बंगाल में महिला BJP नेता के घर घुसकर टीएमसी वालों की गुंडई, बीच-बचाव में आए लोग भी घायल

उपचुनाव के नतीजे आने के बाद भाजपा जिलाध्यक्ष फाल्गुनी पात्रा के घर गुंडों ने हमला बोल दिया। इसमें उनके घर और गाड़ी दोनों को भारी क्षति पहुँची। फाल्गुनी ने हमले की इस घटना के लिए सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कॉन्ग्रेस को ज़िम्मेदार ठहराया है।

पश्चिम बंगाल के चुनावों पर हमेशा से ही हिंसा का आरोप लगता रहा है। बंगाल में उपचुनाव के नतीजों की घोषणा होने के साथ ही आज एक बार फिर यह राज्य हिंसा और मारपीट की वारदात से दहल उठा। नतीजे आने के बाद भाजपा जिलाध्यक्ष फाल्गुनी पात्रा के घर TMC के गुंडों ने हमला बोल दिया। इसमें उनके घर और गाड़ी दोनों को भारी क्षति पहुँची। फाल्गुनी ने हमले की इस घटना के लिए सत्तारूढ़ पार्टी तृणमूल कॉन्ग्रेस को ज़िम्मेदार ठहराया है।

बता दें कि पात्रा बैरकपुर इलाके की रहने वाली हैं, समाचार एजेंसी एएनआई ने फाल्गुनी के बयान का हवाला देते हुए बताया कि इस हमले में फाल्गुनी के घर और गाड़ी को काफी नुकसान पहुँचा है। इस सम्बन्ध में कुछ तस्वीरें भी शेयर की गईं। बता दें कि 25 नवम्बर को पश्चिम बंगाल के करीमपुर क्षेत्र में उपचुनाव के दौरान भाजपा के उम्मीदवार जयप्रकाश मजूमदार को भी ऐसी ही पारिस्थितियों का सामना करना पड़ा। उनके साथ मारपीट कर उन्हें इस्लामपुर स्कूल बूथ के बाहर झाड़ियों में फेंक दिया गया। इस मामले में भी आरोप सत्तारूढ़ दल पर ही लगे थे।

वहीं दूसरी ओर राज्य की भाजपा कार्यकारिणी के सदस्य शिशिर बाजोरिया ने ट्विटर के ज़रिए यह जानकारी दी कि मुकुल रॉय की अगुवाई में एक दल मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मिलने गया था जिसने नाडिया के डीएम और एसपी को अपनी ज़िम्मेदारी न निभाने के लिए तत्काल प्रभाव से बर्खास्त कर गिरफ्तार करने की माँग रखी थी। हाल ही में दो पक्षों के बीच खड़गपुर में हुई एक भिडंत में तीन लोग बुरी तरह ज़ख़्मी हो गए थे। राज्य में होने वाले सियासी क़त्ल भी अपने चरम पर हैं। अब तक भाजपा के कई कार्यकर्ताओं को मारा जा चुका है। जबकि राज्य सरकार इस माहौल को रोकने के सम्बन्ध में कोई भी ठोस निर्णय लेने की हिम्मत नहीं दिखा रहा।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

शाहीन बाग़, शरजील इमाम
वे जितने ज्यादा जोर से 'इंकलाब ज़िंदाबाद' बोलेंगे, वामपंथी मीडिया उतना ही ज्यादा द्रवित होगा। कोई रवीश कुमार टीवी स्टूडियो में बैठ कर कहेगा- "क्या तिरंगा हाथ में लेकर राष्ट्रगान गाने वाले और संविधान का पाठ करने वाले देश के टुकड़े-टुकड़े गैंग के सदस्य हो सकते हैं? नहीं न।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

144,546फैंसलाइक करें
36,423फॉलोवर्सफॉलो करें
164,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: