Tuesday, November 30, 2021
Homeराजनीति'राहुल गाँधी कॉन्ग्रेस के भगवान': सोनिया माता वाली पार्टी की नई चाटुकारिता

‘राहुल गाँधी कॉन्ग्रेस के भगवान’: सोनिया माता वाली पार्टी की नई चाटुकारिता

"बराक ओबामा को यह पता होना चाहिए कि राहुल गाँधी कॉन्ग्रेस के करोड़ों कार्यकर्ता के भगवान हैं। अपनी सीमा में रहें बराक ओबामा या फिर खुल कर बोल दें कि वो भी मोदी के अंधे भक्त हैं।

अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने एक किताब लिखी है। नाम है- ‘ए प्रॉमिस्ड लैंड’ (A promised Land)। इसमें उन्होंने मनमोहन सिंह और राहुल गाँधी पर निशाना साधा है। किताब में ओबामा ने राहुल को घबराया हुआ और अनगढ़ बताया है। NYT की समीक्षा के अनुसार, यह पुस्तक ओबामा की एक आत्मकथा है जो ‘व्यक्तिगत से अधिक राजनीतिक’ है।

पुस्तक की समीक्षा के बाद कॉन्ग्रेस की तरफ से तीखी प्रतिक्रियाएँ आ रही हैं। ओबामा का राहुल गाँधी के बारे में ये लिखना भर था कि तमाम कॉन्ग्रेसी नेता अपने ‘पूर्व अध्यक्ष’ के बचाव में सामने आ गए। बचाव में राहुल समर्थक चाटुकारिता की नई मिसाल गढ़ रहे हैं।

इस कड़ी में कॉन्ग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ चुके आचार्य प्रमोद कृष्णन ने एक वीडियो शेयर किया है।

इस वीडियो में वे कहते नजर आ रहे हैं, “बराक ओबामा, राहुल गाँधी के साथ पढ़े हैं क्या या जिस स्कूल में राहुल गाँधी पढ़े, उस स्कूल में वो मास्टर थे या उन्होंने काबिलियत का सर्टिफिकेट देने का कोई इंस्टीट्यूट खोल रखा है। बराक ओबामा को यह कैसे पता चला कि राहुल गाँधी अयोग्य हैं। बराक ओबामा को यह कैसे पता चला कि राहुल गाँधी अपरिपक्व हैं, काबिल नहीं हैं, नर्वस छात्र हैं। बराक ओबामा को यह पता होना चाहिए कि राहुल गाँधी कॉन्ग्रेस के करोड़ों कार्यकर्ता के भगवान हैं। अपनी सीमा में रहें बराक ओबामा या फिर खुल कर बोल दें कि वो भी मोदी के अंधे भक्त हैं।”

आचार्य प्रमोद कृष्णन ने इससे पहले ट्वीट करते हुए लिखा था, “ओबामा ने राहुल गाँधी को ‘अयोग्य’ बता कर, कॉन्ग्रेस के उन करोड़ों ‘कार्यकर्ताओं’ के ह्रदय पर ‘वज्रपात’ किया है, जो उन्हें ‘भगवान’ की तरह मानते हैं।”

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में लिखा था, “बराक ‘ओबामा’ मोदी ‘मित्र’ हैं ये सबको पता था, लेकिन वो अन्ध ‘भक्त’ हैं, ये आज पता चला।”

कहना गलत नहीं होगा कि ये उसी दर्जे की चाटुकारिता है जिसमें ‘इंडिया इज इंदिरा’ और ‘सोनिया गाँधी पूरे देश की माँ’ है। बता दें कि आपातकाल के दौरान 1975 में कांग्रेस अध्यक्ष देव कांत बरुआ ने नारा दिया था: इंदिरा इज इंडिया एंड इंडिया इज इंदिरा (इंदिरा भारत हैं और भारत इंदिरा है)। वहीं मणिशंकर अय्यर के सोनिया गाँधी को प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी के तौर पर राहुल का विकल्प बताने वाले बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए वरिष्ठ कॉन्ग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने कहा था कि सोनिया गाँधी सिर्फ राहुल गाँधी की माँ नहीं हैं, वे हमारी भी माँ हैं और पूरे देश की माँ हैं। कॉन्ग्रेस तो चाटुकारिता की हद को पार करने में कोशिश में ‘भारत माता की जय’ की जगह ‘सोनिया माता की जय’ तक कह देते हैं।

प्रमोद कृष्णन ने राहुल भक्ति दिखाते हुए जिस तरह की भाषा का इस्तेमाल किया है, वो कहीं न कहीं एक कॉन्ग्रेसी नेता के रूप में उन्होंने अपनी पार्टी का चाल, चरित्र और चेहरा पूरे देश के सामने जगजाहिर कर दिया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,547FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe