Saturday, May 18, 2024
Homeराजनीतियौन शोषण के आरोपित रहे पी ससी बने केरल के सीएम पी विजयन के...

यौन शोषण के आरोपित रहे पी ससी बने केरल के सीएम पी विजयन के राजनीतिक सचिव, 11 साल पहले CPIM ने किया था पार्टी से बाहर

“ससी पर पार्टी के भीतर से यौन शोषण के आरोप का सामना करना पड़ा। उनकी नियुक्ति से पता चलता है कि कैसे सीपीआईएम महिलाओं को सशक्त बना रहा है।"

केरल (Kerala) की सियासत में नया मोड़ आया है, जहाँ CPM की स्टेट कमेटी के मेंबर पी ससी (P sasi) को मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) का राजनीतिक सचिव चुना गया है। ये वही पी ससी हैं, जिन्हें 11 साल पहले वर्ष 2011 में यौन शोषण के आरोप में फँसने के बाद पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था। वहीं सीएम के मौजूदा राजनीतिक सचिव पुथलथ दिनेशन अब सीपीएम के मुखपत्र देशभिमानी के संपादक होंगे। जबकि पूर्व वित्त मंत्री टी एम थॉमस इसाक को चिंता वीकली का मुख्य संपादक बनाया गया है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक, ऐसा दूसरी बार हो रहा है जब पी ससी को मुख्यमंत्री का राजनीतिक सचिव बनाया जा रहा है। इससे पहले 1996 से 2001 तक राज्य के सीएम रहे ईके नयनार के भी वो राजनीतिक सचिव रह चुके हैं। उस दौरान आइसक्रीम पार्लर मामले में इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग (IUML) के नेता पीके कुन्हालीकुट्टी को कथित रूप से बचाने के लिए उनकी पार्टी के ही लोग उनके विरोध में उतर आए थे।

पी ससी वर्ष 2010 में जब CPM के कन्नूर जिला सचिव थे तो उनपर अपनी ही पार्टी की नेता के यौन शोषण का आरोप लगा था। डीवाईएफआई की महिला नेत्री ने ससी पर उनके यौन शोषण करने का आरोप लगाया था। पीड़िता की शिकायत के बाद ससी के खिलाफ पार्टी ने एक्शन लेते हुए उनके पद को जिला सचिव से घटाकर शाखा समिति कर दिया। बाद में वर्ष 2011 में केरल के तत्कालीन मुख्यमंत्री वीएस अच्युतानंदन ने ससी को पार्टी से बाहर कर दिया।

हालाँकि, यौन शोषण के आरोपों के बाद पार्टी से निकाले जाने पर भी वो पार्टी से जुड़े रहे और इसका फायदा उन्हें मिला। उस घटना के सात साल बाद मामले में फैसला सुनाते हुए अदालत ने उन्हें क्लीन चिट दे दिया। इसी के साथ आधिकारिक तौर पर वो फिर से सीपीएम में लौट आए। वहीं जिस डीवाईएफआई नेता ने ससी पर यौन शोषण का आऱोप लगाया था, उसे पार्टी में किनारे कर दिया गया और आखिरकार उसे पार्टी छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया गया।

कॉन्ग्रेस और CPIM ने पी ससी की नियुक्ति की आलोचना की

हालाँकि, घटनाओं पर नजर रखा जाए तो ससी की नियुक्ति से केरल में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। माकपा के नेताओं का कहना है कि ये फैसला बिना किसी विचार-विमर्श से लिया गया है। पार्टी के ही सीनियर लीडर पी जयराजन ने पी ससि के मामले में पार्टी को वो गलती करने से बचने की हिदायद दी है, जो वो पहले कर चुकी है।

वहीं केरल महिला कॉन्ग्रेस अध्यक्ष ने इस नियुक्ति की आलोचना करते हुए कहा, “ससी पर पार्टी के भीतर से यौन शोषण के आरोप का सामना करना पड़ा। उनकी नियुक्ति से पता चलता है कि कैसे सीपीआईएम महिलाओं को सशक्त बना रहा है।”

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

CM केजरीवाल के घर से विभव कुमार को दिल्ली पुलिस ने उठाया: स्वाति मालीवाल की आई मेडिकल रिपोर्ट, आँख-चेहरा-पैर में चोट

राज्यसभा सांसद स्वाति मालीवाल के साथ मारपीट के मामले में दिल्ली पुलिस ने सीएम केजरीवाल के पीए विभव कुमार को हिरासत में ले लिया है।

‘AAP झूठ की बुनियाद पर बनी पार्टी, इसकी विश्वसनीयता शून्य नहीं, माइनस में’ – BJP के साथ स्वाति मालीवाल मुद्दे पर जेपी नड्डा का...

दिल्ली सरकार में मंत्री आतिशी ने कहा कि स्वाति मालीवाल लंबे समय से भाजपा नेताओं के संपर्क में हैं और उनके ही इशारे पर ये साजिश रची गई।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -