP नेता ने CM नीतीश कुमार की नीयत पर जताया शक

"जदयू में बलियावी जैसे नेता जिस तरह का बयान देते हैं, उससे तो लगता है कि ऐसे नेताओं के सिर पर शीर्ष नेताओं का हाथ रहता है। तभी तो वो ऐसे बयान देते हैं। ऐसे में अगर गठबंधन टूटता है तो इससे घाटा जदयू को ही होगा।"

बिहार में सत्ताधारी गठबंधन दलों भाजपा और जदयू के बीच की तल्खी एक बार फिर से सतह पर आ गई और इसका कारण है बिहार में भाजपा नेता द्वारा दिया गया बयान। भाजपा नेता सच्चिदानंद राय ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की नीयत पर शक जताने की बात कही है। उन्होंने नीतीश कुमार के हालिया बयानों का ज़िक्र करते हुए कहा कि उनकी नीयत पर शक होता है। मुख्यमंत्री पर बड़ा आरोप लगाते हुए विधान पार्षद राय ने कहा:

“मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने विवादित बयान देने के लिए अपने नेताओं को खुली छूट दे रखी है। सीएम ने ख़ुद ही लोकसभा चुनाव के दौरान अपना मतदान करने के बाद विवादित बयान दिया था। उस वक़्त उन्हें ये कहने की क्या ज़रूरत थी कि जदयू अनुच्छेद 35A और 370 हटाने के मामले में भाजपा का समर्थन नहीं करती? भाजपा के नेता संयमित भाषा का इस्तेमाल करते हैं जबकि जदयू में बलियावी जैसे नेता जिस तरह का बयान देते हैं, उससे तो लगता है कि ऐसे नेताओं के सिर पर शीर्ष नेताओं का हाथ रहता है। तभी तो वो ऐसे बयान देते हैं। ऐसे में अगर गठबंधन टूटता है तो इससे घाटा जदयू को ही होगा।”

विधान पार्षद सच्चिदानन्द राय ने आईआईटी खड़गपुर से मेकेनिकल इंजीनियरिंग की डिग्री प्राप्त की थी। उसके बाद उन्होंने व्यवसाय में हाथ आजमाया और फिर विधान पार्षद बने। भाजपा नेता के इस बयान पर वरिष्ठ जदयू नेता के सी त्यागी ने कड़ी आपत्ति जताई है। उन्होंने भाजपा से राय पर कड़ी कार्रवाई करने की माँग की है। जदयू नेता ने तीखी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि भाजपा को ऐसे नेताओं को नोटिस जारी करना चाहिए।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

उन्होंने कहा कि इस तरह के बयानों से गठबंधन पर ख़राब असर पड़ता है और इसमें दोनों दलों का नुक़सान है। त्यागी ने कहा कि नीतीश एक बड़ा चेहरा हैं और उनके बारे में कोई इस तरह बोले, यह ठीक नहीं है। त्यागी ने दावा किया कि ख़ुद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और लोजपा सुप्रीमों रामविलास पासवान भी नीतीश को बड़ा नेता मानते हैं, इसीलिए ऐसी बयानबाज़ी पर कार्रवाई होनी चाहिए। बिहार में भाजपा एवं जदयू के नेताओं के बीच बयानबाज़ी का दौर हालिया समय में काफ़ी बढ़ गया है।

हाल ही में केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने नीतीश-रामविलास पर चुटकी लेते हुए उनके इफ़्तार पर तंज कसा था। मुस्लिम टोपी पहन कर इफ़्तार कर रहे नेताओं के बारे में गिरिराज ने कहा था कि कितना अच्छा होता, अगर ये लोग दीवाली और होली भी ऐसे ही मनाते।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

जेएनयू विरोध प्रदर्शन
छात्रों की संख्या लगभग 8,000 है। कुल ख़र्च 556 करोड़ है। कैलकुलेट करने पर पता चलता है कि जेएनयू हर एक छात्र पर सालाना 6.95 लाख रुपए ख़र्च करता है। क्या इसके कुछ सार्थक परिणाम निकल कर आते हैं? ये जानने के लिए रिसर्च और प्लेसमेंट के आँकड़ों पर गौर कीजिए।

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

114,921फैंसलाइक करें
23,424फॉलोवर्सफॉलो करें
122,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: