Wednesday, June 26, 2024
Homeराजनीति'बाहर से आ रहे मुस्लिम, हैदराबाद में दो कमरों का फ्लैट दे रहे ओवैसी':...

‘बाहर से आ रहे मुस्लिम, हैदराबाद में दो कमरों का फ्लैट दे रहे ओवैसी’: बांग्लादेशी हैं या पाकिस्तानी, सच का पता लगाएँगी माधवी लता

माधवी लता ने दावा किया कि ओवैसी बाहरी मुसलमानों को दो बेडरूम का फ्लैट दिला रहे हैं। ये मुसलमान कहाँ से आए हैं कुछ नहीं पता लेकिन सच्चाई सामने आकर रहेगी। पता लगकर रहेगा ये पाकिस्तानी हैं या बांग्लादेशी।

लोकसभा चुनाव 2024 में हैदराबाद सीट से असदुद्दीन ओवैसी के खिलाफ भारतीय जनता पार्टी ने अपनी डॉक्टर माधवी लता को चुनावी मैदान में उतारा है। अपने प्रचार के दौरान वह ओवैसी से जुड़े खुलासे कर रही है। हाल में उन्होंने मीडिया के सामने दावा किया कि ओवैसी बाहर से आ रहे मुसलमानों को दो बेडरूम का फ्लैट दिला रहे हैं। ये मुसलमान कहाँ से आ रहे हैं कुछ नहीं पता, ये पाकिस्तानी या है या बांग्लादेशी ये भी नहीं पता, लेकिन सच्चाई सामने आकर रहेगी।

दैनिक जागरण की रिपोर्ट के अनुसार, माधवी लता ने 25 मार्च को पुलिस द्वारा महिलाओं पर किए गए लाठीचार्ज का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, “पुलिस एससी/ एसटी महिलाओं पर अत्याचार कर सकती है। हम उनके आंसू भी नहीं पूंछ सकते हैं? क्या यही लोकतंत्र है? यह कोई लोकतंत्र नहीं है। यह ब्रिटिश शासन से भी बदतर है, औरंगजेब शासन से भी बदतर है।”

बता दें कि माधवी लता इन दिनों चर्चित भाजपा प्रत्याशी हैं। हाल में वह स्मिता प्रकाश के शो में भी नजर आई थीं। उन्होंने यहाँ मुद्दा उठाया था कि किसी भी मजहबी संस्थान को ये अधिकार नहीं है कि वो किसी व्यक्ति के वोट देने के अधिकार को प्रभावित करें, लेकिन हैदराबाद में ऐसा होता है। उन्होंने अपने हाथ में एक ऐसा कार्ड दिखाया जिसमें साफ तौर पर लिखा था कि या तो मजलिस पार्टी के सदस्यों को वोट दिया जाए वरना बीआरएस को।

इसके बाद माधवी लता और स्मिता प्रकाश के बीच इस पर बात होती है। माधवी कहती हैं कि जब कोई मजहबी उलेमा ऐसे वोट देने की बात करता है तो लोग प्रभावित होते हैं। स्मिता इसे सुन कहती हैं कि ऐसा तो कश्मीर में होता था। इस पर माधवी कहती हैं- “हमारा हैदराबाद कश्मीर से कम है क्या। हो सकता है इन सबमें कश्मीर का भी बाप निकले हैदराबाद।”

माधवी लता इस इंटरव्यू में अपनी जीत के प्रति निश्चिंत दिखीं। उन्होंने कहा कि पिछले बार ओवैसी 1 लाख वोटों से जीते थे और इस बार हारेंगे। उन्होंने कहा- “ओवैसी साहब के संसद से निकलते हुए और मेरे अंदर जाते हुए में हम एक दूसरे को आदाब और नमस्कार कहेंगे।” माधवी ने कहा- “भाजपा ने मुझे हैदराबाद में तैनात किया है, मैं तो बुलडोजर हूँ। ये लोग अब ओवैसी को बी टीम नहीं कह सकते।”

इस इंटरव्यू के दौरान माधवी लता ने कहा कि वह हजारों पसमांदा मुस्लिम महिलाओं के साथ काम कर चुकी हैं। उन्होंने ये भी कहा कि हिंदू होने के नाते हिंदुत्व के लिए खड़ा होना बड़ा मुश्किल है। वह बोलीं कि वो महिला राजनेता से पहले एक महिला और माँ हैं। उनसे उन बच्चों की हालत नहीं देखी जाती जिनके विकास के लिए बुनियादी जरूरत तक पूरी नहीं हो रही।

बता दें कि इससे पहले भी माधवी लता ने भाजपा प्रत्याशी घोषित होने पर बताया था कि जिस जगह उन्हें प्रचार करना है वो सीट बहुत खतरनाक है। उन्होंने कहा था, “50 फीसदी इलाकों में आप चुनावों के दौरान कैंपेन नहीं कर सकते, वहाँ कदम नहीं रख सकते। वो लोग पत्थर फेंकते हैं, सिर फोड़ते हैं… और मैं ये काम करने जा रही हूँ। मैं देखना चाहती हूँ कि मेरे देश में कैसे मुझे रोका जाएगा। अगर कोई मुझे रोकेगा भी तो मुझे पत्थर खाकर देखना है कि ये लोग और कितना ज्यादा गिर सकते हैं।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बड़ी संख्या में OBC ने दलितों से किया भेदभाव’: जिस वकील के दिमाग की उपज है राहुल गाँधी वाला ‘छोटा संविधान’, वो SC-ST आरक्षण...

अधिवक्ता गोपाल शंकरनारायणन SC-ST आरक्षण में क्रीमीलेयर लाने के पक्ष में हैं, क्योंकि उनका मानना है कि इस वर्ग का छोटा का अभिजात्य समूह जो वास्तव में पिछड़े व वंचित हैं उन तक लाभ नहीं पहुँचने दे रहा है।

क्या है भारत और बांग्लादेश के बीच का तीस्ता समझौता, क्यों अनदेखी का आरोप लगा रहीं ममता बनर्जी: जानिए केंद्र ने पश्चिम बंगाल की...

इससे पहले यूपीए सरकार के दौरान भारत और बांग्लादेश के बीच तीस्ता के पानी को लेकर लगभग सहमति बन गई थी। इसके अंतर्गत बांग्लादेश को तीस्ता का 37.5% पानी और भारत को 42.5% पानी दिसम्बर से मार्च के बीच मिलना था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -