Tuesday, July 23, 2024
Homeराजनीतिसूरत में मोदी-मोदी के नारों से हुआ ओवैसी का स्वागत, लोगों ने दिखाए काले...

सूरत में मोदी-मोदी के नारों से हुआ ओवैसी का स्वागत, लोगों ने दिखाए काले झंडे: सर्वे से खुलासा – गुजरात में मुस्लिमों को AIMIM से ज्यादा पसंद भाजपा

मुस्लिमों के सबसे बड़े हितैषी होने का दम भरने वाले असदुद्दीन ओवैसी गुजरात में भी खुद को मुस्लिमों की पहली पसंद बता रहे थे, लेकिन एक सर्वे में उनके इस दावे की पोल खुलती नजर आ रही है।

गुजरात में विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार जोरों पर है। हर पार्टी वोटरों को लुभाने के लिए अपना पूरा जोर लगा रही है। इसी क्रम में AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी रविवार (13 नवंबर, 2022) को गुजरात के सूरत पहुँचे थे। जब वह मंच से लोगों को संबोधित कर रहे थे, उसी दौरान उन्हें काला झंडा दिखाया गया और वहाँ मौजूद लोगों ने ‘मोदी-मोदी’ के नारे लगाए।

दरअसल, ओवैसी सूरत पूर्व विधानसभा से चुनाव लड़ रहे उम्मीदवार के लिए सभा को संबोधित करने पहुंचे थे। गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए AIMIM ने कई सीटों के लिए अपने उम्मीदवार उतारे हैं। वह सूरत पूर्व सीट से वसीम कुरैशी के लिए चुनाव प्रचार करने आए थे। मुस्लिमों के सबसे बड़े हितैषी होने का दम भरने वाले असदुद्दीन ओवैसी गुजरात में भी खुद को मुस्लिमों की पहली पसंद बता रहे थे, लेकिन एक सर्वे में उनके इस दावे की पोल खुलती नजर आ रही है।

गुजरात की जनता के मन को टटोलने के लिए एबीपी न्यूज़ ने सी-वोटर के साथ मिलकर साप्ताहिक सर्वे किया है। सर्वे में लोगों से पूछा गया था कि गुजरात में मुस्लिम वोटर किस पार्टी को पसंद करते हैं, इसके जवाब काफी चौंकाने वाले आए, जो कम से कम AIMIM के लिए तो किसी झटके से कम नहीं है। देखा जाए तो काले झंडे और मोदी-मोदी के नारे से ओवैसी को यह समझ भी आ गया होगा।

सर्वे के मुताबिक, 47% मुस्लिमों ने कॉन्ग्रेस को अपनी पहली पसंद बताया है, जबकि 25 प्रतिशत ने AAP को अपनी पसंद करार दिया। वहीं मुस्लिम समाज के 19 प्रतिशत लोगों के लिए पहली पसंद भाजपा है और 9 प्रतिशत ने AIMIM को अपनी पसंद बताया है।

राज्य में 1 और 5 दिसंबर को दो चरणों में वोटिंग होनी है और नतीजे 8 दिसंबर को सामने आएँगे। पहले चरण में 89 सीटों पर 1 दिसंबर को वोट डाले जाएँगे तो दूसरे चरण में 93 सीटों पर 5 दिसंबर को वोटिंग होगी। उल्लेखनीय है कि पिछले सप्ताह AIMIM प्रवक्ता ने आरोप लगाया था कि ओवैसी को निशाना बनाकर ‘वंदे भारत’ ट्रेन पर पत्थर फेंके गए थे। हालाँकि, पुलिस ने इन दावों को खारिज किया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

नेचुरल फार्मिंग क्या है, बजट में क्यों इसे 1 करोड़ किसानों से जोड़ने का ऐलान: गोबर-गोमूत्र के इस्तेमाल से बढ़ेगी किसानों की आय

प्राकृतिक खेती एक रसायनमुक्त व्यवस्था है जिसमें प्राकृतिक संसाधनों का इस्तेमाल किया जाता है, जो फसलों, पेड़ों और पशुधन को एकीकृत करती है।

नारी शक्ति को मोदी सरकार ने समर्पित किए ₹3 लाख करोड़: नौकरी कर रहीं महिलाओं और उनके बच्चों के लिए भी रहने की सुविधा,...

बजट में महिलाओं की हिस्सेदारी कार्यबल में बढ़ाने पर काम किया गया है। इसके अलावा कामकाजी महिलाओं के लिए छात्रावास स्थापित करने का भी ऐलान हुआ।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -