Wednesday, July 17, 2024
Homeराजनीतिकुशवाहा के मीम पर हँसना मना है: कंगना के खिलाफ गया के कोर्ट में...

कुशवाहा के मीम पर हँसना मना है: कंगना के खिलाफ गया के कोर्ट में कंप्लेन

सोशल मीडिया पर मीम्स को शेयर करना और राजनेताओं पर तंज कसना आम बात है। यहाँ पर यह बात समझ से परे है कि केवल एक मीम पर हँसने के लिए कंगना रनौत के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है।

बॉलीवुड के विवादों से लेकर किसान आंदोलन तक, हर मुद्दे कंगना रनौत खुलकर बोलती हैं। इसको लेकर अक्सर उनको मुश्किलों का सामना भी करना पड़ता है। अपने बयानों को लेकर वह महाराष्ट्र की सरकार और अन्य नेताओं के निशाने पर पहले से ही हैं। अब एक ट्विटर कमेंट की वजह से उनके खिलाफ एक नेता ने बिहार की एक कोर्ट में शिकायत दर्ज कराई है।

जानकारी के मुताबिक, यह शिकायत राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा को लेकर एक्ट्रेस के ट्विटर कमेंट पर की गई है। इसके लिए कंगना के खिलाफ गया के सिविल कोर्ट में परिवाद दायर की गई है।

वकील शंभू प्रसाद ने मीडिया को बताया, “किसी भी नेता के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी करना अपराध है। इसलिए, हमने अदालत से हमारी शिकायत पर संज्ञान लेने की अपील की है।”

बता दें कंगना के जिस ट्वीट को आरएलएसपी नेता उपेंद्र कुशवाहा और उनके फॉलोवर्स ने अपराध मान कर शिकायत दर्ज करवाई है, वह एक मामूली सा वायरल मीम है। इसमें आरएलएसपी नेता उपेंद्र कुशवाहा की तस्वीर शामिल थी और कंगना ने उसे शेयर करते हुए हँसने वाला इमोजी पोस्ट किया था।

कंगना ने यह पोस्‍ट 3 दिसंबर को किया था। कंगना ने राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा सहित कई नेताओं की पुरानी फोटो वाली मीम शेयर की थी जिसमें उन्हें लुटियंस, लिबरल, जिहादी, आजाद कश्मीर, अर्बन नक्सल, वामपंथी और खालिस्तानी बताया गया था। मीम्स के माध्‍यम से इन सभी नेताओं को टुकड़े-टुकड़े गैंग का नया स्टार कहा गया था। यह भी बताया गया कि कैसे प्रत्येक भारत-विरोधी तत्व अपने स्वयं के राजनीतिक लाभों के लिए कश्मीर की आज़ादी के बारे में बात करने की कोशिश कर रहा है।

कंगना रनौत ने मीम शेयर करते हुए हँसने वाली इमोजी पोस्ट की थी। इसे देख आरएलएसपी नेता उपेंद्र कुशवाहा और उनके समर्थक नाराज हो गए। उल्लेखनीय है कि यह मीम महज एक मजाक था, जिसमें आरएलएसपी नेता उपेंद्र कुशवाहा की तस्वीर का इस्तेमाल किया गया था।

गौरतलब है कि सोशल मीडिया पर मीम्स को शेयर करना और राजनेताओं पर तंज कसना आम बात है। यहाँ पर यह बात समझ से परे है कि केवल एक मीम पर हँसने के लिए कंगना रनौत के खिलाफ शिकायत दर्ज की गई है।

हाल ही में, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के सदस्य ने भी कंगना रनौत को उनके ट्वीट पर कानूनी नोटिस भेजा था, जिसमें कथित रूप से नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों को निशाना बनाया गया था। दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा की ओर से भेजे गए कानूनी नोटिस में कहा गया था कि अभिनेत्री ने मोदी सरकार के खिलाफ ‘किसान विरोध’ में शामिल किसानों, प्रदर्शनकारियों और कार्यकर्ताओं को बदनाम किया है।

इसी तरह, दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के एक अन्य सदस्य ने भी कंगना रनौत को दिल्ली में किसानों के विरोध-प्रदर्शन में एक बुजुर्ग औरत को ‘शाहीन बाग की दादी’ बताने पर कानूनी नोटिस भेजा है। यह नोटिस समिति के सदस्य जसमैन सिंह नोनी की ओर से अधिवक्ता हरप्रीत सिंह होरा द्वारा भेजा गया था।

इससे पहले, उच्च न्यायालय में कंगना के खिलाफ एक रिट याचिका दायर की गई थी। इस याचिका में उनके ट्विटर एकाउंट को बंद करने की माँग की गई थी। असल में अभिनेत्री ने उद्धव ठाकरे को ‘पप्पू सेना’ कहा था, जिसका उल्लेख याचिका में किया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -