Tuesday, July 27, 2021
Homeराजनीतिकेजरीवाल और मंत्रियों के इलाज में लुटाए ₹50 लाख: विज्ञापन में मोहल्ला क्लिनिक, ख़ुद...

केजरीवाल और मंत्रियों के इलाज में लुटाए ₹50 लाख: विज्ञापन में मोहल्ला क्लिनिक, ख़ुद का इलाज प्राइवेट में

"क्या केजरीवाल को अपने राज्य की स्वास्थ्य सुविधाओं पर भरोसा नहीं? वो अपना और अपने परिवार का इलाज महँगे अस्पतालों में करवा रहे हैं, वहीं दिल्ली को खस्ताहाल मोहल्ला क्लीनिकों के भरोसे छोड़ रखा है।"

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल और उनके मंत्रिमंडल के साथियों के इलाज के लिए पिछले 4 सालों में सरकारी खजाने से 50 लाख रुपए ख़र्च किए गए हैं। भाजपा ने एक आरटीआई के माध्यम से ये जानकारी निकाली। आरटीआई से यह भी पता चला है कि अकेले सीएम केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के परिजनों के इलाज पर 25 लाख रुपए ख़र्च किए गए हैं। इस जानकारी के सामने आने के बाद भाजपा ने आम आदमी पार्टी पर निशाना साधा है। भाजपा ने पूछा है कि मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल दिल्ली के मोहल्ला क्लीनिकों की तारीफ करते नहीं थकते लेकिन ख़ुद अपने परिजनों का इलाज महँगे प्राइवेट अस्पतालों में क्यों कराते हैं?

दिल्ली भाजपा के अध्यक्ष मनोज तिवारी ने बताया कि अकेले सीएम केजरीवाल के इलाज पर 12 लाख रुपए से भी अधिक ख़र्च किए गए। उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के परिजनों के इलाज पर 13.25 लाख रुपए से भी अधिक ख़र्च किए गए। ये सारा ख़र्च सरकारी खजाने से हुआ। सिसोदिया ने 4 सालों में 35 बार अपने परिजनों का इलाज कराया और हरेक बार सरकारी खजाने से रुपए ख़र्च किए गए। सबसे कम 60 हज़ार रुपए मंत्री सत्येंद्र जैन और उनके परिजनों पर ख़र्च किए गए। एक अन्य मंत्री कैलाश गहलोत के बारे में अभी तक कोई जानकारी नहीं मिली है।

दिल्ली सरकार में मंत्री गोपाल राय और उनके परिजनों के इलाज पर 7.22 लाख रुपए ख़र्च किए गए, वहीं इमरान हुसैन और उनके परिजनों के इलाज पर 2.46 लाख रुपए ख़र्च हुए। भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि किसी को कोई भी बीमारी हो सकती है और पार्टी इलाज कराने के ख़िलाफ़ नहीं है। साथ ही उन्होंने पूछा कि सीएम और डिप्टी सीएम सहित दिल्ली सरकार के मंत्रियों को क्या बीमारियाँ हुई थीं और उसके लिए कहाँ-कहाँ इलाज कराया गया, ये ब्यौरा सार्वजानिक होना चाहिए। प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा;

“दिल्ली सरकार के अस्पतालों में मिलने वाली सुविधाओं का ढिंढोरा पिटवाने के लिए महँगे विज्ञापनों पर करोड़ों ख़र्च करने वाले केजरीवाल जनता को वास्तविकता से रूबरू क्यों नहीं कराते? क्या केजरीवाल को अपने राज्य की स्वास्थ्य सुविधाओं पर भरोसा नहीं है? एक तरफ वो अपना और अपने परिवार का इलाज महँगे अस्पतालों में करवा रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ दिल्ली को खस्ताहाल मोहल्ला क्लीनिकों के भरोसे छोड़ रखा है। अगर मोहल्ला क्लिनिक और दिल्ली के सरकारी अस्पताल इतने ही अच्छे होते तो केजरीवाल और उनके मंत्री अपना और अपने परिवार का इलाज निजी अस्पतालों में नहीं करवाते। मुख्यमंत्री जनता की स्वास्थ्य सुविधाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं।”

आरटीआई से हुए खुलासे के बाद भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने केजरीवाल पर दागे सवाल

बता दें कि सिर्फ़ दिल्ली ही नहीं बल्कि भारत के अन्य राज्यों के अख़बारों में भी आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार का विज्ञापन आता है, जिसमें दिल्ली के अस्पतालों में मिलने वाली सुविधाओं का जिक्र किया जाता है। इन विज्ञापनों में बताया जाता है कि किस तरह आप सरकार ने दिल्ली की स्वास्थ्य सुविधाओं को बदल कर रख दिया है। साथ ही मोहल्ला क्लिनिक कितने ‘क्रन्तिकारी’ हैं, इस पर भी कई विज्ञापन आते हैं। ऐसे में केजरीवाल और उनके मंत्रियों का परिजनों सहित निजी अस्पतालों में सरकारी खजाने से इलाज करवाना पार्टी के लिए परेशानी का सबब बन सकता है। दिल्ली में अगले वर्ष विधानसभा चुनाव भी होने हैं।

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

6 साल के जुड़वा भाई, अगवा कर ₹20 लाख फिरौती ली; फिर भी हाथ-पैर बाँध यमुना में फेंका: ढाई साल बाद इंसाफ

मध्य प्रदेश स्थित सतना जिले के चित्रकूट में दो जुड़वा भाइयों के अपहरण और हत्या के मामले में 5 दोषियों को आजीवन कारावास की सज़ा सुनाई गई है।

‘अपनी मौत के लिए दानिश सिद्दीकी खुद जिम्मेदार, नहीं माँगेंगे माफ़ी, वो दुश्मन की टैंक पर था’: ‘दैनिक भास्कर’ से बोला तालिबान

तालिबान प्रवक्ता जबीउल्लाह मुजाहिद ने कहा कि दानिश सिद्दीकी का शव युद्धक्षेत्र में पड़ा था, जिसकी बाद में पहचान हुई तो रेडक्रॉस के हवाले किया गया।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -

 

हमसे जुड़ें

295,307FansLike
111,381FollowersFollow
393,000SubscribersSubscribe