Saturday, July 20, 2024
Homeराजनीति'रामदेव का लश्कर से कनेक्शन, धीरेंद्र शास्त्री बहुरूपिया': JDU के गुलाम रसूल बलियावी के...

‘रामदेव का लश्कर से कनेक्शन, धीरेंद्र शास्त्री बहुरूपिया’: JDU के गुलाम रसूल बलियावी के बहके बोल, कहा- मोदी पाकिस्तान से डरते हैं तो सेना में 30% मुस्लिम भर्ती करें

बलियावी वही नेता हैं जिन्होंने कुछ दिन पहले शहर का शहर को कर्बला बनाने की बात कहते हुए नुपूर शर्मा को पागल औरत करार दिया था।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड (JDU) के वरिष्ठ नेता और पूर्व एमएलसी गुलाम रसूल बलियावी ने फिर से विवादित बयान दिया है। रविवार (12 फरवरी 2023) को उन्होंने बागेश्वर धाम सरकार पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री को बहुरूपिया बता डाला। इतना ही नहीं बाबा रामदेव का पाकिस्तान आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से संबंध होने का दावा किया। कहा कि यदि मोदी पाकिस्तान से डरते हैं तो सेना में 30 फीसदी मुस्लिमों को भर्ती करें।

बिहार के नवादा में आयोजित मरकजी इदारा-ए-शरिया की ओर से आयोजित कार्यक्रम में बलियावी बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि बाबा रामदेव को दी गई जमीन और उनके प्रोडक्ट्स की जाँच होनी चाहिए। उनका जितना माल बिक रहा है और वह कहाँ-कहाँ से बनकर आ रहा है, इसकी भी जाँच होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि रामदेव भारतीय नहीं हैं। उनकी संपत्ति की जाँच होनी चाहिए। 

बलियावी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मादी पर निशाना साधते हुए कहा कि अगर उन्हें पाकिस्तान से निपटने में डर लग रहा है तो सिर्फ 30 प्रतिशत मुसलमानों को फौज में जगह देकर देखना चाहिए। उन्होंने कहा, “जब पाकिस्तान मिसाइल बनाकर दिखा रहा था तो नागपुर के कोई बाबा जवाब देने नहीं आए थे। एक मुसलमान का बेटा एपीजे अब्दुल कलाम सामने आया था।”

वहीं बागेश्वर धाम के महंत पंडित धीरेंद्र शास्त्री को बहरूपिया बताते हुए कहा, “पता नहीं वे कौन हैं। मैं उनके बारे में नहीं जानता। मैं संविधान और अदालत को जानता हूँ। इस तरह के बहरूपिया की हमारे देश में कोई जगह नहींं है। कोई कपड़ा और मेकअप के सहारे हमारे देश को गुमराह नहीं कर सकता।” बलियावी ने कहा कि देश में दलितों की तरह मुसलमानों के लिए भी एक्ट बनना चाहिए। मुसलमानों की सुरक्षा के लिए कानून बनाए जाने की जरूरत है।

बलियावी वही नेता हैं जिन्होंने कुछ दिन पहले शहर का शहर को कर्बला बनाने की बात कहते हुए नुपूर शर्मा को पागल औरत करार दिया था। जदयू नेता ने झारखंड के हजारीबाग में 18 जनवरी, 2023 को कहा था, “मेरे आका की इज्जत पर हाथ डालोगे तो अभी तो हम कर्बला मैदान में इकट्ठा हुए हैं, उनकी इज्जत के लिए हम शहरों को भी कर्बला बना देंगे। खुद को सेक्युलर बताने वाली राजनीतिक पार्टियों ने भी नूपुर शर्मा की गिरफ़्तारी की माँग नहीं की। कोई रियायत नहीं होगी, क्योंकि मेरी ज़िन्दगी मेरी नहीं है और मेरी साँसें भी मेरी नहीं हैं। जीने की तमन्ना वो करे, जिसके पास रसूल का नूर न हो। हम तो इसी आरजू-तमन्ना से जीते आए हैं कि मरने के बाद एक ऐसा दिन तो आएगा, जब कोई नहीं रहेगा।”

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

दिल्ली हाईकोर्ट ने शिव मंदिर के ध्वस्तीकरण को ठहराया जायज, बॉम्बे HC ने विशालगढ़ में बुलडोजर पर लगाया ब्रेक: मंदिर की याचिका रद्द, मुस्लिमों...

बॉम्बे हाईकोर्ट ने मकबूल अहमद मुजवर व अन्य की याचिका पर इंस्पेक्टर तक को तलब कर लिया। कहा - एक भी संरचना नहीं गिराई जाए। याचिका में 'शिवभक्तों' पर आरोप।

आरक्षण पर बांग्लादेश में हो रही हत्याएँ, सीख भारत के लिए: परिवार और जाति-विशेष से बाहर निकले रिजर्वेशन का जिन्न

बांग्लादेश में आरक्षण के खिलाफ छात्र सड़कों पर उतर आए हैं। वहाँ सेना को तैनात किया गया है। इससे भारत को सीख लेने की जरूरत है।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -