Thursday, May 26, 2022
Homeराजनीतिचीनी झुनझुना बजाते सीताराम येचुरी का वीडियो वायरल, कम्युनिस्टों के बीच मेल की कर...

चीनी झुनझुना बजाते सीताराम येचुरी का वीडियो वायरल, कम्युनिस्टों के बीच मेल की कर रहे हैं पैरोकारी

सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें येचुरी चीन का समर्थन करते नजर आ रहे हैं। साथ ही इस बात पर जोर भी दे रहे हैं कि एक देश के वामपंथियों को दूसरे देशों के वामपंथी विचारधारा के लोगों से संपर्क बनाए रखना चाहिए। खासकर, चीन और रूस से।

भारत और चीन के हालिया सीमा तनाव ने देश के कई राजनीतिक दलों के छिपे एजेंडे और सीमा पार से उनके सॉंठगॉंठ को उजागर कर दिया है। कॉन्ग्रेस के बाद अब माकपा नेता सीताराम येचुरी का एक वीडियो वायरल हो रहा है जिसमें वे चीन का झुनझुनाया बजा रहे हैं।

इसमें माकपा महासचिव सीताराम येचुरी चीन की सराहना करते हुए कह रहे हैं कि विभिन्न देशों के कम्युनिस्टों के बीच मेल रहना चाहिए। वैसे वामपंथियों के लिए यह कोई नई बात नहीं है। 1962 में जब भारत और चीन के बीच जंग चल रहा थी, तब भी इनका झुकाव देश के दुश्मनों की तरफ था और वे ‘लाल किले पर लाल सलाम’ जैसे नारे लगा रहे थे।

हाल ही में कॉन्ग्रेस और चीन के सत्ताधारी दल कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ चाइना के बीच एक खुफ़िया समझौते की बात सामने आई थी। इसके अलावा यह बात भी सामने आई थी कि चीन से सोनिया गॉंधी के स्वामित्व वाले राजीव गॉंधी फाउंडेशन को दान भी मिला था।

कॉन्ग्रेस की तरह ही माकपा की भी भूमिका नजर आ रही है। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। इसमें येचुरी चीन का समर्थन करते नजर आ रहे हैं। साथ ही इस बात पर जोर भी दे रहे हैं कि एक देश के वामपंथियों को दूसरे देशों के वामपंथी विचारधारा के लोगों से संपर्क बनाए रखना चाहिए। खासकर, चीन और रूस से। 

देश की राजधानी के एक शानदार रेस्तरां में दिसंबर 2019 में दिए गए इस इंटरव्यू में येचुरी यह बात कही है। वे चीन के प्रति झुकाव की बात कबूल करते हुए कहते हैं कि वामपंथी देश होने के बावजूद चीन ने वैश्विक परिदृश्य के लिहाज़ से खुद को बहुत बदला है।

जब येचुरी से चीन में उइगरों पर हो रहे अत्याचार को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने इसे टालते हुए कहा कि चीन पहले भी इस तरह की खबरों का खंडन कर चुका है। जब उनसे हॉन्कॉन्ग में जारी विरोध को लेकर सवाल किया कि वहॉं के लोगों को अपना मत रखने तक की आजादी नहीं है तो उन्होंने कहा कि ‘क्या भारत में भी बोलने की पूरी आज़ादी है?’

इतना ही नहीं गरीब और वंचितों के स्वयंभू मसीहा येचुरी ने यह भी खुलासा किया कि वे अमेरिकी कंपनी एप्पल के उत्पाद का उपयोग करते हैं। यात्रा के दौरान नेटफ्लिक्स पर का इस्तेमाल फिल्म डाउनलोड करने के लिए करते हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘संघी, भाजपा का आदमी, कट्टरपंथी’: जानिए कैसे अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी में हिंदू छात्र को इस्लामोफोबिक बता किया टॉर्चर

बेंगलुरु के अजीम प्रेमजी यूनिवर्सिटी में हिंदू छात्र ऋषि तिवारी को संघी और भाजपा का आदमी कहकर उन्हें तरह-तरह से प्रताड़ित किया गया।

उइगर मुस्लिमों से कुरान और हिजाब छीन रहा चीन, भागने पर गोली मारने का आदेश: लीक दस्तावेजों से खुलासा- डिटेंशन कैंपों में कैद हैं...

इन दस्तावेजों से यह भी खुलासा हुआ है कि चीन मुस्लिमों से कुरान, हिजाब समेत सभी धार्मिक-मजहबी चीजें जब्त कर उनकी पहचान मिटा रहा है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
188,942FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe