Saturday, August 8, 2020
Home राजनीति क्या है कॉन्ग्रेस का भविष्य: सीट शून्य, वोट शेयर 4%, 63 की जमानत जब्त,...

क्या है कॉन्ग्रेस का भविष्य: सीट शून्य, वोट शेयर 4%, 63 की जमानत जब्त, दूसरों की हार पर ख़ुशी

यह परिणाम कॉन्ग्रेस के लिए बेहद शर्मनाक हैं, क्यों दिल्ली में कॉन्ग्रेस पार्टी की 0 सीटें आना तो उतना शर्मनाक न भी हो, लेकिन 66 में से 63 सीटों पर पार्टी प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो जाना ये ज़्यादा शर्मनाक है। इसलिए पार्टी को पतन की ओर जाते देख पार्टी के नेताओं को सदमा लगना लाज़िमी है।

इस बात में कोई दो राय नहीं कि देश की आजादी के बाद से सबसे अधिक समय तक दिल्ली ही नहीं बल्कि पूरे देश पर कॉन्ग्रेस पार्टी ने राज किया है। लेकिन आज आए दिल्ली विधानसभा चुनावों के परिणाम में देश की एक बड़ी पार्टी को लगातार दूसरी बार शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा है।

एक तो हार हुई। ऊपर से 66 उम्मीदवार में से 63 कॉन्ग्रेस प्रत्याशियों की जमानत जब्त होना इस बात की गवाही देता है कि, यह हार से भी बड़ी शर्मनाक हार तो है। साथ ही यह चुनावी परिणाम दर्शाते हैं कि, कॉन्ग्रेस पतन की ओर जा रही है। यही कारण है कि दिल्ली चुनाव परिणामों के बाद कॉन्ग्रेस पार्टी के नेताओं ने अपनी ही पार्टी के नेताओं पर सवाल उठाने शुरू कर दिए हैं। दिल्ली कॉन्ग्रेस पार्टी की वरिष्ठ नेत्री और पूर्व राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी की बेटी शर्मिष्टा मुखर्जी ने में दिल्ली हार के लिए पार्टी के सर्वोच्च नेतृत्व को जिम्मेदार ठहराया है।

इससे भी बड़ी बात यह कि पार्टी के वरिष्ठ नेता इस बाद से दुखी नहीं हैं कि, दिल्ली चुनावों में कॉन्ग्रेस पार्टी की हार हुई है, बल्कि इस बात से ज़्यादा खुश हैं कि दिल्ली में भारतीय जनता पार्टी सत्ता में नहीं आ सकी। इस पर भी शर्मिष्ठा मुखर्जी ने चुटकी ली।

दिल्ली में बीजेपी के सत्ता में न आने और अरविंद केजरीवाल के दिल्ली की सत्ता में एक बार फिर से वापसी करने पर कॉन्ग्रेस की खुशी इस बात का इशारा करती है कि, पार्टी दिल्ली पहले ही हार मानकर खुलकर न सही, लेकिन अंदर खाने बीजेपी को किसी भी तरह से दिल्ली की सत्ता में न आने देने के लिए केजरीवाल को जरूर समर्थन दिया होगा।

- विज्ञापन -

ऐसे में सवाल खड़ा होता है कि देश की एक बड़ी पार्टी का चुनावी मैदान में बिना उतरे ही एक राज्य की छोटी सी पार्टी के सामने अपने सारे हथियार डाल देना। यह प्रदर्शित करता है कि राहुल गाँधी किसी भी रूप में अपने आपको मोदी के सामने खड़ा होने की हिम्मत नहीं रखते। इतना ही नहीं राहुल गाँधी की नर्वसता उस दिन साफ़ देखी गई कि, जब राहुल गाँधी दिल्ली की इकलौती अपनी जनसभा में बोल बैठे, “6 महीने बाद मोदी को देश के युवा डंडा मारेंगे।” दिल्ली में कॉन्ग्रेस की इकलौती जनसभा में दिया राहुल गाँधी का यह बयान पार्टी के गले की फाँस बन गया, जिसे लेकर कॉन्ग्रेस पार्टी के कई बड़े नेताओं को सफाई तक देनी पड़ी।

इसके बाद तो समझो कॉन्ग्रेस चुनाव प्रचार से गायब ही हो गई, लेकिन अच्छी बात यह रही कि कॉन्ग्रेस के नीरस चुनाव प्रचार का दिल्ली का जनता ने भी उसी तरह से सम्मान किया, जिस तरह से राहुल ने अपने भाषणों में देश के प्रधानमत्री नरेन्द्र मोदी का सम्मान किया था। हालाँकि, राहुल गाँधी के साथ पार्टी के पदाधिकारी पिछले साल महाराष्ट्र, राजस्थान और मध्य प्रदेश में बनी अपनी सरकार से जागी उम्मीदें भी अब समाप्त हो चुकी है।

दिल्ली हार के बाद पार्टी नेतृत्व को सदमा लगना लाज़िमी है, क्योंकि दिल्ली में शीला युग की शुरूआत 1998 से मंहगाई के बीच हुए दिल्ली चुनावों में विजय हासिल करने के साथ हुई थी। तब कॉन्ग्रेस पार्टी शीला दीक्षित के नेतृत्व में 70 में से 54 सीटों पर जीतकर आई और सरकार बनाई और वहीं सुषमा स्वराज के नेतृत्व वाली बीजेपी पार्टी को मात्र 15 सीटें लेकर करारी हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद 2003 में हुए विधानसभा चुनावों में एक बार फिर कॉन्ग्रेस को 70 में से 47 सीटें मिलीं, जबकि बीजेपी कुछ बढ़त के साथ 20 पर ही सिमट गई।

आश्चर्य तो तब हो गया कि जब 2008 में हुए विधानसभा चुनावों में शीला ने 43 सीटों के साथ दिल्ली में हैट्रिक लगा दी। कहा जाता है कि कॉन्ग्रेस पार्टी को दिल्ली में लगातार तीसरी बार मिली जीत, शीला दीक्षित की नेतृत्व क्षमता और दिल्ली में कराए विकास कार्यों का ही परिणाम था, लेकिन इसे पार्टी ने अपने हाथों से मिटा दिया।

इसके साथ ही देश में चल रही मनमोहन सिंह सरकार में मंत्रियों द्वारा किए गए भ्रष्टाचार और घोटाले एक के बाद एक उजागर होने लगे और देश में तत्कालीन केन्द्र सरकार के ख़िलाफ लोगों में उबाल पैदा होने लगा। इस आक्रोश को हवा तब मिली कि जब अन्ना ने भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ और लोकपाल की माँग को लेकर दिल्ली में आंदोलन शुरू कर दिया। इस आंदोलन का असर लोगों पर कुछ इस तरह से हुआ कि दशकों से केन्द्र की सत्ता में काबिज कॉन्ग्रेस सरकार को एक झटके में उखाड़ के फेंका और विकल्प के रूप में जनता ने नरेन्द्र मोदी को देश का प्रधानमंत्री बना दिया।

इसी बीच अन्ना के आंदोलन से एक ऐसा चेहरा लोगों के सामने आया जिसने भ्रष्टाचार की लड़ाई अन्ना के साथ लड़ी और इसी के साथ अन्ना के आंदोलन में अन्ना के सहतयोगी रहे अरविंद केजरीवाल ने अपनी नई पार्टी बनाकर दिल्ली विधासभा का चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया और पहली बार में ही यानि कि, 2013 में हुए विधानसभा चुनावों में केजरीवाल ने कॉन्ग्रेस से मिलकर सरकार तो बना ली, लेकिन आप का कॉन्ग्रेस से गठबंधन अधिक समय नहीं चला और आप ने अपने हाथ खींचते हुए ऐलान किया कि दिल्ली में काम करने के लिए जनता का पूर्ण समर्थन चाहिए।

2015 में फिर से हुए दिल्ली चुनावों में कुछ ऐसा ही परिणाम आया जैसा कि केजरीवाल को अपेक्षा थी। केजरीवाल ने 70 में से 67 सीटों पर अपनी जीत हासिल कर सरकार बना ली। कुछ ऐसा ही हुआ आज आए परिणाम में कि, आप सरकार ने सभी को पछाड़ते हुए दिल्ली में दोबारा पूर्ण बहुमत से अधिक सीटें हासिल की है। वहीं बीजेपी ने जरूर पिछले वर्ष की अपेक्षा बेहतर प्रदर्शन करते हुए सीटों में बढ़ोत्तरी की है।

यह परिणाम कॉन्ग्रेस के लिए बेहद शर्मनाक हैं, क्यों दिल्ली में कॉन्ग्रेस पार्टी की 0 सीटें आना तो उतना शर्मनाक न भी हो, लेकिन 66 में से 63 सीटों पर पार्टी प्रत्याशियों की जमानत जब्त हो जाना ये ज़्यादा शर्मनाक है। इसलिए पार्टी को पतन की ओर जाते देख पार्टी के नेताओं को सदमा लगना लाज़िमी है।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

सुशांत के नाम पर बिहार को गाली, बिहारी परिवारों को बताया जहरीला: शेखर गुप्ता की वेबसाइट की करतूत पर रवीश भी चुप

शेखर गुप्ता की वेबसाइट पर प्रकाशित लेख में कहा गया है कि 'विषाक्त' बिहारी परिवारों में बच्चों पर श्रवण कुमार बनने की जिम्मेदारी होती है। बिहारी रवीश कुमार प्रदेश के अपमान पर चुप हैं।

‘आधी उम्र की लड़कियों से रोमांस..’: अक्षय कुमार ने राम मंदिर का किया स्वागत तो भड़की AltNews की पत्रकार

ऑल्ट न्यूज़ अब हिंदू घृणा के निम्नतम स्तर पर उतर आया है। उसके पत्रकार ने अक्षय कुमार को निशाना बनाया क्योंकि उन्होंने राम मंदिर भूमिपूजन का स्वागत किया।

दिशा सालियान की आखिरी रात की पूरी कहानी: ‘मौत’ से 1 घंटे पहले का वीडियो आया सामने, सुसाइड थ्योरी पर उठे कई नए सवाल

सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो को देख कर हर किसी के मन में यहीं सवाल है कि इतनी खुश दिखने वाली दिशा ने आखिर क्यों कुछ समय बाद सुसाइड कर लिया?

सुशांत सिंह राजपूत इतने बड़े स्टार नहीं थे कि मुंबई पुलिस पर इतना दबाव डाला जाए: राजदीप सरदेसाई

“लोगों ने पुलिस पर अपना भरोसा खो दिया है। सार्वजनिक संस्थानों, IPS अधिकारियों पर सवाल उठ रहे हैं, चाहे वह मुंबई हो या बिहार पुलिस। क्या वे वास्तव में निष्पक्ष जाँच कर रहे हैं? सुशांत सिंह राजपूत इतने बड़े स्टार नहीं थे कि मुंबई पुलिस पर इतना दबाव डाला जाए।"

इधर राम मंदिर का भूमिपूजन, उधर ‘Burnol’ के सर्च में भारी उछाल: नॉर्थ-ईस्ट ने दिखाई सबसे ज्यादा दिलचस्पी

5 अगस्त 2020 को अयोध्या में राम मंदिर भूमिपूजन के दौरान बर्नोल के सर्च में अप्रत्याशित वृद्धि देखी गई।

हिन्दुओं को गाली, लेकिन बुर्का, शरिया, मौलाना, मदरसा पर चुप्पी: जस्टिस काटजू ने ‘सेकुलर’ गैंग को लताड़ा

