Tuesday, June 25, 2024
HomeराजनीतिIndia Fights Corona: PM मोदी ने जानें लोगों के विचार, कहा- इससे निपटने के...

India Fights Corona: PM मोदी ने जानें लोगों के विचार, कहा- इससे निपटने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेंगे

पीएम मोदी ने एक जिम्मेदार नागरिक के कर्तव्यों को उल्लेखित करते हुए आशा जताई कि कोई भी ऐसा कोई कार्य नहीं करेगा, जिससे दूसरे लोगों की जान संकट में पड़े। इसी तरह पालकी शर्मा ने अपने कुछ दोस्तों के अनुभव शेयर किए कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए भारत में काफ़ी तैयारी है और सरकार लगातार प्रयास कर रही है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोरोना वायरस के खतरे से निपटने को गंभीर नज़र आ रहे हैं। न सिर्फ़ वो जनता को सावधानी व बचाव के उपायों से अवगत करा रहे हैं बल्कि उनकी सरकार भी विभिन्न माध्यमों से इस खतनाक वायरस के प्रसार को रोकने में जुटी है। ख़ुद मोदी दक्षिण एशियाई देशों सहित अन्य राष्ट्रों के साथ तालमेल बिठा कर काम करने में लगे हुए हैं। इसी क्रम में उन्होंने सोशल मीडिया पर बताया कि भारत किस तरह कोरोना से लड़ रहा है। उन्होंने कहा कि लोगों जिस तरह से अपने अनुभव शेयर कर रहे हैं, उससे डॉक्टरों, नर्सों, कर्मचारियों और एयरपोर्ट स्टाफों को अपना काम करने के लिए और प्रोत्साहन मिलेगा।

अंशु नामक ट्विटर यूजर ने बताया कि उन्होंने अपनी सारी बैठकें रद्द कर दी हैं और बिजनेस के सिलसिले में यात्रा करना भी बंद कर दिया है। पीएम मोदी ने इसे बुद्धिमता भरा निर्णय बताया। उन्होंने कहा कि भीड़भाड़ से जितना बच कर रहें, उतना अच्छा है।

सिंगापुर से लौटे हेमंत राठी ने बताया कि उनके घर पर मेडिकल अधिकारियों ने आकर उनका चेकअप किया। उन्होंने बताया कि माइग्रेशन के दौरान भरे जाने वाले फॉर्म्स को ही विदेश से लौटने वालों की पहचान और मेडिकल चेकअप के लिए प्रयोग किया जा रहा है। पीएम मोदी ने उनका जवाब देते हुए लिखा कि लोगों को स्वस्थ रखने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी जा रही है, विभिन्न अधिकारी लगातार इस काम में लगे हुए हैं ताकि COVID-19 न फैले।

पत्रकार कुषाण मित्रा ने बताया कि उनके एक मित्र शताब्दी एक्सप्रेस से यात्रा कर रहे थे। उन्हें तुरंत अधिकारियों का मैसेज आया कि वो जल्द से जल्द अपना मेडिकल चेकअप कराएँ। पीएम मोदी ने इस ट्वीट के जवाब में एक जिम्मेदार नागरिक के कर्तव्यों को उल्लेखित करते हुए आशा जताई कि कोई भी ऐसा कोई कार्य नहीं करेगा, जिससे दूसरे लोगों की जान संकट में पड़े। इसी तरह पालकी शर्मा ने अपने कुछ दोस्तों के अनुभव शेयर किए, जिन्होंने बताया था कि कोरोना वायरस से निपटने के लिए भारत में काफ़ी तैयारी है और सरकार लगातार प्रयास कर रही है।

आरके मिश्रा ने बताया कि किस तरह से न्यू जर्सी से दिल्ली लौटे एक व्यक्ति ने देखा कि वहाँ एयरपोर्ट पर जाँच की पूरी सुविधा थी और ऐरोप्लेन के दरवाजे पर ही सारे यात्रियों का सिलसिलेवार तरीके से चेकअप किया जा रहा था। इस ट्वीट का जवाब देते हुए पीएम मोदी ने लिखा कि उनकी सरकार लगातार प्रयासरत है कि सभी स्वस्थ रहें और जिनमें जरा भी इस वायरस के लक्षण दिखें, उनका तुरंत इलाज हो। इसी तरह श्रीलंका से लौटे संदीप नेगी ने बताया कि एयरपोर्ट के कोने-कोने पर सैनिटाइजर रखा हुआ है और स्क्रीनिंग के लिए पूरी व्यवस्था है। पीएम मोदी ने कहा कि सबके साझा प्रयासों से ये सब संभव हो पाया है।

इसी तरह पीएम मोदी ने लोगों के अनुभवों को जाना और अपनी राय रखी। उनका प्रमुख रूप से ये कहना था कि डॉक्टर, नर्स, सरकारी कर्मचारी और एयरपोर्ट स्टाफ मिल कर कोरोना वायरस से लड़ने और बचाव के लिए प्रयास कर रहे हैं, उसमें जनता का सहयोग भी होना चाहिए और पब्लिक को अपने कर्तव्यों का निर्वहन करना चाहिए, ताकि दूसरो की जान पर संकट न आए। पीएम मोदी ने सार्क देशों के प्रमुखों के साथ बैठक कर के भी एक-दूसरे के विचार साझा किए थे।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -