Wednesday, November 30, 2022
Homeराजनीतिसिद्धू ने 'गन्ना किसानों' पर अमरिंदर सरकार को घेरा, विवादित सलाहकारों को भी किया...

सिद्धू ने ‘गन्ना किसानों’ पर अमरिंदर सरकार को घेरा, विवादित सलाहकारों को भी किया तलब: पंजाब कॉन्ग्रेस में फिर वही रार

इस मामले में कॉन्ग्रेस नेता मनीष तिवारी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। प्यारे लाल गर्ग औऱ माली को देश द्रोही करार दिया। इसके साथ ही तिवारी ने कहा कि सिद्धू के दोनों सलाहकार न केवल राज्य, बल्कि देश की स्थिरता के लिए भी बड़ा खतरा हैं।

पंजाब कॉन्ग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने राज्य के गन्ना किसानों को मिलने वाले मूल्य को लेकर मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि पंजाब में हरियाणा, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड से भी कम दाम गन्ना किसानों को मिल रहा है। साथ ही सिद्धू ने कश्मीर को अलग देश बताने औऱ पूर्व पीएम इंदिरा गाँधी की विवादित तस्वीर शेयर करने पर मचे बवाल के बीच अपने दोनों सलाहकारों मालविंदर सिंह माली और प्यारे लाल गर्ग को तलब कर लिया है।

दरअसल, पहले माली ने फेसबुक पर कश्मीर को लेकर विवादित पोस्ट किया था, जिसमें केंद्र शासित प्रदेश को अलग देश बताया था। इसके बाद उन्होंने एक पोस्ट और सोशल मीडिया पर शेयर किया, जो कि पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी का था। उनके इस पोस्ट के बाद न केवल कॉन्ग्रेस में सियासी घमासान शुरू हो गया। बहरहाल, विवाद बढ़ने के बाद प्रदेश कॉन्ग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने दोनों एडवाइजरों को तलब किया है।

इस मामले में कॉन्ग्रेस नेता मनीष तिवारी ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। प्यारे लाल गर्ग औऱ माली को देश द्रोही करार दिया। इसके साथ ही तिवारी ने कहा कि सिद्धू के दोनों सलाहकार न केवल राज्य, बल्कि देश की स्थिरता के लिए भी बड़ा खतरा हैं।

एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक, तिवारी ने कहा, “1994 में संसद में सर्वसम्मति से पारित प्रस्ताव के अनुसार जम्मू औऱ कश्मीर देश का अटूट अंग है। अगर देश के बंटवारे के बाद कोई काम बचा है तो वो उन इलाकों को वापिस लेना है जिनपर पाकिस्तान का अवैध कब्जा है। ऐसे में इस तरह की बात करने वालों को पार्टी तो छोड़िए देश में रहने का अधिकार है?”

बता दें कि जो कार्टून सिद्धू के एडवाइजरों ने शेयर किया था, उसमें इंदिरा गाँधी के पीछे भी खोपडियों का ढेर लगा हुआ है और इस पेज पर पंजाबी में लिखा था, “हर जबर दी इही कहाणी, करना जबर ते मुँह दी खाणी’, अर्थात ‘हर जुल्म करने वाले की यही कहानी है अंत में उसे मुँह की खानी पड़ती है।’ एक तरह से उन्होंने सिख दंगों के लिए कॉन्ग्रेस को जिम्मेदार ठहराते हुए और स्वर्ण मंदिर में हुए ऑपरेशन ब्लू स्टार के लिए इंदिरा गाँधी का ये स्केच शेयर किया था।

इस मामले में भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा कि सिद्धू के सलाहकारों की टिप्पणी भयावह है, जो देश की खराब इमेज दिखाती है। यह कॉन्ग्रेस की विचारधारा को दिखाता है। पात्रा ने राहुल गाँधी से सवाल किया कि क्या वो जवाब देंगे कि उन्होंने सिद्धू के सलाहकार नियुक्त किए हैं?

सिद्धू ने अमरिंदर सिंह को घेरा

सलाहकारों के सोशल मीडिया पोस्ट पर मचे बवाल के बीच पंजाब कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने अपनी ही सरकार को गन्ना किसानों के बहाने घेरा है। उन्होंने कहा, “गन्ना किसानों के मुद्दे को सौहार्दपूर्ण ढंग से तत्काल हल करने की जरूरत है। अजीब बात यह है कि पंजाब में खेती की लागत अधिक होने के बावजूद राज्य का सुनिश्चित मूल्य हरियाणा/यूपी/उत्तराखंड की तुलना में बहुत कम है। कृषि के पथ प्रदर्शक के रूप में पंजाब एसएपी बेहतर होना चाहिए!”

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मौलाना साद को सौंपी जाए निजामुद्दीन मरकज की चाबियाँ’: दिल्ली HC के आदेश पर पुलिस को आपत्ति नहीं, तबलीगी जमात ने फैलाया था कोरोना

दिल्ली हाईकोर्ट ने पुलिस को तबलीगी जमात के निजामुद्दीन मरकज की चाबी मौलाना साद को सौंपने की हिदायत दी। पुलिस ने दावा किया है कि वह फरार है।

e₹-R के लिए हो जाइए तैयार, डिजिटल रुपए के लॉन्च के लिए तैयार है रिजर्व बैंक: इन 8 बैंकों से होगी लेनदेन की शुरुआत,...

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने गुरुवार (1 दिसबंर, 2022) से रिटेल डिजिटल रुपए (Digital Rupee) या ई-रुपी (e₹-R) को लॉन्च करने का ऐलान किया है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
236,110FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe