Saturday, June 22, 2024
Homeराजनीतिलखीमपुर खीरी की सभी 8 सीटों पर BJP की जीत, जनता को पसंद नहीं...

लखीमपुर खीरी की सभी 8 सीटों पर BJP की जीत, जनता को पसंद नहीं आई विपक्ष की ‘लाशों वाली राजनीति’: अजय मिश्रा का है इलाका

जिस निघासन विधानसभा क्षेत्र में ये घटना हुई थी, वहाँ से भी भाजपा के शशांक वर्मा ने जीत दर्ज की है। वहीं पलिया की बात करें तो वहाँ भाजपा प्रत्याशी रोमी साहनी ने सपा के प्रीतइंदर सिंह को हरा दिया।

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में सभी 8 सीटों पर भाजपा ने जीत दर्ज की है। ये केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय कुमार मिश्रा ‘टेनी’ का इलाका है। आपको याद होगा कि अक्टूबर 2021 में यहाँ किसानों के प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा को विपक्षी दलों और मीडिया के गिरोह विशेष ने जम कर मुद्दा बनाया था। इस हिंसा में 8 लोगों की मौत हो गई थी। केंद्रीय मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा ‘मोनू’ इस मामले में जेल भी गए थे। वो फ़िलहाल जमानत पर बाहर हैं।

जिस निघासन विधानसभा क्षेत्र में ये घटना हुई थी, वहाँ से भी भाजपा के शशांक वर्मा ने जीत दर्ज की है। वहीं पलिया की बात करें तो वहाँ भाजपा प्रत्याशी रोमी साहनी ने सपा के प्रीतइंदर सिंह को हरा दिया। गोला सीट पर भाजपा के अरविंद गिरि ने सपा के विनय तिवारी को धूल चटाई। निघासन सीट पर भाजपा के शशांक वर्मा सपा के आरएस कुशवाहा को हरा कर विधायक बने। इस सीट से कभी आशीष मिश्रा ‘मोनू’ भी दावा ठोक रहे थे।

लखीमपुर खीरी की एक अन्य श्रीनगर सीट पर भाजपा की मंजू त्यागी ने सपा के रामसरन को हरा दिया। वहीं धौरहरा सीट की बात करें तो यहाँ से से भाजपा के विनोद अवस्थी सपा के वरुण चौधरी को मात दे दी। लखीमपुर सदर में भी भाजपा के योगेश वर्मा ही जीते। उन्होंने सपा के उत्कर्ष वर्मा को हराया। कस्ता सीट पर भाजपा के सौरभ सिंह सोनू ने सपा के सुनील लाला को हराकर जीत हासिल की है। मोहम्मदी सीट पर भाजपा के लोकेंद्र प्रताप सिंह की जीत हुई है।

यहाँ हुई घटा को लेकर लगातार विपक्ष अजय कुमार मिश्रा ‘टेनी’ का इस्तीफा माँग रहा था। राकेश टिकैत जैसे ‘किसान नेता’ और मीडिया भी इसमें कॉन्ग्रेस के साथ था। अब सिर्फ यहाँ ही नहीं, बल्कि पूरे यूपी में भाजपा को जबरदस्त बहुमत प्राप्त हुआ है। सीएम योगी ने इस जीत पर कहा कि पीएम मोदी के विकास और सुशासन को एक बार फिर से जनता जनार्दन ने अपना आशीर्वाद दिया है। उन्होंने कहा कि मतगणना को लेकर कई दिनों से जो भ्रामक दुष्प्रचार चलाए जा रहे थे, उसे जनता ने दरकिनार करते हुए NDA पर भरोसा जताया।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, 11वीं सदी का शिलालेख है साक्ष्य!!

नालंदा विश्वविद्यालय को ब्राह्मणों ने ही जलाया था, बख्तियार खिलजी ने नहीं। ब्राह्मण+बुर्के वाली के संभोग को खोद निकाला है इस इतिहासकार ने।

10 साल जेल, ₹1 करोड़ जुर्माना, संपत्ति भी जब्त… पेपर लीक के खिलाफ आ गया मोदी सरकार का सख्त कानून, NEET-NET परीक्षाओं में गड़बड़ी...

परीक्षा आयोजित करने में जो खर्च आता है, उसकी वसूली भी पेपर लीक गिरोह से ही की जाएगी। केंद्र सरकार किसी केंद्रीय जाँच एजेंसी को भी ऐसी स्थिति में जाँच सौंप सकती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -