Wednesday, July 28, 2021
Homeराजनीतिकॉन्ग्रेस मजबूर थी मजबूत नहीं, हम उनके खिलाफ जीतकर आएँ हैं: दिग्विजय चौटाला

कॉन्ग्रेस मजबूर थी मजबूत नहीं, हम उनके खिलाफ जीतकर आएँ हैं: दिग्विजय चौटाला

“कल तक वे (कॉन्ग्रेस) कह रही थी कि यह (BJP-JJP गठबंधन) लोगों के जनादेश के खिलाफ है। हम उनके खिलाफ भी जीतकर आए हैं। कॉन्ग्रेस संख्या नहीं जुटा सकी।” उन्होंने कॉन्ग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि वो ‘मज़बूर थी मज़बूत नहीं।’

हरियाणा में मनोहर लाल खट्टर ने रविवार (अक्टूबर 27, 2019) हरियाणा के सीएम पद की दूसरी बार शपथ ली। वहीं जेजेपी के नेता दुष्यंत चौटाला ने राज्य के उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। इस दौरान जननायक जनता पार्टी (JJP) के चीफ दुष्यंत चौटाला के भाई दिग्विजय चौटाला ने मीडिया से बात करते हुए कॉन्ग्रेस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा, “कल तक वे (कॉन्ग्रेस) कह रही थी कि यह (BJP-JJP गठबंधन) लोगों के जनादेश के खिलाफ है। हम उनके खिलाफ भी जीतकर आए हैं। कॉन्ग्रेस संख्या नहीं जुटा सकी।” उन्होंने कॉन्ग्रेस पर तंज कसते हुए कहा कि वो ‘मज़बूर थी मज़बूत नहीं।’

हरियाणा राजभवन में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में दुष्यंत चौटाला अपने परिवार के साथ पहुँचे। रविवार सुबह तिहाड़ जेल से फरलो पर रिहा हुए दुष्यंत के पिता अजय चौटाला भी इस समारोह में हिस्सा लेने पहुँचे। इसके अलावा दुष्यंत की माँ नैना चौटाला, भाई दिग्विजय चौटाला ने भी इस समारोह में हिस्सा लिया। राजभवन पहुँचने पर दुष्यंत ने यहाँ तमाम नेताओं से मुलाकात की, वहीं पंजाब के पूर्व सीएम और अकाली दल नेता प्रकाश सिंह बादल ने दुष्यंत को गले लगाकर अपना आशीर्वाद दिया। इसके बाद मंच पर पहुँचे दुष्यंत ने मनोहर लाल खट्टर और राज्यपाल का अभिवादन किया।

वहीं दुष्यंत के पिता अजय चौटाला ने कहा कि दुष्यंत ने सिर्फ 11 महीनों में संगठन की स्थापना की है। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा, “एक पिता के लिए इससे बेहतर अवसर और क्या हो सकता है? कॉन्ग्रेस जो चाहे कह सकती है, लेकिन यह सरकार 5 साल तक चलेगी और हरियाणा के विकास के लिए काम करेगी। इससे बेहतर दिवाली नहीं हो सकती थी।”

शपथ ग्रहण समारोह के दौरान हरियाणा में सत्ता के कई बड़े चेहरे एक साथ राजभवन में दिखाई दिए। समारोह के दौरान राज्य के पूर्व सीएम भूपेंदर सिंह हुड्डा, बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, अकाली दल नेता प्रकाश सिंह बादल, पंजाब के पूर्व डेप्युटी सीएम सुखबीर सिंह बादल समेत कई बड़े राजनेता राजभवन में मौजूद रहे।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘बद्रीनाथ नहीं, वो बदरुद्दीन शाह हैं…मुस्लिमों का तीर्थ स्थल’: देवबंदी मौलाना पर उत्तराखंड में FIR, कभी भी हो सकती है गिरफ्तारी

मौलाना के खिलाफ़ आईपीसी की धारा 153ए, 505, और आईटी एक्ट की धारा 66F के तहत केस किया गया है। शिकायतकर्ता का आरोप है कि उसके बयान से हिंदू भावनाएँ आहत हुईं।

बसवराज बोम्मई होंगे कर्नाटक के नए मुख्यमंत्री: पिता भी थे CM, राजीव गाँधी के जमाने में गवर्नर ने छीन ली थी कुर्सी

बसवराज बोम्मई के पिता एस आर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं, जबकि बसवराज ने भाजपा 2008 में ज्वाइन की थी।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,576FollowersFollow
394,000SubscribersSubscribe