Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीति'कॉन्ग्रेस नेता फैला रहे भ्रम, अमित शाह ने 150 जिलाधिकारियों को किया कॉल तो...

‘कॉन्ग्रेस नेता फैला रहे भ्रम, अमित शाह ने 150 जिलाधिकारियों को किया कॉल तो सबूत दिखाएँ’ : जयराम रमेश को चुनाव आयोग ने भेजा नोटिस

नोटिस में कहा गया है कि आचार संहिता के दौरान सभी जिलाधिकारी सीधे तौर पर चुनाव आयोग को रिपोर्ट कर रहे हैं लेकिन अब तक किसी ने भी इस प्रकार की कोई शिकायत दर्ज नहीं करवाई है। आयोग ने बताया है कि जयराम रमेश द्वारा किए गए दावों से भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है।

कॉन्ग्रेस नेता जयराम रमेश ने शनिवार (1 जून 2024) को अपने X हैंडल पर एक विवादित पोस्ट किया था। इस पोस्ट में उन्होंने दावा किया था कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह कई जिलों के DM को सीधे कॉल करके धमका रहे हैं। जयराम रमेश ने यह भी दावा किया था कि अब तक 150 जिलाधिकारियों से अमित शाह की बात हो चुकी है। अब इस पोस्ट का चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया है। आयोग ने नोटिस जारी करके जयराम रमेश से इस दावे के सबूत माँगे हैं। इन सबूतों के साथ कॉन्ग्रेस नेता को जवाब देने के लिए रविवार (2 जून) तक का समय दिया गया था। जवाब देने के बजाय जयराम रमेश ने उलटे चुनाव आयोग की ही निष्पक्षता पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

दरअसल, जयराम रमेश ने शनिवार (1 जून) को अपने X हैंडल पर एक पोस्ट शेयर की थी। इस पोस्ट में उन्होंने लिखा, “निवर्तमान गृह मंत्री आज सुबह से ज़िला कलेक्टर्स से फ़ोन पर बात कर रहे हैं। अब तक 150 अफ़सरों से बात हो चुकी है। अफ़सरों को इस तरह से खुल्लमखुल्ला धमकाने की कोशिश निहायत ही शर्मनाक है एवं अस्वीकार्य है। याद रखिए कि लोकतंत्र धमकियों से नहीं बल्कि जनादेश से चलता है। 4 जून को आ रहे जनादेश के अनुसार नरेन्द्र मोदी, अमित शाह और भाजपा सत्ता से बाहर होगी। INDIA जनबंधन विजयी होगा। अफ़सरों को किसी प्रकार के दबाव में नहीं आना चाहिए व संविधान की रक्षा करनी चाहिए। उन पर हमारी नजर है।”

जयराम रमेश द्वारा की गई इसी पोस्ट के अगले दिन रविवार (2 जून) को भारत निर्वाचन आयोग के अधिकारी सुमन कुमार दास ने उन्हें नोटिस जारी किया है। नोटिस में कहा गया है कि आचार संहिता के दौरान सभी जिलाधिकारी सीधे तौर पर चुनाव आयोग को रिपोर्ट कर रहे हैं लेकिन अब तक किसी ने भी इस प्रकार की कोई शिकायत दर्ज नहीं करवाई है। आयोग ने बताया है कि जयराम रमेश द्वारा किए गए दावों से भ्रम की स्थिति पैदा हो रही है। चुनाव आयोग ने कॉन्ग्रेस नेता से 2 जून तक उनके दावों को प्रमाणित करने वाले सबूत देने को कहा है।

खुद को मिली इस नोटिस पर जयराम रमेश ने सीधे-सीधे कोई जवाब नहीं दिया। उन्होंने चुनाव आयोग की ही निष्पक्षता पर ही सवाल खड़े कर दिए। दावों का सबूत पेश करने के बजाय जयराम रमेश आरोप लगाने लगे कि चुनाव आयोग उन शिकायतों पर ध्यान नहीं देता जो भाजपा के विरोध में की जाती हैं। टाइम्स नाउ से बात करते हुए उन्होंने यह भी साफ़ नहीं किया कि वो चुनाव आयोग की इस नोटिस का क्या और कब जवाब देंगे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -