Tuesday, November 30, 2021
Homeराजनीति'राहुल गाँधी में अनगढ़ छात्र के गुण.. योग्यता-जुनून की कमी': बराक ओबामा के संस्मरण...

‘राहुल गाँधी में अनगढ़ छात्र के गुण.. योग्यता-जुनून की कमी’: बराक ओबामा के संस्मरण पर हंगामा

'न्यूयॉर्क टाइम्स' ने ओबामा के संस्मरण ‘ए प्रॉमिस्ड लैंड’ की समीक्षा की है। इसमें पूर्व राष्ट्रपति ने दुनियाभर के राजनीतिक नेताओं के अलावा अन्य विषयों पर भी बात की है। ट्विटर पर #माफ़ी_माँग_ओबामा ट्रेंड कर रहा है।

हाल ही में संपन्न हुए बिहार चुनाव में कॉन्ग्रेस के निराशाजनक प्रदर्शन के बाद एक बार फिर कई आलोचकों ने राहुल गाँधी के ‘कमज़ोर’ प्रदर्शन का विरोध किया है। कॉन्ग्रेस ने बिहार में 70 सीटों में से महज 19 सीटें जीतने में कामयाबी हासिल की, जिस कारण ‘महाठबंधन’ को भी सत्ता से वंचित रहना पड़ा। अब वो पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा के एक संस्मरण के कारण चर्चा का विषय बने हैं।

राहुल गाँधी को अब अपनी नई किताब- ‘ए प्रॉमिस्ड लैंड’ (A promised Land) में अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की भी कड़ी आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। 44वें अमेरिकी राष्ट्रपति ने राहुल गाँधी और भारत के पूर्व पीएम डॉ मनमोहन सिंह पर निशाना साधा है। NYT की समीक्षा के अनुसार, यह पुस्तक ओबामा की एक आत्मकथा है जो ‘व्यक्तिगत से अधिक राजनीतिक’ है।

‘न्यूयॉर्क टाइम्स’ की एक पुस्तक की समीक्षा के अनुसार, ओबामा ने वायनाड के सांसद राहुल गाँधी पर निशाना साधते हुए कहा, “उनमें एक ऐसे ‘घबराए हुए और अनगढ़ (Unformed- जो तराशा न गया हो)’ छात्र के गुण हैं, जिसने अपना पूरा पाठ्यक्रम पूरा कर लिया है और वह अपने शिक्षक को प्रभावित करने की चाहत रखता है, लेकिन उसमें ‘विषय में महारत हासिल’ करने की योग्यता या फिर जूनून की कमी है।”

अपने संस्मरण में बराक ओबामा ने राहुल की माँ और कॉन्ग्रेस अध्यक्ष सोनिया गाँधी का भी जिक्र किया है। समीक्षा में कहा गया है, “हमें चार्ली क्रिस्ट और रहम एमैनुएल जैसे पुरुषों के हैंडसम होने के बारे में बताया जाता है लेकिन महिलाओं के सौंदर्य के बारे में नहीं। सिर्फ एक या दो उदाहरण ही अपवाद हैं जैसे सोनिया गाँधी।”

इस पुस्तक समीक्षा में कहा गया है कि अमेरिका के पूर्व रक्षा मंत्री बॉब गेट्स और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, दोनों में बिलकुल भावशून्य सच्चाई/ईमानदारी है। उल्लेखनीय है कि ओबामा का 768 पन्नों का यह संस्मरण 17 नवंबर को बाजार में आने वाला है। अमेरिका के पहले अफ्रीकी-अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा ने अपने कार्यकाल में दो बार 2010 और 2015 में भारत की यात्रा की थी।

इसमें रूस के राष्ट्रपति पुतिन पर भी टिप्पणी की गई। इसमें कहा गया कि रूस के राष्ट्रपति व्लादिमिर पुतिन ओबामा को शिकागो मशीन चलाने वाले मजबूत, चालाक बॉस की याद दिलाते हैं। पुतिन के बारे में ओबामा लिखते हैं, ‘‘शारीरीक रूप से वह साधारण हैं।’’

यहाँ बता दें कि राहुल गाँधी व सोनिया गाँधी को लेकर ओबामा की यह टिप्पणी सामने आने के बाद सोशल मीडिया पर कई नेटीजन्स ने इस पूरे मामले पर चुटकी ली है। उन्होंने ‘माफी माँग ओबामा’ हैशटैग चला कर पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति की बात पर न केवल सहमति व्यक्त की है बल्कि मीम शेयर कर करके पूरे गाँधी परिवार का मजाक भी उड़ाया है।

 

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘UPTET के अभ्यर्थियों को सड़क पर गुजारनी पड़ी जाड़े की रात, परीक्षा हो गई रद्द’: जानिए सोशल मीडिया पर चल रहे प्रोपेगंडा का सच

एक तस्वीर वायरल हो रही है, जिसके आधार पर दावा किया जा रहा है कि ये उत्तर प्रदेश में UPTET की परीक्षा देने वाले अभ्यर्थियों की तस्वीर है।

बेचारा लोकतंत्र! विपक्ष के मन का हुआ तो मजबूत वर्ना सीधे हत्या: नारे, निलंबन के बीच हंगामेदार रहा वार्म अप सेशन

संसद में परंपरा के अनुरूप आचरण न करने से लोकतंत्र मजबूत होता है और उस आचरण के लिए निलंबन पर लोकतंत्र की हत्या हो जाती है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
140,547FollowersFollow
412,000SubscribersSubscribe