Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिडॉ राजेन्द्र सिंह सुसाइड केस: 4 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजे गए आप...

डॉ राजेन्द्र सिंह सुसाइड केस: 4 दिन की पुलिस रिमांड पर भेजे गए आप MLA प्रकाश जरवाल, अदालत ने कहा- पूछताछ जरूरी

अदालत ने कहा कि आरोपितों को हिरासत में लेकर पूछताछ किया जाना जरूरी है। मजिस्ट्रेट ने कहा, "जाँच शुरुआती चरण में है और आरोपितों से जबरन वसूली के दस्तावेजों की बरामदगी और टैंकर माफिया की भूमिका सुनिश्चित होनी अभी बाकी है।"

आप नेता प्रकाश जरवाल को डॉक्टर राजेन्द्र सिंह के सुसाइड केस में उनके साथी कपिल नागर समेत शनिवार (मई 9, 2020) को गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी के बाद दिल्ली की कोर्ट ने उन्हें रविवार को 4 दिन की पुलिस रिमांड में भेज दिया।

कोर्ट में जरवाल की पेशी के दौरान दिल्ली पुलिस ने दोनों आरोपितों से पूछताछ के लिए 10 दिन की रिमांड माँगी। जिसके बाद, विधायक के वकील इरशाद ने याचिका का विरोध किया।

इरशाद ने कहा कि इस मामले में आप नेता को जानबूझकर फँसाया गया है और वे जरूरत पड़ने पर पुलिस का सहयोग करने के लिए तैयार हैं। वहीं, दिल्ली पुलिस की ओर से पेश वकील ने जरवाल के ऊपर लगे इल्जामों को संगीन बताया और कहा कि मामले में जाँच अपने प्राथमिक चरण पर है और दोनों आरोपितों से पूछताछ करना बाकी है।

दोनों पक्षों की बात सुनने के बाद ड्यूटी मजिस्ट्रेट नितिका कपूर ने इस दौरान पुलिस की याचिका को मंजूर करते हुए आरोपितों को 4 दिन पुलिस रिमांड पर भेजने का आदेश दिया।

इस मामले के संबंध में अदालत ने कहा कि आरोपितों को हिरासत में लेकर पूछताछ किया जाना जरूरी है। मजिस्ट्रेट ने कहा, “जाँच शुरुआती चरण में है और आरोपितों से जबरन वसूली के दस्तावेजों की बरामदगी और टैंकर माफिया की भूमिका सुनिश्चित होनी अभी बाकी है।”

बता दें, इससे पहले इस मामले में कोर्ट ने जरवाल और नागर के खिलाफ आठ मई को गैर जमानती वारंट जारी किया था और दोनों के गायब होने के कारण परिजनों से पूछताछ की जा रही थी।

डॉक्टर का सुसाइड नोट

उल्लेखनीय है कि पिछले महीने 18 अप्रैल को दिल्ली के नेब सराय इलाके में 52 वर्षीय डॉक्टर राजेन्द्र सिंह ने फाँसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी। मृतक के पास से एक 2 पेज का सुसाइड नोट मिला था जिसमें उन्होंने आत्महत्या के लिए इलाके के विधायक प्रकाश जरवाल और उनके सहयोगी कपिल को जिम्मेदार ठहराया था।

इसके अतिरिक्त पुलिस ने एक डायरी भी बरामद की थी, जिसमें लिखा था, “मेरा इस इलाके में एक क्लीनिक है और मेरे कुछ वाटर टैंकर दिल्ली जल बोर्ड में किराए पर चलते थे, लेकिन एमएलए प्रकाश जरवाल और उसका सहयोगी कपिल नागर मुझसे हर टैंकर के हिसाब से पैसे माँगने लगे। कुछ पैसे दिए भी गए लेकिन बाद में मेरे सभी टैंकर प्रकाश जरवाल ने दिल्ली जल बोर्ड से हटवा दिया।”

सुसाइड नोट में लिखा था, “टैंकरों को दिल्ली जल बोर्ड से हटवाने के बाद जब उन्हें ओखला के दिल्ली जल बोर्ड में लगवाया गया तो टैंकरों को वहाँ से भी प्रकाश जरवाल द्वारा हटवा दिया गया।” सुसाइड नोट के अनुसार प्रकाश जरवाल और उसके सहयोगी से उन्हें जान से मारने की धमकी भी मिल रही थी और धमकियों के कारण उनका जीना मुश्किल हो गया था।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

6 साल के जुड़वा भाई, अगवा कर ₹20 लाख फिरौती ली; फिर भी हाथ-पैर बाँध यमुना में फेंका: ढाई साल बाद इंसाफ

मध्य प्रदेश स्थित सतना जिले के चित्रकूट में दो जुड़वा भाइयों के अपहरण और हत्या के मामले में 5 दोषियों को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई है।

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe