Thursday, July 18, 2024
Homeराजनीति'अपना मुँह बंद करो आरिफ मोहम्मद खान...': केरल के गवर्नर को CM के मंत्री...

‘अपना मुँह बंद करो आरिफ मोहम्मद खान…’: केरल के गवर्नर को CM के मंत्री दामाद ने धमकाया, काफिले पर भी वामपंथी गुंडों ने किया था हमला

"ऐसा मत सोचिए कि हम यह नहीं कह सकते - 'अपना मुँह बंद करो, मिस्टर आरिफ मोहम्मद खान', लेकिन हम आपकी स्थिति का सम्मान करते हैं और इसीलिए हम ऐसा नहीं कहते हैं।"

केरल के CM पिनाराई विजयन के दामाद PA मोहम्मद रियास ने राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान को लेकर रविवार (17 दिसंबर, 2023) को तीखा बयान दिया है। राज्य के पयर्टन मंत्री रियास का कहना है कि CPM राज्यपाल खान को उनकी बकवास को बंद करने के लिए नहीं कह रही, क्योंकि वे आपके पद का सम्मान करती है।

उन्होंने राज्यपाल पर RSS की शैली में काम करते हुए कन्नूर और केरल के इतिहास को तोड़-मरोड़कर पेश करने और मुख्यमंत्री और उनके गृह जिले का अपमान करने का आरोप लगाया है। दरअसल, मोहम्मद रियास राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान द्वारा मुख्यमंत्री विजयन के गृह जिले पर ‘कन्नूर के खूनी इतिहास’ वाले तंज का जवाब दे रहे थे।

पथानामथिट्टा जिले के कोन्नी में नव केरल सदास के दौरान रियास ने कहा, “ऐसा मत सोचिए कि हम यह नहीं कह सकते – ‘अपना मुँह बंद करो, मिस्टर आरिफ मोहम्मद खान’, लेकिन हम आपकी स्थिति का सम्मान करते हैं और इसीलिए हम ऐसा नहीं कहते हैं।”

इससे पहले केरल के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने भी रविवार को राज्यपाल खान पर जानबूझकर भड़काऊ बयान देकर दक्षिणी राज्य के अमन-चैन में खलल डालने की कोशिश करने का आरोप लगाया था। उन्होंने कहा था कि राज्यपाल अपने संवेदनहीन बयानों से SFI प्रदर्शनकारियों को भड़का रहे थे।

दरअसल, CPI(M) की छात्र शाखा ‘स्टूडेंट्स फेडरेशन ऑफ इंडिया’ को राज्यपाल ने ‘अपराधी’ और ‘गुंडा’ कहा था। इसे लेकर सीएम विजयन के दामाद राज्यपाल को तंज कसने में एक कदम आगे निकल गए। आईटी पेशेवर रहे रियास की शादी सीएम विजयन की बेटी वीणा से 2020 हुई थी।

47 साल के मंत्री रियास ने राज्यपाल को कन्नूर के इतिहास के बारे में नसीहत देनी की कोशिश करते हुए कहा, “कन्नूर का इतिहास क्या है? क्या यह बुरा है? कन्नूर की जमीन पर, औपनिवेशिक ताकतों से लड़ते हुए कई लोग शहीद हुए हैं। कन्नूर ने देश के स्वतंत्रता संग्राम में अहम भूमिका निभाई। आरिफ मोहम्मद खान को कन्नूर और केरल के लिए इतनी नाराजगी क्यों है?” रियास ने दावा किया कि थालास्सेरी में कन्नूर जिले के कम्युनिस्टों की अगुवाई में 1970 के दशक में सांप्रदायिक नफरत के बीज बोने के आरएसएस की कोशिशों का विरोध किया गया था।

उन्होंने कहा, “दिसंबर 1970 में RSS ने सांप्रदायिक हिंसा फैलाने के लिए कन्नूर में थालास्सेरी को चुना। आरिफ मोहम्मद खान को यह जरूर ये पता होगा। उस वक्त जब एक मस्जिद पर हमला करने की कोशिश की गई थी। तब मंगट्टीदम के एक स्थानीय समिति के सदस्य, कॉमरेड यू के कुन्हिरमन अन्य कम्युनिस्टों के साथ मस्जिद की रक्षा के लिए खड़े थे। आरएसएस ने उन पर हमला करते हुए कहा कि वह मप्पिला (मलयाली भाषा के मुस्लिम) का बच्चा हैं।”

रियास ने आगे कहा, “क्षेत्र में दंगा रोकने के लिए लाल झंडे वाली एक काली जीप यह ऐलान करते हुए घूम रही थी कि हमें शांति बनाए रखनी चाहिए। उस ऐलान करने वाली गाड़ी ने सांप्रदायिक सद्भाव की जरूरत लोगों को बताई थी। ऐलान करने वालों ने ऐलान किया कि वे अपनी जिंदगी की कीमत पर भी थालास्सेरी में शांति और सद्भाव बनाए रखेंगे। उस दिन जीप के आगे बैठा एक युवक आज केरल का मुख्यमंत्री है। आरिफ मोहम्मद खान को समझना चाहिए कि वह व्यक्ति कॉमरेड पिनाराई विजयन थे।”

मंत्री रियास ने लगे हाथ राज्यपाल को कन्नूर में सांप्रदायिक सद्भाव के लिए छेड़े गए संघर्षों के वास्तविक इतिहास के बारे में जानने की सलाह भी दे डाली। रियास ने कहा, “आरिफ मोहम्मद खान नफरत फैलाने की आरएसएस शैली के तहत काम कर रहे हैं। वो कन्नूर और केरल के इतिहास को तोड़-मरोड़कर इस जमीन पर शांति के लिए किए गए संघर्षों को यहाँ लड़ी गई उपनिवेशवाद विरोधी लड़ाइयों को नजरअंदाज कर मुख्यमंत्री और उनके जिले का अपमान कर रहे हैं।”

गौरतलब है कि हाल ही में केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान के काफिले पर राजधानी तिरुवनंतपुरम में जानलेवा हमला किया गया था। यह हमला कम्युनिस्ट छात्र संगठन SFI के गुंडों ने किया था। इसके बाद राज्य खुफिया विभाग ने खुलासा किया था उसने SFI के राज्यपाल के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की योजना के बारे में चेतावनियाँ जारी की थीं।

राज्यपाल खान ने भी इस हमले में सीएम पिनाराई विजयन का हाथ होने का आरोप लगाया था। इसके बावजूद उनका ट्रैवल रूट SFI को लीक किया गया था। खुफिया विभाग ने दावा किया था कि पुलिस एसोसिएशन के लीडर ने इसे सोमवार 11 दिसंबर, 2023 सुबह SFI को लीक कर दिया गया था।

Join OpIndia's official WhatsApp channel

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

साथियों ने हाथ-पाँव पकड़ा, काज़िम अंसारी ने ताबतोड़ घोंपा चाकू… धराया VIP अध्यक्ष मुकेश सहनी के पिता का हत्यारा, रात के डेढ़ बजे घर...

घटना की रात काज़िम अंसारी ने 10-11 बजे के बीच रेकी भी की थी जो CCTV में कैद है। रात के करीब डेढ़ बजे ये लोग पीछे के दरवाजे से घर में घुसे।

प्राइवेट नौकरियों में 75% आरक्षण वाले बिल पर कॉन्ग्रेस सरकार का U-टर्न, वापस लिया फैसला: IT कंपनियों ने दी थी कर्नाटक छोड़ने की धमकी

सिद्धारमैया के फैसले का भारी विरोध भी हो रहा था, जिसकी वजह से कॉन्ग्रेसी सरकार बुरी तरह से घिर गई थी। यही नहीं, इस फैसले की जानकारी देने वाले ट्वीट को भी मुख्यमंत्री को डिलीट करना पड़ा था।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -