शाह फैसल ने कहा ‘कश्मीर भभक उठेगा’ और शुरू हो गई पत्थरबाजी: रायटर्स के पत्रकार का दावा

देवज्योत घोषाल ने जम्मू-कश्मीर को लेकर लम्बा-चौड़ा थ्रेड लिखते हुए पाकिस्तानी राग अलापा है। दावा किया है कि कश्मीर में सबकुछ ठीक-ठाक नहीं है। एक चिंगारी की ज़रूरत है और आग लग जाएगी।

जम्मू-कश्मीर पर प्रोपेगंडा फैलाने वाले अंतररष्ट्रीय न्यूज़ पोर्टलों में सिर्फ़ बीबीसी और अल जज़ीरा ही शामिल नहीं है बल्कि रायटर्स भी इसमें बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रहा है। जम्मू-कश्मीर पर कई विवादित ख़बरें प्रकाशित होने के बाद सरकार ने बीबीसी और अलजज़ीरा से सबूत के रूप में वीडियो माँगे, लेकिन वे अभी तक इसे पेश करने में अक्षम रहे हैं। ट्विटर पर रायटर्स के एक पत्रकार ने जम्मू-कश्मीर को लेकर लम्बा-चौड़ा थ्रेड लिखते हुए पाकिस्तानी राग अलापा है।

इस थ्रेड में पत्रकार देवज्योत घोषाल ने दावा किया है कि कश्मीर में सबकुछ ठीक-ठाक नहीं है और राज्य पूरी तरह लॉकडाउन के शिकंजे में है। उन्होंने दावा किया है कि कश्मीर में एक चिंगारी की ज़रूरत भर है और आग लग जाएगी। राज्य में हालत सामान्य न होने का दावा करते हुए घोषाल ने शाह फ़ैसल के बारे में भी चौंकाने वाला दावा किया है। घोषाल ने लिखा कि अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त किए जाने के बाद वह श्रीनगर के दौरे पर गए।

रायटर्स के पत्रकार घोषाल के अनुसार, उन्होंने इस दौरान आईएएस से नेता बने शाह फैसल से बात की। पत्रकार ने जम्मू-कश्मीर में ‘संचार व्यवस्था पूरी तरह ठप्प’ होने का दावा करते हुए लिखा है कि सैटेलाइट टीवी चालू थे और कई लोगों को सरकार के निर्णय की ख़बर मिल चुकी थी। घोषाल से बातचीत में शाह फैसल ने कहा कि सुरक्षा कम होते ही कश्मीर के भभक उठने की संभावना है, क्योंकि लोग ख़ुद को छला महसूस कर रहे हैं। घोषाल ने दावा किया है कि इसके बाद पत्थरबाजी शुरू हो गई।

- विज्ञापन - - लेख आगे पढ़ें -

पत्रकार घोषाल ने लिखा कि कश्मीरी इस फैसले को लेकर गुस्सा में हैं और हताश हैं। इसके साथ ही उन्होंने पाकिस्तान के एजेंडे को भी खुल कर आगे बढ़ाया है। उन्होंने पाकिस्तान के कई नेताओं व पत्रकारों के सुर में सुर मिलाते हुए लिखा कि मोदी द्वारा देश को सम्बोधित किए जाने के अगले दिन श्रीनगर के ऊपर एक फाइटर जेट मँडरा रहा था। हालाँकि, अभी तक इस सम्बन्ध में कोई भी आधिकारिक बयान नहीं आया है। जम्मू-कश्मीर पर घोषाल के दावों से यह सवाल उठना लाजिमी है कि क्या अनजाने में ही उन्होंने शाह फैसल की पोल खोल दी है?

रायटर्स के पत्रकार की फैसल से बात होती है और वो धमकी देते हैं कि सुरक्षा में ढील होते ही लोगों का गुस्सा भभक कर सामने आएगा और फिर पत्थरबाजी शुरू हो जाती है, ऐसा ख़ुद पत्रकार ने दावा किया है। तो क्या शाह फैसल की धमकी और पत्थरबाजी के बीच कुछ सम्बन्ध है? शाह फैसल पहले भी धमकी देते रहे हैं। उनके हाल के बयान पर गौर करें तो पता चलता है कि उन्होंने ख़ुद को अलगाववादी घोषित कर दिया है। आईएएस अधिकारी से नेता बने शाह फैसल ने कहा कि आज जम्मू-कश्मीर में या तो आप कठपुतली हैं या फिर अलगाववादी। एक अन्य बयान में उन्होंने जम्मू-कश्मीर के लोगों को भड़काने की कोशिश करते हुए कहा कि वे तब तक ईद नहीं मनाएँगे जब तक बेइज्जती का बदला नहीं ले लेते।

शेयर करें, मदद करें:
Support OpIndia by making a monetary contribution

बड़ी ख़बर

चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई (बार एन्ड बेच से साभार)
"पारदर्शिता से न्यायिक स्वतंत्रता कमज़ोर नहीं होती। न्यायिक स्वतंत्रता जवाबदेही के साथ ही चलती है। यह जनहित में है कि बातें बाहर आएँ।"

सबसे ज़्यादा पढ़ी गईं ख़बरें

ताज़ा ख़बरें

हमसे जुड़ें

112,346फैंसलाइक करें
22,269फॉलोवर्सफॉलो करें
116,000सब्सक्राइबर्ससब्सक्राइब करें

ज़रूर पढ़ें

Advertisements
शेयर करें, मदद करें: