Tuesday, July 23, 2024
Homeदेश-समाजधक्का-मुक्की, पथराव और नारेबाजी: राहुल गाँधी की सांसदी जाने के बाद रायपुर में बवाल,...

धक्का-मुक्की, पथराव और नारेबाजी: राहुल गाँधी की सांसदी जाने के बाद रायपुर में बवाल, BJP कार्यकर्ताओं से कॉन्ग्रेसी भिड़े

छत्तीसगढ़ भाजपा ने ट्वीट कर कहा, "ये कॉन्ग्रेसी लोकतंत्र और संविधान विरोधी हैं। राहुल गाँधी की संसद सदस्यता रद्द होने के बाद NSUI और कॉन्ग्रेस नेताओं ने शर्मनाक कृत्य करते हुए भाजपा रायपुर जिला कार्यालय 'एकात्म परिसर' पर हमला किया। भाजपा नेताओं के साथ अभद्र व्यवहार किया।"

मानहानि केस में 2 साल की सजा सुनाए जाने के बाद राहुल गाँधी की लोकसभा सदस्यता खतरे में थी। शुक्रवार (24 मार्च 2023) को लोकसभा सचिवालय ने नोटिफिकेशन जारी कर उनकी सदस्यता रद्द कर दी। इसको लेकर कॉन्ग्रेस लगातार विरोध दर्ज करा रही है। वहीं, भाजपा और कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं के बीच जुबानी जंग के साथ ही झड़प भी देखने को मिली।

दरअसल, राहुल गाँधी की संसद सदस्यता खत्म होने के बाद से ही कॉन्ग्रेस भाजपा पर हमलावर है। इसको लेकर छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा कार्यालय के बाहर हंगामा करना शुरू कर दिया। कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता भाजपा कार्यालय के अंदर घुसने की कोशिश कर रहे थे। यही नहीं उन्होंने भाजपा कार्यालय में लगे पोस्टर पर कालिख फेंक दी। इससे भाजपा कार्यकर्ता भड़क गए और पार्टी के झंडे लेकर सड़क पर उतर आए और राहुल गाँधी के खिलाफ नारेबाजी करनी शुरू कर दी।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार इस बीच भाजपा और कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता आपस में भिड़ गए। दोनों पार्टियों के कार्यकर्ताओं के बीच करीब आधे घण्टे तक धक्का मुक्की चलती रही। कुछ पुलिसकर्मी भी मौके पर पहुँचे। लेकिन बवाल थमने का नाम नहीं ले रहा था। इसके बाद फोर्स उतारनी पड़ी। तब जाकर कहीं भाजपा कार्यालय के बाहर मामला शांत हुआ। हालाँकि विवाद यहीं नहीं रुका। पार्टी कार्यालय में हुए हंगामे के बाद भाजपा कार्यकर्ताओं ने कहा कि वह कॉन्ग्रेस की इस हरकत का जवाब देंगे।

भाजपा कार्यकर्ताओं की धमकी के बाद एक ओर जहाँ कॉन्ग्रेस कार्यालय में पार्टी के कार्यकर्ता इकट्ठा होने लगे वहीं पुलिस की भी तैनाती कर दी गई। दूसरी ओर भाजपा कार्यकर्ता भी कॉन्ग्रेस कार्यालय पहुँच गए। वहाँ मौजूद पुलिस ने भाजपा कार्यकर्ताओं को रोकने की काफी कोशिश की। लेकिन वह नहीं माने और कॉन्ग्रेस कार्यालय में कालिख फेंक दी। यही नहीं, कॉन्ग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच एक दूसरे पर ईंट और पत्थर से भी हमला किया गया। इस हमले में कुछ कार्यकर्ताओं के घायल होने की भी खबर है।

दोनों पार्टी के नेता और कार्यकर्ता रुकने के नाम नहीं ले रहे थे। हालाँकि पुलिस अधिकारियों द्वारा बीच बचाव किए जाने के बाद मामला शांत हुआ। इसके बाद दोनों पक्ष थाने जा पहुँचे और एक दूसरे के खिलाफ FIR कराने की बात पर अड़े रहे। इस मामले में एएसपी अभिषेक माहेश्वरी का कहना है कि दोनों पार्टी के नेताओं ने पथराव किया है। वीडियो फुटेज की जाँच की जा रही है। दोनों पक्षों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

इस मामले में छत्तीसगढ़ भाजपा ने ट्वीट कर कहा है, “ये कॉन्ग्रेसी लोकतंत्र और संविधान विरोधी हैं। राहुल गाँधी की संसद सदस्यता रद्द होने के बाद NSUI और कॉन्ग्रेस नेताओं ने शर्मनाक कृत्य करते हुए भाजपा रायपुर जिला कार्यालय ‘एकात्म परिसर’ पर हमला किया। भाजपा नेताओं के साथ अभद्र व्यवहार किया।”

एक अन्य ट्वीट में भाजपा की ओर से कहा गया है, “लोकतंत्र के इन हत्यारों का भाजपा कार्यकर्ताओं ने जमकर मुकाबला किया। कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने भाजपा युवा नेता गोविंदा गुप्ता का सर फोड़ा। अन्य भाजपा कार्यकर्ता भी घायल हुए। गलती राहुल गाँधी ने की, सजा न्यायालय ने संविधान और कानून के नियमों के तहत दी। इसमें भाजपा पर हमला क्यों?”

वायनाड में कॉन्ग्रेस कार्यकर्ताओं ने किया सरकार विरोधी प्रदर्शन…

चूँकि राहुल गाँधी केरल के वायनाड से सांसद थे। ऐसे में उनकी सदस्यता रद्द होने के बाद वायनाड के कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता भी सड़क पर उतार आए और मोदी सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

20000 महिलाओं को रेप-मौत से बचाने के लिए जब कॉन्ग्रेसी मंत्री ने RSS से माँगी थी मदद: एक पत्र में दर्ज इतिहास, जिसे छिपा...

पत्र में कहा गया था कि आरएसएस 'फील्ड वर्क' के लिए लोगों को अत्यधिक प्रशिक्षित करेगा और संघ प्रमुख श्री गोलवरकर से परामर्श लिया जा सकता है।

कागज तो दिखाना ही पड़ेगा: अमर, अकबर या एंथनी… भोले के भक्तों को बेचना है खाना, तो जरूरी है कागज दिखाना – FSSAI अब...

सुप्रीम कोर्ट ने अपने आदेश में कहा कि कांवड़ रूट में नाम दिखने पर रोक लगाई जा रही है, लेकिन कागज दिखाने पर कोई रोक नहीं है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -