Tuesday, June 25, 2024
Homeराजनीतिदोनों हाथों में तलवारबाजी में महारत रखते हैं डॉ मोहन यादव, उज्जैन में विक्रमोत्सव...

दोनों हाथों में तलवारबाजी में महारत रखते हैं डॉ मोहन यादव, उज्जैन में विक्रमोत्सव को दी भव्यता: वकील के साथ-साथ व्यापारी भी हैं मध्य प्रदेश के नए CM

उज्जैन विकास प्राधिकरण के उनके अध्यक्षीय कार्यकाल में उज्जैन में कई अहम काम हुए। इस अवधि में उज्जैन में वेधशाला की स्थापना हुई। उनके कार्यकाल के दौरान उज्जैन में तारामंडल भी बना।

मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री मोहन यादव एक दमदार नेता हैं। उन्होंने अपने राजनीतिक करियर में कई महत्वपूर्ण उपलब्धियाँ हासिल की हैं। तलवारबाजी में महारत रखने वाले मोहन यादव ने उज्जैन में विक्रमोत्सव को एक भव्य पहचान दी। उच्च शिक्षा मंत्री रहते हुए उन्होंने मध्य प्रदेश को नई शिक्षा नीति लागू करने वाला पहला राज्य बनाया। ऐसे कई दमदार कामों की वजह से उन्हें मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री बनाया गया।

मोहन यादव का जन्म 15 मार्च, 1965 को उज्जैन के एक मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था। छात्र जीवन से ही वह राजनीति में सक्रिय थे। उन्होंने छात्र संघ के चुनाव में जीत हासिल की और छात्र नेता के रूप में अपनी पहचान बनाई। डॉ मोहन यादव के पास बीएससी, एलएलबी, एमए, एमबीए और Ph.D जैसी डिग्रियाँ हैं। वो वकालत भी करते रहे हैं और व्यापार भी।

डॉ मोहन यादव को साल 2013 में पहली बार उज्जैन दक्षिण विधानसभा क्षेत्र से विधायक चुना गया। उन्होंने लगातार तीन बार इस सीट से जीत हासिल की है। साल 2020 में उन्हें शिवराज सिंह चौहान सरकार में उच्च शिक्षा मंत्री बनाया गया। इस पद पर रहते हुए उन्होंने मध्य प्रदेश में नई शिक्षा नीति लागू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उनकी अगुवाई में मध्य प्रदेश नई शिक्षा नीति लागू करने वाला देश का पहला राज्य बना।

मोहन यादव एक कुशल प्रशासक भी हैं। डॉ मोहन यादव उज्जैन विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष भी रहे थे। वे सन 2010 तक उज्जैन विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष रहे थे। उज्जैन विकास प्राधिकरण के उनके अध्यक्षीय कार्यकाल में उज्जैन में कई अहम काम हुए। इस अवधि में उज्जैन में वेधशाला की स्थापना हुई। उनके कार्यकाल के दौरान उज्जैन में तारामंडल भी बना। डॉ मोहन यादव ने यहां विक्रमादित्य पीठ की भी स्थापना कराई। उन्होंने उज्जैन में विक्रमोत्सव को एक भव्य पहचान दी। यह एक ऐतिहासिक उत्सव है जो हर साल उज्जैन में आयोजित किया जाता है। मोहन यादव ने इस उत्सव को एक अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाई।

सामाजिक तौर पर डॉ मोहन यादव बेहद सक्रिय रहे हैं। उनका तलवारबाजी का एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रहा है, जिसमें वो दोनों हाथों से बिल्कुल सधी हुई तलवारबाजी करते दिख रहे हैं। हालाँकि, ये वीडियो कब का है, ये सामने नहीं आया है।

बता दें कि 3 दिसंबर को घोषित हुए मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव में भाजपा ने प्रचंड बहुमत हासिल किया। इस चुनाव में मोहन यादव ने भी उज्जैन दक्षिण सीट से जीत हासिल की। इस बार जब नए मुख्यमंत्री को बनाने की बारी आई, तो उनके कामों को देखते हुए भाजपा विधायक दल की बैठक में उन्हें मध्य प्रदेश का मुख्यमंत्री चुना गया। खुद मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने उनके नाम का प्रस्ताव रखा, जिसे सर्वसम्मत से मान लिया गया। भाजपा ने कहा है कि मोहन यादव एक कर्मठ और ईमानदार नेता हैं। उनके नेतृत्व में मध्य प्रदेश एक समृद्ध और खुशहाल राज्य बनने की ओर तेजी से कदम आगे बढ़ाएगा।

Special coverage by OpIndia on Ram Mandir in Ayodhya

  सहयोग करें  

एनडीटीवी हो या 'द वायर', इन्हें कभी पैसों की कमी नहीं होती। देश-विदेश से क्रांति के नाम पर ख़ूब फ़ंडिग मिलती है इन्हें। इनसे लड़ने के लिए हमारे हाथ मज़बूत करें। जितना बन सके, सहयोग करें

ऑपइंडिया स्टाफ़
ऑपइंडिया स्टाफ़http://www.opindia.in
कार्यालय संवाददाता, ऑपइंडिया

संबंधित ख़बरें

ख़ास ख़बरें

शिखर बन जाने पर नहीं आएँगी पानी की बूँदे, मंदिर में कोई डिजाइन समस्या नहीं: राम मंदिर निर्माण समिति के चेयरमैन नृपेन्द्र मिश्रा ने...

श्रीराम मंदिर निर्माण समिति के मुखिया नृपेन्द्र मिश्रा ने बताया है कि पानी रिसने की समस्या शिखर बनने के बाद खत्म हो जाएगी।

दर-दर भटकता रहा एक बाप पर बेटे की लाश तक न मिली, यातना दे-दे कर इंजीनियरिंग छात्र की हत्या: आपातकाल की वो कहानी, जिसमें...

आज कॉन्ग्रेस पार्टी संविधान दिखा रही है। जब राजन के पिता CM, गृह मंत्री, गृह सचिव, पुलिस अधिकारी और सांसदों से गुहार लगा रहे थे तब ये कॉन्ग्रेस पार्टी सोई हुई थी। कहानी उस छात्र की, जिसकी आज तक लाश भी नहीं मिली।

प्रचलित ख़बरें

- विज्ञापन -