कन्हैया कुमार, शेहला रशीद, उमर खालिद, आरफा खानम, राणा अयूब सबको एक साथ सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जज काटजू ने निशाने पर लिया है और इनके कथित सेकुलरिज्म को धो दिया है।

प्रचलित ख़बरें

कॉल रिकॉर्ड से खुली रिया चकवर्ती की कुंडली: मुंबई के DCP के संपर्क में थी, महेश भट्ट का भी नाम

रिया चक्रवर्ती की कॉल डिटेल से पता चला है कि वह मुंबई पुलिस के एक टॉप अधिकारी के संपर्क में थी।

मस्जिद में कुरान पढ़ती बच्ची से रेप का Video आया सामने, मौलवी फरार: पाकिस्तान के सिंध प्रांत की घटना

पाकिस्तान के सिंध प्रान्त स्थित कंदियारो की एक मस्जिद में बच्ची से रेप का मामला सामने आया है। आरोपित मौलवी अब्बास फरार बताया जा रहा है।

‘घुस के मारो सालों को’: बंगाल में मुस्लिम भीड़ ने राम की पूजा कर रहे हिंदुओं को बनाया निशाना, देखें Video

राम मंदिर भूमिपूजन के मौके पर बंगाल में कई जगहों पर पूजा आयोजित की गई थी। इन्हें मुस्लिम भीड़ ने चुन-चुनकर निशाना बनाया।

असम: राम मंदिर का जश्न मना रहे बजरंगदल कार्यकर्ताओं से मुस्लिमों ने की हिंसक झड़प, 25 को बनाया बंधक, कर्फ्यू

झड़प के दौरान पाकिस्तान के समर्थन में भी नारे लगे गए और मुस्लिम युवकों ने बजरंगदल के करीब 25 कार्यकर्ताओं को बंधक भी बना दिया।

जैसे-जैसे खुल रही परतें, रिया चकवर्ती पर कसता जा रहा शिकंजा: सुशांत की मौत में गर्लफ्रेंड के ‘विलेन’ बनने की पूरी कहानी

14 जून को सुशांत घर में लटके मिले थे। शुरू में सुसाइड लग रहा मामला आगे बढ़ा और संदेह के दायरे में आई रिया चकवर्ती। क्या हुए हैं खुलासे? पढ़िए, सब कुछ।

अच्छी बेगम बनो, जिसने मुसलमान बनाया उसके पास जाओ: 14 साल की ईसाई बच्ची के आँसू से भी नहीं पसीजा लाहौर हाई कोर्ट

मारिया शाहबाज को इस साल अप्रैल में अगवा किया गया था। स्थानीय अदालत ने उसे पुनर्वास केंद्र भेजने का आदेश दिया था, जिसे लाहौर हाई कोर्ट ने पलट दिया।

सुशांत के नाम पर बिहार को गाली, बिहारी परिवारों को बताया जहरीला: शेखर गुप्ता की वेबसाइट की करतूत पर रवीश भी चुप

शेखर गुप्ता की वेबसाइट पर प्रकाशित लेख में कहा गया है कि 'विषाक्त' बिहारी परिवारों में बच्चों पर श्रवण कुमार बनने की जिम्मेदारी होती है। बिहारी रवीश कुमार प्रदेश के अपमान पर चुप हैं।

एनकाउंटर के डर से विकास दुबे का साथी गले में तख्ती लटकाकर UP पुलिस के सामने हुआ दंडवत, कहा- मुझ पर रहम करो

विकास दुबे का सहयोगी उमाकांत उन 21 वांछित अपराधियों में शुमार था, जिनकी पुलिस बिकरू हत्याकांड के बाद से तलाश कर रही थी। अब किया सरेंडर।

‘आधी उम्र की लड़कियों से रोमांस..’: अक्षय कुमार ने राम मंदिर का किया स्वागत तो भड़की AltNews की पत्रकार

ऑल्ट न्यूज़ अब हिंदू घृणा के निम्नतम स्तर पर उतर आया है। उसके पत्रकार ने अक्षय कुमार को निशाना बनाया क्योंकि उन्होंने राम मंदिर भूमिपूजन का स्वागत किया।

बच्चों से अधनंगे बदन पर पेंटिंग करवाने वाली रेहाना फातिमा ने किया आत्मसमर्पण: SC ने खारिज कर दी थी अग्रिम जमानत याचिका

केरल के सबरीमाला स्थित भगवान अयप्पा मंदिर में घुसने की कोशिश करने और साजिशन अपनी सोशल मीडिया पोस्ट से श्रद्धालुओं की भावनाओं को भड़काने को लेकर विवादों में आई एक्टिविस्ट रेहाना फातिमा ने शनिवार की शाम को एर्नाकुलम साउथ पुलिस स्टेशन में आत्मसमर्पण कर दिया।

दिशा सालियान की आखिरी रात की पूरी कहानी: ‘मौत’ से 1 घंटे पहले का वीडियो आया सामने, सुसाइड थ्योरी पर उठे कई नए सवाल

सोशल मीडिया पर वायरल इस वीडियो को देख कर हर किसी के मन में यहीं सवाल है कि इतनी खुश दिखने वाली दिशा ने आखिर क्यों कुछ समय बाद सुसाइड कर लिया?

पिछली सरकारों ने नहीं दिया अयोध्या पर ध्यान, CM योगी के नेतृत्व में होगा राम जन्मस्थान का विकास: अयोध्या के शाही सदस्य

“इससे पहले अन्य लोग सरकार में थे, उन्होंने अयोध्या पर बिल्कुल ध्यान नहीं दिया। यहाँ किसी तरह का विकास कार्य नहीं हुआ करता था। अब पूरे अयोध्या और यहाँ तक ​​कि भारत को भी उम्मीद है कि यह एक सुंदर शहर बनकर उभरेगा।”

सुशांत सिंह राजपूत इतने बड़े स्टार नहीं थे कि मुंबई पुलिस पर इतना दबाव डाला जाए: राजदीप सरदेसाई

“लोगों ने पुलिस पर अपना भरोसा खो दिया है। सार्वजनिक संस्थानों, IPS अधिकारियों पर सवाल उठ रहे हैं, चाहे वह मुंबई हो या बिहार पुलिस। क्या वे वास्तव में निष्पक्ष जाँच कर रहे हैं? सुशांत सिंह राजपूत इतने बड़े स्टार नहीं थे कि मुंबई पुलिस पर इतना दबाव डाला जाए।"

आजमगढ़ के कबीरुद्दीनपुर में क्षतिग्रस्त कर दी गई भगवान शिव की प्रतिमा: फरार हुए आरोपित, क्षेत्र में तनाव

ये घटना अतरौलिया थाना क्षेत्र के शेखपुरा कबीरूद्दीनपुर गाँव की है, जहाँ ग्राम समाज की ही जमीन पर 15 वर्ष पहले शिव मंदिर की स्थापना की गई थी।

अयोध्या राम मंदिर 1000 साल तक रहेगी पूरी तरह सुरक्षित: भूकंप जैसी प्राकृतिक आपदा भी कुछ बिगाड़ नहीं पाएगी

राम मंदिर का निर्माण कुछ इस तरह होगा कि इस पर किसी प्रकार के कोई प्राकृतिक आपदाओं का असर नहीं होगा। हजारों सालों तक इस पर भूकंप जैसे प्राकृतिक आपदाओं का भी कोई असर नहीं होगा।

कर्नाटक: मंदिरों से दानपेटी हटाते पुजारियों का वीडियो फिर वायरल, सरकारी नियंत्रण का कर रहे थे विरोध

कर्नाटक के पुजारियों का वह वीडियो फिर से वायरल हो रहा है जब उन्होंने मंदिरों से दानपेटी हटा दी थी। ऐसा मंदिरों पर सरकारी नियंत्रण के विरोध में किया गया था।

हमसे जुड़ें

244,817FansLike
64,481FollowersFollow
293,000SubscribersSubscribe
Advertisements