Wednesday, June 29, 2022
Homeराजनीति80 घंटों में ही किसानों को ₹5380 करोड़ दे गए फडणवीस, वर्ल्ड बैंक से...

80 घंटों में ही किसानों को ₹5380 करोड़ दे गए फडणवीस, वर्ल्ड बैंक से राज्य को दिलाए ₹3500 करोड़

वर्ल्ड बैंक के प्रतिनिधियों से बाढ़ और सूखे से निपटने के लिए किए जाने वाले उचित प्रबंधन पर चर्चा की। वर्ल्ड बैंक इस प्रोजेक्ट पर 3500 करोड़ रुपए ख़र्च करेगा। 10,000 गाँवों के 20 लाख किसानों को कॉर्पोरेट से जोड़ा जाएगा।

देवेंद्र फडणवीस का मुख्यमंत्री के रूप में दूसरा कार्यकाल लगभग 80 घंटों का ही रहा, लेकिन इतने कम समय में ही वो किसानों को काफ़ी कुछ देकर गए। फडणवीस ने दिल्ली जाकर गृहमंत्री अमित शाह से किसानों की समस्याओं पर बात की। उन्होंने महाराष्ट्र के किसानों की समस्याओं को केंद्र सरकार के सामने रखा। राष्ट्रपति शासन लगने और राजनीतिक अस्थिरता होने के कारण मौसम से परेशान किसानों की हालत बेहाल थी। ऐसे में, शनिवार (नवंबर 23, 2019) को सुबह शपथ लेते ही फडणवीस ने किसानों के मुद्दे को प्राथमिकता दी और काम पर लग गए।

महाराष्ट्र के किसान बेमौसम बरसात से बेहाल थे। फडणवीस ने तुरंत 5380 करोड़ रुपए का कंटिंजेंसी फंड जारी कर उनकी परेशानी को कम करने की दिशा में प्रयास किया। किसानों को वित्तीय मदद मुहैया कराई गई। उससे पहले फडणवीस और उनके डिप्टी रहे अजित पवार ने बैठक कर के किसानों की समस्याओं पर बातचीत की। उन्होंने किसानों की तत्काल मदद के लिए उपलब्ध विकल्पों पर विचार-विमर्श किया। अगले ही दिन उन्होंने राज्य के मुख्य सचिव और वित्तीय सचिव से मुलाक़ात कर इस बारे में और अधिक चर्चा की।

अपने दूसरे कार्यकाल में फडणवीस ने पहला हस्ताक्षर सीएम रिलीफ फण्ड के एक चेक पर किया। ये चेक कुसुम वेंगुर्लेकर नामक महिला को दिया गया। इस दौरान उन्होंने ‘वर्ल्ड बैंक’ के प्रतिनिधियों से भी मुलाक़ात की। इस बैठक में बाढ़ और सूखे से निपटने के लिए किए जाने वाले उचित प्रबंधन पर चर्चा की गई। वर्ल्ड बैंक इस प्रोजेक्ट पर 3500 करोड़ रुपए ख़र्च करेगा। इसके अलावा इस बैठक में 10,000 गाँवों के 20 लाख किसानों को सीधा बाजार से जोड़ने पर भी चर्चा हुई। ‘स्मार्ट विलेज’ प्रोजेक्ट के माध्यम से किसान सीधा कॉर्पोरेट से जुड़ जाएँगे।

सोशल मीडिया पर भी लोगों ने देवेंद्र फडणवीस के इस्तीफे को लेकर निराशा जताई। उनकी पत्नी अमृता फडणवीस ने इन पंक्तियों के माध्यम से अपने दिल की बात रखी:

पलट के आऊँगी शाखों पे खुशबुएँ लेकर,
खिज़ाँ की ज़द में हूँ मौसम ज़रा बदलने दे!

मात्र साढ़े तीन दिन तक मुख्यमंत्री रहने के बाद देवेंद्र फडणवीस ने मंगलवार को राज्यपाल को अपना इस्तीफा सौंप दिया था। उप-मुख्यमंत्री अजित पवार उससे पहले ही इस्तीफा दे चुके थे। हालाँकि, नए मुख्यमंत्री के पद संभालने तक फडणवीस केयरटेकर सीएम बने रहेंगे। उद्धव ठाकरे को शिवसेना, एनसीपी और कॉन्ग्रेस के विधायकों ने अपना नेता चुन लिया है।

फडणवीस ने किसानों की समस्याओं के लिए बुलाई कैबिनेट बैठक: शिवसेना के 6 मंत्री हुए शामिल

महाराष्ट्र में खींचतान के बीच इस किसान ने राज्यपाल को लिखा पत्र, कहा- किसानों के लिए मुश्किल वक्त, मुझे बना दो CM

महाराष्ट्र सरकार की चेतावनी के बाद चीनी मीलों ने किसानों का किया बकाया भुगतान

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘इस्लाम ज़िंदाबाद! नबी की शान में गुस्ताखी बर्दाश्त नहीं’: कन्हैया लाल का सिर कलम करने का जश्न मना रहे कट्टरवादी, कह रहे – गुड...

ट्विटर पर एमडी आलमगिर रज्वी मोहम्मद रफीक और अब्दुल जब्बार के समर्थन में लिखता है, "नबी की शान में गुस्ताखी बर्दाश्त नहीं।"

कमलेश तिवारी होते हुए कन्हैया लाल तक पहुँचा हकीकत राय से शुरू हुआ सिलसिला, कातिल ‘मासूम भटके हुए जवान’: जुबैर समर्थकों के पंजों पर...

कन्हैयालाल की हत्या राजस्थान की ये घटना राज्य की कोई पहली घटना भी नहीं है। रामनवमी के शांतिपूर्ण जुलूसों पर इस राज्य में पथराव किए गए थे।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
200,277FollowersFollow
416,000SubscribersSubscribe