Monday, April 22, 2024
Homeराजनीतिभोजपुरी-मगही कई जिलों से आउट, पर हर जिले में उर्दू को मान्यता: झारखंड में...

भोजपुरी-मगही कई जिलों से आउट, पर हर जिले में उर्दू को मान्यता: झारखंड में भाषा के नाम पर भी ‘मुस्लिम तुष्टिकरण

दोनों भाषाओं को सूची से हटाने के लिए धनबाद में विरोध हिंसक हो गया था। इस दौरान कोडरमा के पूर्व भाजपा सांसद रवींद्र राय पर आंदोलनकारियों ने 30 जनवरी को हमला कर दिया था। उनके चालक को मारा-पीटा गया और उनके वाहन में तोड़फोड़ की गई थी। राय को भागकर नजदीकी थाने में अपनी जान बचानी पड़ी थी।

झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार (Jharkhand CM Hemant Soren) ने बोकारो और धनबाद जिले की क्षेत्रीय भाषा की सूची से भोजपुरी और मगही (Bhojpuri & Magahi) को भारी विरोध के बाद हटा दिया है। वहीं, उर्दू को क्षेत्रीय भाषा की सूची में शामिल रखा गया है। इसको लेकर सरकार ने संशोधित नई सूची जारी कर दी है।

नई अधिसूचना के अनुसार, भोजपुरी और मगही को क्षेत्रीय भाषा की सूची से हटा दिया गया, लेकिन राज्य के 24 जिलों की क्षेत्रीय भाषा में उर्दू भाषा को शामिल कर लिया गया। पिछली की अधिसूचना में उर्दू को किसी जिला में क्षेत्रीय भाषा की सूची में शामिल नहीं किया गया था। वहीं, पलामू और गढ़वा में भोजपुरी को क्षेत्रीय भाषा की सूची में रखा गया है।

भोजपुरी-मगही को सूची से हटाने के लिए कॉन्ग्रेस ने भी मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन पर दबाव डाला था। शुक्रवार (18 फरवरी) को अधिसूचना जारी होने से ठीक पहले कॉन्ग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर और विधायक दल के नेता आलमगीर आलम ने सोरेन से मुलाकात की थी और इन दोनों भाषाओं को हटाने के लिए कहा था।

बता दें कि पिछले साल 24 दिसंबर को झारखंड सरकार ने जिला स्तर के पदों के लिए जनजातीय भाषाओं सहित क्षेत्रीय भाषाओं की सूची जारी की थी। झारखंड कर्मचारी चयन आयोग द्वारा मैट्रिक तथा इंटरमीडिएट स्तर की प्रतियोगिता परीक्षा में जिला स्तर के पदों के लिए इन भाषाओं को चिह्नित किया गया था।

इन भाषाओं को को हटाने के लिए बोकारो और धनबाद में काफी दिनों से विरोध प्रदर्शन हो रहा था। इस विरोध हिंसक हुए प्रदर्शन के दौरान भाजपा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और कोडरमा के पूर्व सांसद रवींद्र राय पर आंदोलनकारियों ने 30 जनवरी को हमला कर दिया था। उनके चालक को मारा-पीटा गया और उनके वाहन में तोड़फोड़ की गई थी। राय को भागकर नजदीकी थाने में अपनी जान बचानी पड़ी थी।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

‘मुस्लिमों के लिए आरक्षण माँग रही हैं माधवी लता’: News24 ने चलाई खबर, BJP प्रत्याशी ने खोली पोल तो डिलीट कर माँगी माफ़ी

"अरब, सैयद और शिया मुस्लिमों को आरक्षण का लाभ नहीं मिलता है। हम तो सभी मुस्लिमों के लिए रिजर्वेशन माँग रहे हैं।" - माधवी लता का बयान फर्जी, News24 ने डिलीट की फेक खबर।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
282,677FollowersFollow
417,000SubscribersSubscribe