Thursday, August 5, 2021
Homeराजनीति323053 करोड़ रुपए रक्षा बजट के लिए, डिफेंस पेंशन के लिए 1.37 लाख करोड़...

323053 करोड़ रुपए रक्षा बजट के लिए, डिफेंस पेंशन के लिए 1.37 लाख करोड़ रुपए अलग से

पिछले वर्ष जारी अंतरिम बजट में भारतीय सेना के लिए 35,000 करोड़ रुपए देकर वन रेंक वन पेंशन को लागू किया था। इस बार पहले से ही उम्मीद थी कि सरकार पहली बार में ही 3 लाख करोड़ के आस-पास रक्षा का बजट पेश करेगी।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शनिवार (फरवरी 01, 2020) को अपना दूसरा और मोदी सरकार 2.0 का पहला बजट पेश किया। उन्होंने अपने शुरुआती भाषण में ही जिक्र किया कि देश का सुरक्षा मुद्दा हमारी सरकार के लिए सबसे जरूरी है। वित्त मंत्री ने कहा कि यह स्वाभाविक सी बात है कि किसी भी देश के लिए सबसे महत्वपूर्ण उसकी राष्ट्रीय सुरक्षा होती है और देश की रक्षा में ही हम सब की सुरक्षा है।

2020-21 के लिए रक्षा बजट में 3,23,053 करोड़ रुपए आवंटित किए गए हैं। पिछले बजट 2019-20 में रक्षा क्षेत्र के लिए 3.18 लाख करोड़ रुपए आवंटित किए गए थे। इस प्रकार इस वर्ष के बजट में पिछले की तुलना में लगभग 1.5% की बढ़ोतरी की गई है। रक्षा पेंशन के बजट को गत बजट के 1.17 लाख करोड़ से बढ़ाकर 1.37 लाख करोड़ किया गया है। ज्ञात हो कि इस बजट में रक्षा पेंशन बजट में की गई बढ़ोत्तरी रक्षा राजस्व व्यय और रक्षा सेवाओं पर पूँजी परिव्यय से अधिक है।

पिछले वर्ष जारी अंतरिम बजट में कार्यवाहक वित्त मंत्री पीयूष गोयल ने भारतीय सेना के लिए 35,000 करोड़ रुपए देकर वन रेंक वन पेंशन को लागू किया था। हालाँकि, इस बार पहले से ही उम्मीद है कि सरकार पहली बार में ही 3 लाख करोड़ के आस-पास रक्षा का बजट पेश करेगी।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

अगर बायोलॉजिकल पुरुषों को महिला खेलों में खेलने पर कुछ कहा तो ब्लॉक कर देंगे: BBC ने लोगों को दी खुलेआम धमकी

बीबीसी के आर्टिकल के बाद लोग सवाल उठाने लगे हैं कि जब लॉरेल पैदा आदमी के तौर पर हुए और बाद में महिला बने, तो यह बराबरी का मुकाबला कैसे हुआ।

दिल्ली में कमाल: फ्लाईओवर बनने से पहले ही बन गई थी उसपर मजार? विरोध कर रहे लोगों के साथ बदसलूकी, देखें वीडियो

दिल्ली के इस फ्लाईओवर का संचालन 2009 में शुरू हुआ था। लेकिन मजार की देखरेख करने वाला सिकंदर कहता है कि मजार वहाँ 1982 में बनी थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
113,028FollowersFollow
395,000SubscribersSubscribe