Saturday, July 31, 2021
HomeराजनीतिCM योगी ने 14वें साल वनटांगियों के साथ मनाई दीपावली: उनके परिवारों को दी...

CM योगी ने 14वें साल वनटांगियों के साथ मनाई दीपावली: उनके परिवारों को दी 65 लाख की परियोजनाओं की सौगात

वनटांगियों के संघर्ष को याद करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ भावुक भी नजर आए। अपने संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि देश को आजादी 1947 में ही मिल गई लेकिन वनटांगियों को वास्तविक आजादी पाने में उसके बाद भी सत्तर साल लग गए। यहाँ से जिला मुख्यालय पहुँचने में भले ही सत्तर मिनट से कम समय लगे लेकिन....

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार 14वें साल शुक्रवार को दिवाली का त्यौहार मनाने के लिए वनटांगिया समुदाय के बीच पहुँचे हैं। वे साल 2007 से ही जंगल तिकोनिया नंबर-3 में बसे पाँच गाँवों में रहने वाले वनटांगिया समुदाय के साथ दिवाली मनाते आ रहे हैं। 

अयोध्‍या में भव्य दीपोत्‍सव के कार्यक्रम के बाद सीएम योगी सीधा गाँव पहुँचे। उन्‍होंने अनोखे तोहफे के तौर पर गाँव में विभिन्‍न योजनाओं का शिलान्‍यास और लोकार्पण किया। उन्होंने वनटंगिया परिवारों के लिए करीब 65 लाख रूपए की विकास परियोजनाओं का दिवाली गिफ्ट दिया है।

गोरखपुर के वनटांगिया गाँव जंगल तिनकोनिया नंबर 3 में पहुँचे मुख्‍यमंत्री योगी आदित्‍यनाथ ने 22.39 लाख रुपए के कार्यों का लोकार्पण और 42.93 लाख रुपए की सड़क, नाली और बिजली से संबंधित विभिन्‍न परियोजनाओं का शिलान्‍यास और लोकार्पण किया।

सीएम ने परिषदीय विद्यालयों में पढ़ने वाले बच्चों को उपहार भी दिए। पुष्टाहार योजना के तहत 10 लाभार्थियों को ड्राई राशन पैकेट व वनटांगिया स्कूल के 10 बच्चों को अपने हाथों से स्कूल ड्रेस, स्वेटर वितरित किया। वनटांगिया गाँव के लोगों को प्रधानमंत्री आवास योजना का स्वीकृति पत्र भी सौंपा गया। मुख्यमंत्री ने वनटांगिया गाँव का भ्रमण कर विकास कार्यों का जायजा लिया।

अधिक जानकारी के लिए बता दें सीएम ने गाँव में खड़ंजा सड़क, रामगढ़ वनटांगिया ग्राम में आँगनबाड़ी केंद्र के भवन का लोकार्पण किया है। वहीं जंगल तिनकोनिया नंबर-3 में सामुदायिक शौचालय, पंचायत भवन, खड़ंजा सड़क कार्यों का शिलान्यास किया।

बता दें वनटांगिया समुदाय सीएम योगी के लिये विशेष स्थान रखता है। आजादी के 70 साल बाद भी यह समुदाय उपेक्षित था। योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनते ही वनटांगिया गाँव को राजस्‍व गाँव का दर्जा दिलाया तो साथ ही मतदान का अधिकार भी दिलवाया।

इस दौरान वनटांगियों के संघर्ष को याद करते हुए सीएम योगी आदित्यनाथ भावुक भी नजर आए। अपने संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि देश को आजादी 1947 में ही मिल गई लेकिन वनटांगियों को वास्तविक आजादी पाने में उसके बाद भी सत्तर साल लग गए। यहाँ से जिला मुख्यालय पहुँचने में भले ही सत्तर मिनट से कम समय लगे लेकिन वनटांगिया लोगों को अपना हक पाने के लिए सत्तर साल का इंतज़ार करना पड़ा।

सीएम योगी ने वनटांगियों से निम्न प्रमुख बातें रखी:-

◆ सीएम ने कहा कि, सीधे अयोध्या धाम से आ रहा हूँ। वहाँ की दीपावली आप सब ने देखी होगी। पर्व किस उल्लास और खुशी के साथ मनानी चाहिए ये आपने कल देखा होगा। आज एक दीप शहीदों के नाम जलाइएगा। 492 साल बाद आज अयोध्या में भगवान श्रीराम के भव्य मंदिर का निर्माण कोई रोक नहीं पाएगा। डिजिटल दिवाली भी मना सकते हैं।

◆प्रधानमंत्री जी के आह्वान पर 3.5 साल से शिलान्यास का कार्यक्रम चल रहा है। शासन की योजनाओं का लाभ पहुँचने में यहाँ 70 साल लग गए। 70 मिनट में अब पैदल मुख्यालय तक पहुँच सकते हैं। मैं यहाँ से भलीभाँति परिचित था। इसलिए साथ के लोगों ने यहाँ प्लान किया। वनटांगिया गाँव में झोपड़ी में बैठना पड़ता था। आज यहाँ पक्का मकान बन गया है। यही सच्ची दिवाली है। 4 साल में आज हर सुविधा केंद्र और प्रदेश सरकार की योजनाओं का लाभ मिल रहा है। इससे अच्छी दीपावली नहीं हो सकती है।

◆विकास की योजनाओं में किसी भी तरह की जाति, मजहब को आधार नहीं बनाया गया। कोई वंचित नहीं रहेगा। बिजली और अन्य योजनाओं का लाभ प्रत्येक नागरिक तक पहुँचे। ये हर आम आदमी को सोचना चाहिए। लाभ की योजनाओं की जानकारी सांसद, विधायक और जन प्रतिनिधि को तो होती है। आम आदमी को भी होनी चाहिए। कोई प्रधानमंत्री आवास योजना में कोई गड़बड़ी करना चाहेगा तो नहीं कर पाएगा। शौचालय हर घर में होगा। किसी ने सोचा नहीं था। हर घर में शौचालय 2 करोड़ 61 लाख शौचालय 2.5 वर्ष में दिया।

◆इंसेफेलाइटिस को लेकर पूर्वी यूपी में बहुत से आंदोलन हुए। इंसेफेलाइटिस से गरीब का बच्चा मरता था। 1977 से लेकर 2017 तक कम से कम 50000 बच्चों की मौत हुई। हर साल 1000 से 1500 बच्चों की मौत होती थी। इस वर्ष सिर्फ 21 मौत हुई है। इसे भी जल्द खत्म कर देंगे।

गौरतलब है कि आजादी के 70 साल बाद जब गाँव में प्रधानमंत्री और मुख्‍यमंत्री आवास योजना के तहत पक्‍के मकान के साथ बिजली पहुँची तो शिक्षा की अलख भी जग गई। सरकारी और मूलभूत सुविधाओं ने गाँव की तस्‍वीर ही बदलकर रख दी। वैश्विक महामारी कोरोना के बावजूद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हमेशा की तरह कोविड-19 के दिशानिर्देशों का पालन करते हुए गाँव वालों के साथ दिवाली का उत्सव मनाने पहुँचे थे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

पेगासस: ‘खोजी’ पत्रकारिता का भ्रमजाल, जबरन बयानबाजी और ‘टाइमिंग’- देश के खिलाफ हर मसाले का प्रयोग

दुनिया भर में कुल जमा 23 स्मार्टफोन में 'संभावित निगरानी' को लेकर ऐसा बड़ा हल्ला मचा दिया गया है, मानो 50 देशों की सरकारें पेगासस के ज़रिए बड़े पैमाने पर अपने नागरिकों की साइबर जासूसी में लगी हों।

पिता ने उधार लेकर करवाई हॉकी की ट्रेनिंग, निधन के बाद अंतिम दर्शन भी छोड़ा: अब ओलंपिक में इतिहास रच दी श्रद्धांजलि

वंदना कटारिया के पिता का सपना था कि भारतीय महिला हॉकी टीम ओलंपिक में स्वर्ण पदक जीते। बचपन में पिता ने उधार लेकर उन्हें हॉकी की ट्रेनिंग दिलवाई थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
112,211FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe