Friday, July 23, 2021
Homeराजनीतिमजदूरों को UP बॉर्डर छोड़ा, पुलिस पहुॅंची तो घर से नहीं निकले दिल्ली कॉन्ग्रेस...

मजदूरों को UP बॉर्डर छोड़ा, पुलिस पहुॅंची तो घर से नहीं निकले दिल्ली कॉन्ग्रेस अध्यक्ष: हिरासत में लिए गए अनिल चौधरी

दिल्ली पुलिस का कहना है कि कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष अनिल चौधरी ने दिल्ली-यूपी गेट पर अपने वाहनों से मजदूरों को पहुँचाया और बॉर्डर पर भीड़ का इकट्ठा किया। इस दौरान लॉकडाउन के नियमों का पालन नहीं किया गया साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग की भी धज्जियाँ उड़ाई गईं।

दिल्ली कॉन्ग्रेस अध्यक्ष अनिल चौधरी को पुलिस ने रविवार को हिरासत में ले लिया। दिल्ली पुलिस ने कहा है कि उन्होंने मजदूरों को दिल्ली-यूपी बॉर्डर तक पहुॅंचाया और इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया गया।

यूपी बॉर्डर पर अपने वाहनों से मजदूरों को पहुँचाने के आरोप में दिल्ली पुलिस ने अनिल चौधरी को उनके घर पर ही हिरासत में लिया है। चौधरी के घर से बाहर नहीं निकलने पर पुलिस ने यह कदम उठाया है।

जानकारी के मुताबिक न्यू अशोक नगर थाने की टीम रविवार (17 मई, 2020) सुबह दल्लुपुरा स्थित अनिल चौधरी के घर पर पहुँची। लेकिन चौधरी ने घर से बाहर निकलने से मना कर दिया।

दिल्ली पुलिस का कहना है कि अनिल चौधरी ने दिल्ली-यूपी गेट पर अपने वाहनों से मजदूरों को पहुँचाया और बॉर्डर पर भीड़ का इकट्ठा किया। इस दौरान लॉकडाउन के नियमों का पालन नहीं किया गया साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग की भी धज्जियाँ उड़ाई गईं।

वहीं मामले पर अनिल चौधरी का कहना है कि हिरासत में लेने का उन्हें कोई कारण नहीं बताया गया है। उन्होंने अपने ऊपर लगे आरोपों को नकारते हुए कहा है कि कॉन्ग्रेस कार्यकर्ता लॉकडाउन के दौरान मजदूरों की सिर्फ सेवा कर रहे हैं और उन्हें खाना खिला रहे हैं। अगर लोगों को खाना खिलाना गुनाह है तो वह उन्होंने किया है।

आपको बता दें कि शनिवार (16 मई, 2020) शाम को कॉन्ग्रेस नेता राहुल गाँधी ने दिल्ली के सुखदेव विहार फ्लाईओवर के पास प्रवासी मजदूरों से मुलाकात की थी। इस दौरान राहुल गाँधी ने फुटपाथ पर बैठकर उनसे बातचीत की थी और उनकी समस्याओं को सुना था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘कौन है स्वरा भास्कर’: 15 अगस्त से पहले द वायर के दफ्तर में पुलिस, सिद्धार्थ वरदराजन ने आरफा और पेगासस से जोड़ दिया

इससे पहले द वायर की फर्जी खबरों को लेकर कश्मीर पुलिस ने उनको 'कारण बताओ नोटिस' जारी किया था। उन पर मीडिया ट्रॉयल में शामिल होने का भी आरोप है।

जिस भास्कर में स्टाफ मर्जी से ‘सूसू-पॉटी’ नहीं कर सकते, वहाँ ‘पाठकों की मर्जी’ कॉर्पोरेट शब्दों की चाशनी है बस

"भास्कर में चलेगी पाठकों की मर्जी" - इस वाक्य में ईमानदारी नहीं है। पाठक निरीह है, शब्दों का अफीम देकर उसे मानसिक तौर पर निर्जीव मत बनाइए।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
110,862FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